×

मैं नई नौकरी के चक्कर में इस शहर में नया-नया ही शिफ्ट हुआ हूं। स्वाद के चक्कर में आज रात कुछ ज्यादा ही खा लिया,,, कल सुबह कहीं पेट खराब ना हो जाए इसलिए दवा लेने के लिए मेडिकल ...और पढ़े

उस रात के बाद मेरी जिंदगी खौफ और दर्द की कहानी बन चुकी थी।मैं शुरु से बताता हूं।कमरे पर छोड़े जाने के बाद में रात के 12:30 बज गए थे पर मेरी आंखों से नींद कोसों दूर थी। तो ...और पढ़े

अब हर आहट पर डरने लगा हूं। कीचड़ की गंध भी मुझ में सिरहन पैदा कर देती है। तन्हा पन का एहसास तो कोसों दूर है। अब तो लगता है हर कोई मुझे टकटकी लगाकर घूर रहा है। इंसानों ...और पढ़े

मेरा डर के मारे दम उखड़ने लगा था ।मैं तो ढंग से बोल भी नहीं पा रहा था। तभी झर-झर की आवाज करते हुए बल्ब जला, और चरमराती आवाज के साथ पंखा भी चल पड़ा था। बिजली आ गई ...और पढ़े

पिछले भागों में आपने पढ़ा कि कैसे उस रात मेरी जिंदगी के आत्माओं की दुनिया से पर्दा हटा , फिर  बेपर्दा हो गया ख़ौफ़ का राज इस भाग में सैर करें आत्माओं की दुनिया में।पिछले भाग में महंत जी ओर ...और पढ़े

Disclaimer:- "इस कहानी के सभी पात्र और घटनाएं काल्पनिक है, इस कहानी का उद्देश आत्माओं और पेरानॉर्मल विज्ञान के संदर्भ में पाठकों में जागरूकता ,, वो भी मनोरंजन के साथ करना मात्र है। लेखक किसी भी पंथ, सम्प्रदाय या ...और पढ़े