सर्वश्रेष्ठ मनोविज्ञान कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

सर्वश्रेष्ठ जीवन उद्धरण हिंदी में
द्वारा devesh bagla
  • 52

नमस्कार नीचे दिए गए कुछ जीवन उद्धरण पढ़ें. १. जीवन इतना सरल है जब आप लोगों को खुद को समझाना बंद कर देते हैं और सिर्फ वही करते हैं जो ...

जिवनसाथी ओर भ्रम
द्वारा Shrimali Meet
  • 142

I am A little pancil in the hend️ of mahakal sending A true letter of fortune and spiritual‍life to the people of this world॰॰ ॐ Namah Shivay

गोविंद जी की खीर।
द्वारा सुप्रिया सिंह
  • 62

गोविंद जी का पूरा ध्यान किचिन से आने वाली सुगंध पर ही लगा है । 75 साल के हो गए हैं पर खाने -पीने के मामले में अपने 5 ...

मेरा क्या कसूर है ?
द्वारा Sanjay Verma
  • 150

मेरा क्या कसूर है ?बुजुर्गो का आशीर्वाद ,सलाह सदैव  काम आती है ये  उनके पास  अनुभव का ऐसा अनमोल खजाना होता है जिनको पीढ़ी दर पीढ़ी एक दूसरे प्रेरणा स्वरूप ...

प्रकृति मैम - पास भी, दूर भी
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 324

ठाणे मुंबई के पास बिल्कुल सटा हुआ जिला था। वहां लोग कहते थे कि यहां व्यस्ततम विराट महानगर मुंबई की असुविधाएं अभी नहीं पहुंची हैं पर सुविधाएं पहुंच गई ...

॥धूणी॥
द्वारा Yayawargi (Divangi Joshi) Verified icon
  • 258

॥धूणी॥कोई प्रेम-कहानी होगी किसी लड़की की, जिसका नाम धुणी होगा या शायद कोई लड़का है जिसको किसी लड़की की धून लग गयी है यह समज आए हो तो यही ...

तरीका
द्वारा Dr. Vandana Gupta Verified icon
  • 369

     मैं फ्री होकर बैठी ही थी कि एक महीन सी आवाज़ आयी... "मैडम..! मे आई गेट इन?" वह कॉमर्स की एक स्वीट सी छात्रा थी, मुझे नाम ...

मासूम सपने
द्वारा Pallavi Saxena
  • 419

सरकारी स्कूल के बच्चों को मोबाइल के लिए लड़ते देख विज्ञान के मास्टर जी बोले चलो बच्चों आज हम विज्ञान के विषयों के बारे में चर्चा करेंगे। आज उसके ...

प्रकृति मैम - विकल्पों की मौजूदगी
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 229

15. विकल्पों की मौजूदगीमेरे घर से थोड़ी ही दूर पर एक मकान में तीन लड़के रहते थे, जो कोल्हापुर में एम बी ए करने आए हुए थे।मेरे सभी मित्र ...

मेरा साया.. एक आसमान..
द्वारा Tarun Kumar Saini
  • 228

मेरा साया.. एक आसमान.. जो महसूस होता है, हर पल, हर जगह, क,मेरा अपना है, एक हमदद क तरह, सदा मेरे साथ है, यक, यही एक मेरा, अपना है... ...

प्रकृति मैम - ठिकाने, ज़ायके, पोशाक
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 204

ठिकाने ज़ायके पोशाकजब हम घर से कहीं बाहर जाने के लिए निकलते हैं तो एक उलझन मन ही मन हमें बेचैन करती रहती है। हम सोचते हैं कि दुनिया ...

प्रकृति मैम - दिल्ली
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 490

.दिल्ली दिल हिंदुस्तान कालोधी रोड वाला मकान काफ़ी छोटा था। लेकिन जल्दी ही हमें साकेत में बड़ा मकान मिल गया।पत्नी का ऑफिस आर के पुरम में था और मेरा ...

प्रकृति मैम - राजपथ
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 372

12. राजपथकुछ दिन बाद डाक के लिफाफे में बंद मेरी उस परीक्षा का परिणाम आया जो मैंने पिछले दिनों दी थी। मुझे साक्षात्कार के लिए चुन लिया गया था।ये ...

प्रकृति मैम - मिलके बिछड़ गए दिन
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 396

 मिलके बिछड़ गए दिन !दादर में एक दिन एक कार्यक्रम था। किशन कुमार केन मुझसे बोले- आपको साथ में लेकर चलूंगा।किशन कुमार केन उन दिनों मुंबई में एक प्रिंटिंग ...

थैंक्स मम्मी-डैडी
द्वारा राकेश सोहम्
  • 478

छेड़छाड़ के बाद खुदकशी – दैनिक अखबार के मुख्य पृष्ठ पर प्राथमिकता से छपे शीर्षक को पढ़कर मिनी बेचैन हो उठी. जब भी वह ऐसे समाचार सुनती या पढ़ती ...

बेहतर कल
द्वारा Rajesh Kumar
  • 426

"कल" वो शब्द है जिसका अस्तित्व है या नही कहा नही जा सकता। "कल" हर व्यक्ति के दिलों दिमाग में रहता है और हर दिन सोचता है कि उसका ...

किस्मत - 2
द्वारा Akshay jain
  • 421

             किस्मत भी बड़ी अजीब चीज होती है। जिसकी चमक जाए उसे खजूर के पेड़ पर चढ़ा देती है। और जिसकी ना चमके उस कीचड़ ...

किस्मत - 1
द्वारा Akshay jain
  • 382

किस्मत नाम कि वस्तु से आप सभी परिचित ही होंगे। आज के समय में अनेक लोग अपनी किस्मत पर ही टिके हुए हैं।अनेक लोग अपनी किस्मत को आजमाते रहते ...

शॉपिंग की बीमारी
द्वारा r k lal Verified icon
  • (17)
  • 572

शॉपिंग की बीमारीआर 0 के 0 लाल"चलो तैयार हो जाओ।  तुम्हारा सामान लेकर आते हैं। ध्यान रहे हार बार की तरह फालतू सामान लेने की जरूरत नहीं है। लिस्ट ...

सामाजिक मीडिया का नैतिक संस्कारों पर प्रभाव
द्वारा Akshay jain
  • 504

"Social media अर्थात् सामाजिक मीडिया।"    आज सभी जानते है और सभी मानते भी है कि सोशल मीडिया पारस्परिक जुड़ाव का अच्छा साधन है। आपस में जुड़ने का अच्छा उपाय ...

नींद
द्वारा Akshay jain
  • 377

आज का विषय है नींद । आज नींद के बारे में मै कुछ अपने अनुभव प्रस्तुत करूंगा।                          ...

गॉड ऑन व्हाट्सएप
द्वारा Ajay Amitabh Suman Verified icon
  • 753

विज्ञान क्या है ? भगवान क्या है और ईश्वर का प्रमाण क्या है ? जहाँ तक विज्ञान की बात है तो ये पूर्णतया साक्ष्य पर आधारित अर्जित किया हुआ ...

स्वप्न
द्वारा Akshay jain
  • 484

आज हम स्वप्न के विषय पर अपने विचार रखेंगे । मेरा निवेदन है कि इसे पढ़ने के पहले आप सभी "नींद" वाला लेख जरूर पढ़ें। इससे आप मेरी बात ...

एकांत का उजाला
द्वारा Pritpal Kaur Verified icon
  • 1.1k

एकांत का उजाला-प्रितपाल कौर. जनसत्ता 2 अक्टूबर २०१६. पीछे मुड कर क्यूँ देखती हो? क्या है वहां? सिर्फ दर्द, परेशानियाँ...... जानती हूँ... चेहरे पर छाई रहने वाली हंसी ...

प्रकृति मैम - गाकर देखो
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 417

1.गाकर देेेे...मेरी नई - नई नौकरी वाला ये शहर भी सुन्दर था और वक़्त भी।ज्वाइन करने के लिए थोड़े से सामान के साथ यहां आया तो मैं पहले दो ...

प्रकृति मैम - बदन राग
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 474

बदन रागमैं जो परीक्षा जयपुर में देकर आया था, उसका परिणाम आ गया। लिखित परीक्षा में मेरा चयन हो गया था। अब दिल्ली में साक्षात्कार देना था।छोटे से गांव ...

प्रकृति मैम - आलाप
द्वारा Prabodh Kumar Govil Verified icon
  • 626

आलापइसी गांव में एक वैद्य जी थे। छोटी जगह होने से उनसे जल्दी ही परिचय मित्रता में बदल गया। कई बार शाम के समय पोस्टमास्टर साहब के आवास के ...

मीत न मिला रे मन का
द्वारा Dr. Vandana Gupta Verified icon
  • 638

          "सुन जल्दी से आजा, कोई खास मेहमान आए हैं.." तृषा का फोन आया और मैं दस मिनट में गाड़ी में थी. मुझे तैयार होने ...

नजरिया
द्वारा Udit Ankoliya
  • 420

       नजरिया ,  ये नजरिया क्या होता हैं ?

अली , बजरंगबली और महँगी बिजली
द्वारा Ajay Amitabh Suman Verified icon
  • 303

अभी अभी चुनाव ख़तम हुए है. नई सरकार आ चुकी है. मुझे कुछ दिनों पहले रिलीज़ हुई अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन की फिल्म बंटी और बबली याद  आ ...