सर्वश्रेष्ठ मनोविज्ञान कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

देह अगन की लपट
द्वारा राजनारायण बोहरे
  • 117

देह की अगनलेखक शिव शम्भू बाबू ने अपनी चालीस साल पुरानी डायरी में से जो कथा मुझे पढ़ाई है वह मैं सीधा ही पाठकों को पढ़ाता हूँ।होली पर सब ...

कपूत बेटा
द्वारा राज बोहरे
  • 243

दफ्तर में सबसे बड़ी चिकचिक हुई थी इसलिए सर बिना रहा था । वह दफ्तर से बाहर निकल कर सड़क पर यूं ही खड़ा हो गया था। रिस्ट वॉच ...

छींक
द्वारा Lalit Rathod
  • 996

छींक का आना दिन की सुखद घटना लगती है। हमेशा से छींक आने के बाद भीतर राहत महसूस करता हूं। तब इच्छा हाेती है कि छींक फिर आए। जादूगर ...

सपना
द्वारा praveen singh
  • 1.2k

सपना,हर इंसान एक छोटी उम्र से ही कोई ना कोई सपना देखकर ही बड़ा होता है, किसी को क्रिकेटर, किसी को एक्टर, सिंगर, डांसर, और भी कई चीजें होती ...

वो लड़का
द्वारा Yogesh Kanava
  • 1k

    वो लड़का आज फिर से दीपेश बाॅस की डाँट खाकर आया। वो बिल्कुल उखड़ा हुआ था। रोज-रोज की डाँट खाने से तो अच्छा है मैं ही कुछ ...

छात्र-छात्राओं द्वारा आत्मघाती कदम
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 1.1k

  आलेख   छात्र-छात्राओं द्वारा आत्मघाती कदम उठाने के कारण तथा रोकने (समाधान) के उपाय।                                                                    वेदराम प्रजापति ‘मनमस्त’       यह विषय, वर्तमान परिवेश का ...

हार-जीत को प्रतिष्ठा का तमगा ना पहनाएं
द्वारा मंजरी शर्मा
  • 960

आज महक के स्कूल में फैंसी ड्रेस कम्पटीशन था, बच्चे से लेकर हर अभिभावक ने खूब मेहनत की थी. कोई सब्ज़ी बना था तो कोई जानवर. नर्सरी में पड़ने ...

डायरी का एक पन्ना
द्वारा Neelima Sharrma Nivia
  • 1.1k

हाथ मे पेंटिंग ब्रश लिए   15 साल पुरानी पेंटिंग के  बदरंग हो चुके फ्रेम को गोल्डन करते हुए उसने सोचा ...काश कोई उसको भी इसी तरह सुनहरा रंग से ...

अनकहे लफ्ज़
द्वारा Neelima Sharrma Nivia
  • 1.3k

लफ्ज़ कभी बोलते नही उनमें छिपे ज़ज़्बात बोलते है ते रे भी में रे भी   यह अहसास कैसे कैसे होते है न ,कोई सुबह कितनी शीतल सी लगती है ,मेट्रो की तरफ ...

पत्थर दिल आदमी
द्वारा राज बोहरे
  • 1k

उजासवह अंततः आज ऑपरेशन-टेबल पर आ पहुँचा था, दिल संबंधी बीमारियों के वार्ड में वह हजारों-हजार, शंका-कुशंकाओं से भरा चुपचाप लेटा था। सर्जन की प्रतीक्षा हो रही थी। अलबत्ता ...

पेरेंटिंग
द्वारा Dr Sonika Sharma
  • 990

ज़िन्दगी में हर इंसान को अपने अनुभव को हमेशा दूसरे से बाँटना चाहिए क्योंकि आप अपने जीवन में होने वाले अच्छे-बुरे अनुभवों से ही सीखते है और जब हम ...

राजभाषा बनाम राष्ट्रभाषा
द्वारा डॉ अनामिकासिन्हा
  • 1k

 आज मैं आपके सामने राजभाषा बनाम राष्ट्रभाषा पर कुछ कहना चाहती हूं भाषा एक ऐसी श्रृंखला है जिसके द्वारा  हम एक राज्य से दूसरे राज्य तक अपनी सीमा और ...

हकीकत की हकीकत - 3
द्वारा Akshay jain
  • 1.1k

                    कहा जाता है! कि इंसान गलतियों का पुतला होता है। और यदि कोई गलती नहीं करेगा तो सभी भगवान ...

हकीकत वास्तविकता - 2
द्वारा Akshay jain
  • 1.1k

                 जीवन में “हकीकत" शब्द बहुत मायने रखता है। क्योंकि यदि आप अपने जीवन में हकीकत अथवा वास्तविकता को स्थान देते हैं ...

हकीकत वास्तविकता - 1
द्वारा Akshay jain
  • 1.4k

हकीकत इस शब्द से महज सभी लोग पीछा छुड़ाते हैं। कोई नहीं जानना चाहता हकीकत को। सभी लोग आंखों को बंद करके जीना चाहते हैं और जीते भी हैं। ...

डॉक्टरों की हड़ताल
द्वारा राजनारायण बोहरे
  • 957

हड़ताल   टीकू के सीने दर्द लगातार बढ़ता ही जा रहा था। दर्द से आँखे मींचे  हुए वह दुहरा जा रहा था और बीच-बीच में उठकर मम्मी को देख ...

फांस
द्वारा Poonam Singh
  • 1.2k

" फाँस " ----------"पिछले साल फसल अच्छी हुई थी तो फुस के घर की जगह पक्का घर बनवाय दिहे रहे और तुम्हरे लिए एक ठो टीवी भी खरीद दिहे रहे।" ...

एक ख़ून माफ़
द्वारा Dr Ranjana Jaiswal
  • 1.4k

मैं समझ नहीं पा रही थी कि संचय को हो क्या गया है,वह मेरे सामने दूसरे युवा,सुंदर पुरूषों की प्रशंसा क्यों करता रहता है?क्या उसको अपनी कमियों का अहसास ...

आत्महत्या
द्वारा Priya Saini
  • 1.6k

जब तुम अँधेरे से घिरे हुए हो और कहीं से एक रोशनी नज़र आये। तुम उस रोशनी का पीछा करते हुए आगे बढ़ो और पास जाकर पता चले ये ...

एकमेडिटेशन - 3
द्वारा VANDANA VANI SINGH
  • 1.1k

इन दिनों जब से प्रयोग लिखना शुरू किया है मुझे भी बड़ी ख़ुशी मिल रही है। एसा लगता है कुछ है जो मुझे आप से जोड़ रहा कहानी लिखी ...

बंसी
द्वारा Poonam Singh
  • (11)
  • 1.4k

      "बंसी" "कृष्णा,,,!! कृष्णा......!!ओ....कृष्णा, कहाँ गया।" माँ के बारम्बार पुकारने पर भी कृष्णा कहीं नज़र नहीं आया। "पता नहीं ये लड़का कहाँ चला जाता है बिना बताए...?" ...

एकमेडिटेशन - 2
द्वारा VANDANA VANI SINGH
  • 1.2k

तीसरा प्रयोगअब बारी तीसरे प्रयोग की है , हम पहले दोनो प्रयोग में अगर सफल हुए ये तीसरे प्रयोग बड़ी आसानी से कर सकते है। इस प्रयोग में सिर्फ ...

एकमेडिटेशन - 1
द्वारा VANDANA VANI SINGH
  • 1.5k

आज हम बात मेडिटेशन पे करेंगे ,  मेडिटेशन आज के समाज के लिए सबसे आवश्यक और महत्वपूर्ण है।  अगर मेडिटेशन का का अर्थ समझे  तो ध्यान  पड़ने में ये ...

सुसाइड क्यूं
द्वारा shilpi krishna
  • 1.1k

#सुसाइड  क्यूं ???* क्यूं हमें जिंदगी से प्यारी मौत लगने लगती है ?*क्यूं हमें सुसाइड करने से पहले किसी का मोह नहीं रहता ?*क्या सुसाइड करने से सारी समस्या ...

वह एक दिन
द्वारा Lovelesh Dutt
  • 1.4k

वह एक दिन--लवलेश दत्त‘उफ! यह तो बहुत मुसीबत हो गयी’, अखबार की हेडलाइन ‘देश में इक्कीस दिन के लिए संपूर्ण लॉक डाउन’ पर नज़र पढ़ते ही शर्मा जी के ...

क्रिप्टो करेंसी सही या गलत ।
द्वारा H M Writter0
  • 1k

इस दुनिया में जीवन यापन करने के लिए व्यक्ति को अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति करना होता है, अपनी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए लोग एक दूसरे से लेनदेन करते ...

जिंदगी
द्वारा Venu G Nair
  • 1.5k

  लोग कहते हे  " जिंदगी एक सफर है "।  लेकिन  ऐ  नहीं पता यह कब शुरू होता है और कब खतम।  हर इंसान अपनी जिंदगी अलग अलग जगह ...

मुस्कुराते हुए चेहरे दुनिया की सबसे खूबसूरत उम्मीद होते हैं।
द्वारा Amit Singh
  • 2.2k

"मुस्कुराते हुए चेहरे दुनिया की सबसे सबसे खूबसूरत उम्मीद होते हैं "कहते हैं कि ये दुनिया उम्मीदों पर टिकी है | लेकिन इस उम्मीद की बुनियाद किस पर टिकी ...

आलोचक जात
द्वारा Sonu Kasana
  • 1.2k

आपने इस शब्द के बारे में अवश्य ही बहुत कुछ सुन रखा होगा और कुछ ना कुछ समझ भी रखा होगा और निश्चित रूप से आपके लिए आलोचक के ...

परिचय - मेरे साथ चाणक्य निती
द्वारा Nimish Pansuriya
  • 2.3k

             "चाणक्य नीति " , जब यह पुस्तक लोगों के सामने आती है तब अधिक प्रमाण में लोग इस पुस्तक को एक राजनीतिक मुद्दे ...