हिंदी किताबें, कहानियाँ व् उपन्यास पढ़ें व् डाऊनलोड करें PDF

डिटेक्टिव - पार्ट - ४
by Urvil Gor V.
  • (24)
  • 219

पार्ट ३ में देखा कि पुलिस को विनय कि लाश मिली।अब आगेपुलिस:लाश को जल्दी से पोस्ट मॉर्टम में भेजो।विजय: सर हमे लगा कि विजय गायब है तो ब्रिजेश ओर ...

डिटेक्टिव - पार्ट - ३
by Urvil Gor V.
  • (21)
  • 201

अगर आपने पहले के दो पार्ट नहीं पढ़े हे तो पहले वो पढ़ लीजिए अब आगे पुलिस: ये विजय तुम दोनों के रूम में आया तो डर नई लगा ...

डिटेक्टिव - पार्ट - २
by Urvil Gor V.
  • (20)
  • 243

पार्ट १ में आपने पढ़ा कि केसे विजय कैश क बारे में नोट्स तैयार कर रहा है ओर केसे वॉच मेन ने ब्रिजेश ओर कोमल की लाश जमीन पर ...

डिटेक्टिव - पार्ट - १
by Urvil Gor V.
  • (32)
  • 468

डिटेक्टिव: (पूर्ण रूप से काल्पनिक कहानी) सिटी राजगढ़ शहर में अक्सर अपने सपनों को हकीकत में बदलने की कोशिश में लगे हुए होते है। गांव राम नगर से विजय ...

क्या परमेश्वर मर गया है ?
by True Words
  • (10)
  • 163

"क्या परमेश्वर मर गया है ?" यह सवाल सिर्फ एक धर्म के लिए नही ह सभी धर्म के लिए है दुनिया मे सब लोग कोई न कोई धर्म मे ...

हल्दी घाटी की लड़ाई
by Vrishali Gotkhindikar
  • (21)
  • 633

युद्ध कथा हम सबके मनमे जोश पैदा कर देती है हल्दी घाटी की लड़ाई की एक ऐसी युद्ध कथा है जिसमे सैनिको साथ एक अश्व ने भी ...

फौजी और वफ़ादार कुत्ता
by Rajesh Mehra
  • (18)
  • 525

This story is for that animal which is faithful all time and in all condition to their owner called man. This animals faithfullness can not be measured in some ...

हमारी आख़री कैम्पिंग !
by zeba praveen
  • (13)
  • 761

अनसुनी कहानी ! ये एक काल्पनिक कथा है और इसका वास्तविकता से कोई सम्बन्ध नहीं है इस कहानी की शुरुआत कैम्पिंग से होती है जो एक साहसिक खेल है जिसे ...

अनजाने लक्ष्य की यात्रा पे-6
by Mirza Hafiz Baig
  • (13)
  • 1.1k

इस भाग को पढ़ने से पूर्व कृप्या इसके पूर्व पांचो भाग ज़रूर पढ़ें …… “तुम कह तो ठीक रहे हो ।“ उसने कहा “लेकिन वे भी तो हमसे अनभिज्ञ ...

एक उलझी सी पहेली
by Neha Agarwal Nishabd
  • (26)
  • 1.5k

दोनों दोस्तों ने आज से पहले कभी टमाटर के पकोड़े नहीं खाये थे। पर अब तो लग रहा था कि इन टमाटरों के पकौड़ों के लिए कम से कम ...