बाल कथाएँ कहानियाँ पढ़े और PDF में डाउनलोड करे

Matrubharti is the unique free online library if you are finding Children Stories, because it brings beautiful stories and it keeps putting latest stories by the authors across the world. Make this page as favorite in your browser to get the updated stories for yourself. If you want us to remind you about touching new story in this category, please register and login now.


Categories
Featured Books
  • पर-कटी पाखी - प्रस्तावना

    प्रस्तावना बालक के माता और पिता, दो पंख ही तो होते हैं उसके, जिनकी सहायता से बाल...

  • आओ कुछ सीखे

    १) एक चिड़ीया की कहानी   एक छोटे से गाँव में एक छोटी सी चिड़िया रहती थी। चिड़िया...

  • गोलू भागा घर से - 1

    ............... 1 मक्खनपुर से दिल्ली रेलवे स्टेशन तक आखिर जिस बात की बिल्कुल उम्...

बगुला और सांप By दिनेश कुमार कीर

बगुला और सांप की कहानी - अनीश और अमितएक बार एक सुंदर व सुशील लड़का था, जिसका नाम अनीश था । वह बहुत ही नेक और ईमानदार और दयालु था । वह सदा पढ़ाई में आगे रहता था । वह सभी गुरुजनों, अ...

Read Free

पर-कटी पाखी - प्रस्तावना By Anand Vishvas

प्रस्तावना बालक के माता और पिता, दो पंख ही तो होते हैं उसके, जिनकी सहायता से बालक अपनी बुलन्दियों की ऊँचे से ऊँची उड़ान भर पाता है। एक बुलन्द हौसला होतें हैं, अदम्य-शक्ति होते हैं...

Read Free

आओ कुछ सीखे By Sonam

१) एक चिड़ीया की कहानी   एक छोटे से गाँव में एक छोटी सी चिड़िया रहती थी। चिड़िया का नाम टोपी था। टोपी बहुत ही प्यारी और मासूम चिड़िया थी। वह हमेशा खुश रहती थी और अपने आसपास के सभी...

Read Free

मुल्ला नसरुद्दीन के चंद छोटे किस्से - 1 By MB (Official)

मुल्ला नसरुद्दीन भाग - 1 जंगली फूल सर्दियों का पूरा मौसम नसरुद्दीन ने अपने बगीचे की देखरेख में बिताया. वसंत आते ही हर तरफ मनमोहक फूलों ने अपनी छटा बिखेरी. बेहतरीन गुलाबों और दूसरे...

Read Free

मोनू ,बब्बू और शेर महाशय - भाग 1 By Premyad kumar Naveen

मीना अपने लड़के को दवा लाने को कहती है,और मोनू अपनी टूक टूक (सायकल) में सवार हो कर पर्चा हाथ मे लेकर निकलने लगता है। वो अपने घर के मुख्य दरवाजे के पास पहुँचा ही होता है,की तभी घर के...

Read Free

गोलू भागा घर से - 1 By Prakash Manu

............... 1 मक्खनपुर से दिल्ली रेलवे स्टेशन तक आखिर जिस बात की बिल्कुल उम्मीद नहीं थी, वही हुई। गोलू घर से भाग गया। गोलू के मम्मी-पापा, बड़ा भाई आशीष और दोनों दीदियाँ ढूँढ़-ढ...

Read Free

एक था ठुनठुनिया - 1 By Prakash Manu

प्रकाश मनु 1 सच...पगला, बिल्कुल पगला है तू! ........................ एक था ठुनठुनिया। बड़ा ही नटखट, बड़ा ही हँसोड़। हर वक्त हँसता-खिलखिलाता रहता। इस कारण माँ का तो वह लाड़ला था ही,...

Read Free

डोर टू डोर कैंपेन - 1 By Prabodh Kumar Govil

( 1 )दुनिया भर में लोग कुत्ते पालने का शौक़ सबसे ज़्यादा रखते हैं। हज़ारों नस्लों के छोटे - बड़े डॉगी इंसानों के पसंदीदा मित्र बन कर उनके पालतू के रूप में उनके साथ रहते थे। इन कुत्...

Read Free

इतिहास का वह सबसे महान विदूषक - 1 By Prakash Manu

प्रकाश मनु 1 अच्छा, तू माँ से भी मजाक करेगा? कोई छह सौ वर्ष पुरानी बात है। विजयनगर का साम्राज्य सारी दुनिया में प्रसिद्ध था। उन दिनों भारत पर विदेशी आक्रमणों के कारण प्रजा बड़ी मुश...

Read Free

जंगल चला शहर होने - 1 By Prabodh Kumar Govil

नहीं नहीं!ऐसा नहीं था कि जंगल हमेशा चुपचाप रहता हो। बहुत आवाज़ें थीं वहां।सुबह होते ही जब सूरज निकलता तो पंछी चहचहाते। कोई कहता कि ये कलरव है, कोई कहता गुंजन है, कोई कहता कोलाहल है...

Read Free

निडर - 1 By Asha Saraswat

यह कहानी बहुत छोटी है, परंतु इससे सीख बहुत बड़ी मिलती है । आत्मविश्वास एवं कर्मठता की सीख मिलती है, निडरता की सीख मिलती है और साथ में यह भी सीख मिलती है कि असंभव कुछ भी न...

Read Free

भोला की भोलागिरी - 1 (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से) By SAMIR GANGULY

भोकौन है भोला ? भीड़ में भी तुम भोला को पहचान लोगे.उसके उलझे बाल,लहराती चाल,ढीली-ढाली टी-शर्ट, और मुस्कराता चेहरा देखकर.भोला को गुस्सा कभी नहीं आता है और वह सबके काम आता है.भोला तुम...

Read Free

शुभि By Asha Saraswat

एक चिड़िया आती है,चिव-चिव गीत सुनाती है, दो दिल्ली की बिल्ली है,देखो जाती दिल्ली है, तीन चूहे राजा है देखो बजाते बाजा है,चार घर में कार है,हम जाने को लाचार हैं।........

Read Free

मोबाइल में गाँव - 1 By Sudha Adesh

ट्रेन का सफर-1सुनयना को जैसे ही उसके ममा-पापा ने बताया कि इस बार क्रिसमस की छुट्टियों में उसके दादाजी के पास ट्रेन से गाँव जायेंगे, उसकी खुशी का ठिकाना न रहा । जबसे स्कूल के ए...

Read Free

मूर्ति का रहस्य - 1 By रामगोपाल तिवारी (भावुक)

मूर्ति का रहस्य 1 बाल उपन्यास रामगोपाल भावुक सम्पर्क-...

Read Free

सीमा पार के कैदी - 1 By राजनारायण बोहरे

सीमा पार के कैदी 1 बाल उपन्यास राजनारायण बोहरे दतिया (म0प्र0) एक फौजी जासूस केदारसिंह अपने दोनों बेटों के साथ सीमा की एक चौकी पर आये हुए थे और सब लोग सीमा पार की दूसरे...

Read Free

छूना है आसमान - 1 By Goodwin Masih

उपन्यास के बारे में “छूना है आसमान“, बाल उपन्यास कल्पना कम, हकीकत अधिक है। चेतना से मेरा परिचय किसी और नाम से हुआ था। चेतना उम्र में छोटी जरूर थी, लेकिन उसकी समझ, उसकी बातें और उसक...

Read Free

आसमान में डायनासौर - 1 By राज बोहरे

आसमान में डायनासौर 1 बाल उपन्यास राजनारायण बोहरे यकायक हड़कंप सा मच गया था। उड़नतश्तरियां ही उड़नतश्तरियां!! आसमान भरा हुआ था उड़नतश्तरि...

Read Free

सोलहवाँ साल (1) By ramgopal bhavuk

उपन्यास सोलहवाँ साल रामगोपाल भावुक...

Read Free

जादूगर जंकाल और सोनपरी (1) By राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे जादूगर जंकाल और सोनपरी बहुत पुरानी बात है। जब इस देश में जादूगर और परी, बहुत सारे राजा...

Read Free

बकरी और बच्चे (भाग-०१) By Abhinav Bajpai

बकरी और बच्चे (भाग-०१)बच्चों की सूझबूझएक बकरी थी, उसके चार बच्चे थे। नाम थे - अल्लों, बल्लो, चेव और मेव। चारो बड़े ही नटखट और शैतान थे। बकरी रोज सवेरे बच्चो को घर में छोड़ कर बाहर...

Read Free

दानी की कहानी - 1 By Pranava Bharti

मीठी सुपारी --------- दानी अक्सर अपनी तीसरी पीढ़ी के बच्चों को अपने ज़माने की कहानियाँ सुनाती हैं | बच्चों को भी बड़ा मज़ा आता है क्योंकि उनके लिए आज का माहौल ही सब कुछ है | व...

Read Free

रघुवन की कहानियां - शहद के चोर By Sandeep Shrivastava

रघुवन में ऊँचे ऊँचे पेड़ों पर मधुमक्खी के छत्ते लगे हुए थे | मधुमक्खियों का दल दिन भर फूलों से रस चूसता और अपने छत्ते में जाके शहद बनाता| जब शहद से छत्ता भर जाता तो वो उसको अपने दोस...

Read Free

अदृश्य गाँव का रहस्य - 1 By Mukesh nagar

अदृश्य गाँव का रहस्य भाग 1 *********************** यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक नहीं है, और सत्य कहकर मैं फँसना नहीं चाहता...किसी को वचन दिया है। अतः इसे आधा सच और आधा झूठ मान स...

Read Free

स्वप्न हो गये बचपन के दिन भी... (1) By Anandvardhan Ojha

स्वप्न हो गये बचपन के दिन... (१)"मेला नाम 'आदनबादन ओदा' है !"....यह कथा मेरी स्मृति का हिस्सा कभी नहीं रही। शायद तब की कथा है, जब मैं पूरी तरह होशगर नहीं हुआ था। लेकिन, कथा...

Read Free

उदना और उदनी - 1 By Abhinav Bajpai

एक उदना था और एक उदनी थी। उदना प्रतिदिन खेत पर जाता था और उदनी उसके लिए दोपहर का खाना लेकर जाती थी। एक दिन उदनी जब उदना के लिए खेत पर खाना लेकर कर जा रही थी तो उसे रास्ते में बड़कू...

Read Free

बिखरते सपने - 1 By Goodwin Masih

बिखरते सपने उपन्यास के बारे में बिखरते सपने, एक ऐसी लड़की स्नेहा की कहानी है, जिसके पापा आधुनिक युग में भी निहायत ही रूढंीवादी और संकुचित विचारों के थे। वह स्नेहा को सिर्फ एक लड़की ह...

Read Free

परियों का पेड़ - 1 By Arvind Kumar Sahu

परियों का पेड़ (1) राजू एक लकड़हारे का बेटा था | उसके पिताजी जंगल से पेड़ काटकर लकड़ियाँ लाते | फिर उन्हें बाजार में बेच देते | उसकी माँ लकड़ियों से ही कुछ खिलौने भी बना लेती थी, जिसे ब...

Read Free

बच्चों को सुनाएँ - कुरूप सुषमा By r k lal

बच्चों को सुनाएँ – 1 “कुरूप सुषमा” आर० के० लाल एक गाँव की लड़की की यह कहानी है जो बहुत सुंदर नहीं थी । उसका नाम सुषमा था । सुषमा बड़ी साधारण सी लड़की थी । उसका रंग...

Read Free

चिरइ चुरमुन और चीनू दीदी - 1 By PANKAJ SUBEER

चिरइ चुरमुन और चीनू दीदी (कहानी पंकज सुबीर) (1) इस कहानी में जो चिरइ चुरमुन हैं वो ही ‘हम’ हैं । ‘हम’ का मतलब वो जो कहानी सुना रहा है । यहाँ पर ‘मैं’ की जगह पर ‘हम’ इसलिये सुना रहा...

Read Free

आई तो आई कहाँ से - 1 By Dr Sudha Gupta

आरुषि ........ आरुषि ........
हाँ मम्मा, मैं यहाँ हूँ l अपनी गुड़िया के साथ खेल रही हूँ l
अच्छा, अच्छा अब जल्दी से तैयार हो जा, शाम हो गई है, चल मैं तेरी चोटी गूँथ दूँ l
हाँ,...

Read Free

देवों की घाटी - 1 By BALRAM AGARWAL

जो व्यक्ति जितना ज्यादा घूमता है, वह उतना ही ज्यादा अनुभवी भी होता है। इसलिए बालकों में बचपन से ही यात्राओं में रुचि लेने की आदत डालनी चाहिए। यात्राएँ उनको अनुभवी और जिज्ञासु द...

Read Free

बगुला और सांप By दिनेश कुमार कीर

बगुला और सांप की कहानी - अनीश और अमितएक बार एक सुंदर व सुशील लड़का था, जिसका नाम अनीश था । वह बहुत ही नेक और ईमानदार और दयालु था । वह सदा पढ़ाई में आगे रहता था । वह सभी गुरुजनों, अ...

Read Free

पर-कटी पाखी - प्रस्तावना By Anand Vishvas

प्रस्तावना बालक के माता और पिता, दो पंख ही तो होते हैं उसके, जिनकी सहायता से बालक अपनी बुलन्दियों की ऊँचे से ऊँची उड़ान भर पाता है। एक बुलन्द हौसला होतें हैं, अदम्य-शक्ति होते हैं...

Read Free

आओ कुछ सीखे By Sonam

१) एक चिड़ीया की कहानी   एक छोटे से गाँव में एक छोटी सी चिड़िया रहती थी। चिड़िया का नाम टोपी था। टोपी बहुत ही प्यारी और मासूम चिड़िया थी। वह हमेशा खुश रहती थी और अपने आसपास के सभी...

Read Free

मुल्ला नसरुद्दीन के चंद छोटे किस्से - 1 By MB (Official)

मुल्ला नसरुद्दीन भाग - 1 जंगली फूल सर्दियों का पूरा मौसम नसरुद्दीन ने अपने बगीचे की देखरेख में बिताया. वसंत आते ही हर तरफ मनमोहक फूलों ने अपनी छटा बिखेरी. बेहतरीन गुलाबों और दूसरे...

Read Free

मोनू ,बब्बू और शेर महाशय - भाग 1 By Premyad kumar Naveen

मीना अपने लड़के को दवा लाने को कहती है,और मोनू अपनी टूक टूक (सायकल) में सवार हो कर पर्चा हाथ मे लेकर निकलने लगता है। वो अपने घर के मुख्य दरवाजे के पास पहुँचा ही होता है,की तभी घर के...

Read Free

गोलू भागा घर से - 1 By Prakash Manu

............... 1 मक्खनपुर से दिल्ली रेलवे स्टेशन तक आखिर जिस बात की बिल्कुल उम्मीद नहीं थी, वही हुई। गोलू घर से भाग गया। गोलू के मम्मी-पापा, बड़ा भाई आशीष और दोनों दीदियाँ ढूँढ़-ढ...

Read Free

एक था ठुनठुनिया - 1 By Prakash Manu

प्रकाश मनु 1 सच...पगला, बिल्कुल पगला है तू! ........................ एक था ठुनठुनिया। बड़ा ही नटखट, बड़ा ही हँसोड़। हर वक्त हँसता-खिलखिलाता रहता। इस कारण माँ का तो वह लाड़ला था ही,...

Read Free

डोर टू डोर कैंपेन - 1 By Prabodh Kumar Govil

( 1 )दुनिया भर में लोग कुत्ते पालने का शौक़ सबसे ज़्यादा रखते हैं। हज़ारों नस्लों के छोटे - बड़े डॉगी इंसानों के पसंदीदा मित्र बन कर उनके पालतू के रूप में उनके साथ रहते थे। इन कुत्...

Read Free

इतिहास का वह सबसे महान विदूषक - 1 By Prakash Manu

प्रकाश मनु 1 अच्छा, तू माँ से भी मजाक करेगा? कोई छह सौ वर्ष पुरानी बात है। विजयनगर का साम्राज्य सारी दुनिया में प्रसिद्ध था। उन दिनों भारत पर विदेशी आक्रमणों के कारण प्रजा बड़ी मुश...

Read Free

जंगल चला शहर होने - 1 By Prabodh Kumar Govil

नहीं नहीं!ऐसा नहीं था कि जंगल हमेशा चुपचाप रहता हो। बहुत आवाज़ें थीं वहां।सुबह होते ही जब सूरज निकलता तो पंछी चहचहाते। कोई कहता कि ये कलरव है, कोई कहता गुंजन है, कोई कहता कोलाहल है...

Read Free

निडर - 1 By Asha Saraswat

यह कहानी बहुत छोटी है, परंतु इससे सीख बहुत बड़ी मिलती है । आत्मविश्वास एवं कर्मठता की सीख मिलती है, निडरता की सीख मिलती है और साथ में यह भी सीख मिलती है कि असंभव कुछ भी न...

Read Free

भोला की भोलागिरी - 1 (बच्चों के लिए भोला के 20 अजब-गजब किस्से) By SAMIR GANGULY

भोकौन है भोला ? भीड़ में भी तुम भोला को पहचान लोगे.उसके उलझे बाल,लहराती चाल,ढीली-ढाली टी-शर्ट, और मुस्कराता चेहरा देखकर.भोला को गुस्सा कभी नहीं आता है और वह सबके काम आता है.भोला तुम...

Read Free

शुभि By Asha Saraswat

एक चिड़िया आती है,चिव-चिव गीत सुनाती है, दो दिल्ली की बिल्ली है,देखो जाती दिल्ली है, तीन चूहे राजा है देखो बजाते बाजा है,चार घर में कार है,हम जाने को लाचार हैं।........

Read Free

मोबाइल में गाँव - 1 By Sudha Adesh

ट्रेन का सफर-1सुनयना को जैसे ही उसके ममा-पापा ने बताया कि इस बार क्रिसमस की छुट्टियों में उसके दादाजी के पास ट्रेन से गाँव जायेंगे, उसकी खुशी का ठिकाना न रहा । जबसे स्कूल के ए...

Read Free

मूर्ति का रहस्य - 1 By रामगोपाल तिवारी (भावुक)

मूर्ति का रहस्य 1 बाल उपन्यास रामगोपाल भावुक सम्पर्क-...

Read Free

सीमा पार के कैदी - 1 By राजनारायण बोहरे

सीमा पार के कैदी 1 बाल उपन्यास राजनारायण बोहरे दतिया (म0प्र0) एक फौजी जासूस केदारसिंह अपने दोनों बेटों के साथ सीमा की एक चौकी पर आये हुए थे और सब लोग सीमा पार की दूसरे...

Read Free

छूना है आसमान - 1 By Goodwin Masih

उपन्यास के बारे में “छूना है आसमान“, बाल उपन्यास कल्पना कम, हकीकत अधिक है। चेतना से मेरा परिचय किसी और नाम से हुआ था। चेतना उम्र में छोटी जरूर थी, लेकिन उसकी समझ, उसकी बातें और उसक...

Read Free

आसमान में डायनासौर - 1 By राज बोहरे

आसमान में डायनासौर 1 बाल उपन्यास राजनारायण बोहरे यकायक हड़कंप सा मच गया था। उड़नतश्तरियां ही उड़नतश्तरियां!! आसमान भरा हुआ था उड़नतश्तरि...

Read Free

सोलहवाँ साल (1) By ramgopal bhavuk

उपन्यास सोलहवाँ साल रामगोपाल भावुक...

Read Free

जादूगर जंकाल और सोनपरी (1) By राज बोहरे

जादूगर जंकाल और सोनपरी बाल कहानी लेखक.राजनारायण बोहरे जादूगर जंकाल और सोनपरी बहुत पुरानी बात है। जब इस देश में जादूगर और परी, बहुत सारे राजा...

Read Free

बकरी और बच्चे (भाग-०१) By Abhinav Bajpai

बकरी और बच्चे (भाग-०१)बच्चों की सूझबूझएक बकरी थी, उसके चार बच्चे थे। नाम थे - अल्लों, बल्लो, चेव और मेव। चारो बड़े ही नटखट और शैतान थे। बकरी रोज सवेरे बच्चो को घर में छोड़ कर बाहर...

Read Free

दानी की कहानी - 1 By Pranava Bharti

मीठी सुपारी --------- दानी अक्सर अपनी तीसरी पीढ़ी के बच्चों को अपने ज़माने की कहानियाँ सुनाती हैं | बच्चों को भी बड़ा मज़ा आता है क्योंकि उनके लिए आज का माहौल ही सब कुछ है | व...

Read Free

रघुवन की कहानियां - शहद के चोर By Sandeep Shrivastava

रघुवन में ऊँचे ऊँचे पेड़ों पर मधुमक्खी के छत्ते लगे हुए थे | मधुमक्खियों का दल दिन भर फूलों से रस चूसता और अपने छत्ते में जाके शहद बनाता| जब शहद से छत्ता भर जाता तो वो उसको अपने दोस...

Read Free

अदृश्य गाँव का रहस्य - 1 By Mukesh nagar

अदृश्य गाँव का रहस्य भाग 1 *********************** यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक नहीं है, और सत्य कहकर मैं फँसना नहीं चाहता...किसी को वचन दिया है। अतः इसे आधा सच और आधा झूठ मान स...

Read Free

स्वप्न हो गये बचपन के दिन भी... (1) By Anandvardhan Ojha

स्वप्न हो गये बचपन के दिन... (१)"मेला नाम 'आदनबादन ओदा' है !"....यह कथा मेरी स्मृति का हिस्सा कभी नहीं रही। शायद तब की कथा है, जब मैं पूरी तरह होशगर नहीं हुआ था। लेकिन, कथा...

Read Free

उदना और उदनी - 1 By Abhinav Bajpai

एक उदना था और एक उदनी थी। उदना प्रतिदिन खेत पर जाता था और उदनी उसके लिए दोपहर का खाना लेकर जाती थी। एक दिन उदनी जब उदना के लिए खेत पर खाना लेकर कर जा रही थी तो उसे रास्ते में बड़कू...

Read Free

बिखरते सपने - 1 By Goodwin Masih

बिखरते सपने उपन्यास के बारे में बिखरते सपने, एक ऐसी लड़की स्नेहा की कहानी है, जिसके पापा आधुनिक युग में भी निहायत ही रूढंीवादी और संकुचित विचारों के थे। वह स्नेहा को सिर्फ एक लड़की ह...

Read Free

परियों का पेड़ - 1 By Arvind Kumar Sahu

परियों का पेड़ (1) राजू एक लकड़हारे का बेटा था | उसके पिताजी जंगल से पेड़ काटकर लकड़ियाँ लाते | फिर उन्हें बाजार में बेच देते | उसकी माँ लकड़ियों से ही कुछ खिलौने भी बना लेती थी, जिसे ब...

Read Free

बच्चों को सुनाएँ - कुरूप सुषमा By r k lal

बच्चों को सुनाएँ – 1 “कुरूप सुषमा” आर० के० लाल एक गाँव की लड़की की यह कहानी है जो बहुत सुंदर नहीं थी । उसका नाम सुषमा था । सुषमा बड़ी साधारण सी लड़की थी । उसका रंग...

Read Free

चिरइ चुरमुन और चीनू दीदी - 1 By PANKAJ SUBEER

चिरइ चुरमुन और चीनू दीदी (कहानी पंकज सुबीर) (1) इस कहानी में जो चिरइ चुरमुन हैं वो ही ‘हम’ हैं । ‘हम’ का मतलब वो जो कहानी सुना रहा है । यहाँ पर ‘मैं’ की जगह पर ‘हम’ इसलिये सुना रहा...

Read Free

आई तो आई कहाँ से - 1 By Dr Sudha Gupta

आरुषि ........ आरुषि ........
हाँ मम्मा, मैं यहाँ हूँ l अपनी गुड़िया के साथ खेल रही हूँ l
अच्छा, अच्छा अब जल्दी से तैयार हो जा, शाम हो गई है, चल मैं तेरी चोटी गूँथ दूँ l
हाँ,...

Read Free

देवों की घाटी - 1 By BALRAM AGARWAL

जो व्यक्ति जितना ज्यादा घूमता है, वह उतना ही ज्यादा अनुभवी भी होता है। इसलिए बालकों में बचपन से ही यात्राओं में रुचि लेने की आदत डालनी चाहिए। यात्राएँ उनको अनुभवी और जिज्ञासु द...

Read Free