पौराणिक कथा कहानियाँ पढ़े और PDF में डाउनलोड करे

Matrubharti is the unique free online library if you are finding Mythological Stories, because it brings beautiful stories and it keeps putting latest stories by the authors across the world. Make this page as favorite in your browser to get the updated stories for yourself. If you want us to remind you about touching new story in this category, please register and login now.


Categories
Featured Books
  • पांडव

    पांडव महाभारत के वे पाँच प्रसिद्ध वीर योद्धा थे, जिन्हें महाराज पांडु और कुंती क...

  • वेदव्यास

    वेदव्यास अथवा 'व्यास' हिन्दुओं के प्रसिद्ध धार्मिक महाकाव्य 'महाभारत...

  • मंदोदरी का दूसरा विवाह

    मंदोदरी का दूसरा विवाह सभी जानते हैं कि मंदोदरी महाबली रावण की पत्नी थी। उसके ती...

रानी श्रीगणेशदेईजी By Renu

काशीवाले महाराज श्रीअनिरुद्धसिंहजी (करैया-दतिया) महान् धर्मात्मा थे। इनकी रानी का नाम विजयकुँवरि था। ये भी भगवद्भक्ता एवं पतिव्रता थीं। निरन्तर धर्माचरण-परोपकार के फलस्वरूप वि० संव...

Read Free

श्री धर्मराज By Renu

भगवान् सूर्य की पत्नी संज्ञा से आपका प्रादुर्भाव हुआ है। आप कल्पान्त तक संयमनीपुरी में रहकर जीवों को उनके कर्मानुसार शुभाशुभ फल का विधान करते रहते हैं। ये पुण्यात्मा लोगों को धर्मर...

Read Free

राजा बलि By Renu

जन्मकर्मवयोरूपविद्यैश्वर्यधनादिभिः । यद् यस्य न भवेत्स्तम्भस्तत्रायं मदनुग्रहः ॥(सुन्दर कुल में जन्म, अच्छे कर्म, युवावस्था, सुन्दर रूप, अर्थकरी विद्या, बड़ा भारी ऐश्वर्य, विपुल धन...

Read Free

भगीरथजी By Renu

इक्ष्वाकुवंशीय सम्राट् दिलीप के पुत्र ही भगीरथ नाम से विख्यात हुए। उनके पूर्वपुरुषों ने कपिल की क्रोधाग्नि से भस्मीभूत सगर पुत्रों का उद्धार करने के लिये गंगाजी को लाने की बड़ी चेष...

Read Free

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा - 10 By Kishanlal Sharma

"नही साधु महाराज हम रास्ता नही भटके है"रास्ता नही भटके तो इस जंगल मे कोमल शरीर के बालक नंगे पैर क्यो भटक रहे हैं।"हम रास्ता नही भटके है?"फिर इस जंगल मे क्या कर रहे हैं?"हम किसी की...

Read Free

महाराज सगर By Renu

इक्ष्वाकुवंश में राजा हरिश्चन्द्र नाम के चक्रवर्ती सम्राट् थे। उनके पुत्र का नाम रोहित था। रोहित से हरित का और हरित से चम्प का जन्म हुआ, जिसने चम्पापुरी बसायी। चम्प का सुदेव, सुदेव...

Read Free

भगवान्‌ के चौबीस अवतारों की कथा - 7 By Renu

जब जब होइ धरम कै हानी। बाढहिं असुर अधम अभिमानी॥ करहिं अनीति जाई नहिं बरनी। सीदहिं बिप्र धेनु सुर धरनी॥ तब तब प्रभु धरि बिबिध सरीरा। हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा॥ असुर मारि थापहिं सुरन...

Read Free

स्वायम्भुव मनु By Renu

सृष्टि के प्रारम्भ में जब ब्रह्मा ने सनकादि पुत्रों को उत्पन्न किया और वे निवृत्ति परायण हो गये तब इन्हें बड़ा क्षोभ हुआ। इस क्षोभ के कारण ब्रह्मा रजोगुण और तमोगुण से अभिभूत हो गये...

Read Free

उलूपी By Renu

उलूपी ऐरावत वंश के कौरव्य नामक नाग की कन्या थी। इस नाग कन्या का विवाह एक बाग़ से हुआ था। इसके पति को गरुड़ ने मारकर खा लिया, जिससे यह विधवा हो गयी थी।एक बार अर्जुन, जो प्रतिज्ञा भं...

Read Free

कीचक By Renu

कीचक महाभारत में विराट नरेश का साला तथा उनकी पत्नि सुदेष्णा का भाई था। वह अत्यधिक बलशाली और वीर सेनापति था, किंतु पांडु पुत्र भीम के हाथों उसका वध हुआ। कीचक क्षत्रिय पिता तथा ब्राह...

Read Free

जयद्रथ By Renu

महाभारत में जयद्रथ सिंधु प्रदेश के राजा थे। जयद्रथ का विवाह कौरवों की एकमात्र बहन दुशाला से हुआ था। जयद्रथ वृध्दक्षत्र के पुत्र थे। वृध्दक्षत्र के यहाँ जयद्रथ का जन्म देर से हुआ था...

Read Free

हिडिम्बा By Renu

हिडिम्बा महाभारत में हिडिंब नामक राक्षस की बहन थी। भीम द्वारा हिडिंब का वध कर दिये जाने के पश्चात हिडिम्बा ने एक सुन्दरी का रूप धारण कर भीम से विवाह किया। हिडिम्बा के गर्भ से ही भी...

Read Free

शिखंडी By Renu

शिखंडी महाभारत के पात्रों में से एक है। महाभारत की कथानुसार, काशीराज की तीन कन्याओं में अंबा सबसे बड़ी थी। भीष्म ने स्वयंवर में अपनी शक्ति से उन तीनों का अपहरण कर अपने छोटे भाई विच...

Read Free

शकुनि By Renu

महाभारत का मुख्य पात्र है। गांधारी का भाई है और दुर्योधन का मामा है। 'महाभारत' में शकुनि 'सुबलराज' के पुत्र, गान्धारी के भाई और कौरवों के मामा के रूप में चित्रित हु...

Read Free

पांडव By Renu

पांडव महाभारत के वे पाँच प्रसिद्ध वीर योद्धा थे, जिन्हें महाराज पांडु और कुंती के पुत्रों के रूप में जाना जाता है। महाभारत का अधिकांश घटनाक्रम पांडवों और कौरवों से ही सम्बन्धित है।...

Read Free

वेदव्यास By Renu

वेदव्यास अथवा 'व्यास' हिन्दुओं के प्रसिद्ध धार्मिक महाकाव्य 'महाभारत' के रचयिता थे। वे उन घटनाओं के भी साक्षी रहे, जो क्रमानुसार घटित होती रहीं। हस्तिनापुर राज्य मे...

Read Free

जनमेजय By Renu

जनमेजय अर्जुन के पौत्र राजा परीक्षित के पुत्र थे। जनमेजय की पत्नी वपुष्टमा थी, जो काशीराज की पुत्री थी। बड़े होने पर जब जनमेजय ने पिता परीक्षित की मृत्यु का कारण सर्पदंश जाना तो उस...

Read Free

परीक्षित By Renu

परीक्षित पांडव अर्जुन के पौत्र तथा उत्तरा के गर्भ से उत्पन्न अभिमन्यु के पुत्र थे। ये पांडुकुल के प्रसिद्ध योद्धा थे। हस्तिनापुर इनकी राजधानी थी और ये एक सार्वभौम सम्राट तथा भागवतो...

Read Free

शिशुपाल By Renu

शिशुपाल महाभारत कालीन चेदि राज्य का स्वामी था। महाभारत में चेदि जनपद के निवासियों के लिए आदिपर्व[1] में लिखा है- "चेदि जनपद के लोग धर्मशील, संतोषी ओर साधु हैं। यहाँ हास-परिहास में...

Read Free

संजय By Renu

संजय महर्षि व्यास के शिष्य तथा धृतराष्ट्र की राजसभा के सम्मानित सदस्य थे। ये विद्वान गावाल्गण नामक सूत के पुत्र और जाति से बुनकर थे। वे विनम्र और धार्मिक स्वभाव के थे और अपनी स्पष्...

Read Free

कुब्जा दासी By Renu

कुब्जा मथुरा के राजा कंस के दरबार की एक कुबड़ी दासी थी। यद्यपि वह कुबड़ी थी, लेकिन सौन्दर्य की धनी थी। वह महल में प्रतिदिन फूल, चन्दन तथा तिलक आदि ले जाने का कार्य किया करती थी। जब...

Read Free

मंदोदरी का दूसरा विवाह By bhagirath

मंदोदरी का दूसरा विवाह सभी जानते हैं कि मंदोदरी महाबली रावण की पत्नी थी। उसके तीन पुत्र थे। मेघनाद, कुंभकरण और अंत्येक ।   राम-रावण युद्ध के बाद मंदोदरी युद्ध भूमि में गई। वह अपने...

Read Free

महाभारत की रहस्यमयी कहानियां By Shailesh Chaudhari

वेदव्यास की महाभारत को बेशक मौलिक माना जाता है, लेकिन कहते हैं कि वह 3 चरणों में लिखी गई। पहले चरण में 8,800 श्लोक, दूसरे चरण में 24 हजार और तीसरे चरण में 1 लाख श्लोक लिखे गए। वेदव...

Read Free

ब्रम्हशिर - पार्ट 3 By Shailesh Chaudhari

कालः द्वापरयुग जब पितामह ब्रह्मा ने सृष्टि का निर्माण किया तब ब्रह्मा जी ने मृत्यु का प्रावधान नहीं किया था परिणाम स्वरूप सृष्टि का विस्तार होता गया क्योंकि इस संसार में जिसने जन्म...

Read Free

अम्बा-अम्बालिका-अम्बिका By Renu

अम्बा काशीराज इन्द्रद्युम्न की तीन कन्याओं में ज्येष्ठ कन्या अम्बा थी। भीष्म ने अपने दो सौतले छोटे भाईयों- विचित्रवीर्य और चित्रांगद के विवाह के लिए काशीराज की पुत्रियों का अपहरण क...

Read Free

राजकुमारी शिवन्या - भाग 25 By Mansi

अंतिम भाग २५ अब तक आपने देखा की राजकुमारी शिवन्या को राजकुमार वीरेन का खत मिला था उन्हों ने वह पढ़ा दूसरे दिन शादी थी इसलिए वह खत पढ़ कर सो गई अब आगे की कहानी देखते है। उन्हों ने अ...

Read Free

द्रोणाचार्य By Renu

भरद्वाज का वीर्य किसी द्रोणी में स्खलित होने से जिस पुत्र का जन्म हुआ, उसे द्रोण कहा गया। ऐसा उल्लेख भी मिलता है कि भारद्वाज ने गंगा में स्नान करती घृताची को देखा, आसक्त होने के का...

Read Free

अम्बरीष By Renu

अम्बरीष इक्ष्वाकुवंशीय परमवीर राजा थे। यह भगीरथ के प्रपौत्र, वैवस्वत मनु के पौत्र और नाभाग के पुत्र थे। राजा अम्बरीष की कथा 'रामायण', 'महाभारत' और पुराणों में विस्त...

Read Free

श्रीकृष्ण By Renu

श्रीकृष्ण को हिन्दू धर्म में भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। सनातन धर्म के अनुसार भगवान विष्णु सर्वपापहारी पवित्र और समस्त मनुष्यों को भोग तथा मोक्ष प्रदान करने वाले प्रमुख देव...

Read Free

शिशुपाल By Renu

शिशुपाल महाभारत कालीन चेदि राज्य का स्वामी था। महाभारत में चेदि जनपद के निवासियों के लिए आदिपर्व[1] में लिखा है- "चेदि जनपद के लोग धर्मशील, संतोषी ओर साधु हैं। यहाँ हास-परिहास में...

Read Free

घटोत्कच By Renu

घटोत्कच महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक है। कुंती के पुत्र भीम का राक्षस पुत्र घटोत्कच था। द्रौपदी के अतिरिक्त भीम की एक अन्य पत्नी का नाम हिडिंबा था, जिससे भीम का परमवीर पुत्र...

Read Free

गांधारी By Renu

गांधारी गांधार देश के सुबल नामक राजा की कन्या थीं। क्योंकि वह गांधार की राजकुमारी थीं, इसीलिए उनका नाम गांधारी पड़ा। वह हस्तिनापुर के महाराज धृतराष्ट्र की पत्नी और दुर्योधन आदि कौर...

Read Free

द्रौपदी By Renu

द्रौपदी महाभारत में पाँच पांडवों की रानी थी। उसका जन्म महाराज द्रुपद के यहाँ यज्ञकुण्ड से हुआ था। अतः यह ‘यज्ञसेनी’ भी कहलाई। द्रौपदी पूर्वजन्म में किसी ऋषि की कन्या थी। उसने पति प...

Read Free

Shiv️️ Shakti By Sakshi Rote

Shiv Shakti️The Ultimate Reality is #Paramashiva or ShivaTattwa, and the nature of Shiva is Sacchidananda.#Parashakti or Shakti Tattwa refers to the lccha,Gyana & Kriya Shaktis, an...

Read Free

खाटूश्याम (बर्बरीक) By Renu

खाटूश्याम बर्बरीक के रूप हैं। श्रीकृष्ण ने ही बर्बरीक को 'खाटूश्याम' नाम दिया था। भगवान श्रीकृष्ण के कलयुगी अवतार खाटू श्यामजी खाटू में विराजित हैं। वीर घटोत्कच और मौरवी को...

Read Free

बर्बरीक By Renu

बर्बरीक महान पाण्डव भीम के पुत्र घटोत्कच और नाग कन्या अहिलवती के पुत्र थे। कहीं-कहीं पर मुर दैत्य की पुत्री 'कामकंटकटा' के उदर से भी इनके जन्म होने की बात कही गई है। इनके ज...

Read Free

यक्ष By Renu

यक्ष एक अर्ध देवयोनि (नपुंसक लिंग) है जिसका उल्लेख ऋग्वेद में हुआ है। उसका अर्थ है 'जादू की शक्ति'। 'यच' सम्भवत: 'यक्ष' का ही एक प्राकृत रूप है। अतएव सम्भवत...

Read Free

रानी श्रीगणेशदेईजी By Renu

काशीवाले महाराज श्रीअनिरुद्धसिंहजी (करैया-दतिया) महान् धर्मात्मा थे। इनकी रानी का नाम विजयकुँवरि था। ये भी भगवद्भक्ता एवं पतिव्रता थीं। निरन्तर धर्माचरण-परोपकार के फलस्वरूप वि० संव...

Read Free

श्री धर्मराज By Renu

भगवान् सूर्य की पत्नी संज्ञा से आपका प्रादुर्भाव हुआ है। आप कल्पान्त तक संयमनीपुरी में रहकर जीवों को उनके कर्मानुसार शुभाशुभ फल का विधान करते रहते हैं। ये पुण्यात्मा लोगों को धर्मर...

Read Free

राजा बलि By Renu

जन्मकर्मवयोरूपविद्यैश्वर्यधनादिभिः । यद् यस्य न भवेत्स्तम्भस्तत्रायं मदनुग्रहः ॥(सुन्दर कुल में जन्म, अच्छे कर्म, युवावस्था, सुन्दर रूप, अर्थकरी विद्या, बड़ा भारी ऐश्वर्य, विपुल धन...

Read Free

भगीरथजी By Renu

इक्ष्वाकुवंशीय सम्राट् दिलीप के पुत्र ही भगीरथ नाम से विख्यात हुए। उनके पूर्वपुरुषों ने कपिल की क्रोधाग्नि से भस्मीभूत सगर पुत्रों का उद्धार करने के लिये गंगाजी को लाने की बड़ी चेष...

Read Free

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा - 10 By Kishanlal Sharma

"नही साधु महाराज हम रास्ता नही भटके है"रास्ता नही भटके तो इस जंगल मे कोमल शरीर के बालक नंगे पैर क्यो भटक रहे हैं।"हम रास्ता नही भटके है?"फिर इस जंगल मे क्या कर रहे हैं?"हम किसी की...

Read Free

महाराज सगर By Renu

इक्ष्वाकुवंश में राजा हरिश्चन्द्र नाम के चक्रवर्ती सम्राट् थे। उनके पुत्र का नाम रोहित था। रोहित से हरित का और हरित से चम्प का जन्म हुआ, जिसने चम्पापुरी बसायी। चम्प का सुदेव, सुदेव...

Read Free

भगवान्‌ के चौबीस अवतारों की कथा - 7 By Renu

जब जब होइ धरम कै हानी। बाढहिं असुर अधम अभिमानी॥ करहिं अनीति जाई नहिं बरनी। सीदहिं बिप्र धेनु सुर धरनी॥ तब तब प्रभु धरि बिबिध सरीरा। हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा॥ असुर मारि थापहिं सुरन...

Read Free

स्वायम्भुव मनु By Renu

सृष्टि के प्रारम्भ में जब ब्रह्मा ने सनकादि पुत्रों को उत्पन्न किया और वे निवृत्ति परायण हो गये तब इन्हें बड़ा क्षोभ हुआ। इस क्षोभ के कारण ब्रह्मा रजोगुण और तमोगुण से अभिभूत हो गये...

Read Free

उलूपी By Renu

उलूपी ऐरावत वंश के कौरव्य नामक नाग की कन्या थी। इस नाग कन्या का विवाह एक बाग़ से हुआ था। इसके पति को गरुड़ ने मारकर खा लिया, जिससे यह विधवा हो गयी थी।एक बार अर्जुन, जो प्रतिज्ञा भं...

Read Free

कीचक By Renu

कीचक महाभारत में विराट नरेश का साला तथा उनकी पत्नि सुदेष्णा का भाई था। वह अत्यधिक बलशाली और वीर सेनापति था, किंतु पांडु पुत्र भीम के हाथों उसका वध हुआ। कीचक क्षत्रिय पिता तथा ब्राह...

Read Free

जयद्रथ By Renu

महाभारत में जयद्रथ सिंधु प्रदेश के राजा थे। जयद्रथ का विवाह कौरवों की एकमात्र बहन दुशाला से हुआ था। जयद्रथ वृध्दक्षत्र के पुत्र थे। वृध्दक्षत्र के यहाँ जयद्रथ का जन्म देर से हुआ था...

Read Free

हिडिम्बा By Renu

हिडिम्बा महाभारत में हिडिंब नामक राक्षस की बहन थी। भीम द्वारा हिडिंब का वध कर दिये जाने के पश्चात हिडिम्बा ने एक सुन्दरी का रूप धारण कर भीम से विवाह किया। हिडिम्बा के गर्भ से ही भी...

Read Free

शिखंडी By Renu

शिखंडी महाभारत के पात्रों में से एक है। महाभारत की कथानुसार, काशीराज की तीन कन्याओं में अंबा सबसे बड़ी थी। भीष्म ने स्वयंवर में अपनी शक्ति से उन तीनों का अपहरण कर अपने छोटे भाई विच...

Read Free

शकुनि By Renu

महाभारत का मुख्य पात्र है। गांधारी का भाई है और दुर्योधन का मामा है। 'महाभारत' में शकुनि 'सुबलराज' के पुत्र, गान्धारी के भाई और कौरवों के मामा के रूप में चित्रित हु...

Read Free

पांडव By Renu

पांडव महाभारत के वे पाँच प्रसिद्ध वीर योद्धा थे, जिन्हें महाराज पांडु और कुंती के पुत्रों के रूप में जाना जाता है। महाभारत का अधिकांश घटनाक्रम पांडवों और कौरवों से ही सम्बन्धित है।...

Read Free

वेदव्यास By Renu

वेदव्यास अथवा 'व्यास' हिन्दुओं के प्रसिद्ध धार्मिक महाकाव्य 'महाभारत' के रचयिता थे। वे उन घटनाओं के भी साक्षी रहे, जो क्रमानुसार घटित होती रहीं। हस्तिनापुर राज्य मे...

Read Free

जनमेजय By Renu

जनमेजय अर्जुन के पौत्र राजा परीक्षित के पुत्र थे। जनमेजय की पत्नी वपुष्टमा थी, जो काशीराज की पुत्री थी। बड़े होने पर जब जनमेजय ने पिता परीक्षित की मृत्यु का कारण सर्पदंश जाना तो उस...

Read Free

परीक्षित By Renu

परीक्षित पांडव अर्जुन के पौत्र तथा उत्तरा के गर्भ से उत्पन्न अभिमन्यु के पुत्र थे। ये पांडुकुल के प्रसिद्ध योद्धा थे। हस्तिनापुर इनकी राजधानी थी और ये एक सार्वभौम सम्राट तथा भागवतो...

Read Free

शिशुपाल By Renu

शिशुपाल महाभारत कालीन चेदि राज्य का स्वामी था। महाभारत में चेदि जनपद के निवासियों के लिए आदिपर्व[1] में लिखा है- "चेदि जनपद के लोग धर्मशील, संतोषी ओर साधु हैं। यहाँ हास-परिहास में...

Read Free

संजय By Renu

संजय महर्षि व्यास के शिष्य तथा धृतराष्ट्र की राजसभा के सम्मानित सदस्य थे। ये विद्वान गावाल्गण नामक सूत के पुत्र और जाति से बुनकर थे। वे विनम्र और धार्मिक स्वभाव के थे और अपनी स्पष्...

Read Free

कुब्जा दासी By Renu

कुब्जा मथुरा के राजा कंस के दरबार की एक कुबड़ी दासी थी। यद्यपि वह कुबड़ी थी, लेकिन सौन्दर्य की धनी थी। वह महल में प्रतिदिन फूल, चन्दन तथा तिलक आदि ले जाने का कार्य किया करती थी। जब...

Read Free

मंदोदरी का दूसरा विवाह By bhagirath

मंदोदरी का दूसरा विवाह सभी जानते हैं कि मंदोदरी महाबली रावण की पत्नी थी। उसके तीन पुत्र थे। मेघनाद, कुंभकरण और अंत्येक ।   राम-रावण युद्ध के बाद मंदोदरी युद्ध भूमि में गई। वह अपने...

Read Free

महाभारत की रहस्यमयी कहानियां By Shailesh Chaudhari

वेदव्यास की महाभारत को बेशक मौलिक माना जाता है, लेकिन कहते हैं कि वह 3 चरणों में लिखी गई। पहले चरण में 8,800 श्लोक, दूसरे चरण में 24 हजार और तीसरे चरण में 1 लाख श्लोक लिखे गए। वेदव...

Read Free

ब्रम्हशिर - पार्ट 3 By Shailesh Chaudhari

कालः द्वापरयुग जब पितामह ब्रह्मा ने सृष्टि का निर्माण किया तब ब्रह्मा जी ने मृत्यु का प्रावधान नहीं किया था परिणाम स्वरूप सृष्टि का विस्तार होता गया क्योंकि इस संसार में जिसने जन्म...

Read Free

अम्बा-अम्बालिका-अम्बिका By Renu

अम्बा काशीराज इन्द्रद्युम्न की तीन कन्याओं में ज्येष्ठ कन्या अम्बा थी। भीष्म ने अपने दो सौतले छोटे भाईयों- विचित्रवीर्य और चित्रांगद के विवाह के लिए काशीराज की पुत्रियों का अपहरण क...

Read Free

राजकुमारी शिवन्या - भाग 25 By Mansi

अंतिम भाग २५ अब तक आपने देखा की राजकुमारी शिवन्या को राजकुमार वीरेन का खत मिला था उन्हों ने वह पढ़ा दूसरे दिन शादी थी इसलिए वह खत पढ़ कर सो गई अब आगे की कहानी देखते है। उन्हों ने अ...

Read Free

द्रोणाचार्य By Renu

भरद्वाज का वीर्य किसी द्रोणी में स्खलित होने से जिस पुत्र का जन्म हुआ, उसे द्रोण कहा गया। ऐसा उल्लेख भी मिलता है कि भारद्वाज ने गंगा में स्नान करती घृताची को देखा, आसक्त होने के का...

Read Free

अम्बरीष By Renu

अम्बरीष इक्ष्वाकुवंशीय परमवीर राजा थे। यह भगीरथ के प्रपौत्र, वैवस्वत मनु के पौत्र और नाभाग के पुत्र थे। राजा अम्बरीष की कथा 'रामायण', 'महाभारत' और पुराणों में विस्त...

Read Free

श्रीकृष्ण By Renu

श्रीकृष्ण को हिन्दू धर्म में भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है। सनातन धर्म के अनुसार भगवान विष्णु सर्वपापहारी पवित्र और समस्त मनुष्यों को भोग तथा मोक्ष प्रदान करने वाले प्रमुख देव...

Read Free

शिशुपाल By Renu

शिशुपाल महाभारत कालीन चेदि राज्य का स्वामी था। महाभारत में चेदि जनपद के निवासियों के लिए आदिपर्व[1] में लिखा है- "चेदि जनपद के लोग धर्मशील, संतोषी ओर साधु हैं। यहाँ हास-परिहास में...

Read Free

घटोत्कच By Renu

घटोत्कच महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक है। कुंती के पुत्र भीम का राक्षस पुत्र घटोत्कच था। द्रौपदी के अतिरिक्त भीम की एक अन्य पत्नी का नाम हिडिंबा था, जिससे भीम का परमवीर पुत्र...

Read Free

गांधारी By Renu

गांधारी गांधार देश के सुबल नामक राजा की कन्या थीं। क्योंकि वह गांधार की राजकुमारी थीं, इसीलिए उनका नाम गांधारी पड़ा। वह हस्तिनापुर के महाराज धृतराष्ट्र की पत्नी और दुर्योधन आदि कौर...

Read Free

द्रौपदी By Renu

द्रौपदी महाभारत में पाँच पांडवों की रानी थी। उसका जन्म महाराज द्रुपद के यहाँ यज्ञकुण्ड से हुआ था। अतः यह ‘यज्ञसेनी’ भी कहलाई। द्रौपदी पूर्वजन्म में किसी ऋषि की कन्या थी। उसने पति प...

Read Free

Shiv️️ Shakti By Sakshi Rote

Shiv Shakti️The Ultimate Reality is #Paramashiva or ShivaTattwa, and the nature of Shiva is Sacchidananda.#Parashakti or Shakti Tattwa refers to the lccha,Gyana & Kriya Shaktis, an...

Read Free

खाटूश्याम (बर्बरीक) By Renu

खाटूश्याम बर्बरीक के रूप हैं। श्रीकृष्ण ने ही बर्बरीक को 'खाटूश्याम' नाम दिया था। भगवान श्रीकृष्ण के कलयुगी अवतार खाटू श्यामजी खाटू में विराजित हैं। वीर घटोत्कच और मौरवी को...

Read Free

बर्बरीक By Renu

बर्बरीक महान पाण्डव भीम के पुत्र घटोत्कच और नाग कन्या अहिलवती के पुत्र थे। कहीं-कहीं पर मुर दैत्य की पुत्री 'कामकंटकटा' के उदर से भी इनके जन्म होने की बात कही गई है। इनके ज...

Read Free

यक्ष By Renu

यक्ष एक अर्ध देवयोनि (नपुंसक लिंग) है जिसका उल्लेख ऋग्वेद में हुआ है। उसका अर्थ है 'जादू की शक्ति'। 'यच' सम्भवत: 'यक्ष' का ही एक प्राकृत रूप है। अतएव सम्भवत...

Read Free