सर्वश्रेष्ठ प्रेम कथाएँ कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - (ब्रेकअप_४) 31
द्वारा Veena
  • 45

नियान के आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। उसकी मां जब उसके कमरे में आई, अपनी बेटी को इस कदर रोता देख वह समझ ही नहीं पा रही ...

लव का अलौकिक सप्ताह - 8
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • 117

Day 3: CHOCOLATE DAY लवकेश आँखें खोलता है और देखता है की वह वापिस वहीं अस्पताल में है। सामने किस्मत बैठी है। जिसके हाथ में एक किताब है। "तुमने ...

दूसरी औरत... सीजन - 2 - भाग - 8
द्वारा निशा शर्मा
  • 216

खुदा भी जब तुम्हें, मेरे पास देखता होगा इतनी अनमोल चीज़, दे दी कैसे सोचता होगा सुमित की कार में बजता हुआ ये गीत जैसे स्वेतलाना के कानों में ...

सेकंड लव - 22 - अंतिम भाग
द्वारा Mehul Pasaya
  • 90

ये जरुर उस बिजली का काम है मे उसे छोडूंगा नहीरुको आयुष जी मे भी आपके साथ आ रहा हूहा चलोवैसे फ़ोन से उस का नम्बर ट्रेस करो तो ...

अधूरा पहला प्यार (तीसरी क़िस्त)
द्वारा किशनलाल शर्मा
  • 216

यह मकान मीरा का था।उसे समझते देर नही लगी।अंधेरे में जो आकृति वह देख रहा था,वो मीरा की थी।"रुको मैं अभी आयी।"मनोहर वहीं खड़ा रह गया था।मीरा दरवाजा खोलते ...

धारा - 15
द्वारा Jyoti Prajapati
  • 372

धारा के सवाल से देव के चेहरे का रंग उड़ गया !देव ने हकलाते हुए उससे पूछा, " मतलब..?कहना क्या चाहती हो तुम..? मैं याददाश्त जाने का नाटक भर ...

कथा बुड्ढी भटियारिन व काग मंजरी की
द्वारा Yashvant Kothari
  • 402

कथा बुड्ढी भटियारिन व काग मंजरी की एक था गाँव गाँव के बाहर थी एक धर्मशाला याने कि सराय रोहिल्ला जो सराय काले खां के बग़ल में थीं जहां ...

सनसेट लवर्स
द्वारा Chaksi
  • 411

जिंदगी में राहे बनाना सिख ली तो जिंदगी आसान हों जाती हैं , पर जिंदगी की रहे इतनी आसानी से नही कटती हैं , रहो को आसान बनाने के ...

एक लड़की - 11
द्वारा Radha
  • 840

हर्ष, मिली और पंछी तीनो कॉलेज पहुँचते है हर्ष दोनो को कार से उतार कर कार पार्क करने चला जाता हैं । और मिली के क्लास का समय हो ...

इंजीनियरिंग और इश्क़...
द्वारा Anand Raj Singh
  • 540

यादें..   सुनो! बारिशों में तुम्हारा ख़्याल आता है।तुम कहां हो,कैसे हो, अब कब आओगे अक्सर ये सवाल रह जाते हैं। मन भाग कर तुम्हारे पास जाता है। मन ...

धारा - 14
द्वारा Jyoti Prajapati
  • 630

धारा मंदिर पहुंची ! बड़ा ही विशाल और भव्य मंदिर था ! हर जगह राम जी का नाम लिखा हुआ था ! धारा चकित रह गयी देखकर !! "वास्तव ...

अनोखी दुल्हन - ( असलियत_९) 24
द्वारा Veena
  • 417

" हा। ६० साल मे पहली बार.......... किसीने दरवाजे की घंटी बजाई है।"  दोनो ने चौंकते हुए कहा। R" कौन हो सकता है ? मिस्टर कपूर और राज को पासवर्ड पता ...

फूलों का गुच्छा..
द्वारा Saroj Verma
  • 609

आज शुभम का फिर छोटी सी बात पर प्रिया से झगड़ा हो गया,बात कोई बड़ी नहीं थी, दोनों की शादी होने वाली है और दोनों ही मिलकर अपनी शादी ...

प्रेम निबंध - भाग ८
द्वारा Anand Tripathi
  • 330

इतना कहकर मैंने फोन का पिछला भाग उनको देकर और निकल गया। और छत की दहलीज पर जाकर कपड़े डालने लगा। फिर उन्होंने काफी देर तक बात की उनसे ...

दूसरी औरत... सीजन - 2 - भाग - 7
द्वारा निशा शर्मा
  • 915

आज इतनी जल्दी ... और आप भी तो... एक-दूसरे की आँखों में देखकर मुस्कुरा दिये दोनों ! सुमित न चाहते हुए भी अपने केबिन की ओर बढ़ गया और ...

अनचाहा रिश्ता - ( आमंत्रण _२) 26
द्वारा Veena
  • 723

ये धप मीरा ने समीर को कंधे से उठा कर सीधा स्वप्निल के टेबल पर सुला दीया। तीनो के लिए वक्त वही रुक गया। पूरा केबिन मानो समीर की ...

सेकंड लव - 21
द्वारा Mehul Pasaya
  • 279

बाई बेबी सी यू सून हिहिहीबेबी की बची जाती हो या सिशा सर पे मरु अगर यहा से गये नही तोहा हा जा रहे है भडक क्यू रही होलोकेशन ...

लव का अलौकिक सप्ताह - 7
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • 378

"ये तो वाक़ेय में मस्त है।" लवकेश राज्य को दूर से देखते हुए बोला। "तो बताओ अब क्या करना चाहते हो?" किस्मत ने पूछा। "आज PROPOSE DAY है। आज ...

अधूरा पहला प्यार (दूसरी क़िस्त)
द्वारा किशनलाल शर्मा
  • 444

"तू यहां अंधेरे मे कहा कर रही है?""तेरो इन्तजार।""इन्तजार।काहे?""तू मोकू वो गानों लिख देगो।""कौन सो?""वो ही जो तेने रासलीला मे गायो हतो।""तू कहा करेगी वा गीत को?""मोकू अच्छो लगो।याद ...

धारा - 13
द्वारा Jyoti Prajapati
  • 633

धारा अपना सिर पकड़े बैठी थी और देव अपनी हंसी दबाए ! जिसे वो ज्यादा देर तक कंट्रोल नही कर पाया और अंततः हंस पड़ा ! धारा ने उसे खा ...

कामयोगी उपन्यास -- सुधीर कक्कड़ यशवंत कोठारी
द्वारा Yashvant Kothari
  • 636

एक पाठकीय प्रतिक्रिया कामयोगी उपन्यास -- सुधीर कक्कड़ यशवंत कोठारी यह पुस्तक काफी समय पहले खरीदी गयी थी ,किताबों के ढेर में दब गयी ,अचानक हाथ आई ,रोचक लगी ...

अर्पण--भाग (१०)
द्वारा Saroj Verma
  • (13)
  • 873

राजहंसिनी जी जान से देवनन्दिनी की सालगिरह की तैयारियों में जुट गई,उसने कमलकान्त और कमल किशोर को टेलीफोन करके घर बुलाया,उन दोनों के आने पर उसने कहा कि आप ...

प्यार भी इंकार भी - (भाग3)
द्वारा किशनलाल शर्मा
  • 432

"फिर?"चारुलता को चुप देखकर देवेन बोला था।"पहले राघवन  तन्खाह  मिलने पर मुझेे घर  खर्चे के लिए पैसा   देता था ।लेकिन  ज्यो ज्यो  शराब की मात्रा बढ़ती गई।पेेेसे देेंने    ...

एक लड़की - 10
द्वारा Radha
  • 1.2k

पंछी को हर्ष के घर छोड़ने के बाद पंछी अपने कमरे में जाती हैं , वहाँ झील फोन पर बात कर रही होती है। पंछी अपने कमरे में आकर ...

तृप्ति (सम्पूर्ण भाग)
द्वारा Saroj Verma
  • 1.3k

एक वैभवशाली राज्य में, "अरे,श्याम! आज तुम ठीक से मृदंग क्यों नहीं बजा रहे,एक भी थाप ठीक से नहीं लग रही,"कमलनयनी बोली। "आज मेरा मन थोड़ा विचलित सा है ...

प्यार भी इंकार भी (दूसरा भाग)
द्वारा किशनलाल शर्मा
  • 600

बरसात में नहायी डामर की काली सड़क नागिन सी पसरी पड़ी थी।कभी कभी कोई कार शोर मचाती हुई देवेन के आगे से गुज़र जाती थी।कुछ देर बाद सामने से ...

अनोखी दुल्हन - (असलियत_८) 23
द्वारा Veena
  • 549

वो अपने कमरे मे बैठ अभी भी उस पर्ची को घुरे जा रहा था। एक अंगुठी, एक पर्ची, उस पर लिखा नाम और नंबर। सनी ९८६७****** और होठों का ...

दूसरी औरत... सीजन - 2 - भाग - 6
द्वारा निशा शर्मा
  • 1.3k

साउथ दिल्ली में आठ मंजिला इमारत के तीसरे माले पर अपने केबिन में बैठा हुआ हुआ सुमित जो कि फाइल्स को उलटता-पलटता बैठा हुआ है और उसके चेहरे पर ...

लव का अलौकिक सप्ताह - 6
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • 588

"तुम!" लवकेश थोड़ा आक्रोश में आकर बोला। "अरे वाह। कल जो इंसान इज्जत दे रहा था आज उसके शब्दों में मुझे नफरत नजर आ रही है।" किस्मत मुस्कराकर बोली। ...

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( ब्रेकउप _३) 30
द्वारा Veena
  • 549

गन ने शुरुवात मे काफी इन्कार किया। लेकिन जब उनके होठ १ इंच की दूरी पर थे। अब गन भी उस के साथ बहक गया था। एक प्यार भरा ...