हिंदीजीवनी मुफ्त में पढ़े और PDF डाउनलोड करें

भूख की आग
by Dinesh Tripathi
  • (0)
  • 25

मै तब बारह वर्ष का था |मेरा रोज का नियम था सुबह नास्ते में एक लोटा गाय का ताजा दूध पीना |उस दिन गॉव के पश्चिम दिशा के हनुमान ...

माँ की गोंद - 2
by pradeep Tripathi
  • (4)
  • 55

माँ ज़िन्दगी का हर हिस्सा है, माँ से सुरू इस सृष्टि का हर किस्सा है।माँ के बिना तो शृष्टि का निर्माण अधूरा है, माँ से ही ईश्वर का हर ...

बचपन का दोस्त और मेरा जुर्म
by Akshay Choudhary
  • (9)
  • 170

मेरी दोस्त मुझसे नाराज़ थी क्योंकि मेंने उसे कंजूस कि उपाधी  दी थी उसकी बात करु तो अब तक के मेरे  सबसे अच्छी दोस्त।       उसकी बात करु ...

मुझे सजा ना दो
by Surjeet Singh Bindra
  • (5)
  • 180

जीत :1  ये उन दिनों की बात है जब मैं घुटने के बल पर चलता था. मेरे पिताजी गरीबी से तंग आकर मां से लड़ते हुए घर से बाहर ...

मेरा जीवन - रोहिडा
by Mahipal
  • (4)
  • 155

आज गया था वहां जहाँ कभी मैंने अपने नन्हे पाव रखें थे जमी पर ,जहां कभी लहरातें खेत-खलीयान मे छोटी सी चार पाई पर सोया था कभी ,अपने आँखों ...

माँ की गोद
by pradeep Tripathi
  • (13)
  • 370

मेरे इस कहानी के दो पात्र  हैं मै और मेरी माँ. वैसे तो मेरे घर में पांच लोग हैं मै माँ छोटा भाई संदीप छोटी बहन सुधा मेरे पिता ...

मेरी जींदगी की तीन गलती भाग - २
by Shaimee oza Lafj
  • (19)
  • 530

    में जिंदगी मे अपनी गलतीयों से ही सीखी हुं कभी कभी हम दुसरो पर खुद से भी ज्यादा भरोसा कर ते है, वहीं हमको जिंदगी जीना शिखा ...

किस्मत और मेहनत
by ऋषभ विश्वकर्मा
  • (38)
  • 589

सन 1985सिहोर में राठौर परिवार में मेरा जन्म हुआ और इसी के साथ जगदीश जी भी बाप बन गए जो मेरे ही पिता है पूरे परिवार में  एक खुशी ...

प्रेरणा की जोत
by SIJI GOPAL
  • (10)
  • 612

जोत दीदी तो उस दिन से ही हमारे परिवार का हिस्सा बन गई थी। गिल्ल आंटी थोड़ी शांत स्वभाव की थी, ज़्यादातर बीमार रहतीं थीं, इसलिए घर की ज़िम्मेदारी ...

मेरा पहला अनुभव....
by Deepak Singh
  • (23)
  • 860

सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार । जब मैं मातृभारती पर आया तो मुझे इसके लेख बहुत पसंद आये । नये लेखको के लिए यह बहुत अच्छा प्लेटफॉर्म है। ...

मेरी जींदगी की तीन गलती
by Shaimee oza Lafj
  • (40)
  • 815

मेरी जींदगी की तीन गलती जो मेरा आयना बदल गइ.....       गलती मे तो इंसान की दुनिया बदल जाती है.गलती कभी इंसान को तोड कर रख देतीहै.कभी गलती इंसान ...

आत्मकथा - 3
by Charles Darwin
  • (15)
  • 422

उनकी प्राकृतिक प्रवृत्ति ये थी कि आसान तरीके और कुछेक औजार ही अपनाओ। उनकी युवावस्था के बाद से जटिल माइक्रोस्कोप का चलन बहुत बढ़ गया है और ये माइक्रोस्कोप ...

आत्मकथा - 2
by Charles Darwin
  • (9)
  • 206

डाउन में घर - 14 सितम्बर 1842 से लेकर वर्तमान 1876 तक सर्रे और दूसरे स्थानों पर काफी खोजबीन के बाद हमें यह घर मिला और हमने खरीद भी लिया। ...

आत्मकथा - 1
by Charles Darwin
  • (26)
  • 588

मेरे पिता के आत्म कथ्यात्मक संस्मरण यहाँ प्रस्तुत किये जा रहे हैं। ये संस्मरण उन्होंने अपने घर परिवार और अपने बच्चों के लिए लिखे थे, और उनके मन में ...

हरियाली से निकला समृद्धि का रास्ता
by Ashish Kumar Trivedi
  • (6)
  • 245

एक समय था जब कृषि प्रधान हमारे इस देश में जनता का पेट भरने लायक खाद्यान्न उत्पादन भी नहीं हो पाता था। हमें दूसरे देशों से अनाज का आयात ...

स्वामी केशवानंद
by Govind Sharma
  • (6)
  • 214

#GreatIndianstories Gems of India स्वामी केशवानन्द एक था बालक बीरमा। गरीब किसान घर से। मां खेत में काम करती तो पिता अपने ऊंट पर सामान लाद कर यहां वहां ...

मानवता के मशीहा - बाबा साहेब
by Lakshmi Narayan Panna
  • (40)
  • 570

मानवता का मशीहा , नारी मुक्तिदाता , ज्ञान का प्रतीक या आधुनिक भारत के सम्विधान का जनक कहें । उनकी महानता , जीवन संघर्ष और उपलब्धियों से ...

भारत के अनमोल रत्न
by Namita Gupta
  • (13)
  • 420

      #GreatIndianStories                                                    ...

Sri A.B Vajpayee
by c P Hariharan
  • (19)
  • 446

This is a story about one of the Gems of India Sri A.B Vajpayee, a great political leader and also a great Hindi Poet world has ever seen. He ...

सोसियल मीडिया के साइड इफ़ेक्ट
by Mamta shukla
  • (13)
  • 344

मनुष्य अक्सर अच्छी यादों को संजो कर रखता है,एवं दूसरो से साझा करता है।अच्छी बातें  जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं।इसके विपरीत बुरी यादें मष्तिस्क के किसी ...

अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन व् यादें
by MB (Official)
  • (22)
  • 643

एक मंजा हुआ राजनेता, कुशल प्रशासक ओजपूर्ण वक्ता, बेहतरीन कवि यह सभी विशेषण एक साथ ही दिवंगत नेता अटल बिहारी बाजपेई के लिए प्रयोग किए जा सकते हैं। वह ...

निज जीवन की एक छटा - राम प्रसाद बिस्मिल की आत्मकथा
by Ram Prasad Bismil
  • (1)
  • 341

तोमरधार में चम्बल नदी के किनारे पर दो ग्राम आबाद हैं, जो ग्वालियर राज्य में बहुत ही प्रसिद्ध हैं, क्योंकि इन ग्रामों के निवासी बड़े उद्दण्ड हैं। वे राज्य ...

चलो कहीं घूम आएं....Ola Cabs story
by Ashish Kumar Trivedi
  • (28)
  • 532

Ola Cabs की सफलता की कहानी उन नौजवानों के लिए प्रेरणा का स्रोत है जो जीवन में कुछ नया तथा बड़ा करना चाहते हैं। किसी भी उपक्रम की सफलता ...

आत्मकथा - संपूर्ण...
by Charles Darwin
  • (6)
  • 1.4k

[मेरे पिता के आत्म कथ्यात्मक संस्मरण यहाँ प्रस्तुत किये जा रहे हैं। ये संस्मरण उन्होंने अपने घर परिवार और अपने बच्चों के लिए लिखे थे, और उनके मन में ...

क्षण भर जीवन मेरा परिचय
by Ashish Kumar Trivedi
  • (4)
  • 590

वह कवि जिसकी कविताएं कठिनाइयों की बात करते हुए भी जीवन से भागने की बजाय उसे गले लगाने की प्रेरणा देती हैं। जहाँ सपनों का मधुर संसार तो है ...

कबिरा खड़ा बजार में
by Ashish Kumar Trivedi
  • (11)
  • 766

कबीरदास एक महान संत थे। जिनकी वाणी ने वह अमृत बरसाया जिसमें आज भी कई झुलसती आत्माएं तृप्ति पाती हैं। संसार रूपी मरुथल में भटकते लोगों को उनके उपदेशों ...

भारतीय फिल्म जगत के संस्थापक
by Ashish Kumar Trivedi
  • (4)
  • 608

भारतीय फिल्म जगत के संस्थापक का नाम था धुंदीराज गोविंद फाल्के। जिन्हें हम सब दादा साहेब फाल्के के नाम से जानते हैं। इनका जन्म 30 अप्रैल 1870 में महाराष्ट्र ...

परिस्थितियों को अपने अनुकूल बनाएं
by Ashish Kumar Trivedi
  • (33)
  • 1.2k

भारत के सर्वश्रेष्ठ प्राईवेट बैंक ICICI की CEO तथा MD चंदा कोचर ने भी अपनी मेहनत लगन व धैर्य के बल पर परिस्थितियों को अपने पक्ष में मोड़ लिया। ...

अपने पर हंस कर जग को हंसाया
by Ashish Kumar Trivedi
  • (24)
  • 847

उस दौर में जब पूरा युरोप आर्थिक महामंदी झेल रहा था और हिटलर का नाज़ीवाद अपने चरम पर था तब चार्ली किसी शीतल झोंके की मानिंद लोगों को अपने ...

बिना खंजर के हत्यारे! - National Story Competition –Jan
by Jahnavi Suman
  • (14)
  • 528

आज के युग में लोग सोशल मीडिया के माध्यम से आपस में जुड़े रहना पसन्द करते हैं। व्यक्तिगत रूप से मिलना जुलना कम हो गया, जिस कारण वे सच्ची ...