सर्वश्रेष्ठ नाटक कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

मे और महाराज - ( एक तोहफा_२) 18
द्वारा Veena
  • 192

सिराज सुबह सुबह बाहर चबूतरे पर बैठ कोई चित्र बना रहा था। मर्जी ना होते हुए भी समायरा को उसने जबरदस्ती अपने पास बिठाया था। तभी राजकुमारी आर्या उनके ...

मे और महाराज - ( एक तोहफा) 17
द्वारा Veena
  • 531

" हम भी उनके मनसूबे समझ नही पा रहे। हमे लगा वो मुआवजे मे राजमुद्रा मांगेगी। लेकिन आखिर उस बिस्तर मे ऐसा क्या है ???" सिराज अभी भी भ्रम ...

अधूरा सफर - भाग 2
द्वारा Ki Shan S Ahu
  • 507

पिछले भाग में आपने पड़ा कि कैसे गौरव ओर स्वाति एक बस मै मिलते है और फिर उसी बस में बिछड़ भी गए, आपको क्या लगता है दोनों फिर ...

मे और महाराज - ( एक परीक्षा_3) 16
द्वारा Veena
  • 876

बस ये वही पल था, जब एक एक राज खुलने की शुरुवात हुई। आधे घंटे से उस कक्ष मे बैठी तीनो औरते नियम लिखे जा रही थी। क्योंकि सिराज ...

ताजमहल... अंत या शुरुआत ( एकांकी )
द्वारा निशा शर्मा
  • 621

पात्र - परिचय मनोज - एक तीस वर्षीय पुरूष सोनाक्षी - एक सत्ताईस वर्षीय महिला ( मनोज की धर्मपत्नी ) बूढ़ी औरत - एक सत्तर वर्षीय वृद्धा ( भिखारिन ...

मे और महाराज - ( एक परीक्षा_2)15
द्वारा Veena
  • 798

जैसे ही समायरा अपने कमरे मे पोहोची, उसकी वो हालत देख मौली डर गई। " क्या हुवा सैम। सब ठीक है ना ????" मौली।" मौली ये काले कपड़े पहने लोग ...

मे और महाराज - ( एक परीक्षा_१) 14
द्वारा Veena
  • 891

अपने सामने राजकुमार सिराज को पाकर वो चीख पड़ी। " आ.................." अपनी सांसों को समेट वो बिस्तर पर से उठी। " तुम क्या करने की कोशिश कर रहे थे ? ...

मे और महाराज - ( एक सच )13
द्वारा Veena
  • 771

रात का वक्त, मौली खाना लेकर शायरा के कमरे मे पोहोची। शायरा अपने हाथो पैरो से कुछ अलग मुद्राएं बना रही थी। मौली ने खाने की थाली मेजर पर ...

मे और महाराज - ( जासूसी_२) 12
द्वारा Veena
  • 987

सुबह सुबह उसने आंखे खोली। पर जो इस बार उठी थी वो राजकुमारी शायरा थी। वो आयने के सामने जाकर बैठी। उनके बदन मे दर्द की लहरे उठ रही ...

मे और महाराज - ( जासूसी _ १) 11
द्वारा Veena
  • 1k

" आ............ तुम ?????" " हा हम। जिनकी आप अभी अभी तारीफ कर रही थी।" अपने हर शब्द के साथ वो उसके करीब और करीब आ रहा था। राजकुमार के ...

मे और महाराज - ( चुम्बन ) 10
द्वारा Veena
  • 1.1k

समायरा को उसके सवाल का जवाब मिले इस से पहले राजकुमार ने वहा से चलने के आदेश दे दिए थे। जैसे ही दोनो मुड़े और चबूतरे के बाहर कदम ...

SAFETY ( NATIONAL SAFETY DAY SPECIAL DRAMA )
द्वारा Amar Kamble
  • 678

दृश्य - 1( रिपेयर ऑफिस में रिंग बजती है । )टेक्निशियन 1 : हॅलो ।सुपरवाइजर    : हॅलो मैं --- प्लांट से बात कर रहा हूँ । एक मशिन ...

मे और महाराज - ( तीन नियम _३) 9
द्वारा Veena
  • 921

" अच्छा। अगर मैने इन मे से एक भी नियम तोड़ा तो आप मुझे तलाक दे देंगे ना ? सही कहा ना मैने , कहिए।" समायरा ने पूछा।" नहीं ...

मे और महाराज - ( तीन नियम _२) 8
द्वारा Veena
  • 1.1k

" लगता है। वजीर साहब की बीवी राजकुमारी को किसी चीज़ की सजा दे रही है। क्या आप अंदर जाना चाहेंगे मेरे राजकुमार?" हाथ जोड़े रिहान ने राजकुमार सिराज ...

एकांकी- दहेज
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 2.2k

एकांकी-                         दहेज                                                  रामगोपाल भावुक           (शहर के आम चौराहे पर शर्मा रेस्टारेन्ट में दो अधेड़ अबस्था के व्यक्ति चाय की चुस्कियों के साथ बातें कर रहे हैं।) ...

मे और महाराज - ( तीन नियम - १) 7
द्वारा Veena
  • 1.3k

" मुझे नहीं जाना वजीर के घर प्लीज़ मुझे वहा मत भेजो।" उसने राजकुमार का हाथ पकड़ते हुए कहा। " अब ये मासूमियत क्यों? थोड़ी देर पहले तो आप कुछ ...

मे और महाराज - 6 - (शक)
द्वारा Veena
  • 1.4k

" मुझे बताओ मौली ये दोनो कौन है?" उसका बात करने का लहज़ा और आंखे बता रही थी। जो निचे गिराई गई थी वो राजकुमारी शायरा थी, लेकिन जो ...

मे और महाराज - 5 - (भूत से भविष्य मे)
द्वारा Veena
  • 1.8k

तभी अंधेरोके सिपाही वो काले कपड़ों वाले लोग वापस आए, "राजकुमार। लगता है आपको हमारी जरूरत है।"   " कौन हो तुम लोग ? चले जाओ इस से पहले ...

मे और महाराज - 4 ( सुहागरात-2)
द्वारा Veena
  • 3.4k

" अब शायद आप जान चुके होंगे। प्यार किस के हिस्से मे है और रही हक़ की बात तो वो हम भी नहीं छोड़ने वाले।" राजकुमार सिराज की बात बड़े ...

मे और महाराज - 4 (सुहागरात)
द्वारा Veena
  • 4.2k

जगह : आठवें राजकुमार का महल।उसने घूंघट उठाया। " अभी दो महीने ही हुए है मुझे यहां आए हुए, और अब मे शादीशुदा हूं। ये कैसी किस्मत है मेरी। ...

मे और महाराज
द्वारा Veena
  • 8k

समर गढ़ का असीम साम्राज्य।उसके वजीर शादाफ सींग की हवेली मे आज सुबह से कुछ ज्यादा ही हड़बड मची हुई थी।उसने धीरे से अपनी आंखे खोली, " हे भगवान ...

संस्कार
द्वारा Gourav shekhawat
  • 2.3k

     " हे दुर्गा मां आज प्लीज ये इंटरव्यू पास करा दो।इतने वक्त से ट्राई कर रही हूं। कॉलेज फ़ीस ,घर के खर्चे उफ्फ कैसे करूंगी सब कुछ।" ...

एकांकी-मालती माधवम्
द्वारा रामगोपाल तिवारी
  • 1.8k

     एकांकी-मालती माधवम्      भवभूति मंचपर उपस्थित होकर- मैं भवभूति आज अपने नाटकों में स्वयं को खोजने के लिये उत्सुक हूँ ! इनमें मैं कहाँ-कहाँ हूँ ? अरे ...

क्यों
द्वारा Shubham Rawat
  • 1.9k

पारस आज बहुत खुश हैं। पिछले एक महीने से कुत्ता पालने की जिद कर रहा था। आज जाकर उसके बोज्यू ने उससे कहा, "ठीक है, पालेंगे।" "ऊपर भुवन की ...

अनचाहा रिश्ता (ये कैसी कश्मकश?) - 12
द्वारा Veena
  • 3.1k

"नहीं पापा मेरे बारे में एक बार सोचिए। में क्या करूंगी आपके बिना।" रोते हुई मीरा ने उसके पापा याने मि पटेल के पास जाने की कोशिश की।" नहीं ...

एक गलत कदम
द्वारा Shubham Rawat
  • 2.4k

दीपक, 12वीं के बाद मास मीडिया की पढ़ाई करना चाहता था। उसका सपना है कि वह खुद के कार्टूनस बनाए। उसके पापा हमेशा से एक डिसिप्लिन इंसान रहे हैं। ...

मैं ही मैं हूं
द्वारा Jitendra Shivhare
  • 1.7k

*मैं ही मैं हूं*   मैं महान हूं मुझे समझना होगा तुम्हें अपने अभिमान को परे रख मेरी हर बात सुनो तुम तुम क्या हो? मेरे आगे तुम्हारी कोई ...

आ घर लौट चलें - 2
द्वारा Neelam Saxena
  • (11)
  • 3.9k

                                                          ...

आ घर लौट चलें (एकांकी) - 1
द्वारा Neelam Saxena
  • 3.4k

(दृश्य - एक घर की लॉबी का दृश्य है जहां पर हवन किया जा रहा है । छोटा सा हवन कुंड है, उसके आसपास सीमा , राजन और परी ...

DUNIYA MERI MUTTHI MEIN PART - 2
द्वारा Amar Kamble
  • 1.3k

                जोया ने दो coffee cups लाकर टेबल पर रखें। माया ने file में देखते हुए पूछा, “Karan Saxena, huh?” जोया ने ...