सर्वश्रेष्ठ नाटक कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

गुलफ़ाम
द्वारा TEJ VEER SINGH
  • 48

Gulfam - Story - As soon as Sinha returns from office, Mrs. Sinha comes to the gate as soon as she hears the sound of the car. It has ...

Aashiqi - An Un Told Love Story 4
द्वारा zeba praveen
  • 100

                                                          ...

BABY -2 - 2
द्वारा Dhruv oza
  • 168

Screening 2(पाकिस्तान का हैदराबाद शहर)(एक शख्स घरके आंगन में लगे जुले पे बैठा हुआ दूसरे शख्स को बात कर रहा है)पहला शख्स :- क्या सभी डिलीवरी हो गयी? नाज़िर ...

वो क्या है, उसको भी नही मालूम
द्वारा Devraj Pradeep Verma
  • 222

बस स्टॉप पर खड़े हुए मुझे लगभग 15 मिनट हो गए थे। बस न आने की झल्लाहट हो रही थी। तभी सामने से मुझे शरद आता दिखाई दिया। इस ...

BABY -2 - 1
द्वारा Dhruv oza
  • 222

Screening 1{Arabian sea}(एक जहाज के मुहाने पे बैठे दो शक्स बात करते हुए)पेहला शख्स - क्या सभी तैयारियां मुकम्मल हो गयी है?दूसरा शख्स - हा हमीद जैसा तुमने बताया ...

Aashiqi - An Un Told Love Story 3
द्वारा zeba praveen
  • 206

                                                          ...

अलविदा
द्वारा Anju Gupta
  • 1.4k

सात बजे का अलार्म के बजते ही नित्या रोज़ की तरह रसोई के काम निपटाने लग गयी। वह कॉलेज में प्रोफेसर थी और दिन में उसे सिर्फ दो या ...

Aashiqi - An Un Told Love Story 2
द्वारा zeba praveen
  • 1.2k

Chapter 3 अगले दिन  आरुषि लंच टाइम में अपने स्कूल के गार्डन में बैठी होती हैं, वही पर सौम्या आती हैं) सौम्या "यार आरुषि तू यहाँ बैठी हैं, नीतू ...

यू - टर्न
द्वारा Madhu Sosi
  • 1.5k

                                                         '  यू –टर्न '             ...

Aashiqi - An Un Told Love Story 1
द्वारा zeba praveen
  • 530

कहानी के मुख्यपात्र   आरुषि रॉय दीवांक शर्मा आरुषि की फॅमिली माँ पापा दो बहनें दीवांक की फॅमिली माँ पापा एक बहन आरुषि के दोस्त - सौम्या और रोहित असिस्टेंट - रिया ...

क्या यही है “स्वार्थी वजूद” या “जीने की ज़रूरत”
द्वारा Ritu Chauhan
  • 411

स्वार्थ : वह सोच जो केवल अपने हित के लिए हो।स्वार्थहीन व्यक्ति की पहचान : सबसे आसान तरीका है आपके प्रति उसके स्वभाव को समझना। सच्चा मित्र वही होता ...

भूख - The Hunger
द्वारा jigar bundela
  • 638

   भूखयह एक शार्ट फिल्म है।लेखक की अनुमति के बिना इसे शूट करना या इसके किसीभी भाग का फिल्मांकन करना गैरकानूनी है। ऐसा करने पर आप से कानूनी कार्यवाही ...

चोरी या पहेली - रहस्यमयी कहानी - 3
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • 547

चोरी या पहेली ...(9)पहले खत के खुलासे अभी पचे ही नहीं थे कि अगले खत के खुलासे ने तो निवाला निगलने की ताकत भी जैसे छीन ली थी।इधर रिया ...

वेताज बादशाह - नफ़रत भरी मासूम ख्वाहिश - 3
द्वारा Uday Veer
  • 479

पुलिस के आते ही बो लोग फरार हो जाते हैं, और इस तरह से उन लोगों का खौफ बडने लगता है, धीरे धीरे कर लोग उधर से आना कम ...

चोरी या पहेली - रहस्यमयी कहानी - 2
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • 525

चोरी या पहेली?????.(5)गुत्थी उलझती जा रही थी । एक चोरी अब बहुत बड़ी वारदात बन चुकी थी। शांति की मौत सिर्फ एक दुर्घटना है !!! , पुलिस इसे नहीं ...

वेताज बादशाह - नफ़रत भरी मासूम ख्वाहिश - 2
द्वारा Uday Veer
  • 430

रूद्र अपनी मां का अंतिम संस्कार करता है, फिर सारे लोग मिलकर पुलिस कंप्लेंट करवाते हैं:- पुलिस:- जल्दी ही गुनाह गारो को पकडेंगे| कहकर उन लोगों को शांत करादेती ...

वेताज बादशाह - नफ़रत भरी मासूम ख्वाहिश - 1
द्वारा Uday Veer
  • 490

मुंबई की झोपड़ पट्टी में जहां गरीब और कचरा बीनने वाले लोग रहते हैं, उसी झोपड़ पट्टी में जन्म् हुआ एक छोटे बच्चे का, उसका नाम उसकी मां ने ...

चोरी या पहेली - रहस्यमयी कहानी - 1
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • 549

चोरी या पहेली ??.(1)अस्पताल का ये icu वार्ड भी शायद बिछड़ने वाला था ,जहाँ पे पिछले एक महीने से रोहन ज़िन्दगी और मौत के बीच मे रह गया था। ...

फिर तड़प उठी मां की ममता
द्वारा Uday Veer
  • 633

एक गांव में एक औरत रहती है, औरत बहुत गरीब होती है, उसका एक छोटा सा बेटा होता है, उसका नाम अभि होता है| उस औरत के बेटे के ...

रहस्मयी कत्ल
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • (11)
  • 1.2k

नैना बहुत डरी हुई थी । बीती रात उससे एक खून हो गया अनजाने में। नैना बहुत डर जाती है । एक तो खून हो गया है और किसी ...

आत्महत्या
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • (14)
  • 938

रोहन office से घर आता है और काफी खुश था । आज नौकरी का पहला दिन था । घर आया तो खुश था और माँ ने पूछा , कैसा ...

असमंजस
द्वारा Satender_tiwari_brokenwordS
  • 1k

कहानी - असमंजस किरदार - नव और सखी और एक असमंजस --------------------------------------------------------------कहानी काल्पनिक है और इसके किरदार भी काल्पनिक हैं।––----------------------------------------------------------नव एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था

आखिरी गंतव्य
द्वारा Pranjali Awasthi
  • 857

शान्त चित्त और सधे हुये कदमों से वो रेलवे स्टेशन की तरफ़ बढ़ रही थी। अपनी उलझनों के खत्म होने की संभावना और संतोष की छाया, उसके चेहरे की ...

पार्थ आपका बेटा है
द्वारा Roopanjali singh parmar
  • (16)
  • 12k

नैना अपनी माँ अरुणा जी की लाड़ली बेटी थी। उसकी माँ ने अकेले ही उसको पाला था। नैना के पिता की मृत्यु नैना के बचपन में ही हो गई ...

एक एहम हस्ती, मैं
द्वारा Ritu Chauhan
  • 711

बस शौक है लिखने का बचपन से ही, बहुत सरे पन्नो पे दिल की बातें लिखी हैं जिनमे से कई तो किसी को मालूम भी नहीं. हम सब ऐसा ...

अकेली नहीं हूँ मैं
द्वारा Ritu Chauhan
  • 767

कभी कभी छोटी सी है तो कभी हद से ज़्यादा, कभी चाँद लम्हो की है तो कभी वर्षों पुरानी. क्यों होती है ये घुटन. क्यों ये दिल अरमान रखता ...

संध्या
द्वारा Roopanjali singh parmar
  • 1.4k

संध्या कुछ दिनों के लिए अपनी भाभी के मायके आई थी। यूँ तो पारिवारिक रिश्तों की वजह से आरव उसे पहचानता था, लेकिन कभी मिला नहीं था। किसी कार्यक्रम ...

दारू लेना नहीं। (पूर्ण रूप से काल्पनिक कहानी)
द्वारा Urvil Gor
  • 958

दारू लेना नहीं। (पूर्ण रूप से काल्पनिक कहानी) कॉलेज इसी जगह है जहां हम पूरी दुनिया का ज्ञान सीखते है। राहुल अपने दोस्तो से: अरे भाई ये  हमारी कॉलेज ...

अधूरी ख्वाहिश
द्वारा Roopanjali singh parmar
  • 1.8k

वो बस दोस्त बनना चाहती थी और बन गई .. भगवान से जैसे उसे सब कुछ मिल गया.. एक मन माँगी मुराद जो पूरी हो गई...........कनक नाम है इसका.. ...

परदेशिया (भाग-1)
द्वारा Amit Sharma
  • 650

रोहन जो इस कहानी का मुख्य पात्र है, के जीवन पर आधारित ये कहानी सम्पूर्ण रूप से नही, पर वास्तविकता से प्रेरित है। इस महीने बाइस साल का होने ...