सर्वश्रेष्ठ क्लासिक कहानियां कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

हमदर्दी
द्वारा राज कुमार कांदु
  • 90

सूखे की मार झेल रहे किशन ने गाँव से पलायन कर शहर में अपना डेरा जमा लिया । शहर में पहले से ही रह रहे उसी की गाँव के ...

एहसासों के साये में
द्वारा rajendra shrivastava
  • 362

-कहानी एहसासों के साये में                                                     -राजेन्द्र कुमार श्रीवास्‍तव,                  ‘’हैल्‍लो!....कौन?.....कौन बोल......किससे बात करनी है?             ‘’मैं.....मैं बोल रही हूँ....’’             मुझे धुंधला सा कुछ

ढिंकचिका - ढिंकचिका
द्वारा HARIYASH RAI
  • 100

ढिंकचिका - ढिंकचिका   वर्ली की आलीशान इमारत दरवाजे पर कॉल बैल बजा कर अनिमेष  थोड़ी देर  हतप्रभ से खड़़े रहे. उन्हें अंदाजा था कि दरवाजा या तो  उनका ...

बाली का बेटा (21)
द्वारा राज बोहरे
  • 114

21                                                           ...

एटिकेट्स
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 580

किसी की समझ में नहीं आया कि आख़िर हुआ क्या? आवाज़ें  सुन कर झांकने सब चले आए। करण गुस्से से तमतमाया हुआ खड़ा था। उसने आंगन में खड़ी सायकिल ...

बाली का बेटा (20)
द्वारा राज बोहरे
  • 140

20                                                        बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लड़ाई     अगले दिन सुबह अंग

आनंद
द्वारा HARIYASH RAI
  • 232

कहानी  आनंद पहाडि़यों के पीछे  सुबह  का सूरज झांकने लगा था. हवा में कुछ ज्यादा ही ठंडक थी. यात्रा के सीजन को शुरू हुए अभी दो दिन ही हुए ...

पागल-ए-इश्क़ (पार्ट -3)
द्वारा Deepak Bundela AryMoulik
  • 120

डूब कर तेरी तन्हाइयों में मुझें मर जानें दो.. !तिरे इश्क़ में जो मुझें  सवर जानें दो.. !!रेनू शून्य थी पर मन में कई सबाल उठ रहें थे और ...

उलझने से सुलझने तक
द्वारा Sandeep Tomar
  • 356

    “उलझने से सुलझने तक” / कहानी / सन्दीप तोमर   स्टेला जिन्दगी के थपेड़े झेलते हुए एक बार फिर दिल्ली आ गयी, रोहन का ठीक से कहीं ...

बाली का बेटा (19)
द्वारा राज बोहरे
  • 150

19                                                             बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लंका में अंगद     राम

देवास की वीरा
द्वारा Dr Jaya Anand
  • (16)
  • 1.2k

देवास की वीराप्रकृति और मन दोनों एकाकार हो रहे थे ,बाहर बादलों का गर्जन और मन के भीतर असहनीय पीड़ा का नर्तन ...देवास की महारानी वीरा की आँखे पथरा ...

बाली का बेटा (18)
द्वारा राज बोहरे
  • 168

18                                                       बाली का ...

भंवर में
द्वारा HARIYASH RAI
  • 124

कहानी   भँवर में ..... हरियश राय   चाहता तो वह गूगल के जनक सरगै ब्रिन की तरह बनना जिसकी वजह से गूगल दुनिया भर में मशहूर हो गया ...

जैकगोवर्धन और शेखन एलिज़ाबेथ
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 356

मैं बरामदे में बैठा हुआ अख़बार पढ़ रहा था कि मेरी आठ वर्षीया बेटी दौड़ी दौड़ी आई और बोली- पापा पापा, आप कहते थे न कि सवेरे सवेरे देखा ...

बाली का बेटा (17)
द्वारा राज बोहरे
  • 172

17                                                         बाली ...

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)
द्वारा Deepak Bundela AryMoulik
  • 298

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)गाड़ी एयरपोर्ट परिसर मैं तेज गती से आकर रूकती हैं सभी लोग जल्दी जल्दी गाडी से उतरते हैं तभी रोहन अपनी मां से कहता हैं मम्मा आप अंदर ...

अटूट बंधन
द्वारा अनिल कुमार निश्छल
  • 188

रवि और कुसुम की शादी हुए अभी कुछ ही साल बीते थे।सभी लोग खुशी-खुशी रह रहे थे;लेकिन एक दिन एक दर्द विदारक घटना घटी।कुसुम अपनी सास से झगड़ा कर ...

बाली का बेटा (16)
द्वारा राज बोहरे
  • 146

16                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   विभीषण से भेंट   हनुमानजी

बाली का बेटा (15)
द्वारा राज बोहरे
  • 180

15                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   लंका में हनुमान          

अन्‍न जल
द्वारा HARIYASH RAI
  • 160

अन्न-जल   यदि भयानक तूफान से ऐसा होता, तो भी हरि सिंह चौधरी संतोष कर लेते, यदि भूकंप में उनके खेतों की जमीन धंस जाती, तब भी वे उफ़ ...

अखिलेश्वर बाबू
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 368

वह सुनसान और उजड़ा हुआ सा इलाका था। करीब से करीब का गांव भी वहां से तीन चार किलोमीटर दूर था। रास्ता,सड़क कहीं कुछ नहीं, झाड़ झंकाड़, धूल धक्कड़, ...

बाली का बेटा (14)
द्वारा राज बोहरे
  • 156

14                                                             बाली का बेटा                                                           बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे हनुमानजी की वापसी   सुबह सूरज

हड़पने की नियत
द्वारा r k lal
  • (25)
  • 550

हड़पने की नियतआर ० के ० लाल            मिलन अपनी मस्ती मे चला जा रहा था तभी अपने फुलवारी में खटिया पर बैठे हुए अजोध्या काका ने उसे आवाज़ दी, जहाँ ...

एक अधूरी शाम - 1
द्वारा Anant Dhish Aman
  • 592

दिन ढलने के कगार पर थी और रात चढने की खुमार पर थी हवा गर्म से नर्म हो रही थी मौसम भी धीरे-धीरे लजीज हो रही थी टहलने का ...

बाली का बेटा (13)
द्वारा राज बोहरे
  • 184

13                                                                 बाली का बेटा                                                                         बाल   उपन्यास                                                                             राजनारायण बोह

पागल-ए-इश्क़ - 1
द्वारा Deepak Bundela AryMoulik
  • 282

दोस्तों.. नमस्कार.. ?आपके सामने एक फिर प्यार की कहानी के साथ मौजूद हूं... मेरा हमेशा से मकसद यहीं रहा हैं कि प्यार को समझें एक दूसरे की भावनाओं को ...

बाली का बेटा (12)
द्वारा राज बोहरे
  • 2.2k

12                                                         ...

किस मुकाम तक
द्वारा HARIYASH RAI
  • 1.1k

किस मुकाम तक   हरियश राय “मैं बैठ सकता हूं यहां ।’  उन्होंने सकुचाते हुए मुझसे पूछा । लंबा कद । सिर पर गोल टोपी । बेतरतीब ढंग से ...

कब मिलेगा आवास
द्वारा जगदीप सिंह मान दीप
  • 1.2k

पग-पग पर पीड़ा उठाते हुए घर पहुंँचने का बीड़ा उठाया है।अपने घरों की ओर चलने के लिए तैयार हैं। अपनी मंजिल को ध्यान में रखते हुए अथक अविश्रांत आगे ...

उत्तराधिकर्मी
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 1.4k

"उत्तराधिकर्मी" (कहानी) - प्रबोध कुमार गोविल आज खाना फ़िर नहीं बना। दोनों अलग - अलग कमरे में हाथ की कोहनी से माथा ढके सरेशाम सोते रहे। सोना तो क्या ...