सर्वश्रेष्ठ मनोविज्ञान उपन्यास पढ़े और PDF में डाउनलोड करे

You are welcome to the world of inspiring, thrilling and motivating stories written in your own language by the young and aspiring authors on Matrubharti. You will get a life time experience of falling in love with stories.


श्रेणी
Featured Books
  • इश्कियां (पहला प्यार) - 5

    राहा चिल्लाते हुए बोली... क्यू आए है आप यहां.. जाइए मुझे आपसे कोई बात नही करनी ग...

  • द सिक्स्थ सेंस... - 32

    रूम में जाने के बाद राजवीर ने सुहासी का चेहरा बड़े प्यार से अपनी हथेलियों में भर...

  • डेविल सीईओ की मोहब्बत - भाग 11

    अब आगे, जानवी की बात सुन, आराध्या अपने मन में ही कहती है, " मै जानती हूं, जानू क...

  • ताश का आशियाना - भाग 43

    एक बनाया गया चक्रव्यूह एक वक्र(curve) जो कहीं जाकर रुक ही नहीं रहा था और बीचो बी...

  • पागल - भाग 45

    भाग–४५ अगली सुबह ,, मिहिर और जीजू उस बताए एड्रेस के लिए होटल से निकलते है । जैसे...

  • युवा किंतु मजबूर - पार्ट 2

    चुनाव का नतीजा आ चुका था, खाने के पैकेट और मोबाइल बांटने वाली पार्टी जो सत्ता मे...

  • साथी - भाग 4

    भाग -4         ‘अरे तू ना एकदम बुद्धू है यार, सब इस दारू की गलती है. सुन ध्यान स...

  • द्वारावती - 39

    39मंदिर से पूर्व ही एक श्रद्धालु ने केशव को रोक लिया। “बेटे, तुम ब्राह्मण हो?”“ह...

  • इंद्रप्रस्थ - 2

    परम पराक्रमी युधिष्ठिर नगरी के राजा बने। भीम मुख्य सेनापति बने। अर्जुन नकुल सहदे...

  • वंश - भाग 9

    नौ मुबारकपुर में यह बात जंगल की आग की तरह फैल गई कि नारी-निकुंज की अधीक्षिका दिल...

सबा By Prabodh Kumar Govil

तेरी पगार कितनी है?
- तीन हज़ार!
- महीने के?
- और नहीं तो क्या, रोज़ के तीन हज़ार कौन देगा रे मुझको?
- ऐसा मत बोल, दे भी देगा! उसने कनखियों से लड़की की ओर देखते हुए कहा।
लड़की...

Read Free

जीवन कैसे जिएं? By Priyanshu Jha

माया, अपने बीस के दशक के अंत में एक युवा पेशेवर, हमेशा एक जिज्ञासु और आत्मविश्लेषी व्यक्ति रही है। उसने खुद को लगातार जीवन के गहरे अर्थ और अपने अस्तित्व के उद्देश्य पर विचार करते ह...

Read Free

दार्शनिक दृष्टि By बिट्टू श्री दार्शनिक

देखा ही है की, हर लड़का कितना भी ज्ञान प्राप्त करके सफलता को प्राप्त नहीं हो पाता। कितनी भी सावधानी बरतने के बाद भी वह सफल नहीं हो पाता। यहां तक की अत्यंत दुष्कर कार्य को अच्छे से...

Read Free

श्रीमत् अष्टावक्रगीता का हिन्दी अनुवाद By JUGAL KISHORE SHARMA

** हे प्रभो ! (पुरुषः ) ज्ञानम् कथम् अवाप्नोति । (पुंसः) मुक्तिः कथम् भविष्यति । ( पुंसः) वैराग्यम् च कथम् प्राप्तम् ( भवति ) एतत् मम ब्रूहि ॥१॥

Old king Janak asks the young As...

Read Free

दिव्य पुरुष कैसे बने ? By Mohit Rajak

दोस्तों आपने कोई ऐसे व्यक्ति के बारे में सुना है, जो सभी चीजों में माहिर हो जिसे सब काम बहुत अच्छे से करना आता हो। शायद ही ऐसे व्यक्ति के बारे में आप नहीं सुना हो ,यदि मैं आपसे कहू...

Read Free

गाँव की लोक कहानियां By निखिल ठाकुर

1. राक्षस का भाई भाक्षस --------- ये सारी लोक कहानियां हमारे गाँव के बजुर्ग हमें सुनाया करते थे ...उस समय हम बहुत छोटे होते थे ..तो आज मैं इन कहानियों को यहां आप सबके...

Read Free

अवसान की बेला में By Rajesh Maheshwari

जीवन और मृत्यु की निर्भरता प्रभु इच्छा पर है परंतु मृत्यु के उपरांत भी हमारी स्मृति लोगों के मन में बनी रहे यह हमारे कर्मों पर निर्भर है। जन्म और मृत्यु जीवन यात्रा का एक पड़ाव है।...

Read Free

जिंदगी के पहलू By Kamal Bhansali

इंसानी जिंदगी धरती पर जब अपना पहला कदम, माँ की बाहों से उतर कर रखती है, तो उसकी पहली लड़खड़ाहट उसे ये एहसास करा देती कि आसान नहीं है, जिंदगी का सफर उसके लिए। पर संभलने का संघर्ष उसे...

Read Free

हकीकत की हकीकत By Akshay jain

हकीकत इस शब्द से महज सभी लोग पीछा छुड़ाते हैं। कोई नहीं जानना चाहता हकीकत को। सभी लोग आंखों को बंद करके जीना चाहते हैं और जीते भी हैं। पूरा जीवन उस बिल्ली कि तरह जीते हैं जो दूध पी...

Read Free

एकमेडिटेशन By VANDANA VANI SINGH

आज हम बात मेडिटेशन पे करेंगे , मेडिटेशन आज के समाज के लिए सबसे आवश्यक और महत्वपूर्ण है। अगर मेडिटेशन का का अर्थ समझे तो ध्यान पड़ने में ये समझ आता है कि ये कोई धार्मिक क्रिया ह...

Read Free

सबा By Prabodh Kumar Govil

तेरी पगार कितनी है?
- तीन हज़ार!
- महीने के?
- और नहीं तो क्या, रोज़ के तीन हज़ार कौन देगा रे मुझको?
- ऐसा मत बोल, दे भी देगा! उसने कनखियों से लड़की की ओर देखते हुए कहा।
लड़की...

Read Free

जीवन कैसे जिएं? By Priyanshu Jha

माया, अपने बीस के दशक के अंत में एक युवा पेशेवर, हमेशा एक जिज्ञासु और आत्मविश्लेषी व्यक्ति रही है। उसने खुद को लगातार जीवन के गहरे अर्थ और अपने अस्तित्व के उद्देश्य पर विचार करते ह...

Read Free

दार्शनिक दृष्टि By बिट्टू श्री दार्शनिक

देखा ही है की, हर लड़का कितना भी ज्ञान प्राप्त करके सफलता को प्राप्त नहीं हो पाता। कितनी भी सावधानी बरतने के बाद भी वह सफल नहीं हो पाता। यहां तक की अत्यंत दुष्कर कार्य को अच्छे से...

Read Free

श्रीमत् अष्टावक्रगीता का हिन्दी अनुवाद By JUGAL KISHORE SHARMA

** हे प्रभो ! (पुरुषः ) ज्ञानम् कथम् अवाप्नोति । (पुंसः) मुक्तिः कथम् भविष्यति । ( पुंसः) वैराग्यम् च कथम् प्राप्तम् ( भवति ) एतत् मम ब्रूहि ॥१॥

Old king Janak asks the young As...

Read Free

दिव्य पुरुष कैसे बने ? By Mohit Rajak

दोस्तों आपने कोई ऐसे व्यक्ति के बारे में सुना है, जो सभी चीजों में माहिर हो जिसे सब काम बहुत अच्छे से करना आता हो। शायद ही ऐसे व्यक्ति के बारे में आप नहीं सुना हो ,यदि मैं आपसे कहू...

Read Free

गाँव की लोक कहानियां By निखिल ठाकुर

1. राक्षस का भाई भाक्षस --------- ये सारी लोक कहानियां हमारे गाँव के बजुर्ग हमें सुनाया करते थे ...उस समय हम बहुत छोटे होते थे ..तो आज मैं इन कहानियों को यहां आप सबके...

Read Free

अवसान की बेला में By Rajesh Maheshwari

जीवन और मृत्यु की निर्भरता प्रभु इच्छा पर है परंतु मृत्यु के उपरांत भी हमारी स्मृति लोगों के मन में बनी रहे यह हमारे कर्मों पर निर्भर है। जन्म और मृत्यु जीवन यात्रा का एक पड़ाव है।...

Read Free

जिंदगी के पहलू By Kamal Bhansali

इंसानी जिंदगी धरती पर जब अपना पहला कदम, माँ की बाहों से उतर कर रखती है, तो उसकी पहली लड़खड़ाहट उसे ये एहसास करा देती कि आसान नहीं है, जिंदगी का सफर उसके लिए। पर संभलने का संघर्ष उसे...

Read Free

हकीकत की हकीकत By Akshay jain

हकीकत इस शब्द से महज सभी लोग पीछा छुड़ाते हैं। कोई नहीं जानना चाहता हकीकत को। सभी लोग आंखों को बंद करके जीना चाहते हैं और जीते भी हैं। पूरा जीवन उस बिल्ली कि तरह जीते हैं जो दूध पी...

Read Free

एकमेडिटेशन By VANDANA VANI SINGH

आज हम बात मेडिटेशन पे करेंगे , मेडिटेशन आज के समाज के लिए सबसे आवश्यक और महत्वपूर्ण है। अगर मेडिटेशन का का अर्थ समझे तो ध्यान पड़ने में ये समझ आता है कि ये कोई धार्मिक क्रिया ह...

Read Free