सर्वश्रेष्ठ रोमांचक कहानियाँ कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

पृथ्वी के केंद्र तक का सफर - 2
द्वारा Abhilekh Dwivedi
  • 153

चैप्टर 2 रहस्यमयी चर्मपत्र "मैं बता रहा हूँ।" मौसाजी ने उत्तेजित होते हुए मेज पर मुट्ठी से प्रहार करते हुए कहा, "मैं बता रहा हूँ तुम्हें, ये रूनिक ही ...

राजपुरा के जंगल ...रहस्य या कोई साजिश? - (भाग 1)
द्वारा Apoorva Singh
  • 327

कहते है जहां शैतान होता है वहां भगवान भी होता है।अगर भगवान का अस्तित्व है तो शैतान का भी है।जीवन के इस सफ़र में कभी कुछ ऐसा हमारे सामने ...

आखिर वह कौन था?
द्वारा रवि प्रकाश सिंह रमण
  • 321

उस घटना को बीते 25 साल हो गए फिर भी लगता है जैसे कल की हीं बात हो। बहुत हीं अजीब सा वाकया हुआ उस दिन मेरे साथ।अजीब इसलिए ...

पृथ्वी के केंद्र तक का सफर - 1
द्वारा Abhilekh Dwivedi
  • 573

पृथ्वी के केंद्र तक का सफर - जूल्स वर्न चैप्टर १ मेरे मौसा जी बड़े खोजकर्ता हैं पीछे मुड़कर जब देखता हूँ अपने उस रोमांचित दिन को तो विश्वास ...

अन देखी दुनिया - 7
द्वारा Vaibhav Surolia
  • 228

अन देखी दुनिया - 7 अजय केशव की मदद करने के लिए नजर बट्टू के सामने आता है। नजरबट्टू उसको देखकर कहता है अच्छा तो तू भी उसके साथ मिला ...

इज्जत के रहबर
द्वारा padma sharma
  • 216

इज्जत के रहबर   सारा कस्बा सन्न रह गया । पुलिस के जासूस लगातार तलाश रहे थे कि यह वारदात किसने की ? लेकिन कहीं से कोई सूत्र नहीं ...

जलसमाधि
द्वारा padma sharma
  • 210

जलसमाधि पद्मा शर्मा                बोलेरो जीप शहर की फोरलेन सपाट सड़कों को पीछे छोड़ती हुई तहसील की उथली सड़कों पर थिरकने लगी थी। कभी किसी बड़े गड्ढे में ...

अन देखी दुनिया - 6
द्वारा Vaibhav Surolia
  • (12)
  • 1k

अन देखी दुनिया - 6अजय, याशिका, जिन ,केशव और सुप्रिया पांचों जने तालीम घर के डरावने जंगल के पास आकर खड़े हो गए उन्हें वह जंगल बहुत डरावना लग ...

पानी वाले जादूगर - विलास राव सालुंके
द्वारा राज बोहरे
  • 372

                           पानी वाले सरपंच  -  विलास राव सालुंके     उस इलाके में हरियाली का नामोनिशान न था। दूर दूर तक कोई पेड़ नहीं बचे थे। जहांतक नजरें फेंको ...

अन देखी दुनिया - 5
द्वारा Vaibhav Surolia
  • 825

अन देखी दुनिया - 5 कहानी अब तक   अजय और  याशिका  निकल पड़े थे किसी एक सल्तनत के राजा का ताज चुराने । उन्हें एक गुफा में जिन भी मिला जिससे ...

अनु देखी दुनिया - 4
द्वारा Vaibhav Surolia
  • (11)
  • 951

**अन देखे दुनिया ४ **                                                      ...

मुख़बिर - मुहिम
द्वारा राजनारायण बोहरे
  • 378

                     मुहिम                     सिर पर टीकाटीक दोपहरी, लेकिन पुलिस वालों की तरफ से ऐसे कोई संकेत नहीं, कि भोजन-पानी की कोई व्यवस्था जल्दी ही करने वाले हों। ...

सितारा
द्वारा Anurodh Srivastava
  • 357

कहते हैं उसका जन्म सितारों के बीच कहीं हुआ था , नाम था सितारा । रंग शनि ग्रह की तरह नीला आँखें दहकते अंगारों सी , चेहरे पर सूर्य ...

मुस्कुराहट की मौत..... - 5
द्वारा Rohini Raahi Rajput
  • (33)
  • 831

कुँवर अपना बलिदान दे कर अपने गाँव को उस शैतान विमलराय से बचाना चाहती है। पर उसके पिताजी भूपतदेव इस बात से हिचकिचाते है।      " ये क्या कर ...

अन देखी दुनिया - 3
द्वारा Vaibhav Surolia
  • (12)
  • 1.1k

अन देखी दुनिया - 3शाम हो चुकी थी सब हारे थके चल रहे थे मानो जैसे उनके पांव में कांटा चुभ गए हो सब की हालत खराब थी लेकिन ...

क्यों बे बुड्ढे ..
द्वारा Alok Mishra
  • 432

          ‘क्यों बे बुड्ढे ... ’  मैसेज था । उसने अपने ऑफिस के कम्प्यूटर में देखा । उसने हमेशा की ही तरह उसे अनदेखा किया ...

अन देखी दुनिया - 2
द्वारा Vaibhav Surolia
  • 936

अन देखी दुनिया - 2 अजय और याशिका दोनों निकल पड़े किसी एक सल्तनत के राजा का ताज लेने । लेकिन उन्हें यह नहीं पता था  की आगे उन्हें बहुत ...

प्राचीन खजाना और डायनासोर का बच्चा - 10 - अंतिम भाग
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • (17)
  • 1.1k

प्राचीन खजानाऔरडायनासोर का बच्चाभाग १०अब तक:कपाट घाटी में गाइड की तरह कार्य करने वाले क्रिस के पास एक दिन शहर के कुछ छात्र अपना प्रोजेक्ट करने आते है। लेकिन ...

गोलियाँ
द्वारा Alok Mishra
  • 468

           दो देशों के बीच कई वर्षों से युद्ध चल रहा था । दोनों ही देश तबाही की कगार पर थे । विश्व समुदाय दो ...

मुस्कुराहट की मौत... - 4
द्वारा Rohini Raahi Rajput
  • (34)
  • 843

जैसे कि हमने देखा कुँवर अचानक ही कृत्स्नंसिंह का नाम लेती है। ये सुनकर उसके बापू भूपतदेव चोक जाते है। और आश्चर्यजनक हो कर पूछते है-        " कोन ...

किस्मत
द्वारा Saroj Prajapati
  • 783

हरिया जैसे ही अपने पिता को अस्पताल से दवाई दिला कर शाम को घर लौटा, तभी पड़ोस के मनु ने आकर उसे आवाज लगाई। "क्यों एक सास में चिल्लाए ...

प्राचीन खजाना और डायनासोर का बच्चा - 9
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • (17)
  • 894

प्राचीन खजानाऔरडायनासोर का बच्चाभाग ९क्रिस, प्रीति और गुरु से दूर एक घने जंगल में काल शान, कीया, अमिश, रोशनी, लोय और जेनी के साथ एक बड़ी सी गुफा के ...

अन देखी दुनिया - 1
द्वारा Vaibhav Surolia
  • (14)
  • 1.9k

Hello, my friends how are you I hope you all are fine at home so now I am presenting a Adventures story in hindi so let's start the journey ...

प्राचीन खजाना और डायनासोर का बच्चा - 8
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • (15)
  • 1k

प्राचीन खजानाऔरडायनासोर का बच्चाभाग ८-- हजारों साल पूर्व --आग की लपटें उठ रही है। कुछ घर जल गए है। कुछ जले हुए दानवों के शब अभी भी तड़प रहे ...

कहानी की कहानी की कहानी - 27 - शिकार और शिकारी
द्वारा कलम नयन
  • 507

कुत्ते हफ़्तों के भूखे लग रहे थे। उनके बाल और नाखून बढ़े हुए थे। चाँद की हल्की रोशनी में चट्टानों के बीच ये बता पाना मुश्किल था कि वो ...

मुस्कुराहट की मौत... - 3
द्वारा Rohini Raahi Rajput
  • (27)
  • 933

आगे देखा हमने की कुँवर अपनी माँ की मौत की ख़बर सुनकर होश खो बैठी और बेहोश हो गई।          कुँवर के बापू उसे बचाने पानी की बूंदे छिड़क ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 23 अंतिम भाग
द्वारा harshad solanki
  • (13)
  • 879

मौत उनके बदन पर अपना वहशी पंजा पसारने लगी. उन्हें ऐसा लगने लगा जैसे यह गुफा ही उनकी जिंदगी का अंतिम ठिकाना हो. मृत्यु उनकी आंखों के सामने दिखाई ...

प्राचीन खजाना और डायनासोर का बच्चा - 7
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • (15)
  • 1.1k

प्राचीन खजानाऔरडायनासोर का बच्चाभाग ७प्रीति चिल्ला रही है। खुदको बेलो से निकालने खूब प्रयास करती है पर सभी बेल उसे हवा में लटकाकर यहां वहां झुल रही है। क्रिस ...

प्राचीन खजाना और डायनासोर का बच्चा - 6
द्वारा Kirtipalsinh Gohil
  • (18)
  • 1.2k

प्राचीन खजानाऔरडायनासोर का बच्चाभाग ६दानव की कहानी सुनकर शान, कीया, अमिश, रोशनी, लोय, जेनी और प्रीति क्रिस की तरफ आश्चर्य से देखते है। क्रिस भी खुद चकित है की ...

कहानी की कहानी की कहानी - 26 - दलदल
द्वारा कलम नयन
  • 459

कहानी खत्म हो चुकी थी। पर ना मेरे मन में कोई आशंका थी न ही आने वाले समय का कोई डर ही मुझे सता रहा था। किले की कहानियाँ ...