सर्वश्रेष्ठ यात्रा विशेष कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 6 - वाशिंगटन डी. सी.
द्वारा Sudha Adesh
  • 69

 वाशिंगटन डी.सी. वाशिंगटन के समय के अनुसार लगभग 11:00 बजे हम वाशिंगटन डी.सी. के बाल्टीमोर एम.डी. (बीडब्ल्यू. आई. ) एयरपोर्ट पर उतरे । सामान अपने साथ ही रखने के कारण ...

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 5 - बहाई टेम्पिल
द्वारा Sudha Adesh
  • 213

 बहाई टेम्पिल पार्टी के पश्चात हम बहाई टेंपल गए जो 100 लिंडन एवेन्यू विलमेटि में स्थित है । इसका पहला पत्थर 19 अप्रैल में लगाकर इसका शुभारंभ किया गया किन्तु ...

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 4 - बोट शो
द्वारा Sudha Adesh
  • 171

बोट शो कुछ समय मिलेनियम पार्क में व्यतीत करने के पश्चात अब हम बी.पी. पैदल पुल के द्वारा बाहर आए तथा मिशीगन लेक में होने वाले बोट शो के लिए ...

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 3 - मिलेनियम पार्क
द्वारा Sudha Adesh
  • 234

 मिलेनियम पार्क माल में घूमकर हम मिलेनियम पार्क गए जो मिशीगन लेक के पास स्थित है । यह सार्वजनिक पार्क है ।  लूप समुदाय क्षेत्र के इलिनोइस स्टेट के शिकागो ...

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 2 - शिकागो
द्वारा Sudha Adesh
  • 288

 शिकागोआखिर हमारे वायुयान ने  जमीन छू ही ली । हम शिकागो के 'ओ हेरे इंटरनेशनल एयरपोर्ट ' पर उतरे । शिकागो की धरती पर कदम रखते हुए मुझे बेहद ...

कुछ चित्र मन के कैनवास से - 1
द्वारा Sudha Adesh
  • 537

 1-कुछ चित्र मन के कैनवास से नभचर जलथर की तरह थलचर के अनेकानेक प्राणियों में से एक मनुष्य भी एक यायावर प्राणी है । एक जगह बैठना तो मानो उसने ...

कुन्नूर की वादियों में फिल्टर कॉफी
द्वारा Archana Anupriya
  • 501

“कुन्नूर की वादियों मेंं फिल्टर कॉफी”भीगा-भीगा मौसम, मंद-मंद चलती शीतल हवा,चारों ओर हरे-भरे पहाड़ और घाटियाँ, घाटियों के बीच से गुजरती टॉय-ट्रेन और हाथ में गरमागरम फिल्टर कॉफी का ...

हरिद्वार से ऋषिकेश
द्वारा Astha S D
  • 1.2k

 लगभग 3 से 4 महीने पहले ही मेरे मन में इस वर्ष उत्तराखंड जाने का विचार आया था वैसे तो यह विचार 2 वर्ष पहले से था परंतु मौका ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 8 - अंतिम भाग
द्वारा Anagha Joglekar
  • (19)
  • 1.7k

मानसरोवर मानसरोवर - देवताओं का सरोवर । बचपन से ही सुनते आई थी कि मानसरोवर देवताओं का सरोवर है । यहाँ देवता स्नान करने आते हैं, शिव शंभू अपनी ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 7
द्वारा Anagha Joglekar
  • 1.3k

परिक्रमा का दूसरा व तीसरा पड़ाव डोलमा ला पास, जुतुलपुक हमारे समूह के अन्य सदस्य रात को डॉरमेट्री में ही रुक गए । सुबह शायद कैलाश का स्वर्णिम शिखर ...

भोर का शहर
द्वारा Medha Jha
  • 1.2k

पछाड़ खाती तीव्र लहरों का काले पत्थरों से टकरा कर लौटना, बीच से एक श्यामल सी मोहक छवि का उभरना और उन्हीं चोट खाती लहरों के बीच से दिखना ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 6
द्वारा Anagha Joglekar
  • 978

परिक्रमा का पहला पड़ाव देरापुक देरापुक में जहाँ हमारी डॉरमेट्री थी... उसके ठीक सामने कैलाश का साउथ फेस था । हम उस डॉरमेट्री में 2 दिन के लिए रुके ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 5
द्वारा Anagha Joglekar
  • 876

अंतिम पड़ाव दारचिन दारचिन पहुँचने से पहले एक जगह पर हमारी बस बदली जानी थी और हमें चीन सरकार द्वारा मुहैया करवाई गयी बस में बैठना था । हम ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 4
द्वारा Anagha Joglekar
  • 996

चौथा पड़ाव सागा अब शुरू हुआ कठिन सफर । समुद्र तल से ऊंचाई क्रमशः बढ़ती जा रही थी और ऑक्सीजन कम होती जा रही थी इसलिए हमें हर रोज ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 3
द्वारा Anagha Joglekar
  • 924

तीसरा पड़ाव शिगात्से अब हमें तिब्बत के ही एक और शहर शिगात्से जाना था। ल्हासा से शिगात्से तक का सफर हमें बस से तय करना था । हम सब ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 2
द्वारा Anagha Joglekar
  • 1.1k

दूसरा पड़ाव ल्हासा ल्हासा का अर्थ होता है - देवताओं की भूमि । ल्हासा सचमुच ही देवताओं की भूमि-सी सुंदर जगह है। यह तिब्बत का एक सुंदर शहर है। ...

कैलाश मानसरोवर - वे अद्भुत अविस्मरणीय 16 दिन - 1
द्वारा Anagha Joglekar
  • 2.2k

वे अद्भुत, अविस्मरणीय 16 दिन लेखिका अनघा जोगलेकर अपनी बात यूँ लगा जैसे मैंने कोई बहुत ही मनोरम स्वप्न देखा हो। पिछले 20 वर्षों से मन में पल रही ...

दास्तां-ए-PARTITION
द्वारा Nitin Mathur
  • 930

बात उस समय की है जब हिंदुस्तान और पाकिस्तान एक था। उस समय धर्म को सिर्फ किताबो में पढ़ा जाता था। सभी लोग हँसी खुशी रहते थे। सभी त्योहार ...

लंदन टूर की यादें - भाग 3 - अंतिम
द्वारा S Sinha
  • 1.3k

     लंदन  टूर की यादें -  अंतिम भाग 3    एडिनबर्घ और लंदन टू पेरिस ट्रेन यात्रा  .  लंदन से पेरिस लौटने समय मुसीबत के समय एक अजनबी ...

लंदन टूर की यादें - भाग 2
द्वारा S Sinha
  • 1.1k

   लंदन  टूर की यादें -  भाग 2    बस  में  लंदन घूमना और ऑस्ट्रेलियन लड़की से मुलाकात। ....   तीसरा दिन    लंदन के दर्शनीय स्थान घूमने के लिए ...

लंदन टूर की यादें - भाग 1 - पेरिस टू लंदन ट्रेन यात्रा
द्वारा S Sinha
  • 1.5k

                                                लंदन  टूर की यादें -  भाग ...

यात्रा वृतान्त भवभूति पदमावती नगरी
द्वारा रामगोपाल तिवारी
  • 1.4k

बाल यात्रा वृतान्त                           महाकवि भवभूति                                                    रामगोपाल भावुक           इन दिनों कालीदास अकादमी उज्जैन एवं ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 22
द्वारा राज बोहरे
  • 1.1k

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 22         Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 22            सुबह आठ बजे हम लोग दतिया से सेंवड़ा की और रवाना हुए। सेवडा यहॉं से 65 किलोमीटर है । ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 21
द्वारा राज बोहरे
  • 735

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 21        Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 21            सोनागिरी गांव में प्रवेश के पहले हैं। इमे एक सरकारी रेस्ट हाउस और अस्पताल दिखाई दिया। गांवके  ...

”स्मृति के झरोखे से-बम्बई“
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 1.6k

”स्मृति के झरोखे से-बम्बई“ समय की गति, प्रकृति के नियम तथा जीवन के संघर्ष मे, नियति के अनौखे खेल है। इनसे कोई अछूता नही रहा हैं। प्रत्येक प्राणी को ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 20
द्वारा राज बोहरे
  • 801

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 20         Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 20           सुबह लॉज मालिक राजा सिंह यादव से पता लगा कि दतिया मध्यप्रदेश का एक महत्वपूर्ण जिला  है। पहले यह ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 19
द्वारा राज बोहरे
  • 786

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 19 Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 19         आध घंटे मे हम दतिया पहॅुच गये। बस स्टेंड से एक रास्ता दतिया नगर के लिए तथा दुसरा रास्ता करणसागर  ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 18
द्वारा राज बोहरे
  • 807

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 18         Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 18  दोपहर के साडे ग्यारह बज चुके थें। ग्वालियर रोड पर  पांचवा किलोमीटर पार करते हमने देखा कि ग्वालियर की झांसी ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 17
द्वारा राज बोहरे
  • 813

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 17         Chanderi-Jhansi-Orchha-gwalior ki sair 17 सुबह बच्चों से पूछा  कि झांसी में क्या देखना चाहेगें  तो एकमत होकर सबने कहा  कि झांसी का किला । ...

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर - 16
द्वारा राज बोहरे
  • 792

चन्देरी-झांसी-ओरछा-ग्वालियर की सैर 16         Chanderi-Jhansi-Orchha-Gwalior ki sair 16   खजुराहो रोड के ओरछा तिगैला तक आकर हम लोगों  को अब बरूआसागर जाने के लिए खजुराहों छतरपुर धुबेला या ...