सर्वश्रेष्ठ कविता कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

गांव की तलाश - 8
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 63

गांव की तलाश 8            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

गांव की तलाश - 7
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 261

गांव की तलाश 7            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

मेरे शब्द मेरी पहचान - 1
द्वारा Shruti Sharma
  • 1k

----वो दोस्ती ही क्या जिसमें तक़रार न हो----वो दोस्ती ही क्या जिसमें प्यार न हो ,वो सफलता ही क्या जिसमें इन्तजार न हो , दोस्ती तो दो आत्माओं का मिलन ...

कविताएँ
द्वारा Amrita Sinha
  • 132

1* माँ का बरगद होना—-++————माँ जो कभी बरगद सी  थीं , हर तरफअब व्हीलचेयर पर बैठी हैं , सिमट करन बोलना, न चलना,न खाना बस देखती जाती हैं एकटक , निहारती रहती हैं अपलकजैसे पूरी देह का दर्द ,तरल हो समा गया हो आँखों में बहुत कुछ कहती हैं आँखें उनकीफिर भी , नहीं 

में और मेरे अहसास - 32
द्वारा Darshita Babubhai Shah
  • 225

गर ख्यालो पे रोक लगा दोगे lतो जुबान अपनेआप मौन रहेगी ll *********************************************** याद ने तेरी जीने का हौसला दे दिया lप्यार ने तेरे जीने का हौसला दे दिया ...

गांव की तलाश - 6
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 159

गांव की तलाश 6            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

गांव की तलाश - 5
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 150

गांव की तलाश 5            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

गांव की तलाश - 4
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 240

गांव की तलाश 4            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

गांव की तलाश - 3
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 231

       गांव की तलाश 3            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार ...

गांव की तलाश - 2
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 243

गांव की तलाश 2            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

गांव की तलाश - 1
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 654

गांव की तलाश 1            काव्‍य संकलन-                                  वेदराम प्रजापति ‘’मनमस्‍त’’    - समर्पण –        अपनी मातृ-भू के,       प्‍यारे-प्‍यारे गांवों को,        प्‍यार करने ...

में और मेरे अहसास - 31
द्वारा Darshita Babubhai Shah
  • 444

  दूरिया तुम्हारी ख्वाइश थी lहमने तो सिर्फ़ हुक्म माना है ll   ***************************************** ख्वाबो मे भी नहीं सोचा था lवो हसीं तोहफ़ा पाया है ll   ***************************************** ख्वाब ...

मैं भारत बोल रहा हूं-काव्य संकलन - 18
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 342

नींब के पत्‍थर--   सो रहे तुम, आज सुख से, दर्द उनको हो रहा है। शान्‍त क्रन्‍दन पर उन्‍हीं के, आसमां- भी रो रहा है।।   यामिनी के मृदु ...

मैं भारत बोल रहा हूं-काव्य संकलन - 17
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 387

--राह अपनी मोड़ दो--   शाह के दरबार कीं, खूब लिख दी है कहानी। शाज, वैभव को सजाने, विता दी सारी जवानी।।   चमन की सोती कली को, राग ...

मैं भारत बोल रहा हूं-काव्य संकलन - 16
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 546

-जिंदगी की राह-   आज दिल की कह रहा हूँ, सुन सको तो, बात साही। जिंदगी की राह में, भटका हुआ है, आज राही।।   बंध रहा भ्रमपाश में ...

सचमुच तुम ईश्वर हो ! 10 - अंन्त
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 435

काव्य संकलन                                                                                     सचमुच तुम ईश्वर हो !  10                                                              रामगोपाल भावुक                                                           

सचमुच तुम ईश्वर हो! 9
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 351

काव्य संकलन                                                                                     सचमुच तुम ईश्वर हो! 9                                                              रामगोपाल भावुक                                                              

सचमुच तुम ईश्वर हो! 8
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 384

  काव्य संकलन                                                                                     सचमुच तुम ईश्वर हो! 8                                                              रामगोपाल भावुक                                                            

मैं भारत बोल रहा हूं-काव्य संकलन - 15
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 408

मैं भारत बोल रहा हूँ - काव्‍य संकलन    यातना पी जी रही हूँ -   यातना पी जी रही हूँ। साधना में जी रही हूँ।। श्रान्ति को, विश्रान्ति ...

सचमुच तुम ईश्वर हो ! 7
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 378

    काव्य संकलन                                                                                     सचमुच तुम ईश्वर हो ! 7                                                              रामगोपाल भावुक                                                         

तुम्हारे बाद - 6 - अंतिम भाग
द्वारा Pranava Bharti
  • 549

31--- यूँ तो जीने को पूरी हो जाती हैं तमाम साँसें तुम्हारे बिन कहीं उखड़ी सी हो जाती हैं बहुत दूर जाना है दहशत अभी से है क्यों ये ...

सचमुच तुम ईश्वर हो ! 6
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 282

                                                          ...

वो भारत! है कहाँ मेरा? 12
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 396

वो भारत! है कहाँ मेरा? 12                                          (काव्य संकलन)                             सत्यमेव जयते       समर्पण मानव अवनी के,    चिंतन शील मनीषियों के, ...

मेरी हिंदी कविताएं
द्वारा Falguni Shah
  • 453

✍️शफ़क़✍️मेरी हर शफ़क़ को इत्र सी महका जाती है मेरी रुह में बसकर बिख़र जाती है तेरी वो बेसुमार महोब्बत की कशीश जो आज भी तेरी ख़ामोशी और मेरे इंतज़ार के दरम्या भीकुछ तो ...

में और मेरे अहसास - 30
द्वारा Darshita Babubhai Shah
  • 501

  वादा साथ रहने का नहीं lउम्रभर साथ निभाने का था llकल की किसको ख़बर lउम्रभर हाथ पकडने का था ll ****************************************** तेरी खामोशी ने बेचैनी बढ़ा दी है ...

तुम्हारे बाद - 5
द्वारा Pranava Bharti
  • 477

25---- एक मनी-प्लांट की बेल ने सजा रखा था घर को मेरे दूर-दूर तलक फैली थी सुंदर बेल एक किनारे से दूसरे किनारे तक सच कहूँ तो वो मेरी ...

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का काव्‍य संग्रह - 6
द्वारा Ramgopal Bhavuk Gwaaliyar
  • 324

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का  काव्‍य संग्रह  6                              सरस  प्रीत                       सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा                                                   सम्पादकीय सुरेश पाण्‍डे सरस ...

सचमुच तुम ईश्वर हो! 5
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 369

                                                          ...

वो भारत! है कहाँ मेरा? 11
द्वारा बेदराम प्रजापति "मनमस्त"
  • 402

वो भारत! है कहाँ मेरा? 11                                          (काव्य संकलन)                             सत्यमेव जयते       समर्पण मानव अवनी के,    चिंतन शील मनीषियों के, ...

सचमुच तुम ईश्वर हो! 4
द्वारा ramgopal bhavuk
  • 345

                                                          ...