×

Poems Stories free PDF Download | Matrubharti

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि - 3
by Manoj kumar shukla
  • (2)
  • 10

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि (3) मित्र मेरे मत रूलाओ..... मित्र मेरे मत रूलाओ, और रो सकता नहीं हूँ । आँख से अब और आँसू, मैं बहा सकता नहीं ...

प्यार व्यार - हीर वे
by Shubham Maheshwari
  • (2)
  • 20

क्या हम कभी बिछुडे?  नही ना।  क्या दिल कभी टूटे नही ना।  जो साथ हो तेरा हो जाए ये जहान मेरा।  हीर वे, हीर वेे क्यों हुए जुदा वे।  ...

घोर अंधकार
by Apurva Raghuvansh
  • (2)
  • 56

वक़्त से नाराज हूं वक्त से अनजान है, कुछ पता पता नहीं है, जानने की जिज्ञासा पाने की लालसा खोने को कुछ नहीं,  पाने को बहुत कुछ भटकता हूं दरबदर कहता किसी से कुछ भी नहीं सोचता हूं बहुत करने ...

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि - 2
by Manoj kumar shukla
  • (0)
  • 34

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि (2) जब-जब श्रद्धा विश्वासों पर ..... जब - जब श्रद्धा विश्वासों पर, अपनों ने प्रतिघात किया । तब - तब कोमल मन यह मेरा, ...

तेरे चाहने वाले
by Rakesh Sai
  • (2)
  • 48

हम भी देख लेंगे  तेरे चाहने वाले को उस वक्त जब तुम मौत के दरवाजे पर खड़ी होगी? तुम बहुत बोलती हो कि वह मुझसे प्यार करता है या ...

सपूतों की शहादत
by daya sakariya
  • (1)
  • 59

निभाके फर्ज़ चुकाके कर्ज हो गए शहीद शहादत मेंये देश के सपूत जवान कूर्बा हुए भारतमाँ की मुहब्बत मेंकिसीने छोड़ा है माँ का आँचल तो किसीने शर से बाप ...

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि - 1
by Manoj kumar shukla
  • (1)
  • 28

संवेदनाओं के स्वरः एक दृष्टि (1) हे माँ वीणा वादिनी ..... हे माँ वीणा वादिनी, शत् शत् तुझे प्रणाम । हम तेरे सब भक्त हैं, जपते तेरा नाम ।। ...

कभी कभी खबरों में अजीब सी महक आती है (मार्च २०१९)
by महेश रौतेला
  • (0)
  • 17

कभी कभी खबरों में अजीब सी महक आती है(मार्च २०१९)१.कभी कभी खबरों में अजीब सी महक आती है,जैसे देश स्वतंत्र हो गया हैउसकी अब अपनी राजभाषा हैजैसे चुनावों की ...

यादों के झरोखों से
by Rakesh kumar pandey Sagar
  • (2)
  • 73

     "तुम्हारी याद आती है" बरसता है जो ये सावन, तुम्हारी याद आती है, कहाँ तुम हो छुपे प्रियतम, हमें पल पल सताती है। लिखे जो खत तुम्हें ...