×

ये नार्थ ईस्ट की लड़की की कहानी है जो होटल मैनेजमेंट करके कर्नाटक के एक रिज़ॉर्ट में काम करने आती है। उसकेअच्छे बुरे अनुभव से परिचित कराती है। ये उस बात का परिचय देती है कि किस तरह नार्थ ...और पढ़े

बहुत उमस भरी जून की रात है गाँव के इस खुले मैदान भी रह रहकर गर्दन चिपचिपा रही है। पसीना पोंछते हुए उसका अंगौछा गीला हो चुका है। नौटंकी शुरू होने में बहुत देर है। एक आदमी हॉर्मोनियम पर ...और पढ़े

अक्सर हर उम्र की महिलायें अपने बच्चों को पुकारतीं हैं तो उनके मुंह से और बच्चों के नाम निकल पड़ते हैं ,जो सामने है उसका नहीं। ब्रजभाषा के शीर्षक की कहानी में आज के ज़माने की दादी जिम में ...और पढ़े

गावों में अक्सर महिला को निर्वस्त्र कर गधे पर बिठाकर घुमा दिया जाता है। ऐसी घटना सुनकर जयपुर की महिला पत्रकार छानबीन करने आती है। उस अंदर की कहानी को जानकर वह सकते की हालत में आ जाती है। ...और पढ़े

इसमें अहमदाबाद की क्वीन ट्रेन डिब्बे के माध्यम से किसी भी प्रदेश ,किसी भी भाषा की महिलाओं के जीवन की एक सी हालत होने का चित्रण है ,कुछ व्यंग है। नायिका जब बीस वर्ष बाद फिर इसमें सफर करती ...और पढ़े

इसमें बेटियों के दो रूप हैं। दो बेटियां पिता की सब जायदाद हड़प उसे दिल्ली में अस्पताल में अकेला छोड़ देतीं हैं। तीसरी बेटी अपने शहर से आकर नौकरी से छुट्टी लेकर सेवा कर रही है। पिता बिलकुल कोमा ...और पढ़े

एक समाजसेविका अविवाहित रहने का व स्त्रियों के लिए काम करने का व्रत लेती है। शोध करने वडोदरा आती है क्योंकि गुजरात आत्महत्या करने वाली स्त्रियों के आंकड़ों में अग्रणी है। यहाँ उसे पता लगता है इसका बड़ा कारण ...और पढ़े