×

  (अपने अंदाज को बरकरार रखते हुये एक और कहानी लेकर हाजिर हुं  )                                 १ मकान हवा उजास वाला और काफी बडा है जिजु..! निगाहने सारे कमरे का मुआयना करके  अरमान के चेहरे पर उभर आए विचित्र भावों को ...और पढ़े

वो कौन थी - 2

      (   अगले पार्ट में हमने देखा की डरावनी रात का एक एक पल निगाह के लिए युग जैसा लग रहा था सास बहू दोनों परेशान हो जाते हैं! सर धूम रहा था!  वो अपनी आंखो पर ...और पढ़े

    (अगले पार्टमे देखाकी..  एक कार हादसा देखकर फर्नाडिंज अमन की गाडी रुकवाता है..!  वो घभराया हुवा भागकर गाडी की और आता हैं अब आगे) ठंड की वजह से अमन को गाड़ी से बाहर निकलने की जरा भी ...और पढ़े

वो कौन थी-4

तभी वो शैतानी बच्चा उसके घर मे जा धमका है..! उसका मन अब खाने में नहि लगा..! वो उठ गया! हवा के तेज रुख से दिवार पर टंगा कैलेन्डर उसके टेबल पर आकर गीरा! फडफडा कर सब ...और पढ़े

उसने मरने से पहले जिस बच्चे को जन्म दिया था वह बच्चा गायब था ! फर्नांडिस काफी डर गया था! उसके दिमाग में यह बात आई थी की वह मरी हुई औरत पुलिस के हाथ्ये लग जाती है तो ...और पढ़े

वो कौन थी-6

अमन गेलरी मे आ गया! वो ईस वक्त दो मंजिला मकान के उपरी हिस्से मे था! ठीक सामने वाले मकान मे एक खौफ़नाक नजारा उसने देखा! एक औरत छत पर एक बच्चे को दोनो हाथो में जकडे हूये थी! ...और पढ़े

वो कौन थी-7

    पिछले भाग में हमने देखा कि वारिस खान की बीवी बताती है 10 रोज पहले अमन की गाड़ी एक कार से टकराई थी!जहां अमन की मौत हो गई थी फर्नांडीस उसकी धड़कने दोबारा शुरू कर दी तभी ...और पढ़े

अमन आगे बढा..! गुलाब की खुश्बु से कमरा पूरी तरह महक उठा था! दीवार पर टंगी बहुत ही पुराने माडल की एन्टिक घडी की बडी सूई सरसर आवाज के साथ खिसक कर रात के 2 पर स्टोप हुई! तभी ...और पढ़े

  (पिछले पार्ट में हमने देखा  की अंजुमन के शरीर में रही रूहानी शक्तियां अमन को बताती है कि वो आखिर कौन थी और क्यों एक-एक करके सब को मौत के घाट उतार रही है अब आगे)   दिमाग ...और पढ़े

    (पिछले पार्ट में हमने देखा कि वारिस खान को फज्र के वक्त किसी अनजान लड़की कि कॉल आती है!घबराई हुई वह लड़की वहां पर हुए अत्याचार के बारे में बताती है वारिस खान वहां पर पहुंचकर बहुत ...और पढ़े

(पिछले पार्ट में हमने देखा कि अपने दांपत्य जीवन में सुखी जिया के सामने एक रहस्यमई घटना घटती है अचानक एक कौवा उसके पास आकर बैठ जाता है उसकी आवाज कर्कश और विचित्र है दूसरी तरफ एक छोटे से ...और पढ़े

  (पिछले पार्ट मे हमने देखा की अमन का रुप धरकर वो निगाह से फिझिकल रीलेशन बनाने की कोशिश करता है... अब आगे..)                     वो कौन थी    ( होररकथा)  ---------भयावह ...और पढ़े

आबु का सर्द सुनहरा मौसम खुशनुमा था!जिया आबु का सर्द सुनहरा मौसम खुशनुमा था!जिया गुलशन की मां सुल्तान और उनकी खातून एक साथ एक ही कार मे आबु निकले थे!  जब पहुंचे श्याम के 4:00 बज रहे थे! सुल्तान ...और पढ़े

  (पिछले पार्ट में हमने देखा कि जिया सुल्तान की फैमिली के साथ गुलशन को ढूंढने आबू पहुंचते हैं अब आगे)     सांझ ढल रही थी! सूरज की सुनहरी किरने जैसे रंग बदलने लगी थी!तावड़े भले ही गाड़ी ...और पढ़े

  सांझ ढल रही थी! सूरज की सुनहरी किरने जैसे रंग बदलने लगी थी!तावड़े भले ही गाड़ी ड्राइव कर रहा था, पर उसका दिमाग  उन लाशों के ढेर में उलझा हुआ था..!पुलिस जीप को मेईन रोड पर लेते हुए ...और पढ़े

गाडी रुकते ही पगलाई सी जिया जंगल की ओर भागी जैसे इस जमी से बखूबी परिचित हो..!सुल्तान नें एक उडती नजर अपनी लिनिया पर डाली! भुमि पर सुखे पत्तौ  की परत बिछी थी तभी तो पांव बजने लगे थे..! ...और पढ़े

एक जबरदस्त खेल शुरू हुआ था!जिसका अंदाजा जिया को हो चुका था..!यकीनन कोई ऐसी बात थी जो दिमाग के परखच्चे उड़ाने की ताकत रखती थी..!तावड़े का अचानक ही बदला हुआ रूप सुल्तान और जिया दोनों को आंख में कंकर ...और पढ़े

"कहां होगी मेरी बच्ची ..? किस हाल में होगी ? कोई उसे ढूंढ कर ले आओ ..! गुलशनकी मां का रो-रोकर बुरा हाल था! वो बार-बार एक ही बात बोले जा रही थी! "मुझे मेरी बच्ची से मिलाओ..! मैं ...और पढ़े

           काले घने अंधेरे में गुलशन का सिर हाथ में लेकर अमन को भागते हुए देख कर सुल्तान भी चौक गया था!"Oh my god...  ये तो मोहम्मद अमन है..! उसके हाथों में गुलशन का कटा ...और पढ़े

रात काफी हो चुकी थी! लिनिया तेजी से आबू को पीछे छोड़ कर पालनपुर की ओर भाग रही थी! होस्पिटल से खलिल को छुट्टी  मिलने के बाद खलिल उसकी अम्मीजान और गुलशन कि मां  सबकी राह तक कर बैठे ...और पढ़े

 दूर-दूर से लंबी दूरी की गाड़ियों की व्हिसल सुनाई दे रही थी! रात के लास्ट पहर में भी शहर में रोशनी बिखरी हुई थी! एकल-दोकल वाहनो में निकलने वाले इंसानों को छोड़कर अभी कोई चहल-पहल नहीं थी!शहर की अंदरूनी गलियां ...और पढ़े

जिया ने डोरबेल को पुश किया! उसी पल दरवाजे के भीतर लगे सेंसर के स्पीकर से आवाज उठी!"अस्सलाम वालेकुम व रहमतुल्लाहि व बरकातहू..! दरवाजा खोलिए..! कोई बाहर दरवाजे पर मौजूद है..! दरवाजा खोलिए..! दरवाजा खोलिए..!"स्पीकर बजने लगा! एक एक पल जिया ...और पढ़े