इंतजार प्यार का - भाग - 34 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 34

लेकिन फिर जब उसने मेघा के मुंह से सुना कि वह उस को पसंद करती है। तो उसको काफी khusi मेहसूस होता है। लेकिन जब उसने मेघा के मुंह से आखिरी की बात सुन तो वो काफी निराश हो गया। और खुद पर गुस्सा होता है। फिर अपने बिहेवियर के बारे में सोच कर काफी अफसोस करने लगा। लेकिन फिर वो कुछ प्लान सोचने लगा की केसे मेघा को मनाया जाए और उसको अपने दिल के बात बता कर उसकी मुंह से उसकी दिल की बात बुलवानी होगी। और यह सब सोचते वक्त उसके फेस में एक बहुत बड़ी सी स्माइल थी और आंखों में हल्की नमी भी थी। तो फिर वहीं पर बैठकर कुछ प्लान बनाता रहा फिर वह अपने मन ही मन में खुद से कहते हुए बोलता हे। की“ miss megha now you just watch what I am doing to bring you in my life oterwise I will be in your life कल से मेरा प्लान और मिशन शुरू देखते हे कौन जीतता हे मेरा प्यार या फिर तुम्हारा जिद .” फिर वह वहां से मुस्कुराते हुए अपने रूम में सोने के लिए चला जाता है। लेकिन उसको पता नही था की उसको कोई और भी वहां पर देख रहा था। जो की उसको देख कर स्माइल कर रहा था।
विक्रम के वहां से जाने के बाद वह लड़का जो वहीं पर खड़े होकर विक्रम को देख रहा था और उसकी बातों को सुन रहा था वह बाहर आ जाता है। और पहले विक्रम जिस जगह पर खड़ा हुआ था उसी जगह पर खड़े हो कर बिक्रम के फेस के एक्सप्रेशन और उसके बातों के बारे में सोचने लगा। वह सोचता है कि वाह यार तेरी लाइफ में भी किसी लड़की की एंट्री हो गई और उसको तू भी पसंद करता है। तूने हमें बताने के बारे में सोचा भी नही। और फिर तुम दोनो के बीच कुछ ऐसा हुआ है जिस वजह से तुम दोनों एक दूसरे से कुछ कह नहीं पाते। तो अब से मैं तुम दोनों की मिलवाने की जिम्मेदारी मेरी । यह सब सोचकर वह अपने दिमाग में कुछ प्लान बनाने लगा कि तभी वहां पर सूरज आ जाता है और उस लड़के को देखकर बोलता है अरे आरव तू यहां क्या कर रहा है। वह लड़का कोई और नहीं आरव ही था जो कि विक्रम की सारी बातें सुन रहा था और उसको हेल्प करने के लिए प्लान सोच रहा था।
सूरज वहां पर आकर अरब से पूछता है कि क्या हुआ और अब तू यहां क्या कर रहा है तो आरंभ एकदम चौक कर पीछे पड़ता है और देखता है कि उसके पीछे सूरज खड़ा हुआ हे। तो वो एक राहत भरी सांस लेता हे। और सूरज को भी वहां पर आकर उसके साथ खड़े होने को बोलता हे। उसके बाद जब वो दोनो वहां पर खड़े हो कर थोड़ी देर तक बाहर की और देखने लगते हे। फिर सूरज आरव से पूछता हे की क्या हुआ बता मुझे। तो आरव उसको एक नजर देखता हे। फिर सामने की और देखते हुए बोला की बिक्रम को प्यार हो गया हे। ये बात सूरज के लिए किसी atom bomb से कम नहीं था। क्यूं की वो अच्छे तरीके से जानता था की कितने सारे लड़कियां बिक्रम के ऊपर मरती थी लेकिन वो किसी को भी भाऊ नही देता था। और नाही किसी को भी अपने करीब आने के लिए देता था। फिर सूरज अपने शौक के स्थिति से बाहर आकर और अब से पूछता है अबे यार तुझे कैसे पता चला कि वह किसी लड़की से प्यार कर रही है। तो आरव उसको बताता है कि अभी थोड़ी देर पहले बिक्रम यहां पर खड़े हो कर उन सबके बारे में बात कर रहा था। जिसको मेने सुन लिया और तुझ को पता हे। की वो लड़की कोन हे तो सूरज एक दम एक्साइटेड हो कर आरव से पूछता हे। की कोन हे वो लड़की जरा जल्दी बता ना यार प्लीज। तो आरव उसको सांत करवाते हुए बोलता हे। अबे यार में तुझे बता रहा हूं तू जरा शांत होगा। तो सूरज एक दम शांत हो कर आरव की और देखने लगता हे। वहीं आरव अभी भी से की तरफ देख कर थोड़ी देर तक कोई कुछ नही कहता है। लेकिन थोड़ी देर बाद वो अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बोलता हे की मेघा। वहीं ये नाम सुन ने के बाद सूरज काफी ज्यादा हैरान रह जाता है। लेकिन थोड़ी देर बाद खुद को संभाल ते हुए और पुराने किस्से को याद करते हुए बोलता हे। हां यार मुझे तो पहले से लगता था की इन दोनो के बीच में कुछ तो हे। लेकिन कभी कुछ नहीं बोल सका क्यूं की में faltu में बिक्रम को नाराज नहीं करना चाहता था। लेकिन अब कॉन्फ्रिम हो गया। तो आरव उसको पूछता हे की तुझे केसे पता चला तो सूरज उसको याद दिलाते हुए बोलता हे की तुझे याद हे की नहीं बिक्रम क्लब के उसके बारे में जान ने के लिए केसे नैना से बात करने की कोशिश करता था। और ये भी की केसे वो दोनो एक दूसरे को किस किए थे। जो की हमे मेघा ने हीं बताया था। और सबके सामने मेघा ने बिक्रम को किस किया लेकिन उसने उसको कुछ नही बोला। ऐसा करते हुए मेने आज तक नही देखा है। अगर उसकी जगह कोई और लड़की होती तो वो उसको जन से मर देता लेकिन उसने कुछ नहीं किया बस उसको घूरता रहा। उसकी पूरी explanation को सुन ने के बाद अरब को यकीन हो गया की सूरज जो भी कह रहा हे वो सब सच है। वहीं सूरज अपने बातों को आगे बढ़ाते हुए बोलta है की मुझको पता चला हे की मेघा भी उसको प्यार करती हे। ये सुन ने के बाद आरव एक दम शॉक हो जाता हे। फिर बहुत खुश होते हुए बोलता हे की इसी चीज से हमर काम बहुत कम हो जायेगा क्यूं की वो दोनो एक दूसरे से पहले से प्यार करते हे। बस हम उन दोनो को करीब लाने की जरूरत है। तो सूरज भी हां बोलता हे। फिर वो दोनो वैसे हीं वहां पर खड़े हो कर थोड़ी देर तक एक दूसरे से बात चीत करने लगते है। वो दोनो वहां पर बैठ कर उन दोनो को करीब लाने की और ट्रिप के बारे में कुछ प्लान करने लगे फिर एक दूसरे को बाय बोल कर वहां से चले जाते हे। वहीं जब आरव अपने रूम में जाता हे तो देखता हे की बिक्रम जो आज काफी मुरझाया हुआ था। अभी काफी खुस नजर आ रहा था। और खुशी के मारे उसकी आंखें चमकने लगी थीं। उसको इतना खुश देख कर इसको अंदाजा लग गया की बिक्रम को पता चल गया हे की मेघा भी उसको पसंद करती हे। तो वो उसके पास जाता है और फिर उसके कंधे में हाथ रखते हुए बोलता हे की क्या हुआ यार तू कहां गया था और इतना खुश क्यूं नजर आ रहा हे। तो बिक्रम एक दम से किसी के हाथ रखने से अपने खयालों से वापस आ जाता हे। और सामने आरव को खड़े हुए देख कर उसको पूछता हे की अबे यार तू कहां गया था। अब आ रहा हे और तुझे सोना नहीं है क्या। ये सब बोल कर बात को बदल ने की कोशिश कर रहा था। लेकिन आरव जन गया और वो उसकी ऊपर दबाब डालते हुए बोलता हे की कहां गया था तू बता में तुझे ढूंढने के लिए हीं बाहर गया था। तो बिक्रम एक दम शॉक हो कर उसे पूछता हे की मुझे ढूंढने के लिए तो आरव उसको बताता हे की तू काफी देर तक जब रूम में नहीं आया तो मेने सूरज से पूछा लेकिन उसने बताया की वो भी नही जानता हे की तू कहां है तो में तुझे ढूंढने के लिए चले गए ये सुन ने के बाद बिक्रम बहाना बनाते हुए उसको बोलता हे की वो मुझे कुछ अजीब फील हो रहा था तो में बाहर घूमने चला गया था। और काफी देर हो गया हे चल सो जाते हे। इतना बोलने के बाद वो जल्दी से चादर वोड कर सोने की कोशिश करने लगता हे। वहीं उसको ऐसे बिहेव करता हुआ देख कर आरव के फेस में स्माइल आ जाता है। और फिर वो भी चादर तान कर सोने की कोशिश करता है। और थोड़ी देर बाद उसको भी नीद आ जाती हे। वहीं सूरज अपने कमरे में पहुंच कर देखता हे की आर्यन अपने फोन में कुछ देख रहा था। तो वो उसके पास वाले बेड पे जाकर लेट जाता हे। और आर्यन जब देखता हे की सूरज आ गया हे। तो वो जल्दी से उससे पूछता हे की वो कहां गया था। तो सूरज उसको सब कुछ सच सच बता देता हे। और बताने के बाद वो आर्यन की और देखने लगता हे। जो की उसको काफी अबिस्वास भारी नजरों से घूर रहा था। और घूरता भी क्यों नही क्यों की बात हीं इतनी बड़ी और शॉकिंग थी। फिर सूरज उसको भी कुछ पालन बताता हे और फिर वो दोनो भी सो जाते हे।
वही थोड़ी देर बाद मेघा भी अपने आप को फ्रेश कर कर रूम के अंदर आ जाती हे। और देखती हे की नैना अभी भी उसकी हीं वेट कर रही हे तो वो जल्दी से उसके पास जाती हे। और फिर बोलती हे की, “ आप सोई नहीं सो जाइए और कल क्या आप को घूमने नहीं जाना हे क्या फिर सब लोग बोलेंगे की फिर से लड़कियां लेट करती हे। ” तो नैना उसको कुछ नही कहती बस उसकी और देखती हे। और वो देखती हे की मेघा आपने आप को संभाल ने के लिए किस तरह से झूंज रही हे। और खुद को खुस रखने की नाकाम कोशिश कर रही हे। और फिर वो उसको अपने पास बोल बुला कर उसको अपने सीने से लगा लेती हे। जिस वजह से पहले मेघा शॉक हो जाति हे। लेकिन फिर वो वैसे हीं नैना के सीने से लगे हुए हीं रोना आरंभ कर देती हे। और वैसे हीं रोते हुए सो जाती हे। उसको ऐसे देख कर नैना को काफी ज्यादा बुरा लगता हे। और फिर वो अपने दिल में खुद से बोलती हे की में जरूर तुम दोनो को मिलाऊंगा। फिर वो भी उसको अपनी जगह पर आराम से लेटा कर सो जाती हे। वहीं सनाया और sirisha का भी अच्छा बॉन्डिंग बन गई थी। और वो दोनो भी एक दूसरे के अच्छे दोस्त बन चुके थे। और थोड़ी देर तक बात करने के बाद वो लोग भी सो जाते हे।
तो क्या होता हे आगे क्या प्लान बनाया हे आरव और सूरज ने बिक्रम और मेघा को मिलने के लिए। और नैना क्या करती हे उन दोनो को मिलाने के लिए जन ने के लिए पढ़ते रही है। मेरा ये कहानी इंतजार प्यार का.............
To be continued..........
Written by
Unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

Astha

Astha 5 महीना पहले