इंतजार प्यार का - भाग - 8 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 8

तभी सूरज अपने जगह से खड़े हो कर सनाया के पास जाकर अपने हाथ उसके कंधे पर रख कर उसको कुछ बोलने के लिए बोलता है। लेकिन सनाया उसकी बातों को इग्नोर करके बस हस्ती हीं जा रही थी। लेकिन इस बार सूरज ने थोड़ा जोर से सनाया को हिलाया जिस वजह से सनाया अपना हसी को कंट्रोल करते हुए अपना सर हैं में हिलती ने और सूरज जाकर अपने सीट में बैठ जाता है। और फिर सनाया से बोलता है कि सनाया प्लीज ये सस्पेंस रखना बंद करो और मुझे सब सच सच बताओ तुम हस क्यूं रही हो। तो सनाया उन सबको बोलती है कि “ आप लोग इस बार बहुत बुरे फसे हो और हिटलर को काफी गुस्सा दिला दिया लगता है इस बार वो कुछ ज्यादा गुस्सा हो गया है।”उसकी ये बात किसी के भी समझ में नहीं आया और सब लोग उसके और confuse हो कर देखने लगे। सबको अपने और ऐसे कंफ्यूज नजर से देखते हुए देख कर सनाया सब को बोलती है कि तो सभी अपने अपने चेयर को कस कर पकड़ कर बैठिए वरना ये बात सुन ने के बाद आप सीधे नीचे गिर सकते हो तो सब और भी ज्यादा कंफ्यूज हो कर सनाया कि और देखने लगे। और आर्यन थोड़ा गुस्से में बोलता है कि को भी बोलना है वो जल्दी से और अच्छे से बोलो ये ओवर एक्टिंग करने की कोई जरूरत नहीं है। तो सनाया ने अपने गला साफ करने के एक्टिंग करते हुए बोलती है कि “ असली बात ये है कि आप लोगों को मैने जिस लड़के के बारे में बताया था वो कोई और नहीं आपका दोस्त आरव हीं है और आप लोग उसके सामने हीं उसकी बेज्जाती कर रहे थे।”
सनाया कि पूरी बात सुन ने के बाद सबकी धड़कन एक दम से रुक सा गया और सबकी चेहरे में में दर का साया देखने को मिला और सबकी फेस डर के मारे सफेद पास गए उनकी हालत अब ऐसी थी कि ‘काटो तो खून नहीं। ’ और फिर वो लोग डर से एक दम कांपने लगे उनकी ऐसी हालत देख कर सनाया को उन लोगों के लिए काफी बुरा लग रहा था और उसको अपने गलती पर की उसने क्यूं उन लोगों को पहले नहीं बताया कि वो लड़का आरव है। अगर बता देती तो ये सब नहीं होता और इन सबको इतना डरना भी नहीं पड़ता। और नहीं आज आरव इनके ऊपर इतना गुस्सा हो कर यहां से चालाजाता और इन लोगों का रीयूनियन खराब नहीं होता। लेकिन अभी भी वो लोग सनाया कि और अभी भी शॉक से हीं बड़े बड़े आंखों से घुर रहे थे। तभी उनमें से पहले बिक्रम होश में आता हर और वो सनाया कि और गुस्से में देखते हुए बोलता है कि तुमने हमें ये बात क्यूं क्यूं नहीं बताया तुम्हारी वजह से आरव हम से नाराज़ हो गया उसको मनाने के लिए हमें और भी ज्यादा मेहनत करना पड़ेगा। तभी सनाया धीरे से बिक्रम को बोलती है कि“ I am sorry भैया म आप लोगों को बताने वाली थी लेकिन तभी वहां पर आरव आजाटा है जिस वजह से हम दोनों के बीच में बहस हो गया और में आप लोगों को बताना भूल गई। वो ये सब बोलते वक़्त काफी शर्मिंदा लग रही थी जिस bajah से वो अपना सर नीचे कर रखा था और उसकी नजरें जमीन में गाड़ी हुई थी। वो इस समय देखने म काफी मासूम दिख रही थी जिसको देख कर किसी का भी दिल पिघल जाए उसको ऐसे देख कर वहां पर बैठे सब लोगो का दिल पिघल गया और कोई भी उसे कुछ नहीं बोल पाता और उसको वहां से जाने को बोल देते है। और वो भी वहां से चली जाती है। वहीं वो लोग आरव के बारे में सोच सोच कर काफी परेशान थे कि उसको मनाया केसे जाए। उन लोगो ने एक एक करके काफी बार आरव को कॉल करने की कोशिश भी की लेकिन आरव ने किसी के भी कॉल का जवाब नहीं दिया जिस bajah से वो लोग और भी ज्यादा परेशान हो गए और उन लोगों को अब आरव की चिंता होने लगी। लेकिन फिर सब लोग बैठ कर उस बात को इग्नोर करते हुए आरव को केसे मनाया जाए इस बारे में प्लान करने लगे तो सब लोग बैठ कर थोड़ी देर बैठ के प्लान के बारे में discuss करने लगे थोड़ी डर बात चीत और प्लान बनाने के बाद उन लोगों का पूरा प्लान तैयार हो गया जिस bajah से सब लोग एक चैन के सांस लेते है और फिर कल का दिन का बड़े हीं बेसब्री से wait करने लगे। और फिर वहां से एक दूसरे को बाय बोलके अपने अपने घर के और चले गए।
वहीं आरव वहां से जाने के बाद पहले अपने ड्रेस को धोने के लिए और अपना चेहरे कोधोन के लिए वाश रूम की और बढ़ रहा था। और बढ़ रहे वक़्त कुछ बड़ बड़ा रह भी था। वो बोल रहा था कि अरे यार केसे दोस्त है मेरे , एक लड़की के बात पर इतना विश्वास की एक लड़के कि मजाक वो बनाने पर वो लोग भी उसके साथ मिलकर मजाक बनाने लगे। और वो भी मेरे सामने हीं मेरा मजाक उड़ाते है मुझे पागल कुत्ता, चुटिया और कितना कुछ बोला अगर में इसका बदला नहीं लिया तो देख लेना। और मेरे वहां से आने पर भी कोई कुछ भी रिएक्ट नहीं किया नाही मुझे कोई रोकने के लिए भी आया। सब लोग बस मेरा मजाक बना कर जोर जोर से उस लड़की के साथ मिलकर तभी उस लड़की के बारे में सोच कर वो और भी ज्यादा गुस्सा हो जाता है। और अपने मन ही में में बोलता है कि तो miss आपका नाम क्या है हैं याद आया miss सनाया अगर मैने आपको सबक नहीं सिखाया तो मुझे बोलना। और वो इतना बोल कर वाश रूम के अंदर जाता है और अपने आपको साफ करके बाहर अता है और वहां से अपने हॉस्टल कि और चला जाता है।
वहीं सनाया अपना मुंह लटका कर वहां से का रही थी। वो अपने घर की और जाने के लिए पार्किंग कि और बढ़ जाती है अपनी कार लेने के लिए लेकिन वहीं अभी भी उसका मूड पूरी तरह से खराब था। क्यूं की वो अभी भी इन सब चीज़ों के लिए खुद को ही जिम्मेदार समझ रही थी। वो अपने अपने में में हीं सोचती है कि ये हिटलर को थोड़ी देर बाद आना चाहिए जिस वजह से में उन सबको सच्चाई बात देती और उन सबको ये सब भुगतना नहीं पड़ता। और वैसे हीं अपने मन हीं मन में आरव को काफी गालियां देती है। फिर अपने में ही में में सोचती है कि नहीं आज मैने कुछ ज्यादा ही बुरा कर्डिया हिटलर के साथ कल जाकर पहले में उसको माफी मांग लेती हूं sayad इस वजह से उसका गुस्सा सांट हो जाएगा और वो अपने दोस्तों से इतना गुसा नहीं रहेगा और सम एक दम आराम से हो जाएगा। इतना सोच कर वो अपने मन हीं मन में खूब हो जाती है। और अपनी कार को लेकर अपनी घर कि और बढ़ जाती है।
वहीं आरव फिर से अपने दोस्तों के साथ मिल गया था जिस bajah से उनकी गैंग पूरा हो गया और इस गैंग का नाम वो पहले डेविल गैंग रखे थे। लेकिन बीच में आरव के चोद कर जाने के बाद ये गैंग टूट गया था और इनका पॉवर थोड़ा कम हो गया था लेकिन अब आरव इसमें मिल गया था वो भी पूरी तरीके से जिस bajah से ये गैंग फिर से पूरा हो गया और इस गैंग में फिर से सबको अपने अंदर दड़के रखने का जजबात उत्परन होता है। और ये बात कॉलेज के स्टूडेंट के जरिए दूसरे कॉलेज और सारे गैंग वालो को पता चला जाता है और वो लोग ये बात सुन कर पूरी तरह से शॉक हो जाते है और काफी दर जाते है। जिस वजह से सब लोग अपने अपने आदमियों को इन्वेस्टिगेट करने के लिए भेजने लगते है थोड़ी देर बाद वो सब आदमी वापस अकर बताते है कि “ बॉस लड़कों के सच बोला था वो आरव मिल गया और थे डेविल गैंग फिर से पूरा हो गया है और इस वजह से हमारे ऊपर भी काफी खतरा हो सकता है। वहीं ये बात सुन ने के बाद दूसरे कॉलेज के स्टूडेंट के हालात तो पूरी तरह से खराब हो गई क्यूं कि आरव के जाने के बाद वो लोग मिलकर डेविल गैंग को ख़तम करने लगे थे। वो कुछ नहीं कर पाए उल्टा अब उनका सबसे खास और पावरफुल बंदा जो कि चोड के गया था वो अब फिर से वापस गया जिस वजह से वो फिर से सबसे ताकत बार गैंग बं जाएंगे और उनका अस्तित्व खत्म हो जाएगा। वहीं सारे के सारे गैंग स्टर अपने अपने आदमी को बोल कर कॉलेज के आस पास वाला से अपना सारे के सारे बंदे बोला लेते है और जो भी लड़का उनके लिए काम कार रहा ये उसको आरव से दूर रहने के लिए इंस्ट्रक्शन देते है। वहीं को लड़के अभी अभी अपना नया गैंग बना कर हर किसी को डरा धमाका कर अपना काम करवाते थे या फिर दूसरों कि मजाक बना रहे थे जब उनको पता चल कि डेविल्स वापस अगाए तो उनका डर के मारे बुरा हाल था और वो लोग डर के मारे थर थर कांप रहे थे। क्यों की दिल्ली का हर स्टूडेंट आरव और डेविल गैंग के बारे में जानता था और उसको सब के सब डरते थे। और उसका खोप इतना था कि टीचर भी उसके सामने काफी डरते थे। इसी वजह से कोई भी बिना किसी बात का उन सबसे पंगा नहीं लेता । वहीं जब आरव के क्लास के स्टूडेंट जिनको कि आरव का एटिट्यूड और बात करने का तरीका बिल्कुल पसंद नहीं था वो लोग मिलने आरव को सबक सीखने के प्लान बना रहे थे लेकिन जब उनको ये बात पता चली तो मानो उनके पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक गई और उनका तो दर के मारे बुरा हाल था और वो लोगों को आरव के बैकग्रउंड के बारे में जान कर पूरा का पूरा शॉक लगता है। जो थोड़ी देर पहले उसके ऊपर कुछ करने वाले थे वो सब उसके नाम से हीं काफी डरते है। अब उनके आंखों में प्रतिशोध के भाव के जगह डर ने के लिए था।
तो आगे क्या होता है क्या प्लान किया आरव के दोस्तों ने उसके लिए और क्या सनाया आरव से माफी मांगेग जन ने के लिए पढ़ते रहिए मेरा ये कहानी intezar Pyaar ka........
To be continued.........
Written by
unknown writer
...............................................................

रेट व् टिपण्णी करें

Unknown Writer

Unknown Writer 6 महीना पहले