इंतजार प्यार का - भाग - 10 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 10

डेविल गैंग सारे के सारे बुरे काम जों इनके सामने हो उसके विरोध में खड़े होते थे। और हमेशा सही का साथ देते थे। चाहे उनके सामने कोई भी खड़े हो लेकिन ये लोग किसी से भी बिल्कुल भी नहीं डरते है। जिस के Bajah से इनसे दिल्ली सारे स्टूडेंट्स गैंगस्टर और प्रोफेसर भी इनसे डरते है और कोई भी इनसे बिना मतलब के पंगा नहीं लेना चाहते है। लेकिन आज से तकरीबन 1 साल पहले कुछ रिसन के Bajah से वो पांचवा बंदा इनको चोड कर चला गया था जिस bajah से इनकी पॉवर थोड़ा कम हो गया था लेकिन फिर भी कोई भी इनसे बिना मतलब के पंगा नहीं ले रहा था। लेकिन काफी सारे पावरफुल गैंग मिलके इनको दबाने की कोशिश किए लेकिन सफल नहीं हो पाए। लेकिन अभी इनका वो आखिरी बंदा वापस आके इनको ज्वाइन कर लिया है और वह भी इसी कॉलेज का स्टूडेंट है। जिस bajah से पूरे कॉलेज में शांति फैली हुई है। और हर बच्चा जो कोई भी गलत काम करता था एक दम से सीधे हो गए और एक दूसरे के साथ अच्छे से बात चीत करने लगे।
प्रिंसिपल सर एक दम से शॉक हो गए पीयन के ऐसी बात सुन ने के बाद क्यूं की ये बात हीं ऐसी थी कि कोई भी सुन ने के बाद उसके ऊपर विश्वास नहीं करता और उल्टा उसके ऊपर हसने लगता। क्यूं की 5 स्टूडेंट मिलकर एक गैंग बनाते है और वो गैंग बनाने के बाद वह लोग मिलकर इतना ज्यादा और बड़ा तेहेलका मचाते है कि पूरे के पूरे दिल्ली के सारे स्टूडेंट गैंगस्टर और टीचर भी उनके नाम सुनते हैं डर से थर थर कांप रहे थे। ये चीज अगर कोई भी किसी से बोले तो लोग उसे पागल समझ कार उसको जोर जोर से हसने लगते फिर मारने लगते। ये सोच कार की वो लड़के केसे ये सब किए होगे प्रिंसिपल से माथे से पसीना बेहने लगा और उसका सर दुखने लगा। फिर उन होने पियुण की और थोड़ा अविश्वास भारी नजर से देखने लगे क्यूं की ये बात इतनी ज्यादा बेहूदा लग रही थी। तो पीयून एक दम से डर जाता है और डर के मारे बोलता है कि सर में बिल्कुल सच बोल रहा हूं मेरी मा की कसम खा कर बोल रहा हूं। तो प्रिंसिपल सर उसकी और देखने लगते है और पूछते है की तुम्हे उन लोगों के बारे में इतनी सरी बात केसे पता तो वो जल्दी से जवाब देते हुए बोलता है कि सर वो ये बात पूरी की पूरी दिल्ली को पता है सिवाए आपके उसकी ये बात सुन ने के बाद प्रिंसिपल सर को एक और झटका लगा और अब उनको एंबर्समेंट फील हो रहा था फिर भी वो खुद को संभाल ते हुए बोलते है कि क्या तुम मुझे उन लोगों की information निकाल कर दे सकते हो तो पीयुं बोलता है कि में उनमें से चारो का बस पहला नाम बता सकता हूं और पांचवा के बारे में मुझे भी कुछ कुछ हीं पता है। तो प्रिंसिपल उससे बोलते है कि तुम्हे जो कुछ भी पता है जल्दी से मुझे सब कुछ बताओ तो पीयुण उनसे बोलता है कि सर वो चारों का नाम आर्यन , बिक्रम , नैना और सूरज है। और वो पांचवे वाले का नाम आरव राजपूत है। और सर आपको पता है वो लड़का अपने कॉलेज का एंट्रेस एग्जाम का टॉपर है और उसने फूल स्कॉलरशिप के साथ एडमिशन लिया है। उसकी ये बात सुन ने बाद तो प्रिंसिपल का तो आंखें हीं बाहर आने वाला था और उनका हार्ट बीट भी काफी ज्यादा तेज हो गया और वो बस अपना अखों को फ़ाड़ फ़ाड़ के पियूण की और देखने लगे मानो बॉल रहे है क्या बोला तूने क्या ये बात सच है। प्रिंसिपल के इस एक्सप्रेशन को देख कर पियुन सब कुछ समझ गया और अपना सर बस हां में हिला दिया। तब उनको याद आती है कि उन होने हीं उसको पेपर लाने को बोला था तभी ये देख होगा। फिर उन होने पियूएन की और देखते हुए बोला कि जल्दी जाओ और उन लोगो के बारे में पाता करो और अगर तुम को कुछ पता चलता है तो मुझे आकर बताना और अभी जल्दी से एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिस जाओ और वहां से उन लोगों के नाम के फाइल लेकर मेरे पास आओ उनके इतना बोलने के बाद वो वहां से चला गया। और वो बैठ कर उन लोगों के बारे में सोचने लगते है।
वहीं हॉस्टल से निकल कर आरव कॉलेज की और और जाने लगता है। वो रास्ते में जाते वक़्त देखता है कि 4 से 5 लड़के मिलकर एक लड़की को कैद रहे थे। ये देख कर उसको बेहद गुस्सा अता है और उसका जो मूड सुबह थोड़ा ठीक था वो पूरी तरह से खराब हो गया। जिस bajah से वो वहां से उनकी और गुस्से से जाने लगा लेकिन तभी वो देखता है कि एक लग्जरी कार जो को थोड़ी देर पहले हीं आगे गया था वो पीछे अती है और उन लडकों के ठीक सामने रुकती है। उस कार को उनके सामने रुकते हुए देख कर एक बार के लिए आरव के कदम ठिठक गए लेकिन वो फिर भी आगे बढ़ रहा था लेकिन वह देखता है कि कर कि डोर खोलता है और उसमें से एक लड़की निकल ती है जो कि रेड कलर की सलवार सूट पहने हुई थी गाड़ी से निकलती है जिसकी दूध जैसी सफेद और मुलायम बदन पे काफी जाच रहा था। लेकिन आरव जब उस लड़की का फेस देखता है तो पूरी तरह से शॉक हो जाता है। क्यूं की अभी उसके सामने कोई और नहीं सनाया हीं खड़ी थी। वो उसको बस घुर घुर कर देख रहा था। लेकिन सनाया को बिल्कुल भी पता नहीं था कि आरव उसको घुर घुर कर देख रहा था। उसको अब उन लडको को देख कर काफी गुस्सा आता है जो की मिलकर उस अकेले लड़की के साथ बदतमीजी कर रहे थे। और अब उसको उन दो लड़कों पर भी काफी गुस्सा रहा था जोकि साइड में हीं खड़े हो कर ये सब होते हुए देख रहे थे। उसने जल्दी से जाकर उन लड़कों से लड़की को अलग करते हुए बोलती है कि उस लड़की से दूर रही वरना तुम लोगों के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं होगा लेकिन उन लड़कों ने उसके बातों को सीरियसली नहीं लेते है। और उल्टा अब वो सब मिलकर अपने सामने इतनी सुंदर खड़े लड़की को देख कर उसको छेड़ने लगते है। उन लोगों को मिलकर खुद को कैद ता हुए देख कर सनाया का गुस्से का पारा है हो गया था।
वहीं उनसे कुछ हीं दूर खड़ा हुआ आरव जब ये सुना तो उसकी पूरे के पूरे तन बदन में आग लग गई। और जिस वजह से उसका गुस्से का पारा भी हाई हो चुका था। ये सब सुन ने और देखने के बाद आरव गुस्से से आगे बढ़ने लगता है लेकिन तभी वो देखता है कि उनमें से एक लड़का हवा में उड़ते हुए जाकर कुछ हीं दूर पर गिरता है। सब लोग अब सनाया को घुर कर देखने लगते है। वहीं आरव भी सनाया को घूरने लगता है। क्यूं की ये चीज इतना अनेक्सपेक्टेड था कि कोई भी ऐसी चीज इमैजिन तक नहीं किया था। वो बस वहां पर खड़ा हो कर बस यूं लोगों को एक एक करके मर खाते हुए देखने लगता है। वो देखता है कि उनमें से एक लड़का अपने दोस्तों को कॉल करता है जिस bajah से वहां पर और 8 से 9 बंदे आगाए लेकिन सनाया को बिल्कुल भी फर्क नहीं पड़ा वो उन लोगो को भी बाकी के लगों कि तरह बुरी तरीके से घायल हो गए थे उन मेसे एक लड़का जो अब तक बच कर बैठा था वो देखता है कि सामने से एक पुलिस वैन रहा है। तो उसने एक चाकू को अपने पॉकेट से निकाल ता है। और फिर उसको लेकर सनाया को मारने के लिए दौड़ता है लेकिन तभी उसके मूह में एक इट आकर लगता है। जिस वजह से उसका जबड़ा हिल गया और वो वहां पर हीं नीचे गिर गया। सनाया भी बाकी बचे हुए आदमियों को पिट ने के बाद उस और mudke देखती है जिस और से वो इट अयी थी और जब वो मूड कर देखती है कि उसके सामने आरव खड़ा और उसने हीं उसको बचाया था तो उसको बड़ा तगड़ा झटका लगता है। और उसका फेस किसी पके हुए टमाटर की तरह लाल नजर आ रहा था। वहीं तभी वहां पर पुलिस आता है और उन लोगो को अरेस्ट करने के बाद अपने साथ पुलिस स्टेशन ले जाते है फिर वहां पर वो लड़की अति है और उसको thank you बोलती है फिर अपने काम में निकल जाती है।
तो क्या होता है आगे, क्या होगा जब आरव सनाया एक और बार फेस टू फेस मिलेंगे जानने के लिए पढ़ते रहिए मेरा ये कहानी intezar Pyaar ka............
To be continued.........

Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

सबसे पहले टिपण्णी लिखें