इंतजार प्यार का - भाग - 9 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 9

वहीं कुछ लड़के अभी अभी अपना नया गैंग बना कर हर किसी को डरा धमका कर अपना काम करवाते थे या फिर दूसरों कि मजाक बना रहे थे जब उनको पता चल कि डेविल्स वापस अगाए तो उनका डर के मारे बुरा हाल था और वो लोग डर के मारे थर थर कांप रहे थे। क्यों की दिल्ली का हर स्टूडेंट आरव और डेविल गैंग के बारे में जानता था और उसको सब के सब डरते थे। और उसका खोप इतना था कि टीचर भी उसके सामने काफी डरते थे। इसी वजह से कोई भी बिना किसी बात का उन सबसे पंगा नहीं लेता । वहीं जब आरव के क्लास के स्टूडेंट जिनको कि आरव का एटिट्यूड और बात करने का तरीका बिल्कुल पसंद नहीं था वो लोग मिलने आरव को सबक सीखने के प्लान बना रहे थे लेकिन जब उनको ये बात पता चली तो मानो उनके पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक गई और उनका तो दर के मारे बुरा हाल था और वो लोगों को आरव के बैकग्रउंड के बारे में जान कर पूरा का पूरा शॉक लगता है। जो थोड़ी देर पहले उसके ऊपर कुछ करने वाले थे वो सब उसके नाम से हीं काफी डरते है। अब उनके आंखों में प्रतिशोध के भाव के जगह डर ने के लिए था।
अगले दिन सुबह का वक़्त
कॉलेज में
सारे के सारे बच्चे काहे हो जूनियर हो या सीनियर हो एक दूसरे के साथ काफी अच्छे तरीके से बात चीत और दोस्ताना ब्याबहर कर रहे थे। और कॉलेज कैंपस के अंदर काफी सांती फैली हुए थी। सारे के सारे बच्चे एक साथ काम कर रहे थे और काम करने में एक दूसरे कि मदद भी कर रहे थे। जो कि किसी भी स्टूडेंट के लिए शॉकिंग है क्यूं की सारे स्टूडेंट भी अच्छे तरीके से जानते थे कि हर रोज़ कॉलेज का माहौल केसा होता है और आज केसा है। और ये बात भी सब लोग अच्छे तरीके से जानते थे कि पूरे के पूरे कॉलेज का हालत आज बिल्कुल उल्टा किस वजह से है । लेकिन कोई भी किसी से कुछ भी नहीं कहता बल्कि सब अपने अपने काम में बिजी हो जाते है। वहीं काफी सारे प्रोफेसर के पास भी ये खबर पहुंच गई थी जिस वजह से वो भी काफी नर्वस थे। वहीं थोड़ी देर बाद वहां पर प्रिंसिपल अपने कर में आए है और अपना कार पार्किंग पे पार्क करने के बाद बाहर आकर अपने कॉलेज को देखते है आज उनको कॉलेज कुछ बदला बदला सा लग रहा था। तो वो थोड़ी देर आगे जाकर अपने कॉलेज का एंविरॉमेंट को देख कर पूरी तरह से शॉक हो जाते है क्यूं की आज रोज़ से कुछ ज्यादा अलग एन्वायरमेंट देख रहे थे। लेकिन आज ऐसे एंविरोमेंट को देख कर दिल में खुशी मेहसूस करते है। क्यूं की प्रिंसिपल जब भी कॉलेज आते थे तो चारो और उनको बस लड़ने और झगड़ा करने की आवाज़ अति थी और सीनियर स्टूडेंट्स अपने जूनियर को रैगिंग करते थे। लेकिन प्रिंसिपल जब भी उनको समझने की कोशिश करते थे तब तब वो लोग अपने फैमिली कि पॉवर और पैसे की पॉवर देखा कर उनको चुप करवा देते थे। लेकिन आज वो लोगों को अपने जूनियर कि हेल्प करते हुए और उनके साथ अच्छा बेहवियर देख कर एक दम खुद हो जाते है। और उसी खिसी के साथ अपने केबिन के और जाते है और अपने केबिन पे पहुंच कर अपने टेबल पे आराम से बैठते है और पियन को बुला कर अपने लिए पानी लेकर आने को बोलते है और फिर वो अपना बैग को खाली करने लगते है।
केबिन में अपने चेयर पे बैठ ने के बाद प्रिंसिपल सिर ने पियों को अपने केबिन में बुलाया और उसके आने के बाद उसको उनके लिए पानी लाने को बोल देते है। और पें वहां से सिर के लिए पानी लाने चले जाते है। पियोन के जाने के बाद प्रिंसिपल सर अपने में हीं में में आज के बारे में सोच ने लगते है पहले कॉलेज के शांति और पूरे के पूरे कॉलेज को रूल के हिसाब में चलता हुआ देख कर वो कंफ्यूज हो जाते है। और अब उनका इस बारे में हीं सोच सोच कर उनका तो सर दुखने लगा। जिस वजह से उन्होंने अपना सर पे हाथ रख कर बैठ गए। वहीं थोड़ी देर बाद वहां पर पियुन वहां पर सर के लिए पानी लेकर आता है और पानी का ग्लास सर कि टेबल में रख देता है। और वो देखता है कि सर आज कुछ ज्यादा टेंशन में लग रहे थे तो उसने सर से बोला कि सर अगर आपको कोई प्रॉब्लम है तो आप मुझे बता सकते है। में आपकी पूरा मदद करूंगा वो काम करने में। लेकिन प्रिंसिपल सिर ने कोई जवाब नहीं दिया और वैसे हीं टेबल पर हीं बैठे रहे तो उसको लगा कि सर उसके कुछ ज्यादा बोलने के bajah से उसके ऊपर गुस्सा है तो वो जल्दी से सर से माफी मांगने लगा। प्रिंसिपल सर को उसका इस तरह से माफी मांगना काफी अजीब लगा और वो शॉक हो गए। लेकिन थोड़ी देर बाद प्रिंसिपल सर को पूरी बात समझ आ गया तो उन्होंने उसे चुप रहेंगे को बोल कर उससे बोला कि में कुछ सोच रहा था इसी Bajah से तुम्हे कोई जवाब नहीं दे पाया इसी Bajah से तुम्हे कोई माफी मांगने की जरूरत नहीं तो पियून ने एक राहत भरी सांस ली और सर को thank you bol kar वहां से जाने के लिए बाहर कि और जाने लगा उसको वहां से जाता हुआ देख कर प्रिंसिपल सर ने उसे वहां पर रुकने को बोले और फिर कुछ सोचने लगे जिस bajah से पियुन को लगा कि वो फिर से सच में में कुछ गलत काम किया है जिस bajah से सर उसको पुनिश करेंगे जिस वजह से वह फिर से डरने लगा। वहीं प्रिंसिपल सर के mind में घूम रहा था कि कॉलेज के बारे में उससे पूछ जाए या फिर नहीं फिर थोड़ी देर सोचने के बाद वो पियुं की और देख कर उन होने पूछा कि क्या वो कुछ जानता है कॉलेज के इस sudden change की bajah। जिस वजह से पूरे कॉलेज में शांति फेली हुई है और कोई भी कुछ भी गलत नहीं कर रहा है।
तभी पियूं प्रिंसिपल सर कि और थोड़ी सी शक भारी नजर से देखते हुए बोलता है कि सर क्या आपको पता नहीं कि डेविल गैंग वापस अगया है। तो प्रिंसिपल सर कंफ्यूज हो जाते है। और वो उसी कन्फ्यूजन के साथ उससे पूछते है कि ये गैंग और कॉलेज के स्टूडेंट का बीच में कोन सी कनेक्शन है और ये डेविल गैंग का कॉलेज के अंदर क्या काम है और इस गैंग क्या है कहां से आया है। और तुम्हे कुछ बात करनी है तो कुछ सेंस वाली बात कही वरना अपना मुंह बंद करो। आखिरी कि बात बोलते हुए प्रिंसिपल सर काफी गुस्से में आचुके थे। प्रिंसिपल सर को इतने गुस्से में भड़कते हुए देख कर पीयुन पूरी तरह से घबरा गया और उसने जल्दी से अपने बात को संभालते हुए आगे बोलना जारी रखता है। वह उनसे बोलता है कि सर असल में बात ये है कि और डेविल गैंग में सब पांच हीं स्टूडेंट है। और ये लोग एक दूसरे के काफी अच्छे दोस्त है और इनमें से 4 बच्चे अमीर फैमिली से बिलोंग करते है वहीं पांचवा बंदा एक मिडिल क्लास से बिलोंग करता है लेकिन वह काफी ताकतवर और टैलेंटेड है उसने हमारे कॉलेज के एंट्रेस एग्जाम में टॉप किया है। वहीं उसको भी इन चारों के परिवार वाले अपने हीं बेटा के तरह मानते थे। और उसकी काफी मदद भी करते थे ।
ये डेविल गैंग सारे के सारे बुरे काम जों इनके सामने हो उसके विरोध में खड़े होते थे। और हमेशा सही का साथ देते थे। चाहे उनके सामने कोई भी खड़े हो लेकिन ये लोग किसी से भी बिल्कुल भी नहीं डरते है। जिस के Bajah से इनसे दिल्ली सारे स्टूडेंट्स गैंगस्टर और प्रोफेसर भी इनसे डरते है और कोई भी इनसे बिना मतलब के पंगा नहीं लेना चाहते है। लेकिन आज से तकरीबन 1 साल पहले कुछ रिसन के Bajah से वो पांचवा बंदा इनको चोड कर चला गया था जिस bajah से इनकी पॉवर थोड़ा कम हो गया था लेकिन फिर भी कोई भी इनसे बिना मतलब के पंगा नहीं ले रहा था। लेकिन काफी सारे पावरफुल गैंग मिलके इनको दबाने की कोशिश किए लेकिन सफल नहीं हो पाए। लेकिन अभी इनका वो आखिरी बंदा वापस आके इनको ज्वाइन कर लिया है और वह भी इसी कॉलेज का स्टूडेंट है। जिस bajah से पूरे कॉलेज में शांति फैली हुई है। और हर बच्चा जो कोई भी गलत काम करता था एक दम से सीधे हो गए और एक दूसरे के साथ अच्छे से बात चीत करने लगे।
तो आगे क्या होता है प्रिंसिपल का रिएक्शन पियुन का ये बात सुन ने के बाद जन ने के लिए पढ़ते रहिए मेरा ये कहानी intezar Pyaar ka..........
To be continued.........
Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

Unknown Writer

Unknown Writer 6 महीना पहले