इंतजार प्यार का - भाग - 7 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 7

आरव अब सबकी और घुर घुर कर देख रहा था और उसके घूरने से सब लोग थोड़ा उन कंफर्टेबल हो रहे थे। और सब लोग अपना मुंह बंद करके बैठे हुए थे जैसे कि कोई उनका मुंह सिल दिया है और वो कुछ भी नहीं बोल पा रहे है। आरव अब कुछ बोलने के लिए अपना मुंह खोल कर कुछ बोलने वाला हीं था कि तभी उसके पीछे से एक लड़की अति है और उससे टकरा जाती है। और आरव के पीठ के ऊपर गिर जाती है। जिस वजह से आरव जाकर सीधे टेबल पे रखे खाने पे गिर जाता है। जिस वजह से उसके मुंह शर्ट और सारे के सारे बॉडी में खाना लगता है जिस वजह से वो अब काफी फनी लग रहा था। उसको ऐसे देख कर उसके सारे दोस्तों के हंसी अरही थी लेकिन फिर भी आरव के गुस्से के Bajah से वो लोग खुल कर हस नहीं पा रहे थे। लेकिन तभी वो लड़की जो कि आरव के ऊपर गिरी हुए थी वो उठती है। और फिर उसको जिसने उसको धक्का दिया उसको गाली देते हुए बोलती है कि, “ अबे चूटिए देख कर चल नहीं पता है क्या ऐसे धक्का दे रहा है ” तो वह लड़का उसको बोलता है कि I am sorry और फिर अपना मिडिल फिंगर दिखता है और वहां से चला जाता है। वहीं जब वह लड़की पीछे mudke आरव को देखती है तो उसकी हसी नहीं रुकती है और वो जोर जोर से हसने लगता है। उसको ऐसे हास्ता हुए देख कर वो चारो भी अपने आप कर कंट्रोल नहीं कर पाते और फिर जोर जोर से हसने लगते है।
सब को अपने ऊपर ऐसे जोर जोर से हस्ते हुए देख कर आरव का गुस्से का पारा और भी ज्यादा है हो गया। और जब वो लड़की की और घूमता है जो कि उससे टकराई थी। लेकिन जब वो लड़की को देखता है तो उसकी गुस्सा तो सथवे आसमान में पहुंच जाता है। क्यूं की को लड़की उससे टकरा कर उसका ये हालत किया था वो कोई और नहीं सनाया थी। सनाया को अपने सामने खड़े हो कर अपने ऊपर ऐसे जोर जोर से हस्ते हुए देख कर आरव अपने ऊपर कंट्रोल नहीं कर पाता और जोर से अपने होठ को टेबल पे पटक देता है। जिस bajah से सब लोग एक दम से डर गए और उनकी मुंह से हसी गायब हो गई और माहौल पूरी तरह से संत हो गया और फिर सब लोग आरव के और देखने लगे लेकिन जब उन्होंने आरव को देखा तो फिर से जोर जोर से हसने लगते है। जिसको आरव को और भी ज्यादा गुस्सा अता है। और फिर वो अपने दोस्तों को एक दम गुस्से से लाल आंखों से घुर कर देखने लगता है और मानो आंखो हीं आंखों में उससे बोल रहा है कि चुप हो जाओ सालो वरना तुम लोगो के लिए मुझसे बुरा कोई नहीं होगा। लेकिन फिर भी जब वो लोग चुप नहीं होते और उल्टा उसको हीं इग्नोर करते हुए हसने लगते है। तो वो इस बार बहुत ज्यादा गुस्से में सनाया को देखने लगता है जो की अभी भी उसके ऊपर जोर जोर से हस रही थी। उसका तो मन कर रहा था कि अभी के अभी इस लड़की को मार डाले लेकिन फिर भी वह अपने ऊपर कंट्रोल करता है। और वहां से अपने बैग को लेकर चला जाता है। उसको जाते हुए देख कर कोई भी कुछ भी नहीं कहता है। और उल्टा और जोर जोर से हसने लगते है।
आरव के वहां से चले जाने के बाद सनाया अपने हसी को कंट्रोल करते हुए आरव के सीट पे बैठती है। और सब कि और देखते हुए एक दम से पूछती है कि क्या हुए आप लोगों ने क्या किया था जो ये हिटलर इतना ज्यादा गुस्सा हो गया था। आप लोगो को मुझे सुक्रिया बिना चाहिए क्यूं की आज में उस हिटलर से नहीं टकराती तो वो हिटलर आप लोगों को कच्चा हीं चबा लेता। लेकिन कोई कुछ भी नहीं बोलता उससे तो वो थोड़ी देर सोचती है और सोचने के बाद वो उन सबकी और थोड़ी संदेह भारी नजर से देखते हुए बोलती है कि क्या मैने आप लोगों को जिस लडके का डिस्क्रिप्शन दिया था उसके बारे में इस हिटलर के सामने कुछ नहीं बोला था ना। तो आर्यन अपने हंसी को कंट्रोल करते हुए बोलता है कि हैं हम लोगों ने उसके सामने उस लड़के का मजाक उड़ाया था क्यूं की तुम्हारे जाने के बाद उसका मूड थोड़ा खराब हो गया था उसका उस खराब मूड को ठीक करने के लिए हीं हम लोगों ने उसके सामने उस लड़के का मजाक बनाया था। लेकिन पता नहीं उसको क्या हुआ उसको हमारा उस लड़के का मजाक उड़ाना बिल्कुल भी पसंद नहीं आया और वो काफी ज्यादा गुस्सा हो जाता है। वो इतना गुस्सा हो गया था कि गुस्से में हीं उसने मेरे ऊपर ग्लास का पूरा का पूरा पानी ढाल दिया और मेरा ड्रेस पूरी तरह से भीग गया। वहीं उसकी पूरी की पूरी बात सुन ने के बाद सनाया अपना सर पीट लेती है और फिर टेबल पर अपना सर लगा कर जोर जोर से हसन शुरू कार देती है। उसको इस तरह से हस्ते हुए देख कर सब लोग एक दम शॉक हो जाते है। और उन लोगों को अब कुछ बुरा होने का एहसास हो गया था इस bajah से उनकी चेहरे से हसी गायब हो गया और उनकी फेस में एक अनजाना डर ने जगह ले लिया था। और वो लोग अंदर से बुरी तरह से डर गए। जिस वजह से वो लोग सनाया को घुर घुर कर देखने लगे सयाद सनाया उन लोगों को कुछ बताएगी। लेकिन सनाया अभी भी जोर जोर से हस रही थी और ये देख कर सब को और भी ज्यादा डर लगता है।
तभी सूरज अपने जगह से खड़े हो कर सनाया के पास जाकर अपने हाथ उसके कंधे पर रख कर उसको कुछ बोलने के लिए बोलता है। लेकिन सनाया उसकी बातों को इग्नोर करके बस हस्ती हीं जा रही थी। लेकिन इस बार सूरज ने थोड़ा जोर से सनाया को हिलाया जिस वजह से सनाया अपना हसी को कंट्रोल करते हुए अपना सर हैं में हिलती ने और सूरज जाकर अपने सीट में बैठ जाता है। और फिर सनाया से बोलता है कि सनाया प्लीज ये सस्पेंस रखना बंद करो और मुझे सब सच सच बताओ तुम हस क्यूं रही हो। तो सनाया उन सबको बोलती है कि “ आप लोग इस बार बहुत बुरे फसे हो और हिटलर को काफी गुस्सा दिला दिया लगता है इस बार वो कुछ ज्यादा गुस्सा हो गया है।”उसकी ये बात किसी के भी समझ में नहीं आया और सब लोग उसके और confuse हो कर देखने लगे। सबको अपने और ऐसे कंफ्यूज नजर से देखते हुए देख कर सनाया सब को बोलती है कि तो सभी अपने अपने चेयर को कस कर पकड़ कर बैठिए वरना ये बात सुन ने के बाद आप सीधे नीचे गिर सकते हो तो सब और भी ज्यादा कंफ्यूज हो कर सनाया कि और देखने लगे। और आर्यन थोड़ा गुस्से में बोलता है कि को भी बोलना है वो जल्दी से और अच्छे से बोलो ये ओवर एक्टिंग करने की कोई जरूरत नहीं है। तो सनाया ने अपने गला साफ करने के एक्टिंग करते हुए बोलती है कि “ असली बात ये है कि आप लोगों को मैने जिस लड़के के बारे में बताया था वो कोई और नहीं आपका दोस्त आरव हीं है और आप लोग उसके सामने हीं उसकी बेज्जाती कर रहे थे।
तो क्या होता है, सच्चाई जानने के बाद उन सब का रिएक्शन क्या होगा और वो लोग क्या करेंगे जान ने के लिए पढ़ते रहिए मेरा ये कहानी इंतज़ार प्यार का............
To be continued.........
Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

Shailesh B. Patel

Shailesh B. Patel 8 महीना पहले