इंतजार प्यार का - भाग - 33 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 33

और वैसे ही सुबक ते हुए मेघा नैना से बोलती है क्यों दी क्यों मेरे साथ ऐसा होता है हमेशा भगवान मेरे से मेरी सबसे प्यारे चीज या फिर जिस चीज को में अपने दिल से चाहती हू उसे मुझसे हमेशा क्यों दूर कर देता है। जब मैं बची थी तब भी मुझे मेरी मां से दूर कर दिया। जब मुझे मेरी मां की जरूरत थी। पापा ने मुझे उस वक्त संभाला था। फिर जब में बड़ी हुई तब मुझे मेरी पापा से भी दूर कर दिया। अब जब मैं किसी को प्यार भी करने लगी तभी भी वह मुझे दूर कर क्यों दी क्यों इतना बोलने का बहुत जोर जोर से रोने लगी थी। यह सब बात सुनने के बाद नैना भी उसको कुछ नहीं बोल पाती। और फिर उसकी आंखों में से भी आंसू की धारा बहने लगी। क्योंकि वह अच्छे से जानती थी। कि जब वो छोटी थी तब उसकी मां ने उसको छोड़ दिया छोड़ कर चली गई थी भगवान के पास। और वह जब बड़ी हुई तब उसके पापा का भी हार्ट हटैक में डेथ हो गया था। और उन होने भी ने उसको छोड़ कर चले गए। अब वह दुनिया में अकेली थी और उसके फैमिली के नाम पर नैना और उसकी फैमिली ही थी। तो नैना भी उसको संभालते हुए बोलते हैं। तुम गुस्सा मत करो और रो मत मैं जानता हूं विक्रम जरूर तुम्हें पसंद करेगा क्यों नहीं करेगा तुम में क्या खराबी है। नैना ने उसको समझाते हुए बोली लेकिन मेघा ने उसकी बात को काटते हुए बोली नहीं मेरी वजह से उसके आज कितनी इंसल्ट हुई अपने दोस्त के सामने। और एक बात प्लीज उसको कभी भी मत बताना कि मैं उससे प्यार करती हूं प्लीज यह मेरा रिक्वेस्ट है। इतना बोलने के बाद वहां से जल्दी से भागकर वाश रूम के अंदर चली जाती है। नैना पीछे से हीं ये सब देख रही थी। और उसके आंखों से भी पानी धार धार हो कर नीचे गिर रहे थे। वही उनके दरवाजे पर खड़ा आदमी नैना और मेघा के बीच के बात को सुन कर एकदम शॉक हो गया था। और उसके आंखों में आंसू आ गए थे और वह वहां से जल्दी से चला गया।
वह लड़का वहां से बालकोनी की ओर चला गया। और बालकनी की रेलिंग को पकड़कर आसमान की और अपना मुंह कर के चांद को देखने लगा। और फिर वो जो बाते सुना था। उन सबको सोचने लगा। और उसके कानो में वो सब फिर से गूंजने लगा। खास कर के वो लाइन जो की मेघा ने नैना से कहा था की दी प्लीज कभी भी बिक्रम को मत बताना की में उसको प्यार करती हूं। यह सब सोचने के बाद उसके आंखों में फिर से पानी आने लगा। और उसने अपने आंखों की नमी को हटा लिया । और फिर सामने की ओर देखा और तभी उसको मेघा की मुस्कुराता हुआ हंसता हुआ चेहरा याद आया जो कि उसके जेहन में कुछ इस तरह से बैठ गया था कि वह कभी भी उस फेस को कभी नहीं भूल सकता था। फिर वह आज की मेघा की फेस के बारे में सोचने लगा और फिर उसके दिमाग में आज की मेघा की रोते हुए और मायूस हताश और बहुत ही ज्यादा मजबूर और निराशा से घिरी हुई चेहरा आने लगा।
तो यह और कोई नहीं, विक्रम ही था जो कि नैना से आज की मेघा की बिहेवियर के बारे में कुछ बातें करने के लिए उसके पास गया था। लेकिन जो वो वहां से सुन के आया था। वो उसके लिए कोई शॉक से कम नहीं था। लेकिन उसको काफी खुशी हुई की वो मेघा की feeling को समझ गया। वरना कल से मेघा उससे पहले जैसे बिहेव नही करती जिस bajah से वो जान नही पाता। फिर वो अपने दिल ही दिल में भगवान को शुक्रिया बोलते हुए बोलता है शुक्रिया भगवान मैं जिस काम के लिए नैना के पास जा रहा था। अपने मेरी उसी काम को पूरा कर दिया और मैं जान गया कि मेघा मेरे बारे में क्या सोचती है।
तो गाइज आप लोगों को समझ में नहीं आया ना तो मैं समझाता हूं अभी और पढ़ते रहिए।
विक्रम भी मेघा को उसी दिन से पसंद करता था। और उसको मेघा को किस करना और उसको परेशान करना काफी अच्छा लगा था। और वह अपने दिल ही दिल में मेघा को पसंद करने लगा था। लेकिन वह मेघा के बारे में कुछ नहीं जानता था जिस वजह से वह आगे नहीं बढ़ रहा था और इन सब बातों के बारे में सोचते हुए वह काफी ज्यादा फ्लस्टर्ड हो गया था। जिस वजह से वह मेघा को देखते ही उसको इग्नोर करने की कोशिश कर रहा था लेकिन कर नहीं पा रहा था। और हमेशा से थोड़ा ज्यादा चुप चुप रहने लगा था। और मेघा के खयालों में घूमने लगा। लेकिन जब उसको पता चला की मेघा नैना की रिलेटिव हे। तो उसको काफी बड़ा शॉक लगा। लेकिन वो बहुत खुश हो गया था। क्यूं की उसे मेघा के बारे में जान ने के लिए एक जरिया मिल गया था। और उसके बारे में नैना से पता लगाने की कोशिश में हमेशा हीं नाकाम हीं रहा। जिस bajah से वो इस ट्रिप में आते वक्त हीं काफी कम और खुद पे फ्रस्टेट था। वही आज भी वो काफी ज्यादा फ्रिस्टेड होने के वजह से मेघा के ऊपर गुस्सा हो गया। जिस वजह से मेघा पूरे ट्रिप में काफी वक्त बस रोटी रही। लेकिन फिर जब उसने मेघा के मुंह से सुना कि वह उस को पसंद करती है। तो उसको काफी khusi मेहसूस होता है। लेकिन जब उसने मेघा के मुंह से आखिरी की बात सुन तो वो काफी निराश हो गया। और खुद पर गुस्सा होता है। फिर अपने बिहेवियर के बारे में सोच कर काफी अफसोस करने लगा। लेकिन फिर वो कुछ प्लान सोचने लगा की केसे मेघा को मनाया जाए और उसको अपने दिल के बात बता कर उसकी मुंह से उसकी दिल की बात बुलवानी होगी। और यह सब सोचते वक्त उसके फेस में एक बहुत बड़ी सी स्माइल थी और आंखों में हल्की नमी भी थी। तो फिर वहीं पर बैठकर कुछ प्लान बनाता रहा फिर वह अपने मन ही मन में खुद से कहते हुए बोलता हे। की“ miss megha now you just watch what I am doing to bring you in my life oterwise I will be in your life कल से मेरा प्लान और मिशन शुरू देखते हे कौन जीतता हे मेरा प्यार या फिर तुम्हारा जिद .” फिर वह वहां से मुस्कुराते हुए अपने रूम में सोने के लिए चला जाता है। लेकिन उसको पता नही था की उसको कोई और भी वहां पर देख रहा था। जो की उसको देख कर स्माइल कर रहा था।
तो क्या होता हे आगे क्या प्लान बनाया था विक्रम न जाने के लिए पढ़ते रहिए मेरा ही कहानी इंतजार प्यार का.......
तो गाइज I am sorry में जरा बाहर हूं जिस वजह से आप लोगों को कुछ छोटा एपिसोड मिलेगा। I am extremely sorry 😔😔😔😔
To be continued
Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

Astha

Astha 5 महीना पहले