इंतजार प्यार का - भाग - 29 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 29

तो विक्रम जल्दी से अपना बात बदलते हुए बोलता है कि चलो यहां से हमें बहुत सारे शॉपिंग करनी जल्दी करो वरना हम लोगों को टाइम नहीं होगा। लेकिन कोई भी उसके बातों पर 1% भी ध्यान नहीं देता और बस मेघा की और घूरने लगते हैं। वह लोग आज उस सच्चाई को जाने बिना वहां से नहीं जाने वाले थे वही सब मेघा ने देखा कि वह चारों ओर से घिरी हुई है। तो उसने मन ही मन में सबको सच्चाई बताने का प्लान किया और सब को सब कुछ सच सच बता दिया सच बात सुनने के बाद सब लोग और भी ज्यादा शॉक होगी। क्योंकि वह लोग आज तक कभी भी विक्रम को किसी भी लड़की को किस करते हुए ना देखे थे। और ना ही कभी सुने थे। तो वह लोगों को इस बात पर विश्वास करना थोड़ा मुश्किल हो रहा था लेकिन फिर भी वह लोग उस बात को विश्वास कर लेते हैं। लेकिन फिर नैना बोलती है धीरे से तो नैना धीरे से अपने आप में बुद बुदा आते हुए बोलती है तो वह बंधु यही है क्या नाम दिया हे यार सच में तूने आज मेरा दिल खुश कर दिया। यह सोचकर नैना को मेघा को कुछ शाबाशी देने वाली थी कि तभी उसे याद आया कि वह उन दोनों से काफी गुस्सा है। तो उसने जल्दी से खुद को संभाला और वहां से मेघा को खींचते हुए लेकर चली गई। विक्रम का तब पूरा पूरा पूरा मूड spoil हो गया था। और वह अब नैना और मेघा के ऊपर गुस्से से उबल रहा था लेकिन फिर भी कुछ नहीं कह पाता बस आपका मन मसोस कर वहीं रह जाता है।
उन दोनों के वहां से जाने के बाद सब लोग विक्रम की ओर घूर घूर कर देखने लगते हैं। और उन लोगों को ऐसे अपने और घूरते हुए देखकर विक्रम का गुस्सा और भी ज्यादा बढ़ जाता है। और वह गुस्से से उन सब से बोलता है क्या हुआ ऐसा घूर क्यों रहे हो मुझे। तो आरव भी उतने ही गुस्से के साथ उससे बोलता है तूने हमें सब सच-सच क्यों नहीं बताया जब हमने तुझे सुबह ही पूछा था क्या तू उस लड़की को जानता है। तो तू ने मना कर दिया और बोल दिया बस मैं उसको ऐसे ही जानता हूं लेकिन सच बात तो कुछ और ही है यह सुनने के बाद विक्रम एकदम से चुप हो जाता है। और वह कुछ कह ही नहीं पाता वह बस अपना सर नीचे किए हुए उन सबकी बातें सुन रहा था वही सूरज जब विक्रम का ऐसा हालत देखता है तो वह जल्दी से बात बदलने की कोशिश करते हुए बोलता है अरे यार हमे शॉपिंग भी करनी है। चलने से वरना इस के चक्कर में हमें ही लेट हो जाएगा। तो अरब भी उसकी बात मान जाता है और उसके साथ अपना शॉपिंग करने के लिए आगे बढ़ जाता है। वही विक्रम भी धीरे-धीरे उनके पीछे चले जाते हैं और वह लोग मिलकर एक दूसरे के लिए शॉपिंग करने लगते हैं।
वहीं दूसरी ओर नैना ने मेघा को खींच कर वहां से लेकर चली गई। उसको लेकर जाने के बाद उसने उसकी ओर देखा और एक शरारती मुस्कान लिए उसकी और थोड़ी देर तक देखने लगी। वहीं उसकी ऐसे नजर से मेघा काफी शर्मिंदा हो रही थीं। लेकिन फिर भी वो अपने सर को नीचे किए हीं खड़ी हुई थी। और फिर सफाई देने के बारे में सोचने लगी थी की तभी उसके कान में नैना की आवाज पड़ती है। और सुन ने लगती हे की नैना उसको कुछ पूछ रही है। तो उसने धन से सुन ने लगी। वहीं नैना ने उसको पूछा की किस करके कैसा लगा। तो यह सुनने के बाद तो मेघा का चेहरा एकदम किसी पके हुए टमाटर की तरह पूरी तरह से लाल हो गया। और उसने अपना सर नीचे करके इधर-उधर देखने लगी। उसको ऐसे बिहेव करते हुए देखकर नैना के फेस में एक स्माइल आ जाती है और वह उसको और चिढ़ाते हुए बोलती है। क्या हुआ मैडम आज तक किसी भी लड़के को अपने आस पास भी भटक ने तक न देने बाली लड़की आज खुद एक लड़के को सामने से किस कर रही हे। ये सुन ने ने बाद मेघा की चेहरा और भी ज्यादा लाल हो जाता है उसके गाल भी जलने लगा था। और वो और भी ज्यादा शर्माने लगती हे। उसको ऐसे देख कर नैना को और भी ज्यादा हसी आ जाती हे। और फिर वो अपने हसी को दबा कर कुछ और पूछने हीं बाली थी की तभी मेघा उसको बोलती हे की दी प्लीज आप मुझे ऐसे छेड़ना बंद करोना वो गलती से एक दूसरे से किस किए थे। तो नैना अपने आई ब्रो को सिकोड़ते हुए और अपना एक भाऊ उठाते हुए बोलती हे की क्या कोई भी गलती से किसी से किस करता है। और तुम्हारे कहने के हिसाब से कल रात बाला किस तो एक्सीडेंट हे। ये तो में मान गई लेकिन तुम अभी वाली किस के बारे में क्या बोलोगी तो मेघा एकदम से चुप हो जाती है। और कुछ नहीं बोल पाती क्यूं की उसको पता था की वो बिक्रम को पसंद करने लगी थी। और उसको देखने के बाद वो खुद पे कंट्रोल नही कर पाई। और सीधे जाके उसको किस कर दिया। लेकिन अब उसको ये सोच सोच कर काफी शर्मिनगी मेहसूस हो रही थी। जिस वजह से उसने अपना सर को नीचे कर के इधर उधर देख ने की एक्टिंग करने लगी। उसकी ऐसी हालत देखकर नैना को फिर से हंसी आने लगती है। लेकिन फिर वह अपना हंसी को दबाते हुए और उसकी और गंभीरता से देखते हुए और उस को समझाते हुए बोलती है कि अगर तुम उस को पसंद करती हो तो मुझे तुम सच सच बता सकती हो। क्यूं की मैं उसकी दोस्त हूं जिस वजह से में अच्छी तरह से जानती हूं की वो तुझे बिल्कुल भी भाऊ नही देने बाला जिस वजह से तुम sad हो शक्ति हो लेकिन मैं तुम दोनों को मिलाने में मदद भी कर सकती हूं। यह सुनने के बाद मेघा के फेस में एक स्माइल और आंखों में चमक आ जाती है। लेकिन वह उसको छुपा लेती है। लेकिन फिर भी नैना ने उसकी एक झलक देख ली थी। जिस वजह से उसे कंफर्म हो गया कि वह विक्रम से प्यार करती है। तो वह उसकी और देखते हो बोलती है तो लगता है मैडम जी क्या किसी के ऊपर दिल आ गया है। और यह कोई मामूली वाला नहीं साइको लेवल वाला होगा। ये सुनने के बाद मेघा की फेस एकदम फिर से लाल हो जाती है और वह अपना सर नीचे कर लेती है। उसके ऐसी हालत देखकर इस बार नैना हंसी को कंट्रोल कर नहीं पाती और जोर-जोर से हंसने लगती है। उसको ऐसे हंसते हुए देख कर मेघा के फेस में भी एक स्माइल आ जाती है। फिर वह नैना को बताते हुए बोलती है की नैना दीदी मैं उसको पसंद करती हूं लेकिन वह मुझे पसंद नहीं करता जब देखो मुझे देखने के बाद ऐसा मुंह बना ता है कि देखो किसी भूत को देख लिया। और ना ही मुझे कभी भी अच्छे तरीके से ट्रीट किया है। ये बोलते वक्त मेघा ने अपना मुंह बना लिया था जिस को देख कर नैना को बहुत हसी अति हे लेकिन वो दबा लेती है। नैना उससे बोलती हे की तू फिकर मत कर वह आरव की तरह ही खड़ूस हे और लड़कियों से भागने वाला भी। और तू फिक्र मत कर तेरा यह भी बाकी है ना तुम दोनों की सेटिंग में ही करा लूंगा। यह सुनने के बाद मेघा भी स्माइल करने लगती है। फिर दोनों आगे बढ़ते हुए एक दूसरे से बातें करने लगती तभी मेघा से बोलती है कि मैं भी आप लोगों के साथ चल सकती हूं यह सुनने के बाद नैना थोड़ी देर सोचने लगती है फिर वह अपने मन ही मन में कुछ प्लान बनाती है और फिर कुछ सोचने की एक्टिंग करते हुए उससे बोलती है, हां चल सकती हो लेकिन तो मेघा समझ जाती है कि मैंने क्या बोलना चाहती तो फिर वह उससे बोलती है वह कॉन्सर्ट का टिकट तेरा यह सुनने को बात नैना की आंखों में भी चमक आ जाती है। और वह उसी चमक के साथ मेघा की और देखते हो बोलते हैं क्या सच में तो मेघा कुछ नही बोलती हे बस हां में अपना सर हिला देती हे। मेघा को अपना सर हां में हिलाते हुए देख कर नैना बहुत खुश हो जाती है। और बोलती है की देख अगर मैंने इस ट्रिप में ही तुम दोनों का कुछ नहीं कराया तो मेरा नाम भी नैना नहीं। यह सुनने के बाद मैं नैना के फैस में भी स्माइल आ जाती है। और फिर दोनों वहां से हसी मजाक करते हुए अपनी शॉपिंग करने के लिए चले जाते हैं।
वहीं आरव सूरज और विक्रम शॉपिंग कर रहे थे। लेकिन तभी वहां पर सूरज सिरीशा को देखता है। और उसको देखकर वह बहुत शॉक हो जाता है। और उसको लगता हे की वो sirisa को काफी पसंद करने लगा ही जिस वजह से उसे वो हर जगह दिख रही हे। लेकिन जब उसको लगता है कि यह कोई सपना नहीं यह सच है। वो बहुत ज्यादा खुश हो जाता हे। और फिर वह उसकी ओर भागते हुए जाता है। वह जाते वक्त अपना हाथ में पकड़ा हुआ ड्रेस को बिक्रम की और फेक देता है। जिस वजह से वो ड्रेस जाकर सीधा बिक्रम के हाथ में लगा और वो सूरज की और घूरने लगा लेकिन तब तक सूरज वहां से चला गया था। वो वहां से जाते वक्त उसकी नाम को पुकार रहा था। वही जब सिरीशा को लगा कि किसी ने उसको उसके नाम से पुकारा है। तो वो मुड़कर यहां वहां देखने लगी। लेकिन जब उसको कोई नहीं दिखाई दिया तो वह आगे की और जाने लगी। लेकिन फिर से उसे एक आवाज आने लगी तो वह फिर से पीछे मुड़ कर देख लेगी। तो इस बार उसने देख लिया है कि सूरज उसकी और आ रहा है और वही तब से उसको आवाज दे रहा हे। तो यह देखकर वह भी काफी शौक हो गई लेकिन फिर उसके फेस में एक बड़ी सी स्माइल ने जगह ले ली। और वह वैसे ही स्माइल करते हुए सूरज की ओर देखने लगी। वही सूरज उसके पास पहुंच कर उसको हाई बोला फिर दोनों साथ बात करने लगे थे। वह लोगों एक दूसरे से ऐसे ही काफी देर तक बातें करते रहे। वो दोनो बाते करते हुए हीं यहां वहां घूम रहे थे। की तभी सूरज उसको बताता हे की वो लोग अब जय पर की ट्रिप पे जाने वाले हे। ये सुन कर sirisha की आंखों में चमक आ जाती हे। और वो काफी ज्यादा एक्साइटेड हो गई थी। फिर वो उसे पूछती ही की क्या वो भी उन लोगों के साथ जा शक्ति हे। या फिर नहीं तो सूरज फटाक से हैं बोल देता है। जिस वजह से सिरीसा के फेस में बड़ी सी स्माइल आ जाति हे। उसकी स्माइल को देख कर सूरज उसने हीं कहीं खो गया। फिर दोनों एक दूसरे के साथ घूम घूम कर बात करने लगे थे। जब वो दो लोग बातें कर ही रहे थे। तभी आरव और विक्रम वहां पर गुस्से में आते हैं क्योंकि वह लोग सूरज को अपना-अपना चॉइस किया गया कपड़ा दिए थे लेकिन सूरज ने उन कपड़ों को वहां फेक दिया जिस वजह से सब कुछ खराब हो गया। और अब उन लोगों को कोई और अच्छा कपड़ा नहीं मिल रहा था। जिस वजह से वह लोग सूरज के ऊपर काफी ज्यादा गुस्से में थे। वही सूरज को कुछ भी फर्क नहीं पड़ रहा था वह अभी भी सिरिशा के साथ एकदम हंसी-खुशी बातें करने में लगा हुआ था। वही सूरज अभी कुछ आगे कहने वाला था कि तभी उसको दो आदमी ने पीछे खींच कर एकदम से मारना शुरू कर दिया यह देखकर सूरज और sirisha दोनो हीं काफी ज्यादा शॉक हो गए। और sirisha के मुंह से तो चीख निकल पड़ी। वहीं जब सूरज को पता चला तो दो आदमी उसको मार रहे तो उसको बहुत गुस्सा आता है लेकिन फिर जब वह अपनी आंखें खोल कर देखता है कौन मार रहा है तो वह देखता है कि आरव और विक्रम उसको बहुत मार रहे हैं। यह देख कर उसको काफी गुस्सा आता और गुस्से से उन लोगों से बोलते हैं अरे यार हो गए हो क्या तुम लोग मुझे ऐसे कुत्ते बिल्लियों की तरफ क्यों मार रहे हो। यह सुनने के बाद वह लोग और भी ज्यादा गुस्सा हो जाते सूरज के ऊपर और उसको और भी ज्यादा मानने लगते हैं। वही सूरज का तो चीख निकल रहा था। आस पास वाले लड़के भी आकर उन दोनों को रोकने की कोशिश की लेकिन फिर भी वह दोनों नहीं रुके वही जब sirisha उन लोगों को पहचानी तो तो वह पूरी तरह से शॉक हो गई। क्योंकि वह जानती थी वो लोग सूरज के काफी अच्छे दोस्त हैं। लेकिन अब यह लोग मारपीट क्यों कर रहे हैं यह उसको पता नहीं थी तो वह बस उन तीनों को घूर घूर कर देखने लगी थी। जब वह लोग शांत हो गए तो उन लोगों ने अपना हाथ देकर सूरज को उठाया और उससे गुस्से से बोले हमने तुझे हमारा सामान दिया था पकड़ने के लिए हमारा वह सामान दिया था और तूने उनको क्यों फेक दिया। यह सुनने के बाद सूरज का एकदम से भीगी बन जाता है। और वह अपना सर नीचे हुए हुए इधर-उधर देखने लगता है। वही उसका यह रिएक्शन देखकर उन लोगों को काफी ज्यादा गुस्सा आने लगता है और वह गुस्से से अभी फटने वाले थे कि सूरज बोलता है अरे यार माफ कर दो मुझसे गलती हो गई जो बोलोगे वह मैं करूंगा प्लीज यार लड़की के सामने और इज्जत मत उतारो। यह सुनने के बाद वह लोग देखते हैं की उनके सामने sirisa खड़ी हुई थी जो की उन लोगों को घूर रही थी। ये देख कर वो लोग समझ गए की क्यूं वो उनका सामान नीचे फेक दिया। फिर दोनों सूरज को ओके बोल कर वहां से चले जाते हैं। वहीं सूरज फिर करहाते हुए sirisa के पास जाता है। और उसको स्माइल के साथ बाय बोलती हे। लेकिन तभी sirisa उसको बोलती हे लगता हे की काफी जोर से लगी हे। तुम्हे प्लीज अपना खयाल रखना और घर जाकर अपना मरहम पट्टी करलेना ये सुन ने के बाद सूरज का फेस पूरी तरह से लाल हो जाता हे। और उसको काफी शर्मिंदगी फील होती है। लेकिन sirisa को उसको ऐसे देख कर काफी क्यूट लग रहा था। जिस बजह से खुद को रोक नहीं पाती है। और सूरज के गाल में किस कर देती हे। ये देख कर सूरज का आंखें बड़ी हो जाती हे और वो उसकी और घूरने लगता हे। वहीं जब sirisha को एहसास हुआ कि उसने क्या कर दिया है। तो वह शर्म से अपना सर नीचे कर देती हैं। और जल्दी से वहां से भाग जाती है। यह देखकर सूरज के फेस में एक बड़ी सी स्माइल आ जाती है। और वह अपने मन ही मन में अपने दोस्तों को थैंक यू बोलते हुए बोलता है की अच्छा काम किया तुम लोगों ने जिस वजह से मुझे पता चल गया कि वह मुझे बहुत प्यार करती है। और मैं भी उससे बहुत प्यार करता हूं। और इस ट्रिप में उसको अपने दिल की बात बता दूंगा और फिर उसको अपना बना लूंगा यह सोचकर वह अपने मन ही मन में खुश हो कर वहां से चला जाता है।
तो क्या होता है आगे क्या बवाल होने वाला है इस ट्रिप में। क्या विक्रम और मेघा एक साथ मिल सकते हैं और कपल बन सकते हैं। जानने के लिए पढ़ते रहे या मेरा एक कहानी इंतजार प्यार का.....
To be continued........
Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

सबसे पहले टिपण्णी लिखें