इंतजार प्यार का - भाग - 19 Unknown Writer द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इंतजार प्यार का - भाग - 19

नाश्ता करने के बाद सब लोग फिर से जाकर सोफे पर बैठ जाते हैं फिर तभी वहां आरव सबसे बोलता है कि यार चलो अब कॉलेज का टाइम हो गया है। जल्दी जाना भी है तो सब लोग हां बोलते हैं। और वहां से जाने लगते हे। और तभी दादी आरव के पास आकर उसे एक पेंडेंट देती है और उससे बोलती है कि आते रहना बेटा इतने दिन तक तो दूर रहा अब आते रहना और यह बोल कर उसको गले लगा लेते और उनकी आंखें कभी नम थी। आरव भी उनके गले लग जाता हे। और वो भी इमोशनल हो रह था। उसको फिर से इमोशनल होते हुए देख कर दादी उससे बोलती हे की अगर तू चाहेगा तभी भी में तुझसे अलग नहीं हूंगी क्यूं की तेरे इस पेंडेंट में हमेशा रहूंगी। ये सुन ने के बाद अरब के फेस में भी स्माइल अजाती है और वो दादी से प्रॉमिस करता है की वो कभी भी वो पेंडेंट अपने गले से नहीं निकलेगा। फिर सब वहां से चले जाते हे।
वहां से निकलने के बाद वह लोग कॉलेज चले गए। कॉलेज जाने के बाद वह लोग पार्किंग में अपना बाइक पार्क करके कॉलेज के अंदर आने लगते हैं। कि तभी वहां पर सनाया आ जाती है। सनाया को वहां पर देख कर जब बाकी सभी लोगों के फेस पर एक स्माइल आ जाती है। वहीं आरव का फेस से स्माइल एकदम गायब हो जाता है। और वह गुस्से से सनाया की ओर देखने लगता है। क्यूं की उसको सनाया का यहां पर आना बिल्कुल भी पसंद नहीं आया था। लेकिन सनाया ने उसको पूरी तरह से इग्नोर किया और जाकर विक्रम से बोला। हेलो विक्रम भैया कैसे हो आप तो बिक्रम उससे बोलता हे की हां में ठीक हूं तुम केसे हो। हां भाई मैं ठीक हूं उसके बाद सनाया और विक्रम कुछ बातें करने लगे और वही बाकी सब भी उनके साथ मिलकर कुछ हंसी मजाक करने लगे। यह सब देख कर आरव को तो बहुत गुस्सा आ रहा था। लेकिन वह अपने गुस्से को दबाकर वहां पर खड़ा था। लेकिन जब 10 मिनट तक वो लोग बातें करते रहे।और सनाया वहां से नही गई। तो आरव अपने आप को कंट्रोल नही कर पाता और वो तभी सबसे बोलता हे की क्लास का टाइम हो रहा है क्या तुम्हें क्लास नहीं जाना। अगर क्लास नहीं जाना है तो तुम लोग यहीं पर बातें करते रहो मैं जाता हूं। यह बोल कर वो वहां से जाने लगता है की तभी सनाया उसकी और बिना मुड़े हीं बोलती हे की आज का फास्ट कैंसिल नहीं है एकदम आरव का मुंह बंद हो जाता है। और उसके कदम जहां थे वहीं पर हीं रुक गए क्योंकि उसको यह बात पता ही नहीं थी जिस वजह से उसने बहाना मारा था ताकि वह से दूर जा सके लेकिन सनाया ने जब यह बोला तो उसको कुछ समझ नहीं आया की वो वहां पर रहे या चले जाए। और उसे बस गुस्सा आता है सनाया पर तो वो फिर से वहां पर आ जाता हे जहां पर वो कुछ देर पहले था।
वहीं सनाया फिर से सबके साथ बात चीत करने लगती हे। तकरीबन 15 मिनट और बात करने के बाद वो लोग वहां से कैंटीन के चले जाते हे। वो लोग अभी पहुंचे ही थे कि तभी आदित्य वहां पर आ जाता है। आदित्य को वहां पर देखकर सनाया का मूड एकदम खराब हो जाता है। वहीं बिक्रम या उसके कोई भी दोस्त उसके बारे में कुछ भी नहीं जानते थे तो वो कुछ रिएक्ट नही करते हे। वहीं अपने सामने सनाया को देखकर आदित्य उसके पास जाता है। और उसके पास जाकर उससे बोलता है की सनाया मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं क्या तुम मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी। उसने इतना ही बोला था कि तभी सनाया उससे बोलती है यार मैं तुम्हें कितनी बार रिजेक्ट करूं हर बार तुम अपना मुंह उठाकर इधर आ जाते हो क्या एक बार में तुम समझ नहीं पाते। यह सुनकर आदित्य को बहुत ज्यादा गुस्सा आता है। लेकिन फिर भी गुस्सा कंट्रोल करते हो उससे बोलता है सनाया प्लीज मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूं प्लीज मेरी गर्लफ्रेंड बन जाओ। यह सुनने के बाद सनाया को भी अब गुस्सा आने लगता हे। लेकिन फिर भी वो अपने गुस्से को दबाते हुए उसको वहां से जाने के लिए बोलती हैं। लेकिन इस बार आदित्य कुछ ज्यादा गुस्से में आ गया और उसने गुस्से से सनाया से बोला क्या बोलती है तू मैंने तुझको इतनी बार प्रपोज किया लेकिन हर बार मुझे रिजेक्ट करती रहती है। मुझसे तुझे कुछ प्रॉब्लम है। या फिर तू किसी और से प्यार करते बोल देना जो बोलना कि और उसकी और उतने हीं गुस्से से देखने लगता है। वही सनाया उसकी इस बात का सीधा जवाब देते हुए उससे बोलती है कि मैं किसी से भी प्यार करूं या किसी से भी कुछ भी करू उससे तुझे क्या तू यहां से निकल। इतना बोल कर आगे जाने लगती है। लेकिन तभी आदित्य उसका हाथ पकड़ कर उसके कंधों को पकड़ कर उसको किस करने की कोशिश करने लगता है। यह देखो सब लोग शौक हो जाते हैं।
वहीं ये सब साइड में खड़े होकर आरव सुन रहा था उसको पता नहीं क्यों मगर आदित्य का सनाया को प्रपोज करना बिल्कुल भी पसंद नहीं आया। और उसको अब आदित्य के ऊपर गुस्सा आने लगा लेकिन जब उसने देखा कि आदित्य सनाया के साथ बदतमीजी कर रहा है और उसको जबरदस्ती किस करने की कोशिश कर रहा है। तो उसका गुस्से का पारा एकदम सातवें आसमान पर पहुंच गया।वही आरव हीं नहीं बल्कि वहां पर खड़े हुए हर इंसान को अब आदित्य को देख कर सबको गुस्सा आने लगता हे। आदित्य को जबरदस्ती सनाया को किस करते हुए देख कर विक्रम आगे बढ़कर उसको आदित्य को मार कर बचाने वाला था। लेकिन तभी और देखता है कि अरब जो साइड में बैठा था। वह एकदम गुस्से से तमतमा हुआ आदित्य के पास जाता है और आदित्य के मुंह पर एक जोर का मुक्का मार देता है जिस वजह से आदित्य धड़ाम से नीचे गिर जाता है। सनाया उससे अलग हो जाती है। सनाया ये देख कर काफी शॉक थी उसने उम्मीद किया था की आरव अपने किसी दोस्त को उसको बचाने के लिए बोलेगा लेकिन यह पर आरव खुद आदित्य को मारने आया था।सिर्फ सनाया ही नहीं यह देखकर आरव के दोस्त और सब लोग और भी ज्यादा शौक हो जाता है।
वहीं अगर सनाया चाहती तो आदित्य को एक हीं मुक्के में नीचे गिर देती लेकिन उसने ऐसा कुछ नही किया बस एक्टिंग करती रही। और अब उसको उसकी एक्टिंग का फल मिल रहा था। उसको पता चल गया की आरव भी उसको पसंद करता है। वहीं आरव जल्दी से जाकर आदित्य को काफी सारे मुक्के बरसाने लगता हैं। जिस वजह से आदित्य का मुंह सूज कर एकदम लाल हो गया था। और उसके होठों और गालों में स्वेलिंग भी हो रहा था। यह देखकर लोग और भी घबरा जाते हैं लेकिन फिर भी आरव उसको मारता रहता है। तभी विक्रम और सूरज जा कर उसको वहां से उठाकर लाते हैं। फिर उसको साइड में शांति से बैठाते हे। तभी आदित्य वहां से खड़ा होता है। वो खड़े होते समय थोड़ा लड़खड़ा भी रहा था। वो खड़ा होते हुए गुस्से से बोलता हैं की तुमने मुझे पिटवा के बिल्कुल भी अच्छा नहीं किया सनाया अब देखो मैं क्या करता हूं। और कौन है वह क्या तुम्हारा बॉयफ्रेंड है जो तुम्हे प्रपोज करने पर इतना गुस्सा हो गया। वो अब इतना ही बोला था कि आरव उसकी बात सुनने के बाद और भी ज्यादा गुस्सा हो जाता हे और गुस्से से उसकी ओर बढ़ने लगता है। लेकिन सूरज और बिक्रम उसको पकड़ कर वहां रोकने की कोशिश करते हे। लेकिन तभी सनाया का जवाब सुनकर एकदम से दंग रह जाता है। और एक दम स्टेच्यू की तरह खड़ा हो जाता हे। क्योंकि सिर्फ वह नहीं पूरे का पूरे कैंटीन में खड़े हुए हर इंसान यहां तक की आरव के दोस्त और खुद आदित्य भी शॉक हो जाता हे। क्यूं की वो सनाया से कभी भी ऐसे जवाब की उम्मीद बिल्कुल भी नही किया था।


तो क्या होता है आगे क्या जवाब दिया सना ने जिस वजह से पूरे के पूरे कैंटीन में खामोशी छा गई और सब लोग दंग हो गए और उसके और घूर कर देखने लगे जानने के लिए पढ़ते रहिए मेरा एक कहानी इंतजार प्यार का........
To be continued...........
Written by
unknown writer

रेट व् टिपण्णी करें

Usha Dattani Dattani

Usha Dattani Dattani 6 महीना पहले