periods books and stories free download online pdf in Hindi

पीरियड्स

'अगर महिलाएं अपने शरीर में होने वाले बदलावों के बारे में जागरूक नहीं होंगी तो उन्हें हमेशा परेशानी झेलनी पड़ेगी। मैं नारी जागृति के आंदोलन को लेकर आगे बढ़ रही हूं, इसलिए आप सभी से अनुरोध है कि इस काम में मेरा साथ दें।' रेखा की बातें सुनकर सभी ने उनकी सराहना की।

'आप बहुत बढ़िया काम कर रही हैं, रेखाजी!' महिला सशक्तिकरण के लिए काम करने वाली एक स्त्री अंजलि ने कहा.

'मैं यह सब आप सभी के सहयोग से ही कर सकती हूं, आप सभी मेरा सहयोग करते रहेंगे तो मेरी हिम्मत बढ़ेगी।'

'हां, हां, क्यों नहीं? हम सदैव आपके साथ हैं। वैसे, हमारे संगठन की कुछ महिलाएँ चाहती थीं कि आपको संगठन द्वारा सम्मानित किया जाए। हम आज शाम अपने कार्यक्रम में आपको सम्मानित करना चाहते थे। ताकि ज्यादा से ज्यादा महिलाएं आपके अच्छे कामों के बारे में जान सकें।'

'सबसे पहले, मुझे सम्मानित करने के बारे में सोचने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। लेकिन सच कहूं तो मैं प्रसिद्धि पाने के लिए ये काम नहीं करती, मुझे लगता है कि यह मेरा कर्तव्य है और इसीलिए मैं यह काम कर रही हूं।' मुझे सम्मानित होने में कोई दिलचस्पी नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि मेरे कार्यक्रम में आने से मैं ज्यादा लोगों तक पहुंच पाऊंगी, ज्यादा महिलाओं को जागरूक कर पाऊंगी, इसलिए मैं हमारे कार्यक्रम में आने के लिए तैयार हूं।'

'मैं जानती थी कि आप हमें निराश नहीं करेंगी।'



===============================

कार्यक्रम में (एक महिला दूसरी महिला से)


'यह कौन बहन है जिसे पुरस्कार दिया जा रहा है?'

'क्या तुम उसे नहीं जानती? वो रेखा जी है, वो महिलाओं में जागरूकता फैलाने का आंदोलन चला रही हैं। वो महिलाओं के खिलाफ हिंसा, शारीरिक जबरदस्ती, हर चीज के बारे में आवाज उठाती हैं, लेकिन मुख्य रूप से वह महिलाओं के बीच जागरूकता पैदा करने का काम करती हैं।'

'ओह, वह समाज के लिए बढ़िया काम करती है।'

'हाँ, वो बहुत अच्छा काम करती है। और वैसे भी सामाजिक कार्यों के साथ-साथ अपनी बारह साल की बेटी की देखभाल भी वह अकेले कर रही हैं, यह कोई छोटी बात नहीं है।'

'तुम्हारा मतलब अकेले से है?'

'उनके पति इस दुनिया में नहीं हैं।'

'वास्तव में?'

'हाँ।'


प्रोग्राम निपटाने के बाद रेखा घर वापस आई. रात के दस बज चुके थे। उसने डुप्लीकेट चाबी से घर का मुख्य दरवाजा खोला। 'रिया, सो गई होगी?' उसने सोचा।

रेखा कुछ देर तक रिया के कमरे के सामने खड़ी रही, फिर धीरे से उस ने कमरे का दरवाजा खोल दिया. कमरे के अंदर का नजारा देख रेखा के होश उड़ गए। रिया फांसी लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश कर रही थी. रेखा ने रिया को ऐसा करने से रोका, रिया के रोने को शांत किया और उसे बिस्तर पर बैठाते हुए रेखा ने उससे पूछा। ' बेटा तुम्हारे साथ ऐसा क्या हुआ जो तुमने इस कदम को उठाने का फैसला किया?'

रिया नजरें झुका कर चुपचाप बैठी रही.

'बेटा, अगर तुम मुझे नहीं बताओगी तो मुझे कैसे पता चलेगा?'

रिया ने थोड़ा ऊपर देखते हुए बाथरूम की ओर इशारा किया.

रेखाबहन बिस्तर से उठकर बाथरूम की ओर देखने लगी, 'बाथरूम में क्या है बेटा?'

'खून।' रिया ने जवाब दिया.

'कैसा खून?' रेखाबहन ने जल्दी से जाकर बाथरूम का दरवाज़ा खोला। बाथरूम में रिया का अंडरवियर खून से सना हुआ पड़ा था.

'ओह, पीरियड्स (मासिक धर्म)। मेरी बेटी कब इतनी बड़ी हो गयी मुझे पता ही नहीं चला। समाज की सभी महिलाओं में जागरूकता फैलाते हुए मैं अपनी बेटी को जागरूक नहीं कर पाई।'

'यह खून देखकर मैं डर गई थी मां। मेरी योनि से यह खून क्यों निकल रहा था, माँ?'

'बेटा, इसे पीरियड्स कहते हैं, हर महिला को इससे गुजरना पड़ता है। योनि से निकलने वाला यह खून इस बात का संकेत देता है कि आप बड़े हो रहे हैं।'

'तुम्हारा मतलब है कि मुझे कोई बीमारी नहीं है?'

'नहीं बेटा, पीरियड कोई बीमारी नहीं है. सभी लड़कियों और महिलाओं को पीरियड्स होते हैं। पीरियड्स हर महिला के जीवन का हिस्सा है।'

'महिला मतलब? क्या पुरुषों को पीरियड्स नहीं होते?'

'नहीं, लड़कों को पीरियड्स नहीं आते। लेकिन इस उम्र में लड़कों के शरीर में भी बदलाव आते हैं। जैसे महिलाओं को पीरियड्स आते हैं, वैसे ही पुरुषों को मूंछें और दाढ़ी आती हैं। उसकी आवाज़ गहरी हो जाती है। उनके शरीर पर बाल आने लगते है।'

'लेकिन माँ, केवल महिलाओं को ही पीरियड्स क्यों होते है?'

'महिला के शरीर में एक गर्भाशय होता है, जिसके जरिए महिला बच्चे को जन्म देती है। पीरियड्स एक महिला के लिए भविष्य में बच्चे को जन्म देने की तैयारी है। हमारी दुनिया में आपका, मेरा अस्तित्व पीरियड्स की वजह से है।'

'वैसे, सॉरी माँ मैं डर गई थी।'

'कोई बात नही बेटा, लेकिन आपको निर्णय लेने से पहले मुझसे बात करनी चाहिए थी।'

'मैं ऐसा दोबारा नहीं करूंगी। मैं सारे फैसले सोच-विचारकर और आपसे पूछकर लुंगी।' कहकर रिया ने अपनी मां रेखाबहन को गले लगाया और उनके गाल पर किस दी।

रेखाने रिया को अपनी गोद में लेटाया उससे प्यार करने लगी। क्या तुम्हे कहानी सुन्नी है?'

'हा। मुझे कहानियां सुनना पसंद है।'

कहानियाँ सुनते-सुनते रिया को कब नींद आ गयी उसे पता ही नहीं चला।

रिया को बिस्तर पर लिटाकर रेखा बिस्तर से उठ खड़ी हुई।
'एक अच्छे नागरिक के रूप में मैं अपनी ज़िम्मेदारी पूरी तरह से निभा रही हूँ, लेकिन क्या मैं एक माता के रूप में में अपनी ज़िम्मेदारी पूरी तरह से निभा रही हूँ?'



-प्रविण राजपुत 'कन्हई'


अन्य रसप्रद विकल्प

शेयर करे

NEW REALESED