हिंदी किताबें, कहानियाँ व् उपन्यास पढ़ें व् डाऊनलोड करें PDF

घुमक्कड़ी बंजारा मन की - 3
by Ranju Bhatia
  • (0)
  • 6

भारत देश इतनी विवधता से भरा हुआ है कि जितना देखा जाए उतना कम है. इसलिए अहमदबाद गुजरात की यात्रा अभी तक ३ बार कर चुकी हूँ. हर बार इस शहर ने मुझे हैरान किया अपने सुंदर रंग ढंग से, अपनी सरलता से और ...

दस दरवाज़े - 7
by Subhash Neerav
  • (1)
  • 9

पैडिंग्टन के इलाके का ख़ास पब - ‘द ग्रे हाउंड’। मैं और ऐनिया एक तरफ बैठे पी रहे हैं। मेरे पास बियर है और ऐनिया के पास जूस ही ...

आमची मुम्बई - 15
by Santosh Srivastav
  • (0)
  • 4

प्रियदर्शिनी पार्क से महालक्ष्मी तक की सड़क महत्त्वपूर्ण इमारतों से युक्त है मुकेश चौक में गायक मुकेश की स्मृति में सी स्टोन से बनी दो मूर्तियाँ स्थापित ...

अदृश्य हमसफ़र - 19
by Vinay Panwar
  • (4)
  • 42

ममता जो सोई तो उसे उठाने में भाभी को पसीने बहाने पड़ गए। लाजमी भी था, रुकी हुई नींद, अनुष्का के ब्याह की थकान ऊपर से अनुराग के जीवन ...

फोन की घंटी - 2
by Saroj
  • (1)
  • 18

रात के खाने की तैयारी कर ही रही थी कि फोन की घंटी बज उठी। मैं बिना फोन देखे ही समझ गई कि पापा का होगा । तभी बेटा ...

शह नशीं पर
by Saadat Hasan Manto
  • (2)
  • 17

वो सफ़ैद सलमा लगी साड़ी में शह-नशीन पर आई और ऐसा मालूम हुआ कि किसी ने नक़रई तारों वाला अनार छोड़ दिया है। साड़ी के थिरकते हूए रेशमी कपड़े ...

हिमाद्रि - 10
by Ashish Kumar Trivedi
  • (21)
  • 148

                                      हिमाद्रि(10)हिमाद्रि...इस नाम ने सभी के मन में हलचल मचा दी। खासकर उमेश ...

हीरो
by Saurabh kumar Thakur
  • (4)
  • 47

बात है,बिहार के एक ऐसे जिला जहाँ नक्सली हमले होते रहते हैं,और ज्यादा नक्सली वहीं होते हैं । उस जिले में बारह दोस्त रहते थे,पहले का नाम सौरभ,दूसरे का ...

मनचाहा - 27
by V Dhruva
  • (18)
  • 114

मैं और रवि भाई मेरे रुम में बैठकर TV देखते-देखते इधर उधर की बातें करने लगे। कुछ देर बाद रवि भाई अपने कमरे में जाने को उठें हीं थे ...