हिंदी महिला विशेष कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

नई सुबह
द्वारा Sunita Agarwal

आज रोहन और उनकी पत्नी रागिनी सुबह से ही बहुत उत्साहित थे।हो भी क्यों न आज पूरे 12 बर्ष बाद उनका पोता रितिक जो घर आने वाला था।रागिनी सुबह ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 2
द्वारा ARUANDHATEE GARG मीठी

     आभा......( जीवन की अग्निपरीक्षा ) ( भाग - 2 ) बेसब्री से खुद को ताक रहे स्टूडेंट्स को देखते हुए प्रिंसिपल मैम बोलीं । प्रिंसिपल मैम - ...

निहारिका
द्वारा Sunita Agarwal

अनामिका ने जल्दी जल्दी घर के सारे काम निबटाये और बच्चों को स्कूल और पति अमित को आफिस के लिये रवाना कर, खुद भी स्कूल के लिये तैयार होने ...

आराधना...
द्वारा निशा शर्मा

माँ बुआ आ गईं ! अरे आज तो बिटिया बहुत सयानी लग रही है । हाँ दीदी बिटिया को सयानी होते हुए समय थोड़े ही लगता है ! अरे ! ...

आभा.…...( जीवन की अग्निपरीक्षा ) - 1
द्वारा ARUANDHATEE GARG मीठी

     आभा ....( जीवन की अग्निपरीक्षा ) ( भाग - 1 ) एक लड़की हाथों में हिस्ट्री की किताब लिए , एक आर्ट सब्जेक्ट की क्लास की ओर ...

आन्या का ससुराल - 3
द्वारा Riya Jaiswal

सर पर आंचल लेना आन्या को बिल्कुल पसंद नहीं था। एक तो सारी संभालनी ही मुश्किल थी उसके लिए, ऊपर से घर के कामों की जिम्मेदारी। अब आंचल संभाले ...

भूख--एक औरत की व्यथा
द्वारा किशनलाल शर्मा

दुखखाट पर लेटी लीला      बड़ बड़ाई।किस बात का?तारा  को छोड़ देने  का।गलत।भला ऐसा क्या      था तारा मेंेे,  जो वह उसके लिए दुखी हो।क्या     तारा  ...

आन्या का ससुराल - 2
द्वारा Riya Jaiswal

सुबह के नौ बज रहे थे। हररोज की तरह आज भी सुमित तैयार होकर काम पर चला गया। ट्रांसपोर्ट बिजनेस था उसका, भाई के साथ। तीन भाई थे जिनमें ...

सवाल है नाक का
द्वारा Sunita Bishnolia

             सवाल है नाक का   "सुबह के साढ़े - पाँच बज गए, महारानी की नींद नहीं खुली अब तक।"   माँ ने जोर-जोर  से बड़बड़ाते हुए कहा तो पास वाले कमरे में सो ...

सिर्फ धागे का बंधन नही
द्वारा Jyoti Prajapati

स्कूल से आकर बैठी ही थी कि बड़े भैया का फोन आ गया। अचानक उनका फोन आया देख खुशी भी हुई और आश्चर्य भी। क्योंकि बड़े भैया ना के ...

किरायेदार
द्वारा श्वेता कर्ण

              किरायेदार मैं तुम्हारे जबाब का इन्तजार करूँगा निशा! " लेकिन याद रहे जबाब मुझे हाँ में ही चाहिए। " अधिकार से जबाब मांगा गया। निशा को याद आ ...

आन्या का ससुराल
द्वारा Riya Jaiswal

रात का समय था। यही कोई ग्यारह बज रहे होंगे। अब आन्या को सोने जाना था। उसने अपने कमरे की तरफ कदम बढ़ाए ही थे कि अचानक उसे एक ...

मम्मी सुनो न
द्वारा Neelima Sharrma Nivia

अमूमन  आजकल की नई शादीशुदा लड़कियाँ अपने ससुराल में आने वाली मुश्किलों को अपनी माँ से जरूर बांटती हैं कि मम्मी आपको पता है आज ये हुआ सास ने ये कहा नंद ...

वह हार गई
द्वारा किशनलाल शर्मा

"हनीमून मनाने गए है।" विभा की बात सुनकर अनु के अतीत के पन्ने फड़फड़ाकर खुल गए।अनु अपनी कजिन की शादी में माँ के साथ जबलपुर गई थी।वहां उसकी आंखें मानव ...

काहे री नलिनि तू कुम्हलानी
द्वारा Sneh Goswami

  काहे री नलिनि .........     सूरज अपने पूरे तेज के साथ हाजिर । दोपहर के तीन बजने को हैं । महानगर के बीचोबीच ई पी एफ का ...

हाँ ...हाँ ..मैं लड़की ही हूँ
द्वारा Dr Ranjana Jaiswal

बचपन में अपने तेज स्वभाव के कारण मैं मोहल्ले के सारे लड़के-लड़कियों की नेत्री थी |माँ-बाप,भाई-बहन ,रिश्तेदार कोई भी मुझे दबा नहीं पाते थे |मुझे पेड़ों पर चढ़ना अच्छा ...

बीबी और बारिश
द्वारा Gurpreet Singh

बीवी और बारिशनमस्कार सासरियक्ल आदाब मेरे दोस्तो मेरा नाम गुरुप्रीत सिंह है ।और मे हरियाणा से हू। आज मैं एक नई कहानी आप लोगो के बीच मैं लाया हूं। ...

रंगरसिया
द्वारा Saroj Prajapati

"विशाल, आज तो जल्दी घर आ जाना!" "क्यों , आज क्या है!" " तुम्हें इतना भी याद नहीं!" मधु उसके गले लगते हुए शिकायती लहजे में बोली। "क्या बात ...

जब अर्थी हिल उठी
द्वारा Dr Ranjana Jaiswal

मामी की मौत की खबर हम सभी पर गाज की तरह गिरी थी। तीस वर्ष की उम्र में ही एक हँसती-खेलती औरत अकारण मर गई। हुआ ही क्या था ...

औरत यानि दुःख गठरिया
द्वारा राजनारायण बोहरे

लघुकथा - दुख का विस्तारराजनारायण बोहरे "चलो जी अब हम सब किचन से बाहर चलती हैं, अब उपमा आ गयी वे ही नये नये तरह के व्यंजन बनायेंगी। " उपमा ...

The girl's life is abandoned without dreams - novel end .. thanks
द्वारा navita

??? thanku so much everyone ????✍️✍️✍️☺️☺️☺️✍️✍️✍️☺️☺️☺️✍️✍️✍️दुनिया अच्छी नहीं लगती जब रूठ जाते है सब दुनिया अच्छी नहीं लगती जब दर्द मिले हर तरफ दिन आये रात चली जाये ,वक़्त के साथ खुदी को ...

प्रेम की भावना (अंतिम भाग)
द्वारा Jyoti Prajapati

भावना के जाने के दो महीने बाद सुधा ने जुड़वा बच्चो को जन्म दिया। एक बेटा और एक बेटी। सबका बड़ा मन रहा घर मे पूजा-पाठ हो जाये..! मगर ...

भेदभाव...
द्वारा निशा शर्मा

"और बताओ राजू की अम्मा,कैसी कट रही है ? अरे अब तो तुम कभी बाहर चबूतरे पर बैठी दिखाई ही नहीं देती हो ! वैसे होता तो ये है ...

मुझे आजाद कर दो
द्वारा Bhupendra Singh chauhan

वेंटिलेटर पर पड़ी वह बार-बार एक ही बात बोले जा रही है"मैं मर जाना चाहती हूं,प्लीज मुझे मर जाने दो।"जिंदगी और मौत के बीच झूलती उस लड़की को जिंदगी ...

प्रेम की भावना (भाग-9)
द्वारा Jyoti Prajapati

मुझे गुस्सा आ रहा था बहुत...! पर गुस्सा किसपर आ रहा था? ये समझ नही पा रहा था मैं..!! भावना पर गुस्सा करना चाहता था मैं, उसपर अपनी नाराज़गी ...

प्रेम की भावना (भाग-8)
द्वारा Jyoti Prajapati

मैं अगले दिन का अवकाश लेकर इंदौर के लिये निकल पड़ा.!! क्योंकि पत्र में इंदौर का ही एड्रेस लिखा हुआ था..!! मुझे अपने शहर इस इंदौर पहुंचने में उतना ...

प्रेम की भावना (भाग-7)
द्वारा Jyoti Prajapati

भावना घर छोड़कर गयी तो गयी साथ मे तलाक़ के वो पेपर्स भी ले गयी जो मैंने उसे डराने धमकाने के लिए बनवाये थे। उस दिन जब उसका पहला ...

The girl's life is abandoned without dreams - 6
द्वारा navita

??कुछ कमियाँ तुम मे भी??ज़िन्दगी मे कमियां होती है सब इंसानो मे ही ,बस जरूरत होती है ,उन्ह कमियों को खुद से अपनाने की lजो ना बना पाते उन्ह ...

अपना आदमी
द्वारा Poonam Gujrani Surat

कहानीअपना आदमीनीलिमा आज बहुत थक गई थी। रविवार का दिन,ऊपर से कामवाली की छुट्टी और टीवी पर क्रिकेट मैच यानि एक तो करेला वो भी नीम चढ़ा। बच्चे ,पति ...

प्रेम की भावना (भाग-6)
द्वारा Jyoti Prajapati

अगले दिन सुबह आंख खुली तो कुछ बेहोंशी सी छा रही थी। मैंने बेड के बगल में देखा, मुझे लगा भावना है। लेकिन जब ध्यान से देखा तो होंश ...

प्राची-प्रतीची - (भाग-8)
द्वारा Jyoti Prajapati

हर्ष, प्रतीची, वीरेन, और बाकी का स्टाफ डॉ अनिरुद्ध को घेरकर खड़े हुए थे। डॉ अनिरुद्ध उन्हें कुछ समझा रहे थे। हर्ष को छोड़कर बाकी सब बड़ी गौर से ...

प्रेम की भावना (भाग-5)
द्वारा Jyoti Prajapati

उस दिन भावना ने पहली बार मुझसे कुछ मांगा था । इंकार करने का तो सवाल ही नही था । मेरी जान अगर जान भी मांग लेती तो दे ...