प्रसिद्ध हिंदी उपन्यास मुफ्त में PDF डाउनलोड करें

You are at the place of हिंदी Novels and stories where life is celebrated in words of wisdom. The best authors of the world are writing their fiction and non fiction Novels and stories on Matrubharti, get early access to the best stories free today. हिंदी novels are the best in category and free to read online.


श्रेणी
Featured Books
  • रहसयमय जगह - 3

    आज के रहस्य की इस श्रृंखला में हम बात करने वाले हैं गुजरात के एक ऐसे बीच के बारे...

  • Love Contract - 5

    विराज को कार में जा कर बैठने के लिए कहता है , दौड़ते हुए एक घर के पास पहुंचा मेन...

  • महिला पुरूषों मे टकराव क्यों ? - 91

    पेड़ के पीछे छुपी बदली अभय के आकर लिपट जाती है । अभय ने अपने बांये हाथ से बदली क...

  • अर्धांगिनी-अपरिभाषित प्रेम... - एपिसोड 18

    मैत्री की फोटो देखकर जतिन जैसे मैत्री के चेहरे की मासूमियत मे खो सा गया था, इधर...

  • द्वारावती - 25

    25नए प्रभात की सुगंध की अनुभूति करते हुए केशव गुरुकुल से समुद्र की तरफ़ जा रहा थ...

  • कब आयेंगे दिन

    पुस्तक समीक्षा "कब आयेंगे दिन"***************** 07 अप्रैल 2024 को दीन दयाल उपाध्...

  • तेरा मेरा ये रिश्ता - 19

    शालिनी को इतना डरा देख, अभय उस के पास आ जाता हैं और उस से कहता है, "ऐसा भी क्या...

  • खुशी का राज

    कालिया झूठ भी दिल से बोलता था इसलिए उसका झूठ भी इंसानों को नहीं बल्कि पशु पक्षिय...

  • तुम जो आए ज़िंदगी में... - 4

    आर्य को पता चल गया कि वो सबके सामने बात करने में अनकंफर्टेबल फील कर रही है। इसलि...

  • फागुन के मौसम - भाग 19

    राघव ने जब से वैदेही को देखा था उसका मन बेचैन हो उठा था। उसे बार-बार लग रहा था क...

Love Contract By Manshi K

घड़ी की सुइयों के साथ भागता ये वक़्त कितना जल्दी - जल्दी ख़तम हो गया , हमें तो पता भी नहीं चला कब छुट्टियां ख़तम हो गई थी

उन बगीचों में फूलों का खुशबू , तितलियों के साथ खेलना वो...

Read Free

महिला पुरूषों मे टकराव क्यों ? By Captain Dharnidhar

आपने एक खेल कभी अपने बचपन मे खेला होगा दो दल बच्चो के बनाये जाते है एक दल घोड़ी बन जाता है दूसरे दल वाले उनकी पीठ पर बैठ जाते हैं फिर एक बच्चा पूछता है "धींगा ऊपर कौन चढ़ा ? चढ...

Read Free

अर्धांगिनी-अपरिभाषित प्रेम.. By रितेश एम. भटनागर... शब्दकार

हर तरफ बस एंबुलेंस के सायरन का शोर सुनायी दे रहा था,लोग बदहवास से होकर इधर उधर अपने अपनों को बचाने के लिये भाग रहे थे, पूरी पूरी रात लाइनों मे लगने के बाद भी बहुत से ऐसे लोग रह जात...

Read Free

द्वारावती By Vrajesh Shashikant Dave

उस क्षण जो उद्विग्न मन से भरे थे उस में एक था अरबी समुद्र, दूसरा था पिछली रात्रि का चन्द्र और तीसरा था एक युवक।

समुद्र इतना अशांत था कि वह अपने अस्तित्व को समाप्त कर देना चाहता...

Read Free

तेरा मेरा ये रिश्ता By Saloni Agarwal

यह कहानी है अंश और सौम्या की। एक तरफ है हमारे कहानी के हीरो अंश सिंघानिया जो है सिंघानिया ग्रुप ऑफ कंपनी के सीईओ और साथ में माफिया वर्ल्ड के बादशाह जिन्हे सब डेविल के नाम से जानते...

Read Free

फागुन के मौसम By शिखा श्रीवास्तव

राघव और तारा, बचपन के पक्के दोस्त जिनकी दोस्ती का आधार बनी गेम पार्लर में खेली जाने वाली वीडियो गेम्स जिसके वो दोनों ही दीवाने थे। बचपन बीता और खेल की जगह ली कैरियर के प्रति उनकी च...

Read Free

हॉंटेल होन्टेड By Prem Rathod

कहानी शुरू करने से पहले मैं बता दू की इस कहानी के Plot का Credit मैं Harshit को देना चाहता हू,उसी plot के साथ मैं अपने point of view के साथ हॉरर,suspence,प्यार और दोस्ती को एक कहान...

Read Free

लागा चुनरी में दाग By Saroj Verma

शहर का सबसे बड़ा वृद्धाश्रम जिसका नाम कुटुम्ब है,जहाँ बहुत से वृद्धजन रहते हैं,उनमें महिलाएंँ और पुरुष दोनों ही शामिल हैं,सभी हँसी खुशी उस आश्रम में रहते हैं,किसी वृद्ध महिला को उसक...

Read Free

प्रेम गली अति साँकरी By Pranava Bharti

बादलों से टपकता पानी, धूप -छाँव की आँख मिचौली और जीवन की आँख मिचौली कभी-कभी एक सी ही तो लगती है | जब जी चाहा धूप-छाँह और जब मन किया मन के आसमान से बौछारों का सिलसिला कुछ ऐसा ही हो...

Read Free

भुतिया एक्स्प्रेस अनलिमिटेड कहाणीया By Jaydeep Jhomte

रात का अँधेरा फैल गया. जंगल में रात के कीड़े
किर, किरर्ट एक विशिष्ट आवाज के साथ मृत्यु गीत गाते हैं। चमकीली पीली रोशनी साँप की पीली आँखों जैसी थी। कोंकण के जंगल में आज घना कोहरा फ...

Read Free

Love Contract By Manshi K

घड़ी की सुइयों के साथ भागता ये वक़्त कितना जल्दी - जल्दी ख़तम हो गया , हमें तो पता भी नहीं चला कब छुट्टियां ख़तम हो गई थी

उन बगीचों में फूलों का खुशबू , तितलियों के साथ खेलना वो...

Read Free

महिला पुरूषों मे टकराव क्यों ? By Captain Dharnidhar

आपने एक खेल कभी अपने बचपन मे खेला होगा दो दल बच्चो के बनाये जाते है एक दल घोड़ी बन जाता है दूसरे दल वाले उनकी पीठ पर बैठ जाते हैं फिर एक बच्चा पूछता है "धींगा ऊपर कौन चढ़ा ? चढ...

Read Free

अर्धांगिनी-अपरिभाषित प्रेम.. By रितेश एम. भटनागर... शब्दकार

हर तरफ बस एंबुलेंस के सायरन का शोर सुनायी दे रहा था,लोग बदहवास से होकर इधर उधर अपने अपनों को बचाने के लिये भाग रहे थे, पूरी पूरी रात लाइनों मे लगने के बाद भी बहुत से ऐसे लोग रह जात...

Read Free

द्वारावती By Vrajesh Shashikant Dave

उस क्षण जो उद्विग्न मन से भरे थे उस में एक था अरबी समुद्र, दूसरा था पिछली रात्रि का चन्द्र और तीसरा था एक युवक।

समुद्र इतना अशांत था कि वह अपने अस्तित्व को समाप्त कर देना चाहता...

Read Free

तेरा मेरा ये रिश्ता By Saloni Agarwal

यह कहानी है अंश और सौम्या की। एक तरफ है हमारे कहानी के हीरो अंश सिंघानिया जो है सिंघानिया ग्रुप ऑफ कंपनी के सीईओ और साथ में माफिया वर्ल्ड के बादशाह जिन्हे सब डेविल के नाम से जानते...

Read Free

फागुन के मौसम By शिखा श्रीवास्तव

राघव और तारा, बचपन के पक्के दोस्त जिनकी दोस्ती का आधार बनी गेम पार्लर में खेली जाने वाली वीडियो गेम्स जिसके वो दोनों ही दीवाने थे। बचपन बीता और खेल की जगह ली कैरियर के प्रति उनकी च...

Read Free

हॉंटेल होन्टेड By Prem Rathod

कहानी शुरू करने से पहले मैं बता दू की इस कहानी के Plot का Credit मैं Harshit को देना चाहता हू,उसी plot के साथ मैं अपने point of view के साथ हॉरर,suspence,प्यार और दोस्ती को एक कहान...

Read Free

लागा चुनरी में दाग By Saroj Verma

शहर का सबसे बड़ा वृद्धाश्रम जिसका नाम कुटुम्ब है,जहाँ बहुत से वृद्धजन रहते हैं,उनमें महिलाएंँ और पुरुष दोनों ही शामिल हैं,सभी हँसी खुशी उस आश्रम में रहते हैं,किसी वृद्ध महिला को उसक...

Read Free

प्रेम गली अति साँकरी By Pranava Bharti

बादलों से टपकता पानी, धूप -छाँव की आँख मिचौली और जीवन की आँख मिचौली कभी-कभी एक सी ही तो लगती है | जब जी चाहा धूप-छाँह और जब मन किया मन के आसमान से बौछारों का सिलसिला कुछ ऐसा ही हो...

Read Free

भुतिया एक्स्प्रेस अनलिमिटेड कहाणीया By Jaydeep Jhomte

रात का अँधेरा फैल गया. जंगल में रात के कीड़े
किर, किरर्ट एक विशिष्ट आवाज के साथ मृत्यु गीत गाते हैं। चमकीली पीली रोशनी साँप की पीली आँखों जैसी थी। कोंकण के जंगल में आज घना कोहरा फ...

Read Free