Best Stories Free PDF Download | Matrubharti

पुरानी हवेली का राज - 23
by Abhishek Hada
  • (37)
  • 408

इस कहानी के अभी तक कुल 22  भाग प्रकाशित हो चुके है। अगर आपने अभी तक नही पढ़े है तो मेरी प्रोफाइल पर जाकर पहले उन्हे पढ़िए उसके बाद ...

दास्तान-ए-अश्क - 15
by SABIRKHAN
  • (32)
  • 267

"चल्ल बुल्लिया..  चल उथ्थे चल्लिये.. जिथ्थे सारे अन्ने..  ना कोई साड्डी जात पहचाने... ना कोई सान्नु मन्ने.. ( पंजाब के एक मशहूर कवि कहते हैं "चल रे बलमा हम ...

छूटी गलियाँ - 17
by Kavita Verma
  • (20)
  • 165

असफल होने का अवसाद मुझे डुबोने लगा मैंने अंतिम बार सतह पर आकर फिर कोशिश की। अपना हाथ राहुल की ओर बढ़ाया उसका हाथ अपने हाथ में लेकर गर्मजोशी ...

मनचाहा - 12
by V Dhruva
  • (17)
  • 135

निशा अंकल और आंटी के साथ हमारे पास आई। भरत अंकल (निशा के पापा)- कैसे हो सब बेटा? दिशा- सब एकदम अच्छे हैं मेरे सिवा। गायत्री आंटी (निशा की ...

कहाँ गईं तुम नैना - 3
by Ashish Kumar Trivedi
  • (25)
  • 215

            कहाँ गईं तुम नैना (3)चित्रा और नैना ने एक ही कॉलेज से मास कॉम का कोर्स किया था। दोनों अच्छी सहेलियां थीं। कॉलेज से ...

आफ़िया सिद्दीकी का जिहाद - 24
by Subhash Neerav
  • (12)
  • 222

“मि. वकील, अपनी क्लाइंट को बोलने से रोको। क्योंकि तुमने इसको कोर्ट में चुप रहने का स्टेट्स प्राप्त किया हुआ है।“ जज ने प्रतिवादी वकील की ओर देखते हुए ...

दहलीज़ के पार - 21
by Dr kavita Tyagi
  • (7)
  • 87

अक्टूबर के प्रथम सप्ताह मे ‘दहलीज के पार' साप्ताहिक—पत्र प्रकाशित हो गया। पत्र की कुछ प्रतियाँ डाक के द्वारा गरिमा के पास पहुँचायी गयी और गाँव साक्षर स्त्रियो को ...

मेरा नाम राधा है
by Saadat Hasan Manto
  • (8)
  • 142

ये उस ज़माने का ज़िक्र है जब इस जंग का नाम-ओ-निशान भी नहीं था। ग़ालिबन आठ नौ बरस पहले की बात है। जब ज़िंदगी में हंगामे बड़े सलीक़े से ...

अब नहीं सहुंगी...भाग 12
by Sayra Khan
  • (16)
  • 108

शैली जैसी तो नहीं जिसने बहुत प्रॉब्लम बढा दी थी, लेकिन तुम समझदार हो! में तुम्हे पहले किसी और के साथ नहीं जाने देना चाहता था ! इसलिए डील पोस्पों ...