प्रसिद्ध हिंदी उपन्यास मुफ्त में PDF डाउनलोड करें

You are welcome to the world of inspiring, thrilling and motivating stories written in your own language by the young and aspiring authors on Matrubharti. You will get a life time experience of falling in love with stories.


श्रेणी
Featured Books
  • ओह माई गॉड २ फिल्म रिव्यू

    बहुत देर लग गई शर्माजी इस फिल्म का रिव्यू लिखने में? जी बिलकुल, मेरी व्यस्तता कह...

  • प्यार हुआ चुपके से - भाग 16

    रति को देखकर शक्ति उसके पास आया और बोला - मुझे पता नही था रति, कि तुम साड़ी में...

  • कर्म से तपोवन तक - भाग 7

    अध्याय 7 राजमहल के द्वार पर प्रतीक्षा करते गालव के संग माधवी चुपचाप चलने लगी।&nb...

  • आखिरी प्रेमी की घोषणा

    आखिरी प्रेमी की घोषणा-प्रिन्शु लोकेश थाने के ठीक सामने महुआ का एक वयोवृद्ध वृक्ष...

  • एक परिवार ऐसा भी....

    ये कहानी नहीं एक सच्ची कहानी है. हम ये नही कहेंगे की ये कोई बनाई हुए बात है........

  • दर्द दिलों के - 10

    सुबह सुबह आरवी के घर की bell बजती है। आरवी की मां दरवाज़ा खोलती है तो देखती है क...

  • नकाब - 30

    भाग 30प्रभास की बातों से सुहास के मन की शंका समाप्त हो गई। तभी मंजू उन्हें नाश्त...

  • मन के उस पार

    नीलम कुलश्रेष्ठ  उनके दिल की धड़कन अचानक तेज हो गयी। सारे शरीर में अजीब-सी...

  • द्रोहकाल जाग उठा शैतान - 46

    एपिसोड ४६□□□□□□□□□□□□□□□□□ "भस्म किसी राक्षस का नाम नहीं लगता!" लंका ने पीछे से...

  • द सिक्स्थ सेंस... - 7

    सुहासी का मोबाइल नंबर "Not working" देखकर उदय ने सोचा कि हो सकता है जॉब ज्वाइन क...

कर्म से तपोवन तक By Santosh Srivastav

सघन वन में संध्या दोपहर ढलते ही प्रतीत होने लगती है । माधवी ने अपने आश्रम के भीतरी प्रकोष्ठ से गगरी उठाई और वृक्षों की हरीतिमा में छुपी ऊंची नीची ढलानों पर बहती नदी की ओर चल दी । न...

Read Free

दर्द दिलों के By Anki

आरवी अंधेरे कमरे में बैठी न जाने कहां खोई हुई है। उसकी आंखों से पानी की जगह मानो उसके सपने टूट कर बह रहे हो। तभी आवाज आती है.. आरवी दरवाजा खोलो। आरवी क्या हुआ यार .. आरवी तुम सुन र...

Read Free

नकाब By Neerja Pandey

खेत में सुबह सुबह नित्य क्रिया के लिए गया बिरजू अभी बैठा ही था की उसे जोर की बदबू आई। उसने सोचा अभी तक तो गांव से इतनी दूर कोई नही आता था। साफ जगह खोजने के चक्कर में दूर तक निकल आत...

Read Free

द्रोहकाल जाग उठा शैतान By Jaydeep Jhomte

रहज़गढ़ 300-350 की आबादी वाला एक गाँव है। गाँव के लोगों के घर मिट्टी के बने होते हैं। गांव में आने-जाने का एकमात्र साधन कच्ची सड़क है। जो बरसात के दिनों में पूरी तरह से कीचड़ में त...

Read Free

द सिक्स्थ सेंस.. By रितेश एम. भटनागर... शब्दकार

नोट- ये कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है, इसका किसी भी तरह से जीवित या म्रत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है, इस कहानी को लिखने का उद्देश्य मात्र मनोरंजन है|

=====&...

Read Free

अमानुष-एक मर्डर मिस्ट्री By Saroj Verma

एक बड़ी सी कार पुलिस स्टेशन के सामने रुकी और ड्राइवर ने उतरकर अपने मालिक के लिए कार का दरवाजा खोला,सूट बूट पहने हुए कार का मालिक पुलिस स्टेशन के भीतर पहुँचा,जैसे ही वो पुलिस स्टेशन...

Read Free

शोहरत का घमंड By shama parveen

आलिया का आज कॉलेज में आखिरी दिन है। इसलिए आज वो कॉलेज में पार्टी कर रही है सभी के साथ क्योंकि अब वो कॉलेज नही आयेगी। अब वो एग्जाम देगी और उसके बाद कॉलेज से छुट्टी।

पार्टी खत्म ह...

Read Free

लागा चुनरी में दाग By Saroj Verma

शहर का सबसे बड़ा वृद्धाश्रम जिसका नाम कुटुम्ब है,जहाँ बहुत से वृद्धजन रहते हैं,उनमें महिलाएंँ और पुरुष दोनों ही शामिल हैं,सभी हँसी खुशी उस आश्रम में रहते हैं,किसी वृद्ध महिला को उसक...

Read Free

पागल By Kamini Trivedi

पागल,, हां सही नाम से पुकारा करता था वो मुझे। (हंसते हुए) पागल ही तो हूं मैं उसके लिए , उसके पीछे , उसके प्यार में।"

रात के 1 बज चुके थे । आंखों से नींद कोसों दूर । आज उसे प...

Read Free

Shyambabu And SeX By Swatigrover

श्यामबाबू ने रात के आठ बजे दिल्ली के रेडलाइट एरिया में सड़क के किनारे, कोई कोना देखकर अपनी गाड़ी पार्क की और दस मिनट तक गाड़ी मेंही बैठा रहा और बैठे-बैठे यही सोचता रहा कि उसके जि...

Read Free

कर्म से तपोवन तक By Santosh Srivastav

सघन वन में संध्या दोपहर ढलते ही प्रतीत होने लगती है । माधवी ने अपने आश्रम के भीतरी प्रकोष्ठ से गगरी उठाई और वृक्षों की हरीतिमा में छुपी ऊंची नीची ढलानों पर बहती नदी की ओर चल दी । न...

Read Free

दर्द दिलों के By Anki

आरवी अंधेरे कमरे में बैठी न जाने कहां खोई हुई है। उसकी आंखों से पानी की जगह मानो उसके सपने टूट कर बह रहे हो। तभी आवाज आती है.. आरवी दरवाजा खोलो। आरवी क्या हुआ यार .. आरवी तुम सुन र...

Read Free

नकाब By Neerja Pandey

खेत में सुबह सुबह नित्य क्रिया के लिए गया बिरजू अभी बैठा ही था की उसे जोर की बदबू आई। उसने सोचा अभी तक तो गांव से इतनी दूर कोई नही आता था। साफ जगह खोजने के चक्कर में दूर तक निकल आत...

Read Free

द्रोहकाल जाग उठा शैतान By Jaydeep Jhomte

रहज़गढ़ 300-350 की आबादी वाला एक गाँव है। गाँव के लोगों के घर मिट्टी के बने होते हैं। गांव में आने-जाने का एकमात्र साधन कच्ची सड़क है। जो बरसात के दिनों में पूरी तरह से कीचड़ में त...

Read Free

द सिक्स्थ सेंस.. By रितेश एम. भटनागर... शब्दकार

नोट- ये कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है, इसका किसी भी तरह से जीवित या म्रत व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है, इस कहानी को लिखने का उद्देश्य मात्र मनोरंजन है|

=====&...

Read Free

अमानुष-एक मर्डर मिस्ट्री By Saroj Verma

एक बड़ी सी कार पुलिस स्टेशन के सामने रुकी और ड्राइवर ने उतरकर अपने मालिक के लिए कार का दरवाजा खोला,सूट बूट पहने हुए कार का मालिक पुलिस स्टेशन के भीतर पहुँचा,जैसे ही वो पुलिस स्टेशन...

Read Free

शोहरत का घमंड By shama parveen

आलिया का आज कॉलेज में आखिरी दिन है। इसलिए आज वो कॉलेज में पार्टी कर रही है सभी के साथ क्योंकि अब वो कॉलेज नही आयेगी। अब वो एग्जाम देगी और उसके बाद कॉलेज से छुट्टी।

पार्टी खत्म ह...

Read Free

लागा चुनरी में दाग By Saroj Verma

शहर का सबसे बड़ा वृद्धाश्रम जिसका नाम कुटुम्ब है,जहाँ बहुत से वृद्धजन रहते हैं,उनमें महिलाएंँ और पुरुष दोनों ही शामिल हैं,सभी हँसी खुशी उस आश्रम में रहते हैं,किसी वृद्ध महिला को उसक...

Read Free

पागल By Kamini Trivedi

पागल,, हां सही नाम से पुकारा करता था वो मुझे। (हंसते हुए) पागल ही तो हूं मैं उसके लिए , उसके पीछे , उसके प्यार में।"

रात के 1 बज चुके थे । आंखों से नींद कोसों दूर । आज उसे प...

Read Free

Shyambabu And SeX By Swatigrover

श्यामबाबू ने रात के आठ बजे दिल्ली के रेडलाइट एरिया में सड़क के किनारे, कोई कोना देखकर अपनी गाड़ी पार्क की और दस मिनट तक गाड़ी मेंही बैठा रहा और बैठे-बैठे यही सोचता रहा कि उसके जि...

Read Free