हिंदी कहानियां मुफ्त में पढ़ें और PDF डाउनलोड करें

पलक - भाग-१
द्वारा Anil Sainger
  • 2.3k

मैं और विराट पहले एक ही कम्पनी में काम किया करते थे | लेकिन पिछले कुछ समय से उसे भूत सवार था कि इस कम्पनी में कोई भविष्य नहीं ...

बेटी की इच्छा..
द्वारा VîPîN tRîPâThÎ
  • 1.8k

मातृत्व- एक छोटा-सा शब्द, जो अपने आप में पूरा संसार सुंदरता, ऐसो आराम, ज्ञान समेटे है. यह एक जादुई शब्द है, एक जादुई एहसास, जो कई जीवनों को बदलता ...

वो दौर - भाग -1
द्वारा priya saini
  • 1.9k

वैसे तो पायल एक जमाने में सीधी-साधी लड़की थी पर स्वभाव से थोड़ी ग़ुस्सैल और चिड़चिड़ी थी। उसे बहुत ही जल्द गुस्सा आ जाता था पर वक़्त के साथ ...

KIDNAPPER ?
द्वारा sunil kumar
  • 1.9k

रात के आठ बज रहे है। दिल्ली में बहुत बहुत ऊँची ऊँची बिल्डिंग है इन्ही बिल्डिंगो में से एक बिल्डिंग में के सोल्वे मंज़िला पर एक परिवार जिसमे एक ...

राजा रानी - Suicide
द्वारा Mens HUB
  • 1.8k

राजा रानी - Suicide Men's HUB Team & Swastik Dey     प्रथम आयाम आकाश की आयु 17 साल की थी और उसने इसी वर्ष 12 वी की परीक्षा ...

यूँ ही राह चलते चलते - 1
द्वारा Alka Pramod
  • 1.9k

यूँ ही राह चलते चलते -1- चाय की चुस्की लेते हुए रजत बोले ’’ अगर तुम मुझे पाँच लाख रुपये दो तो मैं तुम्हें एक सरप्राइज दे सकता हूँ। ...

जिंदगी की सफर वेंटिलेटर तक
द्वारा patel suhani
  • 1.8k

आज मे आपक एक कहानी सुनाती हु जिसका मे हिस्सा भी हु ओर किस्सा  हु।साम के साडे सात बजे थेे ,घर मे  चहल  पहल  थी, अचाानक घर मे एक ...

रिश्ता प्यार का
द्वारा Prashant Kumar
  • 1.8k

सिम्मी सिसकती हुई अपना सामान पैक करते हुए बीच-बीच मे सुशांत को देख भी रही थी,इस आस में की अभी सुशांत उठकर उसके हाथ पकड़कर उसे अपने मायके जाने ...

....और जिंदगी चलती रही
द्वारा Dr.Ranjana Jaiswal
  • (13)
  • 2k

          तीन दिन हो गए थे चलते-चलते...पाँव में छाले निकल आये थे। शरीर धूल और पसीने से तर-बतर हो चला था। गाँव इतना दूर पहले कभी ...

MAPLE VILLA - साया या साज़िश (PART 1 - वो लड़की)
द्वारा Urvil Gor
  • (11)
  • 1.3k

सूचना : (यह कहानी में तारीखे ध्यान से देख कर  कहानी पढ़ना) ROYAL COLLAGE UNIVERSE? Present URVIL GOR'S मेपल विला :साया या साज़िश PART-1 :वो लड़की... हमारे हिंदू पौराणिक ...

स्वीच ऑफ
द्वारा विनीता परमार
  • 1.5k

कैंटीन से ठहाकों की गूँज सुनाई दे रही है । वैसे आमतौर पर यहाँ गहरी उदासी ही पसरी रहती है । यहाँ बिकनेवाली सारी चीजों को पता है कि ...

गुच्चू गरिया
द्वारा Mahendra Bhishma
  • 1.3k

गुच्चू गरिया गुच्चू मेरे ननिहाल के पास के गाँव गरिया का रहने वाला था। बचपन के उन दिनों में जब मैं ग्रीष्म की लंबी छुट्टियों में या दशहरा दिवाली ...

हवशी पेड़ - 1
द्वारा ADARSH PRATAP SINGH
  • (12)
  • 1.2k

पेड़ और पंछियों की दोस्ती बहुत गहरी होती है लेकिन कभी कभी दोस्ती से बढ़कर भी कुछ हो जाता है........ सूर्य के उगने से पेड़ो से आकाश में चले ...

औरतें रोती नहीं - 1
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • 1.3k

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन एक जिंदगी और तीन औरतें मैं हूं उज्ज्वला: जनवरी, 2006 1 मामूली औरतें जिंदगी... कल तक अगर मुझसे बयां करने को कहा जाता, तो ...

शापित गुड़िया - भाग १
द्वारा Lalit Raj
  • 1.2k

श्रापित गुड़िया जिसका भय एक गांव में है जिसकी वजह से बच्चे गायब हो जाते हैं इसलिए वहां एक इंस्पेक्टर की पोस्टिंग होती है और वो सुलझाता है उस ...

यू - टर्न
द्वारा Madhu Sosi
  • 1.1k

                                                         '  यू –टर्न '             ...

मिसिंग यू।
द्वारा Rahul shrivastava
  • 1.1k

नमस्कार मेरा नाम राहुल है मैं इंदौर में रहता हूँ और कक्षा 11वी का छात्र हूँ। यह मेरी पहली कहानी है। यह कहानी एक सच्ची प्रेम कहानी से ली ...

उफ्फ ये मुसीबतें - 1
द्वारा Huriya siddiqui
  • 1.1k

हम सब बहोत आम है बेहद आम दरअसल कहा जाए तो हम आम जनता हैकभी कभी तो आम खाने के भी लाले पड़ जाते हैं अरे बात बजट की ...

मिले जब हम तुम - 1
द्वारा Komal Talati
  • 1.1k

                              part -1              शालिनी ने फोन पर बात करते हुए कहा, - " देव तुम जल्दी ...

एसिड अटैक - 1
द्वारा dilip kumar
  • 1k

एसिड अटैक (1) ‘‘हाँ, हूँ, ठीक ही था’’ ऐसे जवाब सुन-सुन देवधर जान गये कि सेलेना उकता रही थी। देवधर ने उसे आराम करने देना ही मुनासिब समझा। थोड़ा ...

फिर आना अखिलेश और हंसना...
द्वारा Chandi Dutt
  • 1.1k

फिर आना अखिलेश और हंसना जोर-जोर से...# चण्डीदत्त शुक्लपंखा हिल रहा था। खट-खट की आवाज़ें आतीं पर हवा नहीं। हिचकोले खाता मैं। ठंडी, और ठंडी होती जा रही पीठ ...

बिन्नी से तृप्ति
द्वारा Bharti
  • 992

                              हाँ! इसका नाम "बिन्नी"रखेंगे,हाँ! यही रखेंगे, पापा  ने खुश होते हुए कहा और मम्मी ...

बकरी और बच्चे (भाग-०१)
द्वारा Abhinav Bajpai
  • 939

बकरी और बच्चे (भाग-०१)बच्चों की सूझबूझएक बकरी थी, उसके चार बच्चे थे। नाम थे - अल्लों, बल्लो, चेव और मेव। चारो बड़े ही नटखट और शैतान थे। बकरी रोज ...

मेरा मित्र
द्वारा ️️️️Miss
  • (13)
  • 897

गुंजन के फोन की घंटी बजती है... गुंजन : हेलो पापा,राधे राधे।पापा: हा बेटा, राधे राधे।कुछ बात करनी थी तुमसे ,कितनी देर लगेगी घर आने में?गुंजन : हा पापा, मै ...

पसंद अपनी अपनी - 1
द्वारा किशनलाल शर्मा
  • 884

"बिजली घर-बिजली घर---ऑटोवाला ज़ोर ज़ोर से आवाज लगा रहा था।उमेश को देखते ही ऑटो वाले ने पूछा था।"कमलानगर जाना है।""कमलानगर के लिए बिजलीघर से  बस मिलेगी,"ऑटोवाला बोला,"आइये।आपकेे बैठते ही ...

ऐसा हाे तो
द्वारा HARIYASH RAI
  • 506

कहानी ऐसा हो तो ......... हरियश राय   बी. ए करने के बाद बैजनाथ  को एक  मैन्‍यूफैक्‍चरिंग   कंपनी में  एकाउंटस का काम  करने का मौका मिला तो उसने इस ...

छोटू
द्वारा saba vakeel
  • 472

चाय पीने के लिए छोटे से ढाबे पर गई थी। देखा तो वहां पर एक छोटा लड़का काम कर रहा था। सब उसको छोटू-छोटू कह रहे थे। वह छोटू ...

ब्राह्मण की बेटी - 1
द्वारा Sarat Chandra Chattopadhyay
  • (47)
  • 17.2k

मुहल्ले में घूमने-फिरने के बाद रासमणि अपनी नातिन के साथ घर लौट रही थी। गाँव की सड़क कम चौड़ी थी, उस सड़क के एक ओर बंधा पड़ा मेमना (बकरी ...

मालिक...The GOD
द्वारा Pratap Singh
  • 376

मालिक“ए मालिक तेरे बंदे हम.. ऐसे हो हमारे करम….। घर पर तेज़ आवाज में रेडियो पर बज रहे गाने की आवाज को सुगंधा ने कम कर किसी से पैसों ...

मोबाइल बड़े कमाल की चीज़ है
द्वारा Sushree Mukherjee
  • 309

मोबाइल बड़े काम की चीज़ है। इंसान के जीने का तरीका ही इसने बदल दिया है। इसे के कारण इंसान को कॉल, मैसेज, ऑफिस का काम, घड़ी, मूवी, गाने, ...