हिंदी कहानियां मुफ्त में पढ़ें और PDF डाउनलोड करें

लव इन कॉलेज - 1
by Abhishek Hada Verified icon
  • (50)
  • 3.4k

ये कहानी है सीधे सादे लड़के विक्रम की जो प्यार-मोहब्बत को अवारा नकारा लड़कों के टाइम पास करने का तरीका मानता था। पर फिर उसे प्यार कैसे हुआ क्या ...

चुड़ैल वाला मोड़ - 1
by VIKAS BHANTI Verified icon
  • (52)
  • 2.4k

घनी सी रात में वो थरथराई सी हाइवे पर खड़ी थी , हर आते जाते मुसाफिर को हाथ देती l उसके बिखरे से बाल और स्याह सफेद सलवार सूट ...

अदृश्य हमसफ़र - 1
by Vinay Panwar Verified icon
  • (23)
  • 2.4k

ममता कुर्सी पर टेक लगाए ब्याह की गहमा गहमी मे खोई हुई थी। सब इधर उधर भाग रहे थे तैयारियों में जुटे हुए। लगभग 5 साल बाद मायके आना हुआ ...

मुजे अरेंज मेरेज नही करनी...
by Shrujal Gandhi
  • (22)
  • 1.2k

मुजे अरेंज मेरेज नही करनी... लेखक - शृजल गांधी आज के मॉडर्न जनरेशन में लव मेरेज के ट्रेंड में अरेंज मेरेज दब रही है. पर मेरेज लव हो या ...

आकर्षण का सिद्धांत - 1
by Patel Mansi Vipulbhai
  • (27)
  • 787

प्रस्तावना:-   अपने पास एक ऐसा रहस्य है, जिससे हम अपनी हर इच्छा पूरी कर सकते है। हमारे पास ऐसी सकती है जिससे हम अपनी सारी इच्छाओं को हकीकत में ...

खौफ - 1
by SABIRKHAN Verified icon
  • (63)
  • 2.1k

सभी हिंदी पाठकों के लिए एक और कहानी लेकर हाजिर हुं आप सब को यह जरूर पसंद आएगी..!इस कहानी को अपने प्रतिभाओं देना न भूलें..!ठंड से उसका बदन बुरी ...

अधूरी हवस
by Balak lakhani Verified icon
  • (165)
  • 9.8k

   (1)पार्ट प्यार बारे मे कई ग्रंथ लिखे गए, हर ग्रंथ मे प्यार को अलग एंगल से देखा गया, ओर पढ़ने वालो ने भी अपनी अपनी सुहलयत से उसे ...

औकात
by shilpi krishna
  • 297

' औकात ' "तुम्हारी औकात हैं इतने महंगे कपड़े लेने की , कभी माँ - बाप ने इतने महंगे कपड़े पहनाये हैं तुम्हे .....?" राजीव ने हिकारत से रश्मि से ...

पराभव - भाग 1
by Madhudeep Verified icon
  • (20)
  • 1.1k

पराभव मधुदीप भाग - एक "मैं तो अब कुछ ही क्षणों का महेमान हूँ श्रद्धा की माँ!" कहते हुए सुन्दरपाल की आवाज लड़खड़ा गई| "ऐसी बात मुँह से नहीं ...

स्टॉकर - 1
by Ashish Kumar Trivedi Verified icon
  • (20)
  • 1.3k

                                            स्टॉकर                 ...

एक थी अनु
by Chaya Agarwal
  • (18)
  • 538

 कहानी ----एक थी अनु अनुप्रिया ने मोबाइल उठा कर आदित्य का नम्बर डायल किया है। घण्टी जा रही है। पर फोन नही उठ रहा है। इसका मतलब या तो ...

प्रेत के साथ ईश्क - भाग-१
by Jaydip bharoliya Verified icon
  • (40)
  • 2k

इस नॉवेल के लेखक को गुजराती में तीव्र सफलता मिलने के बाद उन्होंने इसे हिंदी भाषा के वाचको के लिए उपलब्ध की हे। यह एक क्राइम, हॉरर ओर सस्पेंस ...

राय साहब की चौथी बेटी - 1
by Prabodh Kumar Govil
  • 565

राय साहब की चौथी बेटी प्रबोध कुमार गोविल 1 कॉलेज की पूरी इमारत जगमगा रही थी। ईंटों से बनी बाउंड्री वॉल को रंगीन अबरियों और पन्नियों से सजाया गया ...

मन कस्तूरी रे - 1
by Anju Sharma Verified icon
  • (47)
  • 1.4k

सामने खुली किताब के खुले पन्ने को पलटते हुए स्वस्ति अनायास ही रुक गई! उसने एक पल ठहरकर पढ़ना शुरू किया! “प्रेम के अलावा प्रेम की कोई और इच्छा नहीं ...

फिर वही खौफ
by DINESH DIVAKAR
  • (12)
  • 149

हाइवे पर एक फार्चून गाड़ी फुल स्पीड में चल रहा था उसमे बैठे पति पत्नी बहुत एक्साइटेड थे क्योंकि आज उनकी फस्ट एनिवर्सरी जो था सोहन और गीता अपने ...

चोखेर बाली - 1
by Rabindranath Tagore Verified icon
  • (51)
  • 3.3k

विनोद की माँ हस्मिती महेन्द्र की माँ राजलक्ष्मी के पास जाकर धरना देने लगी। दोनों एक ही गाँव की थीं, छुटपन में साथ खेली थीं। राजलक्ष्मी महेन्द्र के पीछे पड़ ...

कशिश - 1
by Seema Saxena Verified icon
  • 541

कशिश सीमा असीम (1) गर न होते आँसू आँखों में खूबसूरत इतनी आँखें न होती गर होता न दर्द दिल में कीमत खुशी की पता न होती जीवन में आगे ...

आसपास से गुजरते हुए - 1
by Jayanti Ranganathan Verified icon
  • 819

मुझे पता चल गया था कि मैं प्रेग्नेंट हूं। मैं शारीरिक रूप से पूरी तरह सामान्य थी। ना शरीर में कोई हलचल हो रही थी, ना मन में। मैं ...

महत्वाकांक्षा - 1
by Shashi Ranjan
  • 210

महत्वाकांक्षा टी शाशिरंजन (1) साक्षात्कार के बाद कोलकाता से खुशी खुशी मैं वापस लौट रहा था । राजधानी एक्सप्रेस के प्रथम श्रेणी के जिस केबिन में मैं चढा, उसमें ...

औघड़ का दान - 1
by Pradeep Shrivastava Verified icon
  • 376

औघड़ का दान प्रदीप श्रीवास्तव भाग-1 सीमा अफनाई हुई सी बहुत जल्दी में अपनी स्कूटी भगाए जा रही थी। अमूमन वह इतनी तेज़ नहीं चलती। मन उसका घर पर ...

फ़ैसला - 1
by Rajesh Shukla
  • (19)
  • 1.3k

जून का महीना। उफ! ऊपर से ये गरमी। रात हो या दिन दोनों में उमस जो कम होने का नाम नहीं ले रही थी। दिन की चिलचिलाती धूप की ...

एक जिंदगी - दो चाहतें - 1
by Dr Vinita Rahurikar
  • (11)
  • 1k

बचपन से ही भारतीय सेना के जवानों के लिए मेरे मन में बहुत आदर था। मेरे परिवार में कोई भी सेना में नहीं है। मैंने सिर्फ सिनेमा में सैनिकों ...

मुख़बिर - 1
by राज बोहरे
  • (13)
  • 788

मैंने इस बार शायद गलत जगह पांव रख दिया था। पांव तले से थोड़ी सी मिट्टी नीचे को रिसकी थी, जिससे हल्की सी आवाज हुई। मुझे लगा, मेरी गलती ...

मौत का साया
by Mohd Siknandar
  • 106

इस कहानी की शुरुआत अमेरिका के सेना हैडक्वार्टर से हुई , जहां पर सेना की रेसक्यू टीम (बचाव दल ) के एक खास दस्ते को हैलीकाप्टर की मदद से ...

हैवनली हैल - 1
by Neelam Kulshreshtha Verified icon
  • 118

हैवनली हैल नीलम कुलश्रेष्ठ (1) वह रिसेप्शन में सोफ़े पर देखती है सारे हॉल में मैरून सफेद फूलों वाला ग्रे कलर का गुदगुदा कालीन बिछा हुआ है.एल के आकर ...

शौर्य गाथाएँ - 1
by Shashi Padha
  • 610

(कैप्टन अरुण जसरोटिया, अशोक चक्र, सेना मेडल, निशाने पंजाब ) 'संत सिपाही', विरोधाभास लगता है न आप सब को, कि हिंसक - अस्त्र-शस्त्रों के साथ शत्रु संहार की शिक्षा-दीक्षा लेने ...

चिंटू - 1
by V Dhruva Verified icon
  • (22)
  • 1.1k

            मां मुझे भूख लगी है, हमे खाना कब मिलेगा? उसकी मां उसे अपनी गोद में बिठाकर कहती है जल्दी ही। पर ये तो ...

वैश्या -वृतांत
by Yashvant Kothari Verified icon
  • (136)
  • 4.9k

देह व्यापार.विवेचन इनसाइक्लोपेडिया ब्रिटानिका के अनुसार देह व्यापार का अर्थ है मुद्रा या धन या मंहगी वस्तु और षारीरिक सम्बन्धों का विनिमय। इस परिभापा में एक षर्त ये भी ...

शापित खज़ाना
by Deepak Pawar
  • (71)
  • 1.4k

  शहर से दूर महाराष्ट्र के मिडिल मराठवाड़ा के पहाड़ों के बीच चट्टानों से घिरे इस जंगल के पहाड़ों की गुफाओं में हलचल होती है जिनमें से भूकंप की ...

नाख़ून - 1
by Vijay 'Vibhor'
  • 194

उन दिनों बहुत कम घरों में फोन होते थे। सुविधानुसार लैंडलाईन पर बात करने के लिए मोहल्ले वाले अपनी रिश्तेदारियों में पड़ौसियों का नम्बर दे देते थे। ताकि अड़ी–भीड़ में ...