हीरोइन - 12 Prabodh Kumar Govil द्वारा उपन्यास प्रकरण में हिंदी पीडीएफ

हीरोइन - 12

सदी के आखिरी दशक में भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय सौंदर्य स्पर्धाओं से बेहद उत्साह जनक खबरें आईं। लगातार कई विश्व सुंदरियां और मिस यूनिवर्स तक भारत से हुईं।
सुंदरता का झरना कहीं बहे,और उसका असर फिल्मी दुनिया पर न हो, ये मुमकिन नहीं।
लिहाज़ा मिस वर्ल्ड ऐश्वर्या राय, प्रियंका चोपड़ा, युक्ता मुखी, मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन और लारा दत्ता सहित दीया मिर्ज़ा और नेहा धूपिया आदि फिल्मी दुनिया में अपने जलवे बिखेरने चली आईं।
कई बड़े निर्माता निर्देशकों ने रूप की इन देवियों पर दाव लगाए। एक बार तो ऐसा लगने लगा मानो ब्यूटी कॉन्टेस्ट फिल्मी दुनिया का एंट्री प्वाइंट ही बन गया हो।
लेकिन काजोल, रानी मुखर्जी, करिश्मा कपूर, प्रिटी जिंटा, रवीना टंडन आदि के लगातार सक्रिय रहने के चलते इन सौंदर्य की दुनिया से आई अभिनेत्रियों को सीमित सफलता ही मिली।
ऐश्वर्या राय ने "अा अब लौट चलें, जींस, हम दिल दे चुके सनम, ताल और गुरु" जैसी भव्य और कामयाब फ़िल्मों की बदौलत सभी समकालीन अभिनेत्रियों में बढ़त बना ली। धीरे - धीरे वो निर्माताओं और दर्शकों की सर्वाधिक पसंदीदा अभिनेत्री बनने लगीं।
फ़िल्मों में निरंतर नए प्रयोग होते रहे और एक बार फिर मल्टी स्टारर फ़िल्मों का दौर आ गया। ऐसे में वही अभिनेत्रियां अपनी छाप छोड़ने में कामयाब हुईं जो भीड़ में अलग नजर आने की काबिलियत रखती थीं।
ऐसे में फ़िल्मों के ट्रेड पंडितों ने ऐश्वर्या राय को दर्शकों की कसौटी पर पहली पसंद बताते हुए वक़्त की नंबर एक नायिका घोषित कर दिया। काजोल अब काफ़ी गिनी चुनी फ़िल्में ही कर रही थीं क्योंकि उनके प्रेम के चर्चे अब उनके विवाह की अटकलों में बदलने लगे थे। वो अजय देवगन से शादी करने वाली थीं। इन पति पत्नी ने साथ में भी कई फ़िल्में कीं।
इधर ऐश्वर्या राय बच्चन के लिए सलमान खान के साथ प्रेम संबंध होना, फ़िर ब्रेकअप होना, और फ़िर बच्चन परिवार की बहू के रूप में अभिषेक बच्चन से विवाह होना उनके कद और लोकप्रियता को बढ़ाने वाला ही सिद्ध हुआ।
सुष्मिता सेन की भी कई अच्छी फिल्में आई किन्तु ऐश्वर्या का पलड़ा उनके मुकाबले फिल्मी दुनिया में भारी ही रहा। ऐश्वर्या राय के साथ साथ वैसे तो युक्ता मुखी ने भी फ़िल्मों में कदम रखा पर ऐश्वर्या जैसी कामयाबी उन्हें हासिल नहीं हुई। वो जैसे आई थीं वैसे ही ओझल भी हो गईं।
ऐश्वर्या राय बच्चन की सफ़लता और लोकप्रियता उन्हें सभी तत्कालीन अभिनेत्रियों से आगे ले आई। उनके न केवल रूप के चर्चे हुए बल्कि उनके अभिनय की भी अच्छी खासी सराहना हुई।
ये एक ऐसा समय था जब फिल्मों में विदेशी कथानक, विदेशी लोकेशंस, पात्रों का विदेशी नज़रिया तथा उत्कृष्ट विदेशी तकनीक काफ़ी पसंद की जा रही थी। फ़िल्म निर्माण पर पैसा खर्च भी ख़ूब हो रहा था और कमाया भी ख़ूब जा रहा था। फ़िल्मों की गुणवत्ता इसी बात से आंकी जा रही थी कि वो कितनी कमाई कर रही हैं। ऐसे में ऐश्वर्या राय का "मिस वर्ल्ड" होना सोने पर सुहागा की तरह था। उनकी लोकप्रियता अन्य कई देशों में भी थी। साथ ही इन सौंदर्य की देवियों में शायद एक अकेली वही थीं जिनके चेहरे पर भारतीय की परंपरागत झलक भी दिखाई देती थी। वो नृत्य में भी प्रवीण थीं। ऐसे में उनकी ख्याति को मान्यता मिलने में ज़रा भी देर नहीं लगी। वो सबसे आगे निकल गईं।
इस तरह शताब्दी खत्म होते - होते ऐश्वर्या राय की कामयाबी और लोकप्रियता ने उन्हें नरगिस, मधुबाला, मीना कुमारी, वैजयंती माला, साधना,शर्मिला टैगोर,हेमा मालिनी, रेखा, श्रीदेवी,माधुरी दीक्षित, और काजोल के बाद टॉप हीरोइनों के ऑल टाइम "नंबर वन क्लब" में शामिल कर दिया।


रेट व् टिपण्णी करें

Prabodh Kumar Govil

Prabodh Kumar Govil मातृभारती सत्यापित 2 महीना पहले

कैप्टन धरणीधर

कैप्टन धरणीधर मातृभारती सत्यापित 2 महीना पहले

Shakti Singh Negi

Shakti Singh Negi मातृभारती सत्यापित 2 महीना पहले