में और मेरे अहसास - 43 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

में और मेरे अहसास - 43

शरारत मुहब्बत बन गई है l
शराफत इनायत बन गई है ll

तुम्हारी याद मे लिखीं हुईं l
दैनन्दिनी रवायत बन गई है ll

*************************************

दिन तो गूजर जाता है l
रात काटे नहीं कटती ll

खंजर की तरह चुभती है l
याद टाले नहीं टलती ll

  *************************************

हर शाम सुहानी नही होती l
कभी पुरी कहानी नही होती।l

जैसे सबाब की उम्र नहीं होती l
वैसे शराब पुरानी नहीं होती ll

मुहब्बत कभी भी हो जाती है l
हर इश्क को जवानी नही होती।

कई दिल फैक होते हैं जहा मे l
हर मुहब्बत रूहानी नहीं होती ll

मिलने की तड़प हद से बढ़े तो l
मुलाकात लुभानी नहीं होती ll

इशक से मिलन की रात हर  l
पूनम की तूफानी नहीं होती ll

  *************************************

दर्द ने दुनियादारी सीख ली है l
इन्सां देखकर डाका डालता है ll

  *************************************

ढूढ़ ने से कहा मिलता है सच्चा चाहने वाला l
नसीब से ही मिलता है सच्चा चाहने वाला ll

  *************************************

भाग्य की रेखा हाथो में होती है l
बिना हाथ वाले भाग्यशाली होते हैं l

  *************************************

कुछ ना कहकर भी बहोत बोलती है ये आँखे l
सच को सच का आईना दिखाती  है ये आँखे ll

  *************************************

सुनो, प्रेम रीत की बात निराली l
तुझ से हो गई मुलाकात निराली ll

  *************************************

हाथ ना छोड़ेगे l
साथ ना छोड़ेगे ll

तुझ से किया हुआ l
वादा ना तोड़ेगे ll

प्यार के रास्ते में l
राह ना मोड़ेगे ll

हाथ ना छोड़ेगे l
साथ ना छोड़ेगे ll

चाहें काँटो भरी हो l
राह ना छोड़ेगे ll

सुरों की महफ़िल मे l
राग ना छोड़ेगे ll

चांद सितारों वाली l
रात ना छोड़ेगे ll

मिलन की रातों में l
बात ना छोड़ेगे ll

  *************************************

मेरे दिल मे कोई दस्तक दे गया l
चैन दिल का कोई आज ले गया ll

ये दिल उस पागल पर हार गया।
उसकी हर अदा पे वार मे गया ll

  *************************************

अश्कों के पीछे छुपी कहानी होतो है l
यादों के पीछे छुपी कहानी होतो है ll

मंज़िल तक पहुंचने के लिए साथ चले l
राहों के पीछे छुपी कहानी होतो है ll

  *************************************

कौन रोक सकता है बहता पानी l
वो तो करता है अपनी मनमानी ll

लंबे समय तक प्यासा ना रहे कोई l
बग़ैर उसके जान हो जाती है फानी ll

  *************************************

सभल जा नादान दिल अभी वक़्त है l
मतलबी लोगों की मतलबी दुनिया है ll

  *************************************

यादें रह जाती है l
बातें रह जाती है ll

चांदनी से भीगी हुई l
राते रह जाती है ll

अकेली सुम साम l
राहें  रह जाती है ll

तानसेन चला गया l
ताने रह जाती है ll

जुदाई से भरी लम्बी l
शामे  रह जाती है ll

शायर चला जाता है l
दादें रह जाती है ll

अधूरी मुहब्बत में l
आहें रह जाती है ll

जान चली जाती है l
लाशे रह जाती है ll

२७-९-२०२१

  *************************************

इश्क़ की अनमोल कहानी इतनी सी है l
जब से तुम मिले हो जिंदगी सुहानी है ll

  *************************************

अंधेरों मे भी चिराग जलाती है बेटियाँ l
माँ बाप का नाम रोशन करती है बेटियाँ ll

न समझो कमजोर और अबला उसको l
हवा में जहाज उड़ा सकती है बेटियाँ ll

थोड़ा प्यार थोड़ा सा हौसला बढ़ाओ l
कायनात मे खुशबु भरती है बेटियाँ ll

ग़र अपने पर उतर आए तो आसमान l
उड़ ने की क्षमता रखती  है बेटियाँ ll

लक्ष्मी बाई की तरह बहादुर निडर है l
युद्ध में तोप चला सकती  है बेटियाँ ll
२६-९-२०२१

  *************************************

जिंदगी के फलसफे कौन जान पाया है l
जहां मे जी भर के कौन जी पाया है ll

  *************************************

आँखों से बातेँ करना अच्छा लगता है l
यादों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

शरद पूनम की भीगी भीगी चांदनी मे l
रातों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

उम्रभर चाहूँगा ये कसमें खाने वालो के l
वादों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

छत पर सोते समय इश्क की यादों में l
तारों से बातेँ करना अच्छा लगता है ll

प्रियतम का नाम लिखी हुई मेहंदी वाले l
हाथों से बाते करना अच्छा लगता है ll

  *************************************

बारिस में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है l
यादो में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

मनचाहे और मनभावन के साथ भीगी भीगी चांदनी l
रातों में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

बेपनाह प्यार में जन्मों जन्म का साथ निभाने के l
वादों में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

सुहाने मौसम में दिल से की हुए घंटों फोन पर l
बातों में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

आज इज़हार करते हैं तुम तक आती जाती हुई हर l
राहो में भीगने भिगोने का मज़ा कुछ और होता है ll

  *************************************

बादल बरस रहे हैं l
आँखें छलक रही है ll

जाम के नशे में देख l
बातेँ छलक रही है ll

दुल्हन का घूंघट खुला l
राते छलक रही है ll

पुरानी तस्वीरो से l
यादें छलक रही है ll

मिलन की रातों में l
साँसे छलक रही है ll

  *************************************

जो ख्वाबो मे था, वो आज हकीकत बन गया,
वो पथ्थर दिल धीरे धीरे मेरी चाहत बन गया।

जो ख़यालों मे था वो आज हक़ीक़त बन गया l
जो सुबह शाम मे था वो आज इबादत बन गया ll

  *************************************

मेक आप करना जरूरी है l
खुशी से सजना जरूरी है ll

दिल के पिटारो मे मीठी l
यादो को भरना जरूरी है ll

बेहतरीन मुस्कतबिल को l
खूबसूरत सपना जरूरी है ll

मुकमल जिंदगी जीने के लिए l
कायनात मे अपना जरूरी है ll

हमसफर का हमसाया बनकर l 
साथ साथ चलना जरूरी है ll

  *************************************

होले होले दिल तेरा हो गया l
प्यारे मीठे सपनों मे खो गया ll

मीठी मीठी बातों मे उलझाकर l
खूबसूरत ख्वाबो को बो गया ll

अपने रंगीले रंग में रंग के फ़िर l
गहरी चैन की नीद मे सो गया ll

जिसने राबता रखा अरमानो से l
इश्क़ करके काम से वो गया ll

पिघलती रहीं शमा रातभर युही l
जुस्तजू से तलबगार जो गया ll

  *************************************

मैं और मेरी डायरी तेरी यादों में गुमसुम है l
बहके बहके हुए तेरे वादों से सुनमून है ll

  *************************************

ये इश्क,ये महोब्बत,ये प्यार इबादत तो है।
ये गुनाह है तो हमे हर गुनाह की चाहत तो है।l

मिलों की दूरियां जुदा नहीं कर पाई है l
हम दिल से साथ है आज भी ये राहत तो है ll

  *************************************

मेरे नीदों मे चंद चाहत भरे ख्वाब है l
तेरी मुस्कराहट देख खिला माहताब है ll

  *************************************

रेट व् टिपण्णी करें

वात्सल्य

वात्सल्य मातृभारती सत्यापित 8 महीना पहले