प्यार का ज़हर - 27 Mehul Pasaya द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
  • The Mystery of the Blue Eye's - 6

    दरवाजा एक बुजुर्ग आदमी खोलता है और अपने चौखट के सामने नौजवान...

  • पागल - भाग 40

    भाग–४० मिहिर और निशी भी जल्दी राजीव के घर पहुंच गए । सभी राज...

  • जादुई मन - 15

    जैसे जाते हुए किसी व्यक्ति की गर्दन पर नजर जमाकर भावना करना...

  • द्वारावती - 34

    34घर से जब गुल निकली तो रात्रि का अंतिम प्रहर अपने अंतकाल मे...

  • डेविल सीईओ की मोहब्बत - भाग 6

    अब आगे, आराध्या की बात सुन, जानवी के चेहरे पर एक मुस्कान आ ज...

श्रेणी
शेयर करे

प्यार का ज़हर - 27

" दरसाल भैया ये बात मेरे पप्पा की थी की हम राज को वहा लेजाकर सब कुच जानेंगे फिर शादी होगी वरना नही "

" कमाल है अरे भाई खानदानी बन्दे है यार कोई चडक चाप रोमियो नही है जो जान्ने की जरुरत पड़ेगी राज के बारे मे या घर पे रह कर गये फिर भी पता नही चला है "

" शान्त हो जाओ राहुल पहले और अब ये राज नही जायेगा वहा ठीक है "

" ठीक है "

" राज बेटा तुम हयाती को उसके घर भेज कर आओ ठीक है सही सलामत "

" ठीक है पप्पा हो अभी आता हू "

कुच देर बाद...

《 यहा पे शादी को लेकर बवाल चल रही थी लेकिन उधर दुसरी तरफ बुराई का केहर वापस उबल रहा था और अब तो महेर भी इन लोगो के बिच मे घुल मिल गये थी लेकिन वो बुराई का भवंड़र आने वाला है वो किसीको नही पता है और महेर को भी इस बात का प्रतीत नही है अब आगे 》

" स्वागत है आपका मेरि इस काल की दुनिया मे जहा पे अच्छाई का नाम और निसान तक नही है बहुत इन्तज़ार कीया है अच्छाई वाली दुनिया मे जाने का लेकिन अब वक़्त आ गया है की जाईये जहर फेलाने का अब देखो मे बुराई को फैला कर कैसे उस अच्छाई वाली दुनिया पे राज करता हू "

" लेकिन काले दुनिया के काले बद्साह आप ये सब करोगे कैसे अच्छाई वाली महरानी महेर वहा बैठी है जिसके आगे हमारा तो कुच वेल्यू नही आयेगी "

" बटक तुम हमे हल्के मे ले रहे हो ये गलती कभी मत करना ठीक है तुम सिर्फ मेरा नाम जानते हो मेरा कारनामा नही जानते इस लिये चुप बैठो "

" जी काले बदसाह क्षमा चाहते है इस भुल के लिये "

" हाहाहाहा मे हू इस काली दुनिया का काला बद्साह अब लाऊंगा कहेर उस रंग बेरंगी अच्छाई वाली दुनिया मे पृथ्वी वासियों मे आ रहा हू "

" बद्साह जी मे भी आऊंगा क्या आपके साथ "

" तुम आलू छिलको गे यहा पर बैठे बैठे "

" जी बाद्साह जी आ रहे है "

कुच देर बाद...

" नमश्कार मे हू रिपोर्टर मनीष साह और आप देख रहे है आज की बडी खबर और आज बडी खबर मे हम आपको बताना चाहते है की हमारे शहर मे किसी भी वक़्त कही पे कुच भी हो सकता है तो आपको हम सुचित करना चाहते है की सतर्क रहे होसियार रहे है और सबको सवाधन रहने को बोलिए क्यू की हमारे वेज्ञानिकॉ ने पता कीया है की नक्शे मे एक ऐसी जगह बताय गई है की वहा से कुच जीवो के आने का संकेत मिल रहा है और ये हमारी पृथ्वी पर कभी भी आ सकते है हाला की अभी तक उन लोगो ने कोई प्रतिक्रिया नही दी है लेकिन वो कभी भी हमला कर सकते है इस लिये सावधान रहे और अगली खबर जानने के लिये जुडे रहे मेरे साथ मे हू मनीष साह रिपोर्टर "

आगे जान्ने के लिए पढते रहे प्यार का ज़हर और जुडे रहे मेरे साथ