कर्ण पिशाचिनी - 2 Rahul Haldhar द्वारा डरावनी कहानी में हिंदी पीडीएफ

कर्ण पिशाचिनी - 2

भाग - 2


विजयकांत को जब होश आया तब उसने देखा कि वो एक घर के आँगन में लेटा हुआ है । चारों तरफ बहुत सारे जिज्ञासु चेहरे उसे ही देख रहे थे । विजयकांत को होश आते ही वह लोग आपस में बात करने लगे ।
" पंडित जी होश आ गया । "
इसके बाद जो बूढ़ा ब्राह्मण पास आकर उसके नाड़ी को जांच करने लगे , उन्हें देखकर विजयकांत आश्चर्य में पड़ गया । क्योंकि यही वो आदमी है जिसके घर विजयकांत आ रहा था ।
इनका नाम महानंद आचार्य है । ये विजयकांत के कुल गुरु हैं । अपने पिता के निर्देश से एक जरूरी चिट्ठी पहुंचाने के लिए वह इनके पास आ रहा था ।
विजयकांत के उठ कर बैठते ही महानंद जी बोले ,
" आज आराम करो । कल तुम्हारी सभी बातों को सुनुँगा ।
तुम खेत में बेहोश होकर पड़े थे । खेतों में जाने वाले लोगों ने जब तुम्हें देखा तो मेरे पास लेकर आए । मैं उन्हें थोड़ा बहुत औषधि देता हूं इसीलिए मेरे ऊपर वो सभी भरोसा करते हैं । तुम्हारे पूरे शरीर में मिट्टी व कीचड़ लगा था इसीलिए पहले मैं पहचान नहीं पाया । उन्होंने तुम्हारे जेब से एक चिट्ठी निकालकर मुझे दिया । तब मुझे पता चला कि तुम रामदास के लड़के हो । बेटे तुम शायद गलती से श्मशान की तरफ चले गए थे । कल का रात बहुत ही भयानक था । कुशग्रहणी अमावस्या में कोई भी गृहस्थ व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकलता । तुमने बहुत ही बड़ी गलती कर दी थी इस दिन बाहर निकलकर । तुम्हारे ऊपर जरूर ईश्वर की कृपा है वरना इस बार तो बचना मुश्किल था । दो दिन यहीं पर रहो , जब ठीक हो जाओगे तब घर चले जाना । "

बूढ़ी मां की देखरेख से विजयकांत एक दिन में ही ठीक हो गया । केवल दिमाग व मन में जो आतंक था वह समाप्त नहीं हुआ ।
अगले दिन सुबह महानंद जी ने विजयकांत से उस रात की पूरी घटना को सुना । सुनने के बाद कुछ देर चुपचाप बैठे रहे फिर बोले,
" उस दिन गोपालेश्वर का कर्ण पिशाचिनी साधना में सिद्धि लाभ नहीं हुआ । जिसका कारण तुम ही हो लेकिन यह तुम्हारे लिए अच्छी बात नहीं है । वह तुम्हें हमेशा मारने की कोशिश करेगा क्योंकि उसके इतने दिनों की साधना खराब हुई है । "
विजयकांत बोला ,
" गुरुदेव , यह कर्ण पिशाचिनी साधना क्या है ? "
" यह एक पिशाच साधना है । इस साधना में शव के अंदर देवी कर्ण पिशाचिनी प्रकट होती हैं । अगर वो संतुष्ट हो गई तो जीवन भर हमेशा साथ रहेंगी । किसी भी व्यक्ति या वस्तु के बारे में साधक को सबसे पहले कर्ण पिशाचिनी कानों में बता देगी । इसे सिद्ध करने वाले साधक किसी का भी भविष्य जान सकते हैं तथा बहुत सारे शक्तिओं को पाते हैं । पिशाच साधना निम्न श्रेणी की साधना है । इस साधना के वक्त वातावरण लाश सड़ने जैसी गंध से भर जाती है । ऐसे साधक नरमांस भी खा सकते हैं । "
विजयकांत आश्चर्य होकर सुनता रहा फिर बोला,
" लेकिन क्या वह मुझे छोड़ देंगे? मैंने तो उनकी साधना को भंग किया है । "
" मैं तुम्हें महामृत्युंजय कवच दूंगा , जिससे वह तुम्हें मार नहीं पाएगा । लेकिन बार-बार तुम्हारे सामने विपत्ति आएगा । "
" लेकिन गुरुदेव मैंने तो कुछ भी जानबूझकर नहीं किया ।
आखिर वैसे भयानक दृश्य को देखकर कौन नहीं डरेगा ।"
" बेटा मैं सब कुछ समझ गया । लेकिन जो पिशाच साधना करते हैं वो अलौकिक सुख के अभिलाषी होते हैं अगर उसमें बाधा पड़ती है तो बहुत ही ज्यादा क्रोध से भर जाते हैं । फिर भी तुम चिंता मत करो , आज रहो और कल कवच लेकर चले जाना । "
अगले दिन हमेशा के लिए अभिशाप व महामृत्युंजय कवच को साथ लेकर विजयकांत बैलगाड़ी में बैठकर स्टेशन की ओर रवाना हुआ ।...

उस कुशग्रहणी अमावस्या की रात को श्मशान के आसपास दूर - दूर के कुटी में रहने वाले देवी भक्त व सितारा बजाकर ईश्वर नाम जप करने वालों को एक भयंकर क्रोध हाहाकार की आवाज़ सुनाई दिया ।
इसे चिल्लाहट या हुंकार कहें , इस बात को वो सरल डरपोक लोग समझ नहीं पा रहे थे । वो सभी केवल आवाज को सुनकर आँख बंद करके काँपते रहे । माओं ने आतंकित होकर अपने छोटे बच्चों को सीने से लगाए रखा । हुंकार की आवाज़ ऐसी थी मानो बाघ से उसका शिकार किसी ने छीन लिया है अथवा जैसे किसी के आखों में गर्म लोहे की तीली डाल दिया गया है ।
सुबह डरते हुए उन्होंने अपने घर वह कुटी से बाहर निकल कर देखा । नहीं कहीं कोई भयानक घटना की चिन्ह नहीं है । केवल जहाँ बड़े - बड़े पेड़ों से घिरे एक जगह पर अक्सर राह चलते साधु अपना डेरा बांध लेते हैं , वहीं पर एक यज्ञ कुंड और एक खोपड़ी तथा कुछ अधजला लकड़ी पड़ा हुआ है । वहीं पास में एक नग्न लड़की का शव भी है ।
एक कपड़े से शव को ढककर वो सभी नंद ठाकुर के पास चल पड़े । उनके एकमात्र गुरु महाशय महानन्द आचार्य जिन्हें वो सभी नंद ठाकुर कहकर बुलाते थे । महानंद जी ने उन लोगों से सब कुछ सुना फिर बोले ,
" चलो , मैं एक बार उस जगह को देख लेता हूं । "
सब कुछ देख कर महानंद जी समझ गए कि कोई यहां पर तंत्र साधना कर रहा था । शायद साधना में कोई बाधा उत्पन्न हुई इसीलिए शव के साथ साधना सामग्री भी यहीं पर रखा हुआ है । वहाँ उपस्थित दुसरे लोग थोड़े ज्यादा डरपोक हैं अगर उन्हें सच पता चला तो डर जाएंगे इसीलिए उन्होंने बोला ,
" कल कुशग्रहणी अमावस्या था । पास ही श्मशान है । इस रात को बहुत सारे अशुभ शक्ति जमीन पर आते हैं ।
अलौकिक घटनाएं घटती है लेकिन तुम सभी को डरने की कोई जरूरत नहीं । अब इस जगह को नदी के पानी से धो डालो और शव को श्मशान में ले जाकर इसका दाह -संस्कार करके फिर नदी में नहा धोकर घर चले जाओ । मैं हूं डरने की कोई जरूरत नहीं । "
यह सुनकर वो सभी दाह के कार्य में लग गए । इसके बाद महानंद जी घर लौट आए । वहाँ एक और घटना , खेत में बेहोश पड़े विजयकांत को किसानों ने उनके घर उठाकर लाया है । होश आने के बाद उसके पास से सभी घटना व तांत्रिक के शरीर गढ़न को सुनकर महानंद जी समझ गए कि यह गोपालेश्वर के अलावा और कोई नहीं हो सकता ।
गोपालेश्वर उनके बचपन का साथी है । अब हम गोपालेश्वर के बारे में कुछ जान लेते हैं । ,
गोपालेश्वर इसी गांव के एक गरीब पंडित का लड़का था ।
उसके पिता का रामराम मुखर्जी इस टोली में यहाँ के पुजारी थे । योग मार्गदर्शन का अभ्यास करते , तथा वास्तु शास्त्र, ग्रह - नक्षत्र व कुंडली भी देखते थे । वो सात्विक व अच्छे आदमी थे , सरल जीवन यापन में विश्वास रखते । अपने एकमात्र लड़के गोपाल के हाथों की रेखाओं को देखकर उन्हें उसके अशुभ भविष्य का पता चला था ।
बचपन से ही गोपाल के मन में भोग देकर शक्ति पाने की इच्छा रहती । जब तक उसकी मां जिंदा थी तब तक उसे सभी गलत रास्ते से दूर रखती थी । लेकिन गोपाल की मां का बुखार से जब देहांत हुआ तब गोपाल केवल 17 साल का था । कुछ दिनों बाद ही वह गांव के बाहर वाले श्मशान में कुछ साधुओं से जाकर मिला । और दिन भर उन साधुओं के साथ समय बिताने लगा । तंत्र विद्या सीखने के लिए उन साधुओं की सेवा करता , इसके बदले उसे गांजा और भांग का प्रसाद भी मिलता । तथा कुछ छोटे - मोटे जादू भी सीख लेता । रामराम के कई बार समझाने पर भी उसके दिमाग से यह बुखार नहीं उतरा ।
इसके कुछ दिनों बाद गांव में कुछ घटनाएं होने लगी । गांव में अक्सर ही छोटे पशुओं का मरा हुआ शरीर मिलने लगा । अमानवीय तरीके से उनकी हत्या की जाती थी ।
कोई उनके पिछले दोनों पैरों को दो तरफ खींचकर चमड़े व मांस को फाड़ डालता , जिसके कारण पेट के अंग जमीन पर पड़े रहते । गांव के एक कसाई ने ठीक से देख कर बताया कि प्रतिदिन सभी मरे हुए जानवर में कोई न कोई अंग गायब रहता है । ऐसी पशु हत्या कौन कर रहा है यह किसी को पता नहीं चला । गांव के लोग शाम होने से पहले ही अपने मुर्गी , बत्तख , बकरी यहां तक कि कुत्ते - बिल्लियों को भी छोटे - छोटे बाड़े के अंदर बंद रखना शुरू कर दिया । कुछ दिन बाद सब कुछ बंद हो गया । अब लोगों को लगा वो इससे छुटकारा पा चुके हैं ।
ऐसे ही एक दिन किसी की गाय घास चरने गई लेकिन लौटकर नहीं आई । बहुत ही खोजबीन के बाद वह कोपाई नदी के किनारे मिली । तब तक उस गाय के आंखों से निकलने वाली आंसू सूख चुकी थी । बीच-बीच में वह किसी दर्द से कांप रही थी । उसके मुँह पर ताज़ा खून लगा हुआ था । सभी आश्चर्य होकर सोच रहे थे कि गाय के मुंह पर खून क्यों लगा है । तभी उस गाय के मालिक ने देखा कि गाय का जीभ किसी ने काट लिया है । ऐसे विभत्स दृश्य को देखकर सभी दौड़ते हुए रामराम पंडित के पास पहुंचे । लेकिन वो तो पंडित हैं कोई पुरोहित व गुरु नहीं इसीलिए उनकी ज्यादा मदद नहीं कर सके ।
पूरे गांव में इस घटना के बाद आतंक ऐसे फैल गया कि लोग रास्ते पर अकेले चलने से भी डरने लगे ।
रामराम पंडित के मन में एक संदेह हो चुका था । वो जान चुके थे कि यह कार्य निम्न श्रेणी के तंत्र साधना के क्रियाकलाप का अंश है । कोई प्रथम स्तर के तंत्र साधना से खुद को तैयार कर रहा है । गोपाल के ऊपर उनकी कड़ी नजर थी । वो गोपाल के पास आते ही एक सड़ा हुआ गंध पाते थे । इस वक्त गोपाल के अंदर साफ सुथरा रहने का कोई लक्षण नहीं दिखता , वह तो अपने बाल व दाढ़ी को भी काटना नहीं चाहता । पूरा दिन सोता रहता और शाम होते ही घर से निकल पड़ता । वह रात को लौटकर आता इस बारे में पंडित रामराम को पता ही नहीं चलता । उस दिन गांव के लोगों के जाने के बाद पंडित रामराम अपने बेटे गोपाल के झोपड़ी में गए । गोपाल उस वक्त गहरी नींद में सो रहा था । झोपड़ी में घुसते ही एक अन्य तरह का गंध उनके नाक में गया । अपने नाक को हाथ से दबाकर वह इधर उधर ना जाने क्या ढूंढने लगे ।
जल्द ही उन्हें एक कपड़े के झोले में कई प्रकार के पशुओं के अंग मिले । उसी में एक ताज़ा कटा हुआ जीभ भी था शायद उसी गाय की है । यह देख पंडित रामराम कुछ भी बोलने की हालत में नहीं थे । गोपाल के हाथ की रेखाएं उन्हें याद आई , जिसमें उन्होंने देखा था कि यह लड़का बहुत सारे मृत्यु का कारण बनेगा । भोग - लालसा के लिए वह बहुत दूर तक जा सकता है । अपने भाग्य को वो कोसने लगे ।
ब्राह्मण परिवार में ये कौन पैदा हो गया । अब वो क्या करें ? सोचते हुए उनका सिर चकराने लगा था , किसी तरह दीवार से खुद को संभाला । लेकिन इस आवाज़ से गोपाल जाग गया ।
अपने क्रिया कांड वाले वस्तुओं के सामने पिता को खड़ा देख उसके मुँह से एक क्रूर हंसी निकल आई । वह बोला ,
" आपको जब सब कुछ पता चल ही गया है तो यहां पर और समय मत व्यर्थ कीजिए । "
पंडित रामराम कुछ देर शांत होकर खड़े रहे । इसके बाद कड़क आवाज़ में बोले ,
" तुम अभी इस घर को छोड़कर बाहर निकल जाओ । तुम्हें मैं अपने घर से बेदखल करता हूं । कभी भी इस घर की तरफ मुड़कर भी मत देखना । "
इतना बोलकर पंडित रामराम झोपड़ी से निकलकर गमछा लेकर कोपाई नदी में नहाने चले गए ।
बहुत देर तक नदी में नहाने के बाद जब वो घर लौटे , उस वक्त गोपाल जहाँ रहता था वह झोपड़ी खाली हो चुकी थी । अगले दिन पंडित रामराम ने पूरा घर धोकर शुद्धि पूजा समाप्त किया । उसके बाद गांव में होने वाले सभी उपद्रव समाप्त हो गए ।
गोपाल अपने भविष्य के पथ पर खो गया । घर से निकालें गोपाल की मृत्यु हुई लेकिन गोपालेश्वर बचा रहा ।
सांप जैसे अपने पुराने केंचुल को छोड़कर नए में प्रवेश करता है , गोपालेश्वर ने भी अपने सात्विक ब्राह्मण परिचय को त्यागकर तंत्र साधना के मार्ग में प्रवेश किया ।
कहां गया ? क्या कर रहा है ? इस बारे में कभी किसी ने जानना नहीं चाहा ।.....

।। अगला भाग क्रमशः ।।


@rahul

रेट व् टिपण्णी करें

Mom's Tips by pallavi

Mom's Tips by pallavi 8 महीना पहले

Prakash Parmar

Prakash Parmar 12 महीना पहले

Vadhavana Ramesh

Vadhavana Ramesh 12 महीना पहले

sonal

sonal 12 महीना पहले

Shakti Singh Negi

Shakti Singh Negi मातृभारती सत्यापित 1 साल पहले