हिंदी डरावनी कहानी कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

नर्क - 12
द्वारा Priyansu Jain

"आयु मेरी तुमसे ये अपेक्षा न थी। तुमने उस ग्रह को सिर्फ इसलिए नष्ट किया क्यूँकि तुम प्राचीन जीवन मिटाकर नवीन रचना करना चाह रहे थे?? तुमने ये भी ...

दानव द रिस्की लव - 20
द्वारा Pooja Singh

….……Now on ……….विवेक : हां मां phone कर लो ……मालती : हां …. (In phone )……हेलो ! अदिति …उधर फोन बबिता उठाती है ……बबिता : जी ….माफ किजिए पर ...

नर्क - 11
द्वारा Priyansu Jain

"सर, मैं ऐसी ड्रेस नहीं पहन सकती मेरे घर वाले अलाऊ नहीं करते." "मिस निशा, ये बहाना नहीं चलेगा। जहाँ तक मुझे मालूम है, आप और आपके भाई के ...

दानव द रिस्की लव - 19
द्वारा Pooja Singh

……Now on ………आदित्य : संभलकर बैठो अदि……!अदिति : हां …. भैय्या..... (Sit पर सिर टिकाकर बैठ जाती हैं )………in aditi ' s house ……आदित्य : अदि चल बाहर ….अदि ...

नर्क - 10
द्वारा Priyansu Jain

ओह्ह्ह्ह माय गोड, वो दरिंदा मेरे से कोई पुरानी जान पहचान निकाल रहा था। वो मुझे पहले से जानता था। पर मुझे तो याद ही नहीं आ रहा। हो ...

श्रापित रंगमहल--(अंतिम भाग)
द्वारा Saroj Verma

रात हुई और श्रेयांश रात का खाना खाकर फिर से अपने कमरें में पहुँचा, जब वह अपने कमरे में बिस्तर पर लेटा तो उसे जोर जोर से फिर से ...

श्रापित रंगमहल--भाग(४)
द्वारा Saroj Verma

धूमकेतु के ऐसे आचरण से शाकंभरी विक्षिप्त हो चुकी थी,उसे स्वयं से घृणा हो रही थी,उसे अब अपने भ्राता पुष्पराज की प्रतीक्षा थी कि वो शीघ्र ही राजमहल आकर ...

नर्क - 9
द्वारा Priyansu Jain

3 हजार वर्ष पहले एक अज्ञात स्थान पर "तुम ये क्या प्रालाप (बकवास) कर रहे हो?? जानते हो, इसका परिणाम मृत्यु हो सकता है??" एक सुसज्जित योद्धा अपने समक्ष ...

दानव द रिस्की लव - 18
द्वारा Pooja Singh

………Now on…….अदिति : भैय्या..... चलो please ….!आदित्य : अदि ….सुबह होने दे ….इशान कह रहा था अदिति : भैय्या..... मुझे कुछ नही सुनना ….आप चल रहे हो या नहीं ...

श्रापित रंगमहल--भाग(३)
द्वारा Saroj Verma

शाकंभरी रात्रि के भोजन की ब्यवस्था करने लगी,उसने कुटिया के कोने पर बने मिट्टी के चूल्हे में भोजन बनाना प्रारम्भ कर दिया,भोजन पक जाने के उपरान्त उसने सभी के ...

श्रापित रंगमहल-भाग(२)
द्वारा Saroj Verma

श्रेयांश ने राजमहल के बारें में सुनी बातों पर ज्यादा ध्यान ना देते हुए अपनी चित्रकारी पर ध्यान देना ज्यादा उचित समझा इसलिए वो पुराने महल को बहुत ध्यान ...

दानव द रिस्की लव - 17
द्वारा Pooja Singh

……Now on……विवेक : अदिति तुम जाओ …. अपना ध्यान रखना my sweet heart …(forehead kiss)….!अदिति : तुम अपना ध्यान रखना ….मैं तो अब घर में ही हूं....विवेक : (मन ...

हॉंटेल होन्टेड - भाग - 27
द्वारा Prem Rathod

पहाड़ा के बीच घिरा हुआ अपने कुदरत की खूबसूरती की छाप छोड़ते हुए बसा हुआ एक खूबसूरत सा शहर। यह शहर जितना विकसित था, उतना ही खूबसूरत भी था, ...

श्रापित रंगमहल--भाग(१)
द्वारा Saroj Verma

मानसरोवर गाँव के बसस्टैंड पर बस रूकी और उसमें से श्रेयांश उतरा,उतरकर इधरउधर देखने लगा तभी उस के पास आकर एक व्यक्ति ने पूछा.... जी!कहीं आप चित्रकार श्रेयांश साहब ...

खौफ की रातें - 6
द्वारा Rahul Haldhar

6) खौफ की रातउस दिन सुबह से ही मूसलाधार बारिश हो रहा था । रास्ता - घाट सब पानी से डूब गया था । लोग व वाहन चलाचल भी ...

नर्क - 8
द्वारा Priyansu Jain

निशा को आखिर पियूष के साथ आना ही पड़ा। उसकी एक भी दलील न चली। एक तो पियूष ने कोई बात मानी ही नहीं और दूसरे वहाँ जाना जरुरी ...

दानव द रिस्की लव - 16
द्वारा Pooja Singh

….Now on ………अदिति : भैय्या.....आदित्य : अदि phone देख आज Monday है ……अदिति : हां है तो पर मुझे लगा आज Sunday है …… आप विवेक के यहां चले ...

खौफ की रातें - 5
द्वारा Rahul Haldhar

5) भूतिया स्टेशनसुबह टेलीफोन की घंटी बज उठी , उस वक्त मैं आंख बंद कर आधे नींद में था। शायद सुबह के 10 बजने वाले थे । रात को ...

शैतानी दुनिया।
द्वारा Akash Saxena "Ansh"

"माँ रिषभ नानी के यहाँ से आया या नहीं।"जतिन आवाज़ लगाता हुआ घर मे घुसता है।"नहीं जतिन,ऋषि अभी तक नहीं आया बेटा, ज़रा ले आ जाकर उसको वहां से।जतिन ...

दानव द रिस्की लव - 15
द्वारा Pooja Singh

……Now on……विवेक अदिति को लेने घर पहुंचता है ……………Door bell ring ………बबिता : आप …!विवेक : बबिता अदिति कहां हैं ……!बबिता : वो अपने कमरे में आराम कर रही ...

खौफ की रातें - 4
द्वारा Rahul Haldhar

4) भूतशिव जलपान व मिष्ठान गृह हम दोस्तों के बैठकरदुनिया में व आसपास हो रहे कई प्रकार के बातकरने का एक बेहतरीन स्थान है । जिसका यहदुकान है उसका ...

शापित गुड़िया - भाग ३
द्वारा Lalit Raj

तमन्ना अपने चारों ओर अंधेरा पाती है और बहुत डरी हुई सहमी हुई बैठी थी,उसकी लम्बी लम्बी सांसें चल रही थी,तभी एक गुड़िया उसकी तलफ आती है और शैतानी ...

नर्क - 7
द्वारा Priyansu Jain

'निशा भागे जा रही थी जंगल में, उसके पैर पत्थरों व कंकरों पर लहूलुहान हो रहे थे। अचानक उसके सामने एक परछाई बहुत तेजी से गुजरी। निशा रुकी, तब ...

अंधेरा कोना - 14 - साये का साया 2
द्वारा Rahul Vyas ¬ चमकार ¬

सुजाता : राजीव, वो नए बुजुर्ग रहने आए है न, वो भी इन्कम टेक्स डिपार्टमेन्ट मे ही थे l सुजाता : अरे उसके बगल मे मीना रहती हैं न ...

खौफ की रातें - 3
द्वारा Rahul Haldhar

3 ) चुड़ैलमेरे दोस्त का जन्मदिन था तो मैं सीधे कॉलेज से उसकेघर गया ,, मैंने घर से कुछ नए कपड़े जन्मदिन पर पहननेके लिए ले गए थे । ...

नर्क - 6
द्वारा Priyansu Jain

निशा की विस्फारित आँखों ने उस विचित्र नीले हत्यारे पर गोलियां बरसते देखा पर उसे कुछ न हुआ। लोग चीख रहे थे और उसकी आँखों में हिंसा भरी हुई ...

दानव द रिस्की लव - 14
द्वारा Pooja Singh

…….Now on …….उबांक : तो आप जल्दी कुछ करिए …..अगर ये विरोध में हो गई तो आप कुछ नही कर पाऐंगे …...!तक्ष : हां उबांक …..देखता हूं इसका दिमाग ...

दानव द रिस्की लव - 13
द्वारा Pooja Singh

….Now on ………विवेक : अदिति चलो यहां से ….!अदिति : विवेक ….ये क्या कह ….रहे हैं ….!विवेक : अदिति कुछ नही... चलो (जबरस्ती ले जाता है)...(owner से). …..आपने कहा ...

ज्वार
द्वारा Deepak sharma

’’जबरदस्ती है कोई ?’’ बाथरूम से तृप्ति के बड़बड़ाने की आवाज आई।  सुनी मैंने अनसुनी रहने दी।  ’’जबरदस्ती है कोई ?’’ उसकी आवाज तेज हो ली । ’’जबरदस्ती भी ...

भूतिया खजाना
द्वारा सोनू समाधिया रसिक

भूतिया खजाना... लेखक :- सोनू समाधिया रसिक एक तांत्रिक पुराने खंडहर किले में खजाने के लिए यज्ञ कर रहा था।तभी वहां आते हुए घोड़े की टापें सुनाई देती हैं। ...

हॉंटेल होन्टेड - भाग - 26
द्वारा Prem Rathod

शाम के 5:00 बज रहे थे राजीव उसी बेड पर पड़ा हुआ था तभी उसका फोन बजा, फोन को उसने अपने कान से लगाया "ओक मैं बस पहुंचता हूं।" ...

विचित्र मोहब्बत अरुंधति कि...! - 4
द्वारा Yashoda Yashoda

और उस खुशबू के पीछे पीछे चल पड़ती है!चलते चलते उसी अनोखे वृक्ष के पास पहुंच जाती है और बड़े ही गौर से उस वृक्ष को देखने लगती है ...