मे और मेरे अह्सास - 25 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 25

 

अकेला ही नहीं साथ तुम्हारे चलना है l
आगाह ये है तो अंजाम भी अच्छा है ll

खुदा  पर कर भरोसा दिल ए नादा  l
हर काली रात के बाद होता सवेरा है ll

  ***********************************************

अपनों की खुशी के लिए खुश रहते हैं l
जाने वाले कभी लौटकर नहीं आते हैं ll

  ***********************************************

प्यार जी भरके तुजे करता रहा हूँ l
रोज जी के फ़िर रोज मरता रहा हूँ ll

  ***********************************************

है किसीकी दुआओं का असर देख l
अब ग़मे ज़हर पीकर बचता रहा  हूँ ll

  ***********************************************

सिद्दत से मुलाकात के इंतजार में l
साथ तन्हाइयों से लड़ता रहा हूँ ll

  ***********************************************

चाय तो सिर्फ़ बहाना है l
दो पल आपके साथ जीने का l
कल किसने देखा है l
जी चाहता है इस पल जीने का ll

  ***********************************************

अब कोई हमे भी जूठ बोलना सीखा दे l
सच बोल के  बहोत सूली चढ़ चुके हैं ll

  ***********************************************

फिर से एतबार कर लिया है इश्क़ पर मेने l
देखे इस बार मुहब्बत क्या रंग दिखाती है ll

  ***********************************************

सब फेसले इंसा के हाथ में नहीं होते l
कभी कभी हालात के हाथ में होता है ll

  ***********************************************

मुमकिन नहीं हर बार दिल को सनजोना l
ये वो पजल नहीं के बार बार खेली जाए ll

  ***********************************************

किस पर भरोसा कर दिया है दिल ने l
जो खुद दुसरों के सीने मे धड़क रहा है ll

  ***********************************************

बेपनाह बेइंतिहा चाहत पाकर बदगुमान हो जाते हैं लोग l
प्यार के माईने  और पाकीजा रिसते भूल जाते है लोग ll

  ***********************************************

प्यार एक खेल है सभल कर इसे खेलना l
वार दिल पे ही आएगा मुस्कराकर झेलना ll

  ***********************************************

बेबसी मेरे दिल की कोई जाने ना l
कौन सी कशिश मे जुड़ा रहता है ll

  ***********************************************

दिल के दरवाजे खोल दो l
अनकही बात को बोल दो ll

  ***********************************************

नयी आशा नयी उमंगें दिल में सजाएँ रखना l
नयी मंजिल नया साल मुबारक आप सब को ll

  ***********************************************

मुज से ही नहीं मेरी वफ़ा से भी प्यार कर l
जिंदगी के बाकी लम्हें प्यार के रंगों भर  ll

  ***********************************************

धन के साथ घर की लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए l
ईश्वर की कृपा और आशीर्वाद सदेव प्राप्त होता रहेगा  ll

  ***********************************************

थी जब तक साँस चालू तैरने ना दिया l
साँस बंध क्या हुईं किनारे कर दिया ll

  ***********************************************

मेरी लंबी उम्र की दुआ ना मांग ए जिदगी l
तन्हा कटी है और तन्हाई ना सह पाएगें ll

  ***********************************************

अजनबी बनकर रहोगे कबतक l
भावनाओ मे बहते रहोगे कबतक ll

  ***********************************************

प्यार के खेल में हार स्वीकार है l
उम्रभर यादो का  भार स्वीकार है ll

  ***********************************************

आँखों के इशारों को समझो l
अनजान बनकर रहोगे कबतक ll

  ***********************************************

नई शुरुआत के साथ नया दीप जलाएगे l
इस दिपावली प्यार के दीप जलाएगे ll

  ***********************************************

बेबसी मेरे दिल की कोई जाने ना l
कौन सी कशिश मे जुड़ा रहा है ll

  ***********************************************

आदमी खुद को जान लेता हैं l
ये जग उस को पहचान लेता है ll

  ***********************************************

शुरुआत जोरदार होने से कुछ नहीं होता l
जीत ने का हौसला बरकरार रहेना चाहिये ll

  ***********************************************

स्थिर और एकाग्र मन ही योग है l
साफ और सच्चा  हृदय योग है ll

  ***********************************************

ह्रदय समंदर जैसा विसाल रखो l
जहा मे खुद की बड़ी मिसाल रखो ll

  ***********************************************

ए खुदा तू मेरे पापा जैसा बन l
मेरे मांग ने से पहले वो l
मेरी प्यारी चीज़ो से मेरी l
जोली भर देते हैं ll

  ***********************************************

जिंदगी का सफर आसाँ नहीं है l
हौसला बढ़ाने की कोशिश कर ll

  ***********************************************

जिंदगी हर रोज इन्तहा लेती है l
जीनेकी चाह हो तो राह मिलती है ll

  ***********************************************

जीने के लिए सौ बहाने होते है l
मरने को एक बहाना काफी है ll

  ***********************************************

गर दुनिया में अपनी पहचान बनानी है l
तो सब से अनूठा कर के दिखाना होगा ll

  ***********************************************

बादल गरजे तुम याद आए l
बारिश हुई तुम याद आए l
छाता उड़ा तुम याद आए l
मे भीग गई तुम याद आए l
आंखे बहने लगी धारधार l
तुम क्या याद आए ll

  ***********************************************

बारबार खुदा का कृतज्ञ हैं l
औकात से ज्यादा कृपा है ll

  ***********************************************

जीने का हौसला और नशा होना चाहिए l
ख़ुदकुशी तो एक आसां तरीका है नादा ll

  ***********************************************

हाल पूछने तककी फ़ुरसत ना थी l
अब तू मेरे जाने का गम न कर ll

  ***********************************************

बातूनी लोग दिल के साफ होते हैं l
कई सारे लोग इनके साथ होते हैं ll

  ***********************************************

नशा चाहे प्यार का हो l
या जाम का l
एक दिन उतर जाता है ll

  ***********************************************

खुद को चाहे कितना भी अक्लमंद समझो l
दुनिया वालो को मुर्ख ना समजना कभी भी ll

  ***********************************************


राधा और मीरा l
नाम जुदा काम एक l
कृष्ण को प्रेम करना ll
ग़र वो दर्शन को तरसी l
तो कृष्ण भी मिलन को तड़पे ll

 ***********************************************

भीग ने को तैयार है l
तू बरसना शुरू कर ll

बारबार नहीं आएगे l
तू गरजना शुरू कर ll

  ***********************************************

मौसम की पहेली बारिस l
तेरी याद लेके आई है ll

  ***********************************************

रूप तेरा दीवाना कर रहा है l
सोई हुई इच्छाएं जगा रहा हैं।l

  ***********************************************

बरसो काले धन आज जी भरके  l
युगों की प्यास बुझाने के लिए ll

  ***********************************************

ख्याल तेरा ही रहता है हर पल मेरे दिल में l
जालिम ये कैसा रोग पाल लिया है दिल में ll

  ***********************************************

निर्दयी बनकर बेजुबान को परेशा ना कर l
उनकी हाय लगी तो कहीं का ना रहेगा तू ll

  ***********************************************

 

रेट व् टिपण्णी करें

Pratham Shah

Pratham Shah 2 साल पहले

The ending was too good... especially that one... निर्दयी होकर.... 🙌🙌🙌

Asha Saraswat

Asha Saraswat मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Umakant

Umakant मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

અધિવક્તા.જીતેન્દ્ર જોષી Adv. Jitendra Joshi
DIPAK CHITNIS

DIPAK CHITNIS मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले