मे और मेरे अह्सास - 23 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 23

दिल के दर्दो का इलाज ।  
जाम में मिलता नही ॥

  *************************************************

मेरे इश्क का अंदाजा नहीं है तूझे l
सागर की कोई नाप सका है भला ll

  *************************************************

इलाजे - दर्दे - मोहब्बत का मेरे कौन करेगा l
यहां सब इश्क के मारे है, होश मे कौन लाएगा ll

  *************************************************

नई सुबह का इंतजार मत करो l
जागो उठो और नई शुरुआत करो ll

  *************************************************

मेरे सपनों के साथी तुम ही हो l
जो तुम मे अदा है, किसी मे नहीं ll

  *************************************************

दिल को ना तुम मेरे तड़पाओ l
अब तो सिर्फ मेरे बन जाओ ll

  *************************************************

यादे शोर करने लगी है l
बाते शोर करने लगी है ll

  *************************************************

चांदनी में नहाई हुई देख l
राते शोर करने लगी है ll

  *************************************************

मौन हो गया है सन्नाटा l
शाखें शोर करने लगी है ll

  *************************************************

कोई शोख नहीं है पीने का l
तेरी यादे मयखाने पहुँचाती है ll

  *************************************************

कहीं करता होगा वो मेरा इंतजार l
यही सोचकर सासें चल रही है ll

  *************************************************

जिसकी तमन्ना दिन रात रहती है l
उसी के साथ रातें चल रही है ll

  *************************************************

अरमा है उसके साथ रहू ताउम्र l
जिस के साथ बाते चल रही है ll

  *************************************************

काश मे सीख लेता वफ़ा करना l
आज तेरे सामने खड़ा रह सकता ll

  *************************************************

तितलियों सी हर अदा देख तेरी जाना l
लोग मेरे शहर के खामोश हो गये हैं ll

  *************************************************

तुम तो चली जाओगी तुम्हें कोई फर्क़ नहीं पड़ेगा l
तेरे जाने के बाद मेरी दुनिया विरान हो जाएगी ll

  *************************************************

इश्क करके जहां मे रुसवा हो गये हैं l
अब कभी जाहिर-ए-इश्क़ ना करेगे ll

  *************************************************

मंजिल तक पहुंचने के लिए l
सफ़र करना बहोत जरूरी है ll

  *************************************************

किसी और नज़र से क्यों देखू तुम्हें l
मेरे दिल की गवाही काफ़ी है ll

  *************************************************

जरा सा मुस्कराता देखा हमे l
शहर भर मे बदनाम हो गये ll

  *************************************************

तेरी चाहत का नशा इस तरह छाया है मुज पर l
ख़यालों मे तुम हो तो ख्वाबोंमें भी तुम हो हो ll

  *************************************************

तेरे लाड, प्यार और अपनेपन ने l
हमको भी सीखा दिया प्यार करना ll

  *************************************************

ये चाहत का ही है असर देखो जाने जाना l
छींक तुम रहे हो, साँस मेरी रुकी हुई है ll

  *************************************************

याद आई आंखे छलक उठी l
बात निकली आंखे छलक उठी ll

  *************************************************

शरद पुनमी मे भीगी चाँदनी ll
रात ढली आंखे छलक उठी ll

  *************************************************

लिख तो दु दास्ताने जिंदगानी l
फ़िर सोचतीं हू कहीं वो जान ना ले l

*************************************************

मेरे दिल की बात, सो चुपकी बहतर है ll

  *************************************************

चाहत मे इस तरह बंधे हुए हैं l
पलभर भी दूरी सह नहीं सकते ll

  *************************************************

इस पल जी भरके जी लेना चाहती हूं l
फिर ये शमा काल मिले ना मिले अब ll

  *************************************************

चाहते हो के रिसते मे नजदीकी बनी रहे l
एकदूसरे से बातों का सिलसिला जारी रखो ll

  *************************************************

आज तेरी यादों ने बहका दिया है l
फ़िर मेरी आँखों को छलका दिया है ll

  *************************************************

कही मेरा मोबाइल फोन कोई देख ना ले l
तेरी प्यारी प्यारी तस्वीरों से भर पड़ा है ll

  *************************************************

यहां फ़िज़ाओं को महका दिया है ll

  *************************************************

खामोशी की अपनी अलग पहचान होती है l
कई बार उसका शोर फिजाओ मे गूँजता है ll

  *************************************************

इश्क करके जहां मे रुसवा हो गये हैं l
अब कभी जाहिर-ए-इश्क़ ना करेगे ll

  ****************************

रेट व् टिपण्णी करें

Amit J.

Amit J. 2 साल पहले

Vaibhav Surolia

Vaibhav Surolia मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

👌👌👌👌

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

અધિવક્તા.જીતેન્દ્ર જોષી Adv. Jitendra Joshi
શિતલ માલાણી

શિતલ માલાણી मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

beautiful poem