मे और मेरे अह्सास - 21 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 21

मे और मेरे अह्सास

हमारी हल्कि सी नाराजगी से तुम्हारा दिल बैठ जाता है l
सोचों ग़र तुम से दूर चले जायेगे तो क्या हाल होगा ll

*******************************************

तुम से जुड़ी हुई हर शै से मुहब्बत है l
हमे सिर्फ़ तुम से मुहब्बत हैll

*******************************************

अनजाने से रिश्ते मे बंधे हुए हैं l
मनचाहे से रिश्ते मे बंधे हुए हैं ll

*******************************************

युग युगांतर से तरसे हुए हैं l
पहचाने रिश्ते मे बंधे हुए हैं ll

*******************************************

करुणा के साथ सब से मिला करो l
प्यार के साथ सब से मिला करो ll

*******************************************

किसी के दुख में करुणा होती है l
तो उसे प्यार और ममता दो ll

*******************************************

एकमात्र करुणा से सदभाव फैलता है l
किसी का प्यार पा लो l
किसी को प्यार दे दो ll

*******************************************

करुणा जुबां पे नहीं l
दिल में होनी चाहिए ll

*******************************************

सफर कितना भी खूबसूरत क्यु ना हो l
हम सफर के साथ ही रंगीन होता है ll

*******************************************

तू मेरी जरूरत नहीं l
तू मेरी किस्मत हो ll

*******************************************

तू मेरी किस्मत में तो जरूर है l
तुजे हाथ की लकीरो मे देखा है ll

*******************************************

हुस्न के प्यार मे लिखी हुई हर l
नजम जाम सी नशीली होती है ll

*******************************************

मुहब्बत और जंग में बखूबी एक बात समान है l
दौनों ही बड़े जुनून और सिद्दत के साथ करते हैं ll

*******************************************

शाख से टूटे हुए पत्तों की जगह नये पत्ते आ जाएंगे l
ग़म ना कर ए जिदगी दिन भी बाहर के आ जाएंगे ll

*******************************************

इन्सां स्वचालित चीजों का आदी हो चुका है l
खुद इन खिलोनों का गुलाम ही बना दिया है ll

*******************************************

इश्क ने रूठना शुरू किया है l
जीतना चाहता ही क्यू दिल है?

*******************************************

तह तक पहुंचने में सफल होने की संभावना है l
मन तक पहुंचने में सफल होने की संभावना है ll

*******************************************

तह तक पहुँचाना है l
रूह तक पहुँचाना है ll

*******************************************

हौसला बुलंद है हमारा l
दिल तक पहुँचाना है ll

*******************************************

जो ज्योतिष पर करे विश्वास l
उसे अपने पे भरोसा नहीं है ll

*******************************************

गर तूने ज्योतिष की बातो ना मानी होती l
आज तू मेरे घर और दिल की रानी होती ll

*******************************************

दुसरों की भलाई के लिए ज्योतिष शास्त्र पढ़ो l
देखाना खुद का भला अपने आप ही हो जाएगा ll

*******************************************

स्वयं को सर्व मे विलीन करने वाला महात्मा होता है l
गाँधी स्वयं से बहोत ऊपर उठने के महात्मा बने ll

*******************************************

यादे मन के तह तक घुस गई है l
मिटाई ना जाएगी दिल से कभी ll

*******************************************

माफी से बड़ा कोई हथियार नहीं है l
बिना लड़े जंग जीती जा सकती है ll

*******************************************

माफी मांग ने से इंसान छोटा नहीं होता है l
खुदा की नजर में सच्चा प्यारा हो जाता है ll

*******************************************

पत्थर दिल भी माफी से पिंगल सकता है l
एक बार सच्चे दिल से माफी मांग के देखो ll

*******************************************

माफी मांग नी चाहिए और देनी चाहिए l
ना जाने कब जिंदगी की शाम हो जाए ll

*******************************************

यहां तक ​​कि #पशु आदमी के पशुता से डरता है,
हर दिन एक फूल की कली को पशुता से कुचल दिया जाता है।!

*******************************************

पशु को पिंजरे मे कैद करने वाला आज खुद पिंजरे मे कैद है l
ग़म ना कर ए जिदगी अच्छे बुरे यहां दिन सभी के आते हैं ll

*******************************************

चल पशु की तरह निस्वार्थ प्रेम करना शिख ले l
क्या लेके आया था, क्या लेके जाएगा जहां से ll

*******************************************

आवास चाहे छोटा हो l
दिल बड़ा होना चाहिए ll

*******************************************

मेरा एक सपना है l
खुद का आवास हो ll

*******************************************

बड़ी सी दुनिया है l
पर दिल मे बसेरा हो ll

*******************************************

आवास ही पहचान है l
आवाज ही पहचान है ll

*******************************************

गांधीजी की खोज
हिंसा से अहिंसा की और ll

*******************************************

किसी को मानसिक रूप से
परेशानी देना भी एक तरह
से अहिंसा है ll

*******************************************

जमाना बदल गया है l
हिंसक अहिंसक बन गया है l
अहिंसक अहिंसा की और बढ़ रहा है ll

*******************************************

विमान जब धरती पर उतर जाता है l
तब एर होस्टेस को रोते देखा है l
और सैफ रखने के लिए खुदा को l
शुक्रिया कहते हुए सुना है ll

*******************************************

विमान पवन से बाते करता है l
अपनी ही धुन मे उड़ता है ll

*******************************************

कागज के विमान में याद भेजी है l
प्यार से विमान में याद भेजी है ll

*******************************************

वो बात जो रुबरु ना हुई कभी भी l
दिल से विमान में याद भेजी है ll

*******************************************

प्यार ने तेरे दीवाना बनाया l
आशिक को पोस्टमेन बनाया ll

*******************************************

रोज माँ को बेटे का झूठा खत पढ़कर जिंदा रखते थे पोस्टमेन
सब से ज्यादा माँ का आशीर्वाद प्राप्त करते थे पोस्टमेन ||

*******************************************

किसी का हमदर्द l
किसी की बेटा l
किसी की आशा l
होते थे पोस्टमेन ll

*******************************************

पहेले के ज़माने में इश्क करने वाले महबूबा से ज्यादा पोस्टमेन को याद करते थे l
एक वहीं था जो हाले दिल की दास्ताँ को संभालकर महबूबा की खबर लाता था ll

*******************************************

चिट्ठी की राह ताकतें हुए लोगों के लिए l
गर्मी,ठंड और बारिस मे भी आते थे पोस्टमेनll

*******************************************

१८ की पगार मे हररोज दिन में तीन दफह आते थे पोस्टमेन l
आज तीन दिन में एक बार भी नजर नहीं आते थे पोस्टमेन ll

*******************************************

पोस्टमेन पे फिल्मे बनती थी l
आज पहचान तक मीट गई है ll

*******************************************

शारीरिक रूप से स्वस्थ्य इन्सां l
मानसिक रूप से बीमार हो सकता है ll

*******************************************

नफ़रत मानसिक बीमारी है l
अच्छा सोच ही नहीं सकता ll

*******************************************

शारीरिक गुना सजा के पात्र हैं l
मानसिक हानि सजा के पात्र हैं ll

*******************************************

शारीरिक ईजा का इलाज हो सकता है l
मानसिक ईजा का इलाज नहीं होता है ll

*******************************************

मानसिक हानि से इन्सां टूट जाता है l
टूटा हुआ इन्सां ताउम्र बिखर जाता है ll

*******************************************

चमकीला ख्वाब देखा था l
सुबह ही मुक्कमल हो गया ll

*******************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले