मे और मेरे अह्सास - 20 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 20

मे और मेरे अह्सास

शब्द के सहारे जी रहा है कवि l
कलम के सहारे जी रहा है कवि ll

*****************************************

मुशायरों मे वाह वाह क्या हुईं?
ग़ज़ल के सहारे जी रहा है कवि ll

*****************************************

खुद से ज्यादा तुमसे प्यार किया है l
रब से ज्यादा तुमसे प्यार किया है ll

*****************************************

तेरी जरा सी दूरी सह नहीं सकते हैं l
हद से ज्यादा तुमसे प्यार किया है ll

*****************************************

जज्बातों की कदर करना शिख लो l
खुशी को जाहिर करना है चीख लो ll

*****************************************

चार दिन मांग के लाए थे जीने के लिए l
दो मनाने मे और दो इंतजार मे काटी ll

*****************************************

जिंदगी जीने के लिए हरपल तरसते रहे l
बाकी बचिकुची वो तकरार मे काटी ll

*****************************************

खुद अपनी ही दास्ताँ लिख रहे हैं l
ये क्या कवि कहकशां लिख रहे हैं ?

*****************************************

उम्र और वक्त का तकाज़ा देखाना चाहिए l
प्यार सब कुछ नहीं है जिन्दगी के लिए ll

*****************************************

प्यार दर्द देता है l
यार दर्द देता है ll

*****************************************

हदसे ज्यादा पीने से l
जाम दर्द देता है ll

*****************************************

प्रेम प्यासी राधा को l
श्याम दर्द देता है ll

*****************************************

प्यार महसूस करने लगे हैं l
दिन रात महक ने लगे हैं ll

*****************************************

इश्क का बुखार कहा उतरा है तुम्हारा?
के तुम कोई रोजगार भी कर सकोगे अब?

*****************************************

बात अंजाम तक नामुमकिन हो पहोचाना l
उसे बात को हमेश के लिए भूल ही जाना ll

*****************************************

जिंदगी मे अपना किरदार इस तरह निभाओ के l
कोई तुम्हें छोड़ दे पर आखरी साँस तक ना भूले ll

*****************************************

बस हम एक बार और वो पल जीना चाहते हैं जब की l
तुमने मेरे लिए चाय को अपनी सांसो से ठंडी की थी ll

*****************************************

जो लब्जो मे बयां हो वो इश्क़ नहीं है l
निगाहोंसे छलक रहा है वहीं इश्क है ll

*****************************************

अल्फ़ाज़ वो मरहम है जो दर्द को भगा देते हैं l
दर्द दे भी सकता है और मिटा भी सकता है ll

*****************************************

अनिर्धारित मिलन अपना l
निश्चितमे साथ है अपना ll

*****************************************

अनिर्धारित परिस्थिति मे जीना सीख ले l
यहा कुछ भी निर्धारित नहीं है मेरे बन्दे ll

*****************************************

जिंदगी मे कुछ घटना ए अनिर्धारित होती है l
ना चाहते हुए भी उसका सामना करना पड़ता है ll

*****************************************

इंसा एकसमान नहीं होते l
नजरिया भी अलग होता है ll

*****************************************

हार्ट लाइन एकसमान हो तो जीवन रुक जाता है l
तो जिन्दगी एकसमान कैसे होगी जरा सोचो तो ll

*****************************************

ना भद्दा सोचना चाहिए l
ना भद्दा करना चाहिए ll

*****************************************

भद्दे इंसान से दूर ही रहो l
खुद को बुराई से दूर रखो ll

*****************************************

एक भद्दी सोच जीवन नष्ट कर देती है l
सारे अच्छे कर्मों को पलमे धों देती है ll

*****************************************

भद्दे इन्सां को सज़ा नहीं देनी चाहिए l
खुदा के दरबार मे हिसाब होता है ll

*****************************************

दिखने मे शरीफ इन्सां भद्दा हो सकता है l
कभी बाहरी दिखावट पे भरोसा मत करो ll

*****************************************

मन के हारे हार l
मन के जीते जीत ll

*****************************************

प्यार मे विजय को नहीं देखाना चाहिए l
आपस में मिल ज़ुल कर रहेना चाहिए ll

*****************************************

देश परदेश पे विजय हासिल नहीं करना l
दिलों और दिमाग में विजय हासिल करना ll

*****************************************

जिंदगी दृश्य बन गई है l
बंदगी दृश्य बन गई है ll

*****************************************

लम्हे अदृश्य हो गये हैं l
जो साथ दृश्य बने थे ll

*****************************************

तेरी याद एक सुन्दर दृश्य है l
तन्हाइयों मे दिलको बहलाती है ll

*****************************************

दृश्य हकीकत है l
प्यार हकीकत है ll

*****************************************

शिकारी खुद शिकार हो रहे हैं l
लगता है क़यामत आने को है ll

*****************************************

शिकार करना मना है l
निगाहों को झुकाए रखिए ll

*****************************************

किसी जीवन का शिकार मत करो l
अपनी बारी आते देर नहीं लगती ll

*****************************************

कातिल निगाहें थी, कसूरवार खंजर को ठहराया l
मुकदमा भी किस तरह चलाए कोई सुबूत भी नहीं ll

*****************************************

तुम्हें तलवार की जरूरत कहा है?
प्यारी सी मुस्कान से शिकार कर देना ll

*****************************************

अपनों से या फिर प्यार करने वालो से कभी l
अपनी भावनाओ का शिकार मत करने दो ll

*****************************************

आईना वो दृश्य दिखाता है जो सच होता है l
कभी कभी हम देखते हुए अनदेखा कर देते हैं ll

*****************************************

हर वक्त चौकसी रहेना जरूरी है l
हमलावर आसपास छुपे होते हैं ll

*****************************************

चौकशी नर सदा के लिए सुरक्षित रहेता है l
बाहर के लोगों से सामने सुरक्षित रहेता है ll

*****************************************

सीमा पर चौकशी दुश्मन से बचाव के लिए हरपल तैयार है l
सीमा पर हर जवान अपनी जाँ तक कुर्बान कर देते है ll

*****************************************

तुने कातिल निगाहों से युध्द छेड़ा है l
हमने भी दिल को बख्तर पहनाया है ll

*****************************************

युद्ध से देश जीते जाते हैं l
प्यार से दिल जीते जाते हैं ll

*****************************************

युद्ध जितने के लिए हथियार चाहिए l
दिल जितने के लिए हौसला चाहिए ll

*****************************************

प्यार के युद्ध में हार भी जीत लगती है l
अपनों को खोने से अच्छी हार होती है ll

*****************************************

काना पीताम्बर में सोहे l
नीला नीलांबर मे सोहे ll

*****************************************

पिले को पीला दिखता है l
भैया जैसी जिसकी सोच ll

*****************************************

लाल, पीला, नीला और हरा l
बोल कन्हैया कौन रंग रंगू तोहे ll

*****************************************

अंग अंग पीठी पीली लगा के l
आज प्रीत के रंग में रंग जाऊँ ll

*****************************************

तुम और तुम्हारा प्यार बहोत याद आते हैं l
आंखे ही नहीं दिल भी अब तरस जाते हैं ll

*****************************************

तुम और तुम्हारी यादे दोनों ही बेवफा है l
वक़्त बेवक्त आके दिल को रुला जाती है ll

*****************************************

तुम्हारी सासों की खुशबु आज भी हमारे दुपट्टे मे कैद है l
अनजाने में सख्त गर्मियों में मुह साफ़ किया था आपने l

*****************************************

तुम्हारे प्यार भरे खतो को आज भी चूड़ियों के डिब्बे में संभाले रखे है l
अंगिनत पढ़ने के बाद भी जैसे पहली बार पढ़ रही हूँ ऐसा लगता है ll

*****************************************

तुम्हारी यादो की बारिश बिन मौसम आ जाती है l
अब दिल में सैलाब आएगा और आंखे बरस पड़ेगी ll

*****************************************

भूले से हाथ क्या पकड़ लिया तूने l
नाम तुम्हारा दिल पे लिख दिया ll

*****************************************

बोली स्वादिष्ट रखो सम्बंध ताजा रहेगे l
तीखी बोली ना सुनी, न सही जाती है ll

*****************************************

भूखे पेट ही खाना स्वादिष्ट लगता है l
मन को सुकून और शांति देता है ll

*****************************************

जीवन स्वादिष्ट रखने के लिए कम बोला l
बोली अपनी शक्कर की तरह मीठी रखो ll

*****************************************

सभी दिन रात एकसमान नहीं होते l
कभी धूप तो कभी छाँव भी होती है ll

*****************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले