मे और मेरे अह्सास - 19 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 19

मे और मेरे अह्सास

19

मुहब्बत दर्द भी है और दवा भी देती है l
किसको क्या मिला मुकद्दर की बात है ll

******************************************

दर्द देने वाला मरहम लगाने भी ना आया l
इंतजार में उनके हम मर ही गये कब के ll

******************************************

कल तक सीने से लगाये रखते थे हरदम l
आज जान से गुज़र गये फिर भी खामोश हैं ll

******************************************

अच्छा है वक़्त रहते पता चला कि उन्हें हम से शिकायत है l
हम तो यही सोचकर चुप थे कि उन्हें हम से
मुहब्बत है ll

******************************************

शोख था जिन्हें बात छुपाने का l
आज दुनियाभर मे ढिंढोरा पीटते है ll

******************************************

तेरी यादों की दौलत को गुप्त रखना चाहती हूं l
तेरे वादों की दौलत को गुप्त रखना चाहती हूं ll

******************************************

कई चांदनी राते आँखों ही आँखों मे काटी थी l
उस रातो की दौलत को गुप्त रखना चाहती हूं ll

******************************************

हम से गुप्त नहीं रखी जाएगी दास्ताँ मुहब्बत की l
तुम्हीं कोई ठिकाना ढूढ़ लो खुद को छिपाने का ll

******************************************

दिल की बाते गुप्त नहीं रहती l
गालों की लाली राज खोलेगी ll

******************************************

नजर के सामने रहने वाले लोग आज गुप्त होने को सोच रहे हैं l
कोई तो बात है जिसकी पर्दादारी करने को वो
सोच रहे हैं ll

******************************************

हम से कोई बात गुप्त ना रखना l
खुली किताब की तरह ही रहना ll

******************************************

अपनों से पर्दा नहीं करते कभी l
अपना समझकर दिल में रखना ll

******************************************

दर्द देने वालो सुनता जा l
दर्द ही दवा बन गया है ll

******************************************

हाथ पकड़कर यु छोड़ा नहीं करते l
शाख से गुलों को तोड़ा नहीं करते ll

******************************************

नीद कौसो दूर चली गई है l
सांसो का कारोबार रहा है ll

******************************************

चांदनी रात भी सोने नहीं देती l
चेन और सुकून अब कहा है ll

******************************************

ऐसा भी क्या रूठना हमसे ?
दूर जाके क्यों बसाया जहा है ?

******************************************

जग की कोई ताकत हमे जुदा ना कर सकेगी l
खुदा की निगेबानी मे है हमारी मुहब्बत ll

******************************************

बात रूह के मिलन की है l
तन तो मिट्टी से बना है ll

******************************************

तलाश में निकले थे सुकून की l
वो तो अपने अंदर ही छुपा था ll

******************************************

सुबह तक साथ निभाने का वादा करने वाले l
रात होते ही अपनी राह को निकल पड़े चुपचाप ll

******************************************

बँध कमांड खोल दिया करो l
बात दिल की बोल दिया करो l

******************************************

अपनी औलाद को श्रेष्ठ बनाना है तो l
अच्छे संस्कार - विचार देने चाहिए ll

******************************************

श्रेष्ठता पाने की धुन मे l
अपने मूल्यों को न भूलना ll

******************************************

इंसान धन दोलत के लिबास मे श्रेष्ठ नहीं होता l
उसकी वाणी, कर्म और सोच से श्रेष्ठ होता है ll

******************************************

राधा और मीरा दोनों ही प्रेम के प्रतीक हैं l
दोनों का प्रेम उत्कृष्ठ और श्रेष्ठता का प्रतीक हैं ll

******************************************

कर्म ही इंसान को श्रेष्ठ बनाता है l
फल की चिता छोड़ और कर्म कर ll

******************************************

दुनिया मे बहोत जी के देख लिया l
अब तुम्हारी धड़कनो में जीना है ll

******************************************

तेरा मौन आक्रमित है l
उससे मेरा मन भ्रमित है l|

******************************************

नैनो के तीर चला के हमला किया ना करो l
पहेले से ही घायल है खुदाया और ना करो ll

******************************************

यादो का बोझ ढोने की आदत हो गई है l
बड़े बड़े वादों पे जो यकीन कर बैठें है ll

******************************************

जिम्मेदारी को बोज ना समझो l
प्यार से कर्तव्यों को पूरा करो ll

******************************************

देखना जिंदगी बोज न बन जाए l
अपनों का दामन पकड़े रखना ll

******************************************

पलकों में भार लग रहा है l
दिलमे यादो की बाढ़ आई है ll

******************************************

जिम्मेदारी उठाने की क्षमता पैदा करो l
बंध दरवाजे अपने आप खुलते जाएगे ll

******************************************

मातृभारती कविता ओ का भार उठा रही है l
उसे देशकी भाषाओसे बेपनाह मुहब्बत जो है l

******************************************

समंदर को पानी का भार नहीं लगता है l
क्योंकि नदी प्यार से समर्पित होती है ll

******************************************

यादे भार लगने लगती है l
तब मुहब्बत खत्म होती हैं ll

******************************************

साथ चलने वालों की गति एक होनी चाहिए l
प्यार करने वालो के दिल एक होने चाहिए ll

******************************************

धड़कनों की गति तेज हो रहीं हैं l
दिलबर आ रहे हैं, बस आ चुके हैं ll

******************************************

जितनी जल्द मन गति बदलता है l
शायद प्रकाश गति उतनी नहीं है ll

******************************************

जीवन तेज गति जियो l
समतुलित गति जियो ll

******************************************

कोई तो मिशाल छोड़ के जाओ l
वर्ना लोग तो आते जाते रहेगे है ll

******************************************

दुनिया मे मिशाल बनना है तो
खुद पे भरोसा, हौसला, तेज गति,
कड़ी मेहनत, सच्चई लगन और
सही दिशा में काम करने रहेना ll

******************************************

वक्त वक्त की बात है l

कल जो दिया करता था l
आज खुद लेने की पंक्ति में खड़े है ll

******************************************

कृपया पंक्ति में खड़े रहे l
य़ह नियम कौन मानता है ll

******************************************

लंबी पंक्ति में खड़ा हु तेरे लिए l
नंगे पैर अड़ा हू देर से तेरे लिए ll

******************************************

अगर कुछ त्यागना है तो l
अपने अहम को त्यागो ll

******************************************

सब से महान त्याग जो करते हैं l
वो है बच्चे के लिए माँ बाप ll

******************************************

जो सुकून त्याग मे है l
वो पा लेने मे नही है ll

******************************************

त्याग मन से होना चाहिए l
प्यार दिल से होना चाहिए ll

******************************************

बच्चों के सामने माँ बाप को l
झगड़ा नहीं करना चाहिए ll

******************************************

नोकझोक संबंधो को मजबूत करती हैं l
झगड़ा संबंधो को पूरा कर देता है ll

******************************************

सुबह तक साथ निभाने का वादा करने वाले l
शाम होते ही अपनी राह को निकल कर गये ll

******************************************

प्यार मे छोटे मोटे झगड़े होते रहते हैं l
समझदारी ही रिसता संभालती है l

******************************************

जरूरत से ज्यादा आराम इन्सांको आलसी बनाता हैl
खुद के और दुनिया के लिए वो बोझ बन ही जाता है ll

******************************************

जब तक मंज़िल न मिले आराम हराम है l
तब जाके कड़ी मेहनत का मिलता ईनाम है ll

******************************************

आराम तब तक नहीं करेंगे l
जब तक मज़िल ना पाएंगे ll

******************************************

तुम्हें देखकर दिल को आराम मिलता है l
सासों का सिलसिला तो ही चलता है ll

******************************************

तुम्हें याद करने के लिये जीते हैं l
यही काम है और यहीं आराम है ll

******************************************

अनुभव से बड़ा कोई गुरू हो ही नहीं सकता l
वो जो सिखाता है, कोई मानवी नहीं सकता ll

******************************************

कानो सुनी बात पे विश्वास न करो l
आँखों देखी बात विश्वसनीय होती है ll

******************************************

किस पे भरोसा करे अब इस दुनिया में l
कोई भी तो विश्वसनीय व्यक्ति नहीं है ll

******************************************

विश्वसनीय बने रहेना कठिन है l
किसी के मन मे रहेना कठिन है ll

******************************************

विश्वसनीयता पाई जाती है l
बाजर मे कहीं बिकती नहीं है ll

******************************************

जिंदगीभर खेद ना रखना l
अपनों मे भेद ना रखना ll

******************************************

इतना तो यकीन है हमे, छोड़के l
जाने वाला ताउम्र खेद करेगा ll

******************************************

अब खेद करने से क्या हासिल?
जब वेद कोई तुम ने पढ़ा ही नहीं ll

******************************************

अपने कर्मों पर खेद कर लो l
शायद खुदा को रहम आ जाए ll

******************************************

इंसा की पहचान पैसो से नहीं l
उसके अंदर के लक्षण से है ll

******************************************

था संघर्ष आँखों का l
सजा दिल को मिली ll

******************************************

जीवन का सफर संघर्ष पूर्ण है l
बस रास्ते खुद ही ढूढ़ने पड़ते है ll

******************************************

कई संघर्ष के बाद पाया है तुम्हें l
अब कहीं नहीं जाने देगे तुमको ll

******************************************

बड़ी संघर्ष के बाद आई है ये मुरादों वाली रात l
यू ही नहीं बीत जाने देगे हम मुरादों वाली रात ll

******************************************

मंदिर सब के लिए है l
खुदा सब के लिए है ll

******************************************

पाँव मे जुटा पहनकर मंदिर में जाना मना है l
लोग मेले मन के साथ मंदिर में पूजा कर सकते हैं ll

******************************************

घर ही मंदिर है l
पवित्र रहने दो ll

******************************************

घर एक मंदिर है l
उसे महसूस कर ll

******************************************

चाहे जो भी हो विश्वास नहीं टूटना चाहिए l
जान चली जाए वचन नहीं टूटना चाहिए ll

******************************************

विश्वास पे कायम है दुनिया की दौर l
कई रिसते विश्वास पे टीके होते हैं ll

******************************************

सब कुछ अस्थायी चलेगा l
तुम्हारा प्यार स्थायी चहिए ll

******************************************

लोग जीवन मे आते जाते रहते हैं l
सभी अस्थायी प्यार करते हैं ll

******************************************

ना डर ए दिल इस परिस्थिति में l
अस्थायी दिन रात है गुजर जाएगें ll

******************************************

अस्थायी रिस्तों से डर लगता है अब l
जिंदगी मे प्यार स्थायी चाहिए अब ll

******************************************

कुछ भी स्थायी नहीं इस दुनिया में l
अस्थायी जीवन जीते जाते हैं लोग ll

******************************************

दुनिया के मिशाल ना बनो l
खुद के लिए कर्म करो ll

******************************************

रेट व् टिपण्णी करें

pradeep Kumar Tripathi

pradeep Kumar Tripathi मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Swatigrover

Swatigrover मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Zalak Mehta

Zalak Mehta 2 साल पहले

Chandrakant soni

Chandrakant soni 2 साल पहले