मे और मेरे अह्सास - 18 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 18

मे और मेरे अह्सास

18

छोड़कर जाने वालो का इन्तजार नहीं करते हैं l

सच्ची मुहब्बत करने वाले कभी नहीं जाते हैं ll

*********************************************************

कही कोई करता होगा मेरा इंतजार l
वही सोच सोच के दिल रुक गया है ll

*********************************************************

न दिन को चैन, न रात को आराम होगा l
यही बात सोच के दिल थम गया है ll

*********************************************************

बात करते रहेना चाहिये l
याद करते रहेना चाहिये ll

*********************************************************

कही भुला ना दे प्यार को l
दस्तक देते रहेना चाहिये ll

*********************************************************

मातृ भाषा कोई भी हो आपकी l
कविता मे स्पष्टता होनी चाहिए ll

*********************************************************

बेख़बर थे दिल की धड़कनों से l
वर्ना यू छोड़ के न चले जाते वो ll

*********************************************************

कई बार बेख़बर रहने मे ही भलाई है l
ज्यादा जानकारी ज्यादा दुःख देती है ll

*********************************************************

बेख़बर जा तेरा वादा देखा l
तुजे अल्ल्हा के हाफिज किया ll

*********************************************************

मजबूर है बेख़बर नहीं l
जानम तू बेवफा नहीं ll

*********************************************************

आज फिर खामोशी शोर मचाने लगी है l
आज फिर शिद्दत से उनकी याद आई है ll

*********************************************************

क्या बुरी बला है ये आदतें भी l
जा चली जाती है वो नहीं छूटती ll

*********************************************************

दिल प्यार के गीत गाता रहा रातभर l
नीदमे सपनों को झुलाता रहा रातभर ll

*********************************************************

बात अंजाम तक नामुमकिन हो l
उसे मोड़ना मरोड़ना कभी नहीं l
समय रहते ही भीतर दब जाएगी l
कहानी फिर से दोहराना नहीं ll

*********************************************************

यादे तूफ़ाँ लाती है l
जब दिल से टकराती है ll

*********************************************************

जिस पल के लिए तरसे उम्रभर वो आके गुजर गया l
लब्ज खामोश रहे,आंखे नम हुईं और पल गूजर गया ll

*********************************************************

चल हाथ में हाथ पकड़कर दूर तक चले l
साथ चलना पाँव जकड़कर दूर तक चले ll

*********************************************************

तुम मे लहू है या चुंबक बह रहा है l
जहा कहीं भी हो वहीं खींचे जाते हैं ll

*********************************************************

दिल ढूढ़ता है फुर्सत के रात दिन l
घटों तक बाते करते रहे उनसे हम ll

*********************************************************

सोचा था फुर्सत मे मिलेगे l

मौत ने व्यस्त कर दिया ll

*********************************************************

किसीका होने का एहसास ही अपने आप में एक बार फिर से जीने की कोशिश है l
प्यार करना बड़ी बात नहीं है, किसीका प्यार दूर रहकर भी पाते रहेना बड़ी बात है ll

*********************************************************

गर मर जाना मेरा तुम्हें गवारा है l
तो ये शोख भी तेरा पूरा करते हैं ll

*********************************************************

जान वसीयत करती हूं l
नाम वसीयत करती हूं ll

जिंदगीभर साथ रखना तू l
व्हाल वसीयत करती हूं ll

*********************************************************

दिलों जान वसीयत करता हूँ l
तुमसे बहोत मुहब्बत करता हूँ ll

हमने कहीं नहीं l
तुमने सुनी नहीं ll

*********************************************************

वो अनकही बात l
लाली ने कह दी ll

*********************************************************

कभी कभी दिल बात होठो पे आते आते जमाना लग जाता है l
नजम में यह बात कही गई है कि इस तरह की कोई वज़ह है ll

*********************************************************

अनकही बात समझो सनम l
होतो की भाषा पकड़ो सनम ll

*********************************************************

जो बात होठो पे न आई कभी l
आज निगाहों ने बयां की अभी ll

*********************************************************

किस तरह बया करे हाल - ए - दिल l
जुबा ने दिल को साथ देना छोड़ दिया ll

*********************************************************

होठ खामोश हो गये हैं l
जुबा पे ताले लग गये हैं ll

*********************************************************

जाने क्या बात हुई है l
जाम प्यारे बन गये हैं ll

*********************************************************

दिल के दरवाजे बंध है l
सालो से जंक पड़ गये हैं ll

*********************************************************

संस्कार और चारित्र्य विरासत मे देना चाहिए l
ये मुड़ी खत्म नही होती है, इज्जत बढ़ाती है ll

*********************************************************

कल मिल ने को कहा, कहते हैं फुर्सत नहीं l
आज फुर्सत ही फुर्सत है, मिलना मना है ll

*********************************************************

कहते हैं एक पल की फुर्सत नहीं है l
आज वो महफिल में गप्पे लगा रहे हैं ll

*********************************************************

फुर्सत मे बैठकर सोचेंगे l
जिंदगी आखिर क्या है ll

*********************************************************

चुंबक की तरह खींचती है रूह तेरी l
मेरी रूह से जुड़ गई है रूह तेरी ll

*********************************************************

प्यार करने वाले विशाल दिल रखते हैं l
किसी भी बात को मन में नहीं रखते हैं ll

*********************************************************

घर चाहे छोटा हो दिल विशाल होना चाहिए l
जगह बन ही जाती है गैरों - अपनों के लिए ll

*********************************************************

यादो की प्रचंड लहरे उठी है मन में l
मिलने की तड़प जगी है मन में ll

*********************************************************

प्रचंड भूकंप आया है दिल के नगर में l
पुराने ख्वाब लाया है दिल के नगर में ll

*********************************************************

बहुविधता से भरा है जग सारा l
रोज रंग बदलता है जग सारा ll

*********************************************************

बहुविधता जीवन में प्रगति लाता है l
इन्सां का जीवन रंगों से भरता है ll

*********************************************************

चालाकी अपनों से अच्छी नहीं l
ये हुनर सदैव तन्हा कर देता है ll

*********************************************************

काश हम चालाकी कर पाते l
ना दिल तड़पता ना हम रोते ll

*********************************************************

दिल का भोला तू क्या जाने दुनिया l
विष का प्याला तूने क्यू है पिया ll

*********************************************************

कितने भोले और नादां थे जो मुस्कराहट को प्यार समज बैठे l
पल दो पल दिल बहलाने आऐ थे नादानी मे प्यार समज बैठे ll

*********************************************************

इतने भी भोले नहीं के प्यार भरी नजर न पहचान पाए l
होठ खामोश हो पर नजर ने सबकुछ बयां कर दिया ll

*********************************************************

प्यार की बातों को कथा मत कहो l
महकते खतों को जफ़ा मत कहो ll

*********************************************************

कथा का सार किसने समजा l
हर कोई खुद उलझनों मे डूबा ll

*********************************************************

क ख़ ग से ही बनती है कथा l
समज मे नहीं आती है कथा ll

*********************************************************

होठ खामोश है l
आंखो मे कथा है ll

ये क्या माजरा है l
कैसी ये व्यथ है ll

*********************************************************

कथा श्री गणेश की l
सुनियो ध्यान मग्न जी ll
शिव पार्वती के बेटे को l
सदैव प्रणाम हो जी ll
मोदक अति भावत l
सदा खुश रखो जी ll

*********************************************************

जिंदगी मे आगे बढ़ना है तो भाई भतीजावाद से दूर रहे l
अपनी बल बूते पर जो भी कमाया जाए वहीं सच्ची राह ll

*********************************************************

भाई भतीजावाद आदत बन चुकी है समाज की l
आजादी को कोई मतलब नहीं, अभी गुलाम है ll

*********************************************************

कोई आला बात होगी उनमे l
जो दिल लगा बैठे हैं उनसे ll

*********************************************************

आला लोग ही नाम कर जाते हैं l
औरों से हट के काम कर जाते हैं ll

*********************************************************

अंदाज आला है उनके l
के पीते भी नहीं और l
लड़खड़ाते है ll
दिल के दरवाजे पर l
आज फिर वो क्यों l
ठकठकाते है ll

*********************************************************

उनकी मुस्कराहट आला थी कि जा लुटा दी l
खता नजरों की थी, सज़ा दिल भुगत रहा है ll

*********************************************************

जो भी काम करो आला तरीक़ों से करो l
तुलना करनी है तो सुनो फकीरों से करो ll

*********************************************************

मातृ भाषा कोई भी हो आपकी l
कविता मे भावना होनी चाहिए ll

*********************************************************

अप्रचलित कहानी की भी दास्ताँ होती है l
प्रचालित कोई बात उसमें छुपी होती है ll

*********************************************************

अप्रचलित रहेंगे दो २०२० को l
बहोत दर्दनाक साल गुजरा है ll

*********************************************************

प्रचलित होने का कोई शोख नहीं l
पर दुनिया के लिए मिशाल होगे ll

*********************************************************

अप्रचलित ग़ज़ले पुकार रही है l
हम भी महफिलों के लायक हैं ll

*********************************************************

अमंगल सोच ही नाकामियों का बीज है l
कामयाबी के लिए मंगल अभिगम चाहिए ll

*********************************************************

विचार शुद्ध होने चाहिए l
सब कुछ मंगल होता है ll

*********************************************************

इश्क का हाल जानने के लिए निकले थे l
रास्ते में अमंगल हुआ, कदम रुक से गये ll

*********************************************************

अमंगल मे मंगल छुपा है l
अपनी अपनी सोच होती है ll

*********************************************************

याद का हमला हुआ है l
आंखो मे बाढ़ आई है ll

*********************************************************

क़दरत ने हमला किया है l
अपनों से दूर कर दिया है ll

*********************************************************

हर तरह के हमले के लिए तैयार है l
बस तुम अपनी नजरे बंध रखा करो ll

*********************************************************

थक गये हैं यादो के हमले से l
अब दीदार हो ही जाए खुदाया ll

*********************************************************

तन्हाई मे तेरी याद का आक्रमण हुआ l
दिल बहलाने को ये काफी नहीं था ll

*********************************************************

एक के बाद एक अलग अलग हमले हो रहे हैं l
इन्सां ने अपने ही कर्मों का फल पाया है ll

*********************************************************

यादो के हमलों ने लूट लिया l
सासों ने नाता तोड़ दिया ll

*********************************************************

होठो पे हसी l
आँखों मे नमी ll

कोई तो बात है l
किसकी है कमी ll

*********************************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Swatigrover

Swatigrover मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Archana Ruparel Mashru

Archana Ruparel Mashru 2 साल पहले

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Jayesh Ghadiya

Jayesh Ghadiya 2 साल पहले

Zalak Mehta

Zalak Mehta 2 साल पहले