मे और मेरे अह्सास - 17 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 17

मे और मेरे अह्सास

17

चुप चुप से महफ़िल में बेठे है वो l
जाम पे जाम पिया है, चुप है वो ll

************************************************

सब कुछ सह लेगे हम l
तेरी कमी ना सहेंगे हम ll

************************************************

आज भी उनको देखने की उम्मीद मे जीते हैं l
जिनको यहां से गुज़रे हुए एक जमाना हुआ है ll

************************************************

खुदा ने इंसा के दिल की बात रख ली l
इन्सां इन्सां के बीच दूरिया कर दी ll

************************************************

नसीब का ही खेल है सब l
तकदीर मे नही, दिल में है ll

************************************************

वक़्त सब का आता है l
आज तेरा कल मेरा है ll

************************************************

कर्ण को जानना चाहते हैं गीता पढ़िए l
जन सेवा सब से बड़ा धर्म और कर्म है ll

************************************************

कर्म किसीको नहीं छोड़ता l
हिसाब बराबर है रखता ll

************************************************

तस्वीर से प्यार किया है l
तकदीर से प्यार किया है ll

************************************************

हद से ज्यादा झुक गये हैं l
प्यार भी तो बेहद करते हैं ll

************************************************

कहने को जमाना तुम्हें देखेगा l
मेरी तरह प्यार से न देखेगा ll

************************************************

मीठी मीठी बाते तो करेगा l
एक बार भी यार न कहेगा ll

************************************************

पीले पत्ते की चादर ओढ़ उपवन सो रहा है l
हवाए जरा आहिस्ता चलो सपने देख रहा है l|

************************************************

पल संकट के आते जाते रहेगे l
अनुभव का खजाना पाते रहेगे ll

************************************************

संकट का समय बीत जाएगा l
सुख का सुनहरा सूरज पाएगा ll

************************************************

जिसको देखना भी निषेध हो l
उसे बारबार देखता चाहते है ll

************************************************

निषेध शक का होना जरूरी है l
विश्वास पे दुनिया टिकी हुई है ll

************************************************

बहन तो "माँ" ही होती है l
भाई पिता हो तो स्वर्ग है ll

************************************************

पिता हो तो दशरथ जैसा l
भाई हो तो लक्ष्मण जैसा l
पति हो तो राम जैसा l
पुत्र हो तो भरत जैसा l
पर मित्र हो तो कृष्ण जैसा ll

************************************************

वस्ल का वक्त पूछताछ मे ना गवाओ l
इस सुहाने मौके का तुम लुफ्त उठाओ ll

************************************************

चांदनी रात मे कई सवाल उठ रहे हैं l
पर पूछताछ की हिम्मत नहीं हो रहीं हैं ll

************************************************

आज हम से कोई पूछताछ ना करना l
कई ग़मों को सीने में दफन किया है l

************************************************

नाज़ था जिस मोहब्बत पे l
आज वो कुर्बान करी तुम पे ll

************************************************

हुश्न को बहलाना कठिन है l
याद को रिज़ा ना कठिन है ll

************************************************

हर पल को जी भरकर जी लो l
हर लम्हों का लुफ्त उठा लो ll

************************************************

कौनसी धुन में सदा जुनून से जीने की कला सीखी है l
यहां एक पल दूसरे पल पे भारी भारी गुजर रहा है ll

************************************************

मोहब्बत लब्जो मे बयान नहीं होती है l
वो तो निगाहों नाज़ से बयान होती है ll

************************************************

उम्रभर चाहूँगा ये कसमें खाई थी l
तुम पे जान दूगा ये कसमें खाई थी ll

************************************************


कसमें जूठी वादे जूठे प्यार भी जूठा l
दिल बहलाने को ये कसमें खाई थी ll

************************************************

सलाम है उस माँ को l
अपना इक लोटा बेटा l
बिना डरे सरहद पर l
देश के लिए भेजती है ll

************************************************

किसको सलामी दू l
तुजे या तेरे प्यार को ll

************************************************

उसने लहजे में कहा कि रुक जाओ ना l
कदमो मे जैसे प्यार की बेड़ियाँ लग गई ll

************************************************

हुश्न ने पर्दा क्या उठाया चांद निकल आया l
चांद को देखने तुरंत चांद निकल आया ll

************************************************

ख्वाबो मे अक़्सर बेचेंन कर जाते हो l
ये क्या नया हुनर सीखा हे जनाब ll

************************************************

आधीसे ज्यादा जिंदगी सीखनेमे निकल जाती है l
बाकी आधी क्या सीखा वो समझने मे जाती हैं ll

************************************************

दिल से यादो को भुलाने का दृढ संकल्प लिया है l
lसामने से कभी भी बुलाने का दृढ संकल्प लिया है ll

************************************************

कड़ा सफर है थोड़ी देर साथ चलो l
आज अकेले है थोड़ी देर साथ चलो ll

************************************************

यीशु के निर्णय पे भरोसा कर l
सिर्फ़ वहीं हमारा भला सोचता है ll

************************************************

शर्म का गहना जब से उतर गया है l
तब से बहने बेटियाँ महफूस नहीं है ll

************************************************

कोई बड़ा खजाना नहीं पास l
प्यार का गहना पहन आउंगी ll

************************************************

लाज़ का घूंघट ओढ़े रखाना l
नाज़े हुश्न को छुपा के रखना ll

************************************************

संतान, स्वास्थ्य, संपति अमूल्य गहने है l
जी जान से इसे सम्भाले रखना चाहिए ll

************************************************

बेटी को ग्यान दहेज मे देना l
ससुराल में सदा खुश रहेगी l

************************************************

जीवन उपहास के पात्र बन गया है l
सुख, शांति और चैन छिन गया है ll

************************************************

उपहास किसीका ना करना l
यहां सब की बारी आती है ll

************************************************

आपधात से तो अच्छा है l
देश के लिए कुर्बानी करो ll

************************************************

मारना तो बहोत आसाँ काम है l
किसी के साथ जीना बही बात है ll

************************************************

मारने ने के लिए चाकू नहीं चाहिए l
एक प्यारी सी मुस्कराहट ही काफी है ll

************************************************

अगर मारना है तो,
अपने अंदर के छुपे हुए,
राग, द्वेष, ईर्ष्या, लोभ, मोह,
माया और ममत को मारो,
जीवन स्वर्ग बन जाएगा ll

************************************************

दयालु ना बनो l
आदत ना बनो ll

************************************************

खुद मे खुद की तलाश कर रही हूं l
खुदाया मुज पे कोई दया ना खाए ll

************************************************

खुदा के अलावा किसी का अहसान ना लॉ l
लोग दया खाकर इज्जत को उतार देते हैं ll

************************************************

दया का नशा सर पे चढ़ता है l
ये वो आदत है जो नहीं छूटती ll

************************************************

केरल की सांस्कृतिक विरासत की भारत की आन है l
केरल की प्राकृतिक विरासत की भारत की शान है ll

************************************************

हमेशा तेरी कमी रही l
आँखों मे नमी रही ll

************************************************

दुसरों मे कमी ना देखो l
जरा अपने अंदर देखो ll

************************************************

कितना भी प्रयत्न करे अच्छा करे l
कोई ना कोई कमी तो रह जाती है ll

************************************************

दिन भारी गुजर रहे हैं l
रात और कठिन हुई है l
ऐसे में तेरा रूठना सनम l
दिल को धक्का लगा है ll

************************************************

रेट व् टिपण्णी करें

રાજેન્દ્રકુમાર એન. વાઘેલા
Prabodh Kumar Govil

Prabodh Kumar Govil मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Pandya Ravi

Pandya Ravi मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Hitesh Vyas

Hitesh Vyas 2 साल पहले