मे और मेरे अह्सास - 16 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 16

मे और मेरे अह्सास

भाग -16

आधीसे ज्यादा जिंदगी सीखनेमे निकल जाती है l
आधी से जिंदगी क्या सीखा समझने मे जाती हैं ll

*******************************************************

वक़्त का ही खेल है सब l
ना जाने क्या हो कब l
कुछ नहीं समज आता तब l
देखते रहते हैं तमाशा तब ll

*******************************************************

आधी अधूरी थी तुज से मिलने से पहले l
कान्हा तूने 'माँ' कह कर पूर्ण कर दिया ll

*******************************************************

सुकून की जिंदगी तलाश में निकले हैं l
फ़कीर की जिंदगी तलाश में निकले हैं ll

*******************************************************

कोई खजाना ही हाथ लग जाये कहीं l
नशीब की जिंदगी तलाश में निकले हैं ll

*******************************************************

l

कल दिवाने थे तुम्हारें l
आज दिवाने है तुम्हारे l
कल भी दिवाने होगे तुम्हारें l
ये बात जानते हो तुम l
के हमारी जान हो तुम ll

*******************************************************

सिर्फ अहसास लिखते हैं l
चाहें ग़ज़ल कहो l
चाहे कविता कहो l
या जज्बातों का नाम दो l
बस अहसास लिखते हैं ll

*******************************************************

नया जमाना नये रूप में पर्दा l
सब कह रहे हैं जमाना खराब है ll

*******************************************************

सब के साथ मिलकर सपने साकार किया जाता है l
सब के फ़ायदे मे अपना फायदा निकल जाता है ll

*******************************************************

सब का साथ का विकास l
देश दुनिया का विकास ll

*******************************************************

कुदरत ने ये कैसा कहर ढाया है l
इन्सां को इन्सां से दूर किया है ll

*******************************************************

मदहोशी का आलम कुछ इस तरह छाया रहा l
ना हुस्न ने पर्दा हटाया, ना मेने हिम्मत की l
देखते ही देखते रात ढल गई l
और हम दोनों घेरी नीद मे सो गये ll

*******************************************************

मे और मेरी तन्हाई अक्सर ये बाते करते हैं l
खता किस की है ? सज़ा कौन भुगत रहा है ?

*******************************************************

हर सुबह का पहला दीदार हो तुम l
हर रात का आखरी दीदार हो तुम ll
जिंदगी की पहली ख्वाब हो तुम l
जिंदगी का आखरी ख्वाब हो तुम ll

*******************************************************

अजीब सा दौर चल रहा है l
जानवर खुले मे घूम रहे हैं l
इन्सां पिंजरे मे बंध है l
सब के दिन आते हैं l
तो गुरूर किस बात का है ll

*******************************************************

पास रहने वाले लोग साथ नहीं होते l
साथ रहने वाले लोग पास नहीं होते ll

*******************************************************

विचित्र व्यक्ति का बर्ताव पर भरोसा नहीं कर सकते हैं l
सनकी व्यक्ति हर पल अपनी धुन में मगन रहेता है ll

*******************************************************

लोग सनकी है l
जहा रंगीन है ll

*******************************************************

जहां की बाज नजरो से प्यार को छिपाए रखना l
कही नज़र ना लग जाए यार को छिपाए रखना ll

*******************************************************

मंजिल तक पहुंचने के लिए l
बाज सी उड़ान भरने के लिए l
नज़र तेज और दिमाग को l
काफिर बनाना चाहिए ll

*******************************************************

भरोसा खुद पे कायम किया करो l
हिमालय की चोटी तक पहोचना है ll

*******************************************************

प्रेम दीपक हर कोई नहीं जला सकता l
बिरहा का ताप सहने की क्षमता चाहिए ll

*******************************************************

प्यार की लौ जलाए रखना l
आश का दीपक जलाए रखना ll

*******************************************************

तुजे पाकर बेहोश हो गए थे l
जुदाई मे तेरी होश आ गए हैं ll

*******************************************************

होश में ही नहीं है और जोश की बात करते हो l
बेहोशी का आलम अच्छा है, तुम ख्वाबो मे हो ll

*******************************************************

तेरी एक अदा ने मदहोश कर दिया l
अच्छे भले इंसा को बेहोश कर दिया ll

*******************************************************

मिलन की रात आँखों में ही काट दी l
नजरों के जाम ने बेहोश होने ना दिया ll

*******************************************************

आज चांदनी रात मदहोश कर रही है l
अच्छे अच्छो को बेहोश कर रही है ll

*******************************************************

धर्म हमे पहचान देता है l
आत्मा का उद्धारक है ll

*******************************************************

दोस्ती मे कोई धर्म नहीं होती l
ये तो रूह से रूह को होती है ll

*******************************************************

प्यार के पल एकत्रित करके रखना l
यही जीने का वजूद बन जायेगा ll

*******************************************************

यादो के पल को संभाले रखा है l
वादों को हमने संभाले रखा है ll

*******************************************************

दिन मे बराबर ठीक हो जाओ l
अपने मन को कहते रहो ll
फ़िर देखो जादुई असर l
आप प्रफुल्लित रहोगे ll

*******************************************************

आधी रात ढले हुस्न ने पर्दा उठाया l
एकाएक ज़िल मे चांद नज़र आया ll

*******************************************************

आधा दिन निकल गया बातो बातों मे l
आधा युही निकल जाएगा आखों में ll

*******************************************************

आत्मा अमर है l
जीवन सत्य है ll

*******************************************************

एक को खुशी देने वाला पल l
दुसरों को दुखी कर सकता है ll

*******************************************************

खुशी को बाहर ना ढूंढो l
वो भीतर छुपी बैठी है ll

*******************************************************

तेरी खुशी के लिये हँसकर जीते हैं l
अश्क छुपाकर देख मिटकर जीते हैं ll

*******************************************************

खुशी बाँट दिया करो l
खुद खुश रहोगे सदा ll

*******************************************************

किसी को खुश रखने के लिए खुश रहना आसाँ बात नहीं है l
सौ बार टूटकर हज़ारों बार जुड़ना कोई आसाँ बात नहीं है ll

*******************************************************

प्यार को प्यार रहने दो l
धर्मान्धता को दूर रहने दो l|

*******************************************************

आज कुछ विचित्र बर्ताव करने लगे हैं l
फिर यादो का नशा चढ़ा लगता है ll

*******************************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Nadeem Patel

Nadeem Patel 2 साल पहले

Swatigrover

Swatigrover मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

shiva suthar

shiva suthar 2 साल पहले

vitthal algotar

vitthal algotar 2 साल पहले

Zalak Mehta

Zalak Mehta 2 साल पहले