मे और मेरे अह्सास - 15 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 15

मे और मेरे अह्सास

भाग 15

दुनिया की जंजीर तोड़कर आजा l
प्यार के बंधन मे बंधकर आजा ll

*********************************************************************

फोन पे बाते करना अच्छा लगाता है l
पर नज़रे तुझे देखने को तरस गई है l

*********************************************************************

मिट्टी से बना है, मिट्टी में मिल जाएगा l
गुरूर छोड़ दें,और जहां को सुहाना बना ll

*********************************************************************

तेरी वफ़ा का जिक्र किसी से ना करूंगी l
कही ख़फ़ा तू ना हो, खुदा ना करे मुझसे ll

*********************************************************************

खुद पे भरोसा l
खुद का हौसला l
खुद की शक्ति l
आसमाँ की बुलंदी l
को छूने के लिए l
पहेली शर्त है ll

*********************************************************************

मनाने वाला हो तो रूठना l
जगाने वाला हो तो ही सोना ll

*********************************************************************

मेरी आंखे उसे देखने को तरस रही है l
आ रही है वो बस दो फुट की दूरी हैं ll

*********************************************************************

लोक डाउन मे
प्रेयर, पोएम,पेंटिंग, पियानो ...
दिल बहलाने के लिए साथी है l
मोबा इल, म्यूज़िक, मस्ती ...
दिल बहलाने के लिए काफी है ll

*********************************************************************

तस्वीर से प्यार किया है l
तकदीर से प्यार किया है ll

*********************************************************************

दिल के धनिक है इश्क वाले l
एक अमीर से प्यार किया है ll

कब तक दिल को बहलाता रहु मे l
अब जूठे दिलासे देकर थक गये हैं ll

*********************************************************************

नीद क्यों किस्तों मे आती है l
दूरी क्यों रिस्तों मे आती है ll

*********************************************************************

हाथो मे जाम है l
होठो पे राम है ll

*********************************************************************

हस्ती मेरी इस तरह मीट गई l
जैस के अखबार की ख़बरें ll

*********************************************************************

जो बाकी रहा है उसे गले लगाओ l
जो बीत गया है उसे भूल जाओ ll

*********************************************************************

हमसे प्यारी तो आपको लिपस्टिक है l
जो होठो पे लगाए रखते हों l
और निगोड़ी सोने की चैन अजीज है l
जो हरपल दिल के पास रखते हों ll

*********************************************************************

यादो को बराबर सम्भाल के रखना l
वादो को बराबर सम्भाल के रखना ll

*********************************************************************

साथ बिताई हुई हसीन प्यार भरी l
रातो को बराबर सम्भाल के रखना ll

*********************************************************************

समान जितना कम होगा l
सफर उतना आसान होगा ll

*********************************************************************

हो रही है फ़ूलों की बारिस निले आसमाँ से l
बेइंतहा प्यार की बारिस निले आसमाँ से ll

*********************************************************************

हुस्न की अदा के आगे नीला आसमान जुका हुआ है l
उनकी मीठी आवाज सुनने को पवन भी रुका हुआ है ll

*********************************************************************

यू बसर होती नहीं ये जिंदगी l
कई रकावट झेलती है जिंदगी ll

*********************************************************************

कहने को जमाना था जब तक कि रुपया थी l
अब दुनियादारी की बाते करने लगे हैं जनाब ll

*********************************************************************

प्यार के काबिल बना दिया l
जीने के काबिल बना दिया लल

*********************************************************************

हम आप के योग्य तो नहीं है l
पर दिल के अमीर जरूर है ll

*********************************************************************

बेपरवाह लोगों से बेपनाह प्यार किया है l
बेफिक्र लोगों से बेइंतहा प्यार किया है ll

*********************************************************************

नीली नीली बड़ी आँखों में मोती से अश्क चमक रहे हैं l
ज़िल से गहरी आँखों में मोती से अश्क चमक रहे हैं ll

*********************************************************************

कितने ही दिन आलस मे गुजर दिए l
कई अच्छे मौके हाथ से निकल गए ll

*********************************************************************

चोट खाकर भी मुस्करा रहे हैं l
इश्क वाले जिंदादिल होते हैं ll

*********************************************************************

हररोज आघात देना उनकी आदत है l
कोई नया तरीका ढूंढो ज़ख्म देने का ll

*********************************************************************

तुजे ना देखू इतना हौसला नहीं है मुज मे l
तुजे ना चाहु इतना हौसला नहीं है मुज मे ll

*********************************************************************

कहना और सहना दो अलग बात है l
एक आप ने भूल जाना कह दिया l
एक हम हैं जुदाई का दर्द सह लिया ll

*********************************************************************

प्यार अभी कच्चा है l
दिल अभी भी बच्चा है लल,

*********************************************************************

बिगाड़ा हुआ हर लम्हा वापिस ना आयेगा l
पर आने वाले सभी लम्हे खुशी से भर देगे ll

*********************************************************************

खुद को जिंदा रखने के लिए ll
ख्वाब को जिंदा रखना चाहिए ll

*********************************************************************

इश्क में सदा उत्साहित जीने की ll
लगन फूल सी रंगीली होती है ll

*********************************************************************

जीवन में सदा उत्साहित रहें l
मन हमेशा प्रफुल्लित रखे ll

*********************************************************************

दिल मिलन को अधीर है l
चलो चाय का बहाने मिले ll

*********************************************************************

जिसका बेसब्री से इंतजार है, वह दूर हो गया है l
दिल को लगाकर दिले नादान, क्यों दूर हो गया है ll

*********************************************************************

राह चलते एहतियात रखा करो l
आमने सामने नज़र रखा करो ll

*********************************************************************

पहली मुलाकात को भुलाना आसां है क्या l
महबूब के खत को जलाना आसां है क्या ll

*********************************************************************

जीवन में जरूरतें क्रम होगी l
जीवन उतना ही आसां होगा ll

*********************************************************************

सोच विचार करके आईना देखो मेरी जान l
आज कल वो भी तुम पे नजर रख रहा है ll

*********************************************************************

लोग मेरी कामयाबी पे ऊंगली क्यों उठाते हैं l
नजरो पे बिठाकर नज़र से भी क्यों गिराते है

*********************************************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Khyati Soni ladu

Khyati Soni ladu 2 साल पहले

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Zalak Mehta

Zalak Mehta 2 साल पहले

Pradeep Singh Rajpurohit

Pradeep Singh Rajpurohit 2 साल पहले

vishavmohan gaur

vishavmohan gaur 2 साल पहले