मे और मेरे अह्सास - 13 Darshita Babubhai Shah द्वारा कविता में हिंदी पीडीएफ

मे और मेरे अह्सास - 13

मे और मेरे अह्सास

भाग-13

आदमी खुद को जान लेता हैं l
ये जग उस को पहचान लेता है ll

************************************

शुरुआत जोरदार होने से कुछ नहीं होता l
जीत ने का हौसला बरकरार रहेना चाहिये ll

************************************

स्थिर और एकाग्र मन ही योग है l
साफ और सच्चा हृदय योग है ll

************************************

ह्रदय समंदर जैसा विसाल रखो l
जहा मे खुद की बड़ी मिसाल रखो ll

************************************

ए खुदा तू मेरे पापा जैसा बन l
मेरे मांग ने से पहले वो l
मेरी प्यारी चीज़ो से मेरी l
जोली भर देते हैं ll

************************************

जिंदगी का सफर आसाँ नहीं है l
हौसला बढ़ाने की कोशिश कर ll

************************************

जिंदगी हर रोज इन्तहा लेती है l
जीनेकी चाह हो तो राह मिलती है ll

************************************

जीने के लिए सौ बहाने होते है l
मरने को एक बहाना काफी है ll

************************************

गर दुनिया में अपनी पहचान बनानी है l
तो सब से अनूठा कर के दिखाना होगा ll

************************************

बादल गरजे तुम याद आए l
बारिश हुई तुम याद आए l
छाता उड़ा तुम याद आए l
मे भीग गई तुम याद आए l
आंखे बहने लगी धारधार l
तुम क्या याद आए ll

************************************

बारबार खुदा का कृतज्ञ हैं l
औकात से ज्यादा कृपा है ll

************************************

जीने का हौसला और नशा होना चाहिए l
ख़ुदकुशी तो एक आसां तरीका है नादा ll

************************************

हाल पूछने तककी फ़ुरसत ना थी l
अब तू मेरे जाने का गम न कर ll

************************************

बातूनी लोग दिल के साफ होते हैं l
कई सारे लोग इनके साथ होते हैं ll

************************************

नशा चाहे प्यार का हो l
या जाम का l
एक दिन उतर जाता है ll

************************************

खुद को चाहे कितना भी अक्लमंद समझो l
दुनिया वालो को मुर्ख ना समजना कभी भी ll

************************************

राधा और मीरा l
नाम जुदा काम एक l
कृष्ण को प्रेम करना ll
ग़र वो दर्शन को तरसी l
तो कृष्ण भी मिलन को तड़पे ll

************************************

मौसम की पहेली बारिस l
तेरी याद लेके आई है ll

************************************

रूप तेरा दीवाना कर रहा है l
सोई हुई इच्छाएं जगा रहा हैं।l

************************************

बरसो काले धन आज जी भरके l
युगों की प्यास बुझाने के लिए ll

************************************

ख्याल तेरा ही रहता है हर पल मेरे दिल में l
जालिम ये कैसा रोग पाल लिया है दिल में ll

************************************

निर्दयी बनकर बेजुबान को परेशा ना कर l
उनकी हाय लगी तो कहीं का ना रहेगा तू ll

************************************

किसी की योग्यता को अपने मापदंड से ना टोलों l
सभी अपनी सभ्यता के अनुसार बर्तन करते हैं ll

************************************

प्यार मे कोई उच्च नीच नहीं होता l
प्यार दो रूहो का रिसता होता है l।

************************************

ऑनलाइन पढ़ाई l
माँ बाप की धुलाई ll

************************************

जो खुली आंख मे भी निद्रालु हो l
उसे कोई भी नहीं जगा सकता है ll

************************************

कभी कभी नीद से जल्दी जागना अच्छा है l
वर्ना अनमोल चीजे पीछे छूट जाती है ll

************************************

कल रात हमने आँखों आँखों में काट दी l
तो नीद उनको भी रातभर नहीं आई होगी ll

************************************

जिंदगी ने बेवक़ूफ़ बनाया l
वर्ना हम आदमी काम के थे ll

************************************

देख के हुस्त्र की ज़ुल्फ़े मन रोमांचक हो गया l
दिल खुशी से मदहोश हुआ मे बेहोश हो गया ll

************************************

प्रेम का अनूठा रूप राधा - कृष्ण l
दर्शन की अनोखी प्यास मीरा ll

************************************

प्यार मे सब का अनोखा अंदाज होता है l
सब के दिल का एक सा अंजाम होता है ll

************************************

किसी भी चीज़ का अधिकतम होना ज़हर है l
चाहे पैसा हो, चाहे प्यार सबकुछ ज़हर है ll

************************************

कटु सत्य है l
सत्य कटु है ll

************************************

जेब भले ही खाली हो l
पर दिल विस्तृत रखो ll

************************************

वक़्त और हालत ने शातिर बना दिया l
वर्ना हम किसी से प्यारों मे शामिल थे ll

************************************

कटु शब्द बोलने वाले l
लोग दिल के सच्चे होते हैं l
मीठी जुबा रखने वाले l
लोग जेब में छुरी रखते हैं ll

************************************

हुस्न को बेपर्दा देख कर l
दिल बागी होता जा रहा है ll

************************************

इश्क का क्या क़ुसूर यारो l
फिजाओ में नशा छा रहा है ll

************************************

सब साथ मिलकर सपने बहाते हैं l
इसी मे सब का उत्थान होता है ॥

************************************

गैरों को भी बड़े उमंग से मिलों l
ना जाने कब जिंदगी की शाम ढले ll

************************************

छोड़ ना पाएंगे अब कभी भी तुम को l
और तुजे पाने की कोशिश जारी रहेगे ll

************************************

रेट व् टिपण्णी करें

Vishal

Vishal 2 साल पहले

nice

Prabodh Kumar Govil

Prabodh Kumar Govil मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Urmi Chauhan

Urmi Chauhan मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Parul

Parul मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले

Darshita Babubhai Shah

Darshita Babubhai Shah मातृभारती सत्यापित 2 साल पहले