देह की दहलीज पर - 3 Kavita Verma द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

देह की दहलीज पर - 3

साझा उपन्यास

देह की दहलीज पर 

संपादक कविता वर्मा

लेखिकाएँ 

कविता वर्मा 

वंदना वाजपेयी 

रीता गुप्ता 

वंदना गुप्ता 

मानसी वर्मा 

कथाकड़ी 3

   उस दिन कामिनी अन्य दिनों की अपेक्षा शाम से पहले ही घर आ गई थी, सासू माँ अपनी फेवरिट जगह टीवी के सामने नहीं दिखाई दी तो उनके कमरे में झांका तो देखा कि वे अपनी दोपहरिया की नींद पूरी कर रहीं हैं। घर में अभी कोई और नहीं था। कामिनी को अपने बेडरूम में झाँकने भी मन नहीं किया। कपड़े भी नहीं बदले पर्स को एक तरफ फेंक उसने किचन में जाकर एक कप चाय बना लिया और बालकनी में जा अपने हैंगिग झूले पर बैठ गई। झूले की हल्की कंपन से मन में भरी आकुलता भी फिर हिलोरें लेने लगी। तभी उसकी निगाह सामने वाले बिल्डिंग के तीसरे माले पर अटक गई। कबूतरों का वह जोड़ा उस वक्त भी वहाँ गुटरगूँ कर रहा था। उफ्फ, ये लव बर्डस…..

 …काश!

   जमाना हो गया होगा जब मुकुल ने उसके संग यूँ बैठ बालकनी में चाय पी होगी। सुबह जाने की ही हड़बोंग मची रहती है और शाम को उसने घर आना छोड़ ही दिया है। देर रात आता है तो सीधे खाना और फिर टीवी। टीवी तो उसकी सौतन ही बन बैठा है मानों, जिसकी रिमोट पकड़ वह देर तक चैनल सर्फिंग करता रहता है मानो एक ढाल बना लिया हो कामिनी से बचने हेतु। इतना सुंदर बालकनी बनवाया, बढ़िया मँहगे पौधों वाले गमलों से सजाया। इस फ्लैट को पसंद करने का एक कारण ये बड़ा सा अर्धगोलाकार बालकनी भी है। मौसम के अनुसार सही धूप, हवा और रोशनी। कोई भी घर उसकी साजसज्जा गृहणी की सुरुचि और विचारों का दर्पण होता है। कामिनी जितनी मेहनत खुद को फिट रखने में करती थी उतनी ही अपने आशियाने की देखभाल में। बालकनी की सजावट उसकी उच्चस्तरीय पसंद की परिचायक थी। उसने अपनी जाती हुई जवानी को मुट्ठी में कस रखा था, उसकी समवयी महिलाओं की शख्सित जहाँ उनकी खुद के प्रति लापरवाही का नमूना पेश करती, वही कामिनी ने मजाल हो जो एक इँच भी फालतू फैलाव या ढीलापन आने दिया हो।

   पर क्या फायदा उस सजेधजे घर का जहाँ प्रेम वृक्ष ही सूख रहा हो, जवानी बची रहने के बावजूद भी तो व्यर्थ ही है जो पी संग को तरसता रहे। सामने बालकनी में बैठे उस बुजुर्ग जोड़े की उन्मुक्त अंतरंग हंसी देर तक मुकुल की टीवी देखती प्रिया के साथ गडमड होता रहा था। एक क्षण को व्हील चेयर पर बैठी उस वृद्धा से उसे ईर्ष्या हो आई।

“उफ्फ क्या होता जा रहा है, मुकुल क्यों उसे इग्नोर कर रहा है? कहाँ, कब और कैसे मुकुल दूर होता गया? 

……हर कोई प्रेम में आकंठ और तृप्त दिख रहा है, उसे सुबह काँता बाई की कही बातें भी याद आ गई। एक वह ही प्यासी अतृप्त इच्छाओं संग जिए जा रही। उसने चाय का कप रख दिया, जाने क्यों उसे उसकी गर्मी अब नहीं भा रही थी। अचानक कोल ड्रिंक की तलब होने लगी। उसने अपने शुष्क होते जा रहे गले को सहलाया और उसकी नज़र फिर सामने फ्लैट की ओर चली गई। वहाँ अब कोई नहीं था। शायद शाम की तैयारियों में लग गये होगें।

   सामने वाली बिल्डिंग उसके ही सोसाइटी में था और चौथे तल्ले पर रहने वाली कामिनी की बालकनी से बहुत पास नहीं तो बहुत दूर भी नहीं था सामने की तीसरी मंजिल। हल्का सा गर्दन तिरछी कर बस वहाँ की गतिविधियों का लुत्फ उठाया जा सकता था। वहाँ रहते थे सोसाइटी के सबसे बुजुर्ग दंपत्ति मिस्टर एंड मिसेज़ अरोरा। कामिनी को वो बिल्कुल अपने बिल्डिंग में रहने वाले कबूतरों के मानिंद लगते, हमेशा दोनों साथ साथ ही दिखते गुटरगूँ करते हुए। बहुत ही क्यूट कपल था, हर दिन शाम को जब कामिनी कालेज़ से लौटती वे दोनों सोसाइटी के लान में दिख जाते। कभी दोनों अकेले तो कभी कुछ दूसरें बुजुर्गों संग बतियाते मिलते। सुबह बालकनी में वे लोग जहाँ टी शर्टस में दिखते थे तो वहीं शाम को बिलकुल टिप टाप। अंकल जहाँ बढियाँ शर्ट पैंट और हर दिन अलग अलग जूतों में तो आँटी कभी सिल्क साड़ी तो कभी सलवार सूट में, पर होता वह भी सिल्क का ही। बाल कभी जूड़े में कसा तो कभी चोटी में। मैचिंग चूड़ी या बाला पर कान में वही बड़ा सा सालिटेयर और गले में वही मोटी सी चेन जिसमें हीरे का पेन्डेड लटकता रहता, बिलकुल कर्णफूल से मैचिंग। कामिनी का मन होता कि कभी व्हील चेयर पर बैठी आँटी के चप्पलों को भी देख पाती, उसे विश्वास था कि वह भी जरूर मैचिंग ही होगा और वह मन ही मन अपनी कल्पना पर हँस देती। 

    हर दिन शाम को कार पार्क कर पार्किंग से लिफ्ट की ओर जाते वक्त वह अपनी खोजी नजरों को अरोरा अंकल-आँटी को सोसाइटी के लान, पाथवे या बेंचों पर तेजी से फिसलाते हुए ढूंढती। और वे दिख भी जाते यत्र तत्र इन्हीं जगहो पर। ज्यूं दशहरे में नीलकंठ पक्षी द्व के दर्शन हो गये कामिनी यूँ खुश होती उन्हें देख कर। वह उन्हें देख तेजी से घर दौड़ती, मुकुल भी लगभग इसी वक्त एक घंटे के लिए आता। बच्चे छोटे थे वे ट्यूशन के लिए गये होते और सासू माँ उसके आते गृहस्थी उसे थमा, अपनी इवनिंग वाक के लिए निकल जाती। मानों पूरा परिवार पूरी कायनात एक टुकड़ा एकांत उन्हें थमा देता। कामिनी इसीलिए दौड़ती ताकि प्यासे पपीहे के आने के पहले थोड़ा माहौल बना ले। पपिहा आता, चाय संग कामिनी के प्यार का थोड़ा ओस चाटता जो उसकी कामाग्नि में घी का काम करता। पर अधूरे कार्य व्यवसाय की जिम्मेदारियां मुकुल को त्वरित लौटने को विवश कर देतें और प्रेम शर से बिंध तड़पता पपिहा दाने की तलाश में वापस जाता। वह सुख अपूर्व होता जब कामिनी उसे वापस भेजती एक मोहक मादक रात्रि के आश्वासन के साथ। सांझ को लगी इस कामाग्नि में दोनों तब तक दग्ध रहते जब तक रात की एकांत में उनकी प्यास बुझ न जाती। उन तृप्त रातों की सुबह कितनी सुहानी होती, मन और तन हल्के मानों फूल से। मीठी अंगड़ाइयाँ मुकुल की खुशबू से तरबतर। 

  इसे संयोग माने या कामिनी का वहम, जिस शाम वह फ्लैट की ओर लौटने वक्त अरोरा दंम्पत्ति को नहीं देखती उस दिन कुछ न कुछ ऐसा होता कि उसका और मुकुल का वह शाम वाला फोरप्ले गड़बड़ा जाता। अब घर गृहस्थी में बहुत कुछ ऐसा हो जाता है कि लीक पर चलती, एक ढर्रे पर दौड़ती दिनचर्या की एकरसता भंग हो जाती। कभी बच्चों का ट्यूशन से छुट्टी हो जाती तो कभी माता जी के घुटनों में दर्द उभर जाता और तो और कभी किसी कारणवश मुकुल ही नहीं आ पाता। कारण चाहे जो हो कामिनी की व्यग्रता अवश्य बढ़ जाती, रात तक मुकुल का इंतजार उसे पहाड़ लगने लगता। उस एक पल की अंतरंगता का अभाव उसके जिस्म को बेचैन कर देता।

   अत: हर शाम वह अरोरा अंकल आँटी से अवश्य मिलते आती। कभी दोनों बैठ कर स्टिक वाली आइसक्रीम चाटते दिखते तो कभी आँटी की व्हील चेयर को ठेलते हांफते अंकल। एक बार तो आँटी अकेली बैठी हुईं दिखी, घी कलर की तसर साड़ी में दिपदिप करती हुईं तो कामिनी उनके पास ही चली गई। वह उनसे पूछ ही रही थी कि अंकल दो चोको बार लिए आते दिख गए,

“अरे कामिनी बेटा, लो लो तुम भी खाओ हमारे संग आज आइसक्रीम”,

कहते हुए एक उसकी तरफ बढ़ा दिया। न न करते हुए उसे लेना ही पड़ा। अब अंकल आँटी एक ही बार को बारी बारी उसके समक्ष चूस रहें थे बिलकुल बच्चों की तरह खुश होते हुए। कामिनी मन ही मन कल्पना करने लगी कि काश! वह भी बुढ़ापे में मुकुल संग यूँ ही सार्वजनिक रूप से रोंमास कर पाती। 

    पर सब दिन होत न एक समाना, बच्चों की दिनचर्या बदलने लगी, सासू माँ का टहलना घूमना कम होने लगा और मुकुल की व्यस्तता बढ़ने लगी। नहीं बदला तो कामिनी की चिर जवाँ दिल के अरमान। वो तो यूँ ही तड़पते वैसे ही प्रणय भाव से युक्त मुकुल की समीपता की चाह रखते जैसे विवाह के शुरूआती दिनों में। उन में लेशमात्र भी तंगहाली की छाया नहीं पड़ी बल्कि मिलन का अभाव कामिनी की कामनाओं में और उफान ही ला रहा था।

    कामिनी अरोरा अंकल आँटी को जब बतियाते देखती, साथ साथ ठहाके लगाते देखती; तो सोचती कि दोनों हर पल चौबीस घंटे साथ रहने के बावजूद कहाँ से इतनी बातें जमा कर लेते हैं कि अब भी शेष है कहने सुनने को। उसने अपने अधेड़ हो चले मम्मी पापा की चुप्पी को देखा है। दोनो दिन भर घर के दो कोनों में पड़े रहते हैं सिर्फ जरूरी बातचीत जैसे उसके और भाई के घर से जाने के बाद दोनो की बीच की कड़ी ही टूट गई हो। उसे पापा मम्मी के बीच का वह ठंडापन वह उबासियों वाले सरकते दिन रात आक्रांत करते। वह हमेशा सोचती रिश्तों का ये बासीपन वह अपने घर में कभी नहीं आने देगी। वह तो अरोरा दंपत्ति की तरह अपने रिश्तों को सदैव ताजा और ऊर्जावान रखेगी पर धीरे धीरे मुकुल का ये बदलता रवैया उसको अपने सपनों पर आघात सदृश्य लगने लगा है।   

   पर कामिनी हर शय अपनी कोशिश जारी रखने की कोशिश करती रहती, उसे ये लगता रहता कि शारीरिक दूरियाँ मानसिक अलगाव को फिर पोषित करने लगेंगी। खून का रिश्ता न होते हुए भी पति पत्नी के मध्य जुड़ाव का महत्वपूर्ण कारक ये शारीरिक संबंध होते हैं। विपरीत का ये आकर्षण ही तो दांपत्य का नींव है। सेक्स ही तो दो अपरिचितों को एक करता है। इसके बिना तो वैवाहिक जीवन फिर बेमानी ही है। 

   जब से उसे मुकुल द्वारा खुद की अवहेलना का एहसास होना शुरू हुआ है वह कालेज से लौट सोसाइटी के पार्क में कुछ देर टहलती रहती है, हड़बड़ा कर घर जाने का उसका मकसद ही बेमकसद हो गया है। अब वह सोसाइटी के अन्य चेहरों को भी पहचानने लगी है भले नाम न जानती हो, टहलते हुए हाय हेलो तक की जानपहचान। जब से अरोरा अंकल ने आइसक्रीम खिलाया था, कामिनी कोशिश करती कि कभी कभार वह भी उन्हें कुछ खिला दे या कुछ मदद ही कर दे। 

   उसकी सोसाइटी में दस मंजिलों के चार ब्लाक थे चारों कोने पर और बीच में बड़ा सा खुला स्पेस। जिसमें लान, पाथवे, कुछ बेंच और बच्चों के लिये कुछ झूले इत्यादि थे। दिन में जहाँ सन्नाटा छाया रहता वहीं शाम होते ही गुंजायमान हो जाती वह जगह छोटे बच्चों की किलकारियों से, दिन भर दड़बों मे कैद बुजुर्गों की आजाद ठहाको से। बाजार आते जाते लोगो की चहलकदमियों से आबाद हो जाता। कामिनी वहाँ बैठ आते जाते लोगो को देखती, मन ही मन तुलना करती कि क्या वो उस मुड़ी तुड़ी साड़ी वाली से भी गई गुजरी है जो पति संग हँसती मुस्कराती सब्जी का थैला ले कर आ रही है। उसने ऐसा क्या कहा कि उसके पति की हंसी रुक ही नहीं रही। कामिनी विस्मय से हर आते जाते जोड़े को तौलती और काल्पनिक ख्यालों के सागर में डूबती उतराती रहती। 

  आजकल उसका ध्यान भग्न एक और व्यक्ति भी कर रहा था, वह लगभग रोज ही पार्क एरिया में दिख जाता। बिलकुल चुस्त दुरुस्त कसरती शरीर का स्वामी वह कोई कम उम्र का नौजवान न था बल्कि व्यक्तित्व से वह कोई उच्च पदाधिकारी लगता। जब वह तेज कदमों से बगल से गुजरता तो मर्दानी पसीने में डूबी वह देहगंध कामिनी की मानों सुधबुध ही हर लेती। वह उसके अगले फेरे का इंतजार करती ताकि अंदाज लगा सके कि उसने कौन सा डियो लगाया है। सहसा उसे मुकुल की अस्तव्यस्त पर्सनालिटी का भान हो आया। एक कसक सी उठ जाती कामिनी के हृदय में काश मुकुल भी ऐसे ही बन संवर कर इस मदहोश कर देने वाले डीयो से तरबतर उसके पास आता और अपने बाहुपाश में उसे झकझोर देता।

  उस दिन आँटी के बगल में बैठी कामिनी अपनी उदासी के बहकते घोड़ों की लगाम थामने में बार बार असफल हो रही थी। सुबह कालेज में भी आज उसने अपने अंतरंग पलों को नीलम के सामने बेपर्द कर दिया था, 

“इन्हें थामना होगा, अब न किसी को राजदार बनाने की गलती करूँगी। बंद कमरों की बातें बंद किवाड़ों के अंदर ही सुलझाने होगें”,

कामिनी ने सर घुमा आँसुओं को अँखियोँ की कोरों पर थाम लिया।

   पता नहीं आँटी ने देख लिया या अनुभवी आँखों से कुछ भाँप लिया। उन्होंने कामिनी की हथेलियों को थाम लिया और उसके सर को सहला दिया। कुछ पल यूँ ही अनकहे गुज़र गए, कामिनी के ज्वार को स्नेहिल स्पर्श से एक सुकून सा किनारा मिला मानों। उदासीनता किनारों पर सर पटक अब स्थितिपरक हो चलीं थी। कामिनी को बार बार मन होता कि वह आँटी से अब तक पतिप्रिया बने रहने का राज पूछे। पर फिर ये भी तो किसी की निजता हनन होता। होठों तक आते सवाल को उसने होंठ काट बमुश्किल रोका।

  अँधेरा घिरने को था पर उसके कदम उठ ही नहीं रहे थे। सच कहा जाए तो उसे घर जाने मन ही नहीं हो रहा था। मुकुल की अवहेलना का दंश उसके पैरों में बेड़ियाँ डाल रहे थे, आखिर क्यों जाए वहाँ, जहाँ उसकी कोई कद्र ही नहीं। मुकुल की उपेक्षा ने उसके व्यक्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया था। उसकी हथेली अब तक आँटी की हथेलियों के बीच स्नेह सिंचित हो रहे थे।

“चलो बेटा, अब घर चला जाए, मुकुल और बच्चे तुम्हारा इंतजार कर रहे होगें”,

अंकल ने कहा तो उसकी तंद्रा भंग हुईं।

सच, लान में अब इक्का दुक्का ही लोग थे। अंकल आँटी अब तक उसकी अन्मयस्कता स्वत: दूर होने का ही इंतजार कर रहें थे। सचमुच ये लोग बहुत क्यूट हैं सोचती कामिनी ने उन्हें शुभरात्रि कहा और अपने बिल्डिंग की तरफ बढ़ चली।

क्रमशः

 रीता गुप्ता 

कहानीकारस्तंभकार और स्वतंत्र लेखन। 

राँची झारखंड से।

छ लघुकथा सांझा संग्रहतीन सांझा कहानी संग्रह और "इश्क़ के रंग हज़ार" नामक लोकप्रिय एकल कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं।

मातृभारती पर बाजूबंदतोरा मन दर्पण कहलाएकाँटों से खींच कर ये आँचल और शुरू से शुरू करते हैं जैसी पापुलर कहानियाँ मौजूद। 

koylavihar@gmail.com

 

रेट व् टिपण्णी करें

Neeru

Neeru 1 महीना पहले

Suman Thakur

Suman Thakur 2 महीना पहले

Shikha

Shikha 2 महीना पहले

Kaustubh  Upadhyay

Kaustubh Upadhyay 12 महीना पहले

Shital Shingarkhiya

Shital Shingarkhiya 1 साल पहले