आखिरी ख्वाहिश

आखिरी ख्वाहिश
आशू और सेजल कॉलेज ? प्रथम वर्ष में
साथ साथ पड़ते थे। वो दोनों बचपन से ही
एक दूसरे को जानते थे और उन्होंने स्कूल भी साथ में किया था।
वे दोनों एक दूसरे के घनिष्ठ मित्र भी थे
और दोनों एक दूसरे को अपनी हर बात
शेयर करते थे।
सेजल सम्पन्न परिवार से थी और आशू
मध्यम वर्गीय परिवार से था। दोनों के घर
पास होने के कारण दोनों के परिवारों के
बीच पारस्परिक संबंध अच्छे थे।
सेजल बेहद खूबसूरत थी जो उम्र बढ़ने के
साथ साथ उसकी खूबसूरती भी बढ़ती जा रही थी।
एक सुबह सेजल अपनी स्कूटी लेकर आशू के
घर पहुची।
"आशूउऊ अबे पागल! निकल ना बाहर
कॉलेज ? को लेट हो रहा है यार,
आंटी निकालो ना इसे कुंभकरण को सो रहा होगा।"
"क्यूँ सुबह सुबह से गला फाड़ रही हैं रावण की नानी चल बैठ।"
"तू बैठ पीछे आज मैं चलाउंगी।"
"हाँ ले मुझे जल्दी मरने का शौक नहीं है, मैं
पैदल ही चला जाऊँगा ओके। "
" अरे यार! ले आजा तू ही चला बस तु सुबह से मरने की बाते मत किया कर। "
समय बीतता गया और एक दिन.....
सेजल कॉलेज की छट्टी के समय लेट होने के
कारण हड़ बड़ाहट में आशू के पास जा रही थी आशू रोजाना की तरह उसका वेट कर रहा था।
हड़ बड़ाहट में वो सामने देखना भूल गई और
उस ? कॉलेज के लड़के रेहान से जा टकराई जो उसी का क्लासमेट था।
" स्सस सॉरी में आपको देख ? नहीं पाई।"
"इट्स ओके!"
सेजल घबराते हुए बिना पीछे देखे वहां से चली गई। मगर रेहान उसे एक टक देखता रहा जब तक कि सेजल उसकी आँखो से
ओझल ना हो गई। क्योंकि वह उसका दीवाना हो गया था।
दूसरे दिन जब वह क्लास में बैठी थी तब उसने नोटिस किया कि रेहान उसे घूरे जा रहा था।
ये सिल सिला कई दिनो तक चलता रहा,
एक दिन अचानक सेजल की नजर उसपे पड़ी और दोनों की नजरें एक दूसरे की आँखों में झांकने लगी। सेजल न चाहते हुए भी अपनी नजरें हटा न सकी।
एक दिन वह वापस घर जा रही थी तो उसे सिड़ियों पे रेहान खड़ा दिखा तो वह थोड़ी सी झिझकते हुए आगे बड़ी वह जैसे ही रेहान के पास से गुजरी तो रेहान ने रास्ता रोकते हुए कहा तुम बहुत खूबसूरत हो और मेरे दिल ? की पहली और आखिरी ख्वाहिश तुम ही हो, मेरी जिंदगी तुम से ही है इसे तुम अपने एक इंकार से खत्म कर सकती हो,
आई लव यू सेजल।
इतना कहकर रेहान दोनों हाथ जोड़ते हुए अपने घुटनों के बल बैठ गया।
सेजल उम्र के उस पड़ाव पर थी जहां उसके
लिए रेहान का लव प्रपोजल ठुकराना
नामुमकिन था और उसकी जिंदगी के
लिए इश्क़ लाज़मी सा हो गया था।
इसकी ये मुलाकात उसके जीवन की एक
यादगार लम्हे में बदल गई थी।
इस से बेखबर आशू भी सेजल से चुपके चुपके
मोहब्बत करने लगा था।
सेजल और रेहान की मुलाकातें बढ़ती जा रही थी।
दिन रात कॉल, चैटिंग और वॉट्सआप पे दोनों चिपके रहते।
एक दिन ? कॉलेज की छुट्टी के टाइम
सेजल को बाहर निकलने मे देरी हुई तो आशू उसको बुलाने उसकी क्लास की तरफ गया। तभी उसके कदम ठिठक गए क्यों कि
सेजल के क्लास रूम से
"प्लीज छोड़ो मुझे कोई देख ? लेगा यार
रूम पर मिलते हैं यार अभी जाने दो!"
फुसफुसाहट कि आवाज आयी। आशू के पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई उसका
दिल ? बैठ सा गया। उसे समझते हुए देर नहीं लगी। वह हिम्मत करके जैसे ही अंदर घुसा तो देखा कि सेजल रेहान की बाहों से खुद को छुड़ाने की कोशिश कर रही है।
आशू को देखकर रेहान ने सेजल को तुरंत छोड़ दिया और आशू को घूरता हुआ वहाँ से निकाल गया।
सेजल भी शर्म से पानी पानी हो रही थी।
"चलो बहुत हो गया घर नहीं जाना क्या?"
"वैसे कौन था ये?"
"रेहान, मेरा क्लास मेट।" सेजल ने हड़ बढ़ाते
हुए कहा।
"हो क्या रहा था ये!"
"क्क्क् कुछ भी नहीं!"
"हाँ ठीक हैं, चलो बैठो।"
"यार। घर पर मत बोलना मेरे प्लीज ??"
रात के 2 बजे आशू के फोन की घंटी बजी तो उसने फोन देखा तो सेजल का फोन था।
"हेलो! सेजल क्या हुआ सब ठीक तो है ना। "
" हाँ यार!"
"तो फिर इतनी रात को कॉल क्यू किया। "
" वो क्या है यार आज मै घर पर अकेली हूँ
और मुझे नींद भी नहीं आ रही है! "
" तो! "
" मेने सोचा तेरे रूम में आ जाऊँ, मुझे बहुत डर
लग रहा है।"
"हाँ चल आ जा।"
सेजल आशू के रूम पर जा पहुंची जैसे ही आशू ने रूम का गेट खोला तो वह सेजल को देखता रह गया वह उस वक़्त नाइट शूट मे थी वह बहुत खूबसूरत दिख रही थी।
" ओए! पागल ऎसे क्यू देख रहा है आँखे फाड़ फाड़ के नजर लगाएगा क्या? "
" तू बहुत खूबसूरत लग रही है कसम से। "
" हाँ ठीक हैं चल अब मेरे सोने का इंतज़ाम
कर, चल तू ऎसा कर ये ले मेरी रजाई और नीचे लेट जा और ये मै तेरी रजाई में ओके।"
"अरे रुक तो।"
सेजल आशू की बातों को अनसुना करती
हुई उसकी रजाई में घुस गई, तभी उसकी
नजर आशू की अलमारी पर रखे वैलेंटाइन डे
गिफ्ट रखा देखा तो झट से उसको उठा लिया।
" ओए ये गिफ्ट किसके लिए है बड़ा ही
सुंदर है कोई गर्लफ्रेंड पटा रखी है क्या? "
" तुम्हें इससे क्या। "
" अरे मुझे तो बताते कम से कम।"
"अच्छा! तूने बताया मुझे रेहान के बारे में।
ख़ैर जो भी हो ये गिफ्ट मेरे अब किसी
काम का नहीं है!"
"यार तु रेहान पर मत जा वो बस मेरा अच्छा दोस्त हैं।और हां मेरे पैरेंट्स से मत
बोलीओ प्लीज! "
हाँ चल ठीक है सो जा अब, वेसे तू ये सब
सोच समझ कर रही है ना।"
"हाँ यार तू है न फिर किसी की क्या चिंता।"
"ज्यादा हो रहा है ओके सो जाओ अब गुड
नाइट।"
सुबह वैलेंटाइन डे था आशू ने देखा सुबह के 9बजे थे और सेजल भी बेड पर नहीं थी और न ही आज वो कॉलेज के लिए आई थी आशू को बुलाने के लिए।
उसने अपनी बालकनी से उसके घर की ओर देखा तो वह तैयार होकर कही जा रही थी।
वह जाकर रास्ते में खड़ा हो गया जैसे ही
वह उसके पास से गुजरी तो उसने कहा - "कहा जा रही हो?"
"फ्रेंड से मिलने जा रही हूँ और आज मैं
कॉलेज नहीं जा रही। ओके"
"झूठ मत बोलो फ्रेंड से मिलने जा रही हो या रेहान से।"
"हाँ जा रही हूँ रेहान से मिलने ओके, वेसे तुम्हें क्यू जलन हो रही है सिंगल हो
इसलिए
।"
"अरे यार एसी बात नहीं वो रेहान अच्छा लड़का नहीं है तुम्हारे लिए। "
" अच्छा तुम ये कहना चाहते हो कि उसका
कई लड़कियों के साथ अफेयर था राइट था
अफ़ेयर अब नहीं है उसने मेरे लिए सबको ठुकरा दिया है ओके इसी बात से समझ
जाओ मैं उसके लिए कितनी इंपोर्टेंट हूं ओके। "
"तुम समझ क्यूँ नहीं रही हो, मेने उसके बारे में जानकारी ली है। "
" ओ अच्छा मेने ये कहा था कि तुम साथ हो तो चिंता नहीं है ओके ये नहीं कहा था कि तुम मेरी जासूसी करो, दोस्त हो
दोस्त की तरह रहो ओके मेरी लाइफ में
इंटरफ़ेयर मत करो, मुझे तुमसे ये जानने की
जरूरत नहीं है कि मुझे अपनी लाइफ कैसे जीना है। "
" अरे मैं यार बस इतना कह रहा था कि वो तुम्हारे लिए अच्छा लड़का नहीं है, और मैं तुमसे........ ।"
" बस बहुत हो गया मै रेहान के बारे में कुछ भी नहीं सुनना चाहती, और हाँ अगर आगे
रेहान के बारे में कुछ भी कहा तो अपनी
इस शक्ल को दोबारा मत दिखाना मुझे ओके बाय। "
"और हाँ रेहान मुझे बहुत प्यार करता है और मै भी उसे "
सेजल वहां से चली जाती है और आशू अचेत सा खड़ा सेजल की और देखता रह जाता है।
आज पहली बार उसने सेजल का ऎसा
बिहैवियर देखा था।
उस दिन से आशू की भूख, प्यास और रातों की नींद उड़ गई। अब बस उसपे उस रेहान की असलियत खोलने का भूत सवार हो गया था।
क्यो कि वह जानता था कि सेजल कितनी भोली और नासमझ हैं और वह उसको किसी भेड़िये जैसे इन्सान के हांथों में देकर उसे खोना नहीं चाहता था।
दूसरे दिन जब सेजल कॉलेज से निकली तो सामने आशू को देखा तो मुँह फेर के जाने लगी तो उसने हाथ पकड़ लिया और कहा "सॉरी यार अबकी बार एसी गलती नहीं होगी मुझे माफ कर दो तेरे सिवा कौन है मेरा यार।"
"हाँ ठीक हैं चल भी पागल।"
उसकी हालत पागलों जैसी देख उसके घर वाले चिंचित हो उठे। ये खबर सेजल को भी पता चली तो उसने आशू को कॉल किया
"क्यूँ मैं क्या सुन रही हूँ पागल हो गया है क्या तु हाँ, मेने माफ कर दिया ना तुझे,
फिर ये ड्रामा क्यू यार। देखो कुछ भी करो मुझे बीच में मत लाना ओके। "
"ओके यार।"
"क्या ओके खाना खा लो अभी ठीक है अभी कॉल करके पूछती हूँ अगर नहीं खाया तो खैर नहीं तुम्हारी।"
आखिर वो दिन आ ही गया आशू को
रेहान ही सारी काली करतूतों के बारे में पता चल गया था और ये सब जानकारी
रेहान को भी थी कि आशू उसके पीछे पड़ा है वह भी चॉकन्ना हो गया और अपने काम को जल्दी से निपटा कर जा ने का प्लान बनाने लगा।
एक दिन आशू कॉलेज के बाहर सेजल का
वेट कर रहा था लेकिन सेजल कुछ देर तक
बाहर नहीं आयी तो उसे कुछ शक़ हुआ और आशू दौड़ता हुआ सेजल की क्लास रूम की
ओर गया।
वहां उसे पता चलता है कि सेजल, रेहान के
साथ कार से कुछ टाइम पहले निकल चुकी है। उसका शक़ हक़ीक़त में बदलता हुआ नजर आया क्यो कि रेहान सेजल को आज तक
कॉलेज से अपने साथ कभी नहीं ले गया था।
उसने तुरंत अपनी बाइक रेहान के रूम की
तरफ मोड़ दी।
जब वह रेहान के रूम पर पहुंचा तो उसके
होश उड़ गए क्यों कि रेहान का रूम बाहर से लॉक था।
तो रेहान सेजल को कहा ले गया था उसने अपने दिमाग पर जोर डाला तो याद आया रेहान की गलत कामों की शिकार लड़कियों के अनुसार रेहान ने लड़कियों के
साथ जीतने भी गलत काम किए हैं वो अपने चाचा के फ़ार्म हाउस पर किए थे। कही वो सेजल को वही तो नहीं ले गया। ऎसे ख्याल से उसकी रूह कांप उठी। उसने
तुरंत पुलिस को कॉल किया और खुद
रेहान के चाचा के फ़ार्म ? हाउस की
तरफ निकल पड़ा।
जैसे ही वह फ़ार्महाउस पर पहुंचा तो उसके ? होश उड़ गए क्यो कि फ़ार्महाउस के सामने एक कार रखी है आशू को समझने मे
देर नहीं वह दीवार को फांद कर उसके अंदर
घुस गया और उसने देखा कि चारों तरफ़ शांति थी, पर जब वह और अंदर जाता है तो उसे किसी कमरे में से व्यक्तियों की
आवाज के साथ किसी चीज़ के गिरने की
आवाज सुनाई देती है।
वह दबे ? पाव उस कमरे की तरफ बढ़ता है
और कमरे में झाँक कर देखा तो पाया कि
उस कमरे में सेजल को रेहान समेत ३और लड़के पकड़े हुए हैं सेजल के मुंह पर कपड़ा बांधा गया है।
रेहान उसके साथ जबर्दस्ती कर रहा है और
एक लड़का उसकि विडियो बना रहा है।
सेजल हताश हो कर रोए जा रही थी।
ऎसा दृश्य देखकर आशू का खून उबल पड़ा उसने अपनी नजर इधर उधर नजर दौड़ाई तो सामने एक लोहे की रॉड पड़ी थी उसने उसे उठाया और रूम का गेट तोड़ कर अंदर
घुस गया उसे अचानक देख ? कर सभी मे हड़
कंप मच गया आशू ने बिना देर किए लोहे की रॉड से सब पर हमला बोल दिया और
कुछ ही देर में सभी को धराशायी कर दिया।
उसने सेजल की ओर देखा जो उसे देख कर
रोए जा रही थी। वह दौड़ता हुआ उसके
पास पहुंचा और उसकी रस्सी खोल दी।
सेजल का शरीर डर से कांप रहा था उसके
शरीर में जगह जगह रस्सी और चोट के
निशान थे जिसे देखकर आशू को गुस्सा के
साथ आँसू निकल पड़े।
उसने अपने कपड़े सेजल को पहना दीये और
सेजल को घर जाने को कहा।
"मैं तुम्हें अकेला छोड़कर नहीं जाऊंगी आशू
तुम भी चलो ना प्लीज ये लोग बहुत
खराब है।"
"मेरी फिक्र मत करो तुम जल्दी से यहां से निकलो तुमहरी जान को खतरा है, मेने
पुलिस को फोन कर दिया है वो आती होगी।
जाओ।"
"मैं तुम्हें छोड़कर नहीं जा सकती तुम भी चलो ना यार।"
सेजल दौड़कर आशू से लिपट कर रोने लगी।
" मुझे माफ कर देना आशू मेने अपने बचपन के
दोस्त को समझ नहीं पाई कितना कुछ कहा तुमसे जो माफी के लायक नहीं है। "
और तभी आशू के पीछे से घायल एक लड़के ने लोहे की रॉड सर पर दे मारी जिससे आशू का सर फट गया और खून निकलने लगा। सेजल ये दर्दनाक मंजर देख कर चीख पड़ी और उसके देखते ही देखते उस लड़के ने आशू के सर में एक बार फिर से रोड से बार किया।
आशू खून से लथपथ जमीन पर गिर पड़ा और
बेहोश हो गया।
सेजल चीखती रही।
तभी वह लड़का आशू की तरफ लोहे की
रॉड लेकर बड़ा तब पुलिस का साइरन की
अवाज से वे सब भाग खड़े हुए।
जैसे ही पुलिस सेजल के पास कमरे में पहुंची तो सेजल पुलिस के पैरो मे गिड़गिङगिङाने लगी।
"मेरे आशू को बचा लो प्लीज ??"
और इतना कहते ही वह भी बेहोश हो गई।
सेजल को जब होश आया तो उसने खुद को अपने घर में बेड ? पर पाया वह घबरा कर उठी और आशू को पागलों की तरह ढूंढने लगी उसे पता चला कि वह ? हॉस्पिटल में है वो पैदल दौड़ती हुई वहा पहुंच गई।
उसने देखा कि आशू के माता पिता सामने बैठे रो रहे हैं।
"आंटी अआशु कैसा है? बोलो ना कुछ।"
तभी डॉक्टर ने बताया कि आशू की
हालत गंभीर है क्योंकि उसका खून काफी बह गया था उसकी जान बचने की
उम्मीद कम है वो अभी भी बेहोश है।
सेजल दौड़कर उसके रूम में पहुंची और आशू के
पास जाकर फुट फुट कर रोने लगी वह उसके
हाँथ को अपने हाँथ में लेकर सर से लगाकर
रोए जा रही थी। उसे बचपन सारी याद आ रही थी।
सर्दी में आशू का उसको अपनी जैकेट देना, आशू का उसकि चोट पर रोना, उसका
होमवर्क भी आशू द्वारा करना और उसके
लिए अपने दोस्तों से लड़ जाना सबसे ज्यादा उस लम्हे की याद आई जब आशू उसकी गुड़िया के पानी की टंकी में चले जाने पर निकालने की कोशिश में खुद का टंकी में गिर जाना। इस याद से वो सिहर उठी क्यो उसने आशू पर विलिव नहीं किया आज जो भी हालत आशू की हुई है वो सब उसकी वजह से ही था।
जो अक्षम्य था।
अब उसके पास रोने के अलावा कुछ नहीं था। तभी आशू की उँगलियों में हलचल हुई
जब सेजल ने उसके चेहरे पर देखा तो आशू उसकी तरफ देख रहा था।
उसका खुशी का ठिकाना नहीं रहा उसने आशू को गले लगा।
"आशू तुम्हें कुछ नहीं होगा, मुझे पता था कि तुम मेरे लिए वापस जरूर आओगे, मुझे
माफ कर देना वेसे मैं माफी के काबिल नहीं हूँ, आई लव यू सो मच.... आशू।"
इतना कह कर सेजल रो पड़ी तभी आशू ने अपनी कपकपाती आवाज में कहा
"मेमेमे.. मैं तो उसी दिन mm mm मर गया था जब तुमने कहा था कि मै रेहान से
प्यार करती हूं और रही जिंदा रहने की
वजह जो मेरी आखिरी ख्वाहिश थी कि
तुम मुझे गले लगाकर आई लव यू बोलो वो भी पूरी कर दी तुमने अब मुझे अपनी गोद में हमेशा के लिए सुला लो यार।"
"ऎसा मत कहो यार मेरे लिए ऎसा मत कहो मै तुम्हारे बिना नहीं जी सकती तुमहे मेरे लिए जीना होगा यार। "
सेजल ने देखा कि आशू की आंखे खुली रह
गई हैं और उसकी साँसे हमेशा के लिए थम चुकी है और वह निढाल सा उसकी गोद में पड़ा हुआ है।
यह देख कर सेजल की मुंह से आशू नाम की
चीख निकल पड़ी। सभी घर वाले भी आ
गए थे। सेजल आशू की बॉडी से लिपटी
रोए जा रही थी अब आशू इस दुनिया में नहीं रहा था।
सेजल को कई दिनो बाद होश आया।
तब उसे पता चलता है कि जो गिफ्ट ? उसने आशू के कमरे में देखा था वह उसके
लिए ही खरीदा था, आशू के कमरे में से
सेजल के तस्वीर भी मिली जो आशू ने अपने हांथों से बनायी थी। और उसकी अलमारी में एक डाईमंड ? रिंग भी थी जिसपे सेजल के नाम का s बना हुआ था जो आशू उसे वैलेंटाइन डे पर देने वाला था।
सेजल का दिल बिरह वेदना से तड़प उठा
अब वह एक ज़िंदा लाश की तरह हो चुकी थी उसकी पथराई आँखे अनंत में शून्य की
ओर किसी के इंतज़ार में खुली रहती हैं।
☘️समाप्त ☘️
कहानी कैसी लगी बताना मत भूलिएगा।
Visit my blog   myaltimatestories.blogspot.com 
आपका ?? सोनू समाधिया
??जै श्री राधे ??

***

रेट व् टिपण्णी करें

Verified icon

Bhavika 4 महीना पहले

Verified icon

Pratibha Verma 6 महीना पहले

Verified icon

Sanjana Dwivedi 8 महीना पहले

Verified icon

Rishu Rajput 8 महीना पहले

Verified icon

Jignesh prajapati 9 महीना पहले