times do change books and stories free download online pdf in Hindi

वक्त बदलता जरूर है

दोस्तों वक्त की एक खास बात है यह कितना भी कठिन क्यों ना हो बदलता जरूर है यह बात जितनी जल्दी समझ में आ जाए उतना ही हमारे लिए अच्छा है समायोजन अपनी परेशानियों में उलझे रहते हैं रोज की टेंशन तनाव हमें जकड़े रहता है हम सोचते रहते हैं कि हम इस परिस्थिति में क्यों हैं हमेशा हमारे साथ ही बुरा क्यों होता है हमेशा मेरा समय इतना खराब क्यों रहता है वक्त बदलता है ना तो अभी खराब क्यों चल रहा है एक कब बदलेगा कब बदलेगा यह सोच सोच कर हम अपना वक्त और भी बर्बाद करते हैं
वक्त बदलता है और जरूर बदलता है लेकिन तब जब आप उस वक्त का सही इस्तेमाल करते हैं अगर इस वक्त का आपने सही इस्तेमाल किया तो आपका वक्त भी बदलेगा क्योंकि वक्त तभी बदलता है जब आप अपने वक्त का सही इस्तेमाल करते हैं ।

"वक्त रहते वक्त पर बदल जाओ वक्त पर
अगर वक्त की कदर कर ली वक्त पर
तो यह वक्त तुम्हें उस वक्त तक पहुंचाएगा वक्त पर
जिसके लिए तुमने हर वक्त मेहनत की है वक्त पर "

कुछ पंक्तियां आपकी जिंदगी बदल सकते हैं अगर इन पंक्तियों को आपने अपने जीवन में उतार लिया और समय का महत्व समझ गए तो वक्त बदलने में देर नहीं लगेगी

वक्त बदलता जरूर है

जो चाहो शिद्दत से वह मिलता जरूर है

वक्त बदलता जरूर है

जो आज है अधिकारी वह बन सकता है व्यापारी

अपने कर्मों को मेहनत से रंग दे

चल अकेले चाहे कोई संग दे ना दे

तू गिरकर उठना सीख ले

क्यों ठोकरो से मजबूर है।

वक्त बदलता जरूर है

जीरो से हीरो बन सकता है
कमियों को भूलकर ऊंचे ख्वाबों को बुन सकता है

अगर मेहनत शिद्दत हो तो हर सपना हकीकत बन सकता है

कचरे की भी जगह बदलती है तू मेहनत तो कर

क्यों किस्मत के आगे मजबूर है

वक्त बदलता जरूर है

जब सोच हो बड़ी और इरादे हो बिजली की कड़ी

खुद को मेहनत से घिसकर अपने सपनों को हीरे की चमक दे

जब चाय वाला पीएम बन सकता है तो तू क्यों अपने सपनों से दूर है

वक्त बदलता जरूर है....

वक्त को बदलने के लिए वक्त पर खुद का बदलना बहुत जरूरी है और हम खुद को तभी बदल सकते हैं जो हम बार-बार चुनौतियों से लड़कर परेशानियों से निकलकर दृढ़ निश्चय करके खुद को बदले
बार-बार जिंदगी आपको नीचे गिर आएगी दुनिया देगी ठोकरें आपको आपके सपनों पर दुनिया हंसेगी और आपका मजाक बनाएगी

तो बार-बार गिरकर उठना अगर सीख लोगे तो दुनिया आपके सामने अपना सर झुका आएगी
तो यदि गिर कर उठना सीख लिया हर हाल में चलना सीख लिया तो दुनिया आपको कितनी भी ठोकरे दे आपका कुछ नहीं कर पाएगी एस कविता की पंक्तियां आपको जीवन की नई राह दिखाएंगी

मैंने गिर कर उमैंने गिरकर उठना सीख लियाठना सीख लिया
हर हाल में चलना सीख लिया जब ठोकर खाई दुनिया से
तो खुद ही संभालना सीख लिया..

राहों में मेरी काटे थे जो दुनिया ने मुझको बांटे थे
कोई ना साथ देता था सब सलाह देने आते थे
तब खुद पर मैंने विश्वास किया
खुद से ही खुद का साथ दिया राहों में आगे बढ़ता गया
मुश्किलों से लड़ना सीख लिया
मैंने गिर कर उठना सीख लिया मैंने वक्त बदलना सीख लिया..

जब लोगों ने मारे ताने थे
तब साथ कुछ यार पुराने थे
जब सब ने मुझको धोखा दिया
तब सिर्फ सपने मेरे सहारे थे
मंजिल को देखकर बढ़ता गया तूफानों से लड़ता गया
मैंने वक्त बदलना सीख लिया
हर हाल में चलना सीख लिया

जब खुद को मैंने जलाया था तब सूरज बनकर आया था
मेहनत से घिसकर खुद को मैंने हीरे साथ चमकाया था
मेहनत की ज्वाला को मैंने सीने में ना बुझने दिया
मैंने किस्मत से लड़ना सीख लिया
हर हाल में चलना सीख लिया मैंने वक्त बदलना सीख लिया
मैंने गिर के संभलना सीख लिया

मैंने वक्त बदलता देखा है लोगों को पलटते देखा है
जो मारा करते ताने थे उन्हें तारीफें करते देखा है
मंजिल को मैंने पाया है और दुनिया को यही सिखाया है


"दिल पर अपने हाथ रखो
मंजिल पर अपनी आंख रखो
मेहनत को अपने पास रखो
बस तुम खुद पर विश्वास करो "


इस मंत्र को जिसने सीख लिया उसने वक्त बदलना सीख लिया
मैंने गिर कर उठना सीख लिया
हर हाल में चलना सीख लिया
मैंने वक्त बदलना सीख लिया...

यदि पूरे दिल से मेहनत कीजिए और मन को अपने वश में करके पूरी लगन और श्रद्धा से प्रयास किया जाए तो कोई भी कार्य इस पूरी दुनिया में असंभव नहीं हो सकता ।
इस कविताएं से यदि आपको लगा हो कि मैं अपने सपनों को पूरा कर सकता हूं जो ख्वाब मैंने देखे उन्हें पूरा कर सकता हूं तो कमेंट लिखें
आई विल डू इट आई विल डू इट

🇮🇳जय हिंद जय भारत🇮🇳





अन्य रसप्रद विकल्प

शेयर करे

NEW REALESED