प्यारी दुनिया... - 8 - (कनिका का रोना ओर अबीर की परेशानी ...) Deeksha Vohra द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

Featured Books
शेयर करे

प्यारी दुनिया... - 8 - (कनिका का रोना ओर अबीर की परेशानी ...)

एपिसोड 8 ( कनिका का रोना ओर अबीर की परेशानी ... )
उस आदमी के मुह से कायरा के पिता के बारे में सुन ... कनिका हैरान होकर अबीर को देखने लगी | तभी अबीर कायरा के वार्ड में गया | उसने कायरा को दर्द से तडपते हुए देखा | अपनी बच्ची को इस तरह दर्द में देख ... अबीर के दिल में भी दर्द हो रहा था | ये फीलिंग अबीर के लिए नइ थी | उसकी आँखों में आंसू आ गये | जब कायरा ने अबीर को देखा .. तो रोते हुए अबीर से बोली |
कायरा : (रोते हुए ) आँखों वाले अंकल ....
कायरा बहुत रो रही थी | अबीर ने कायरा को अपनी गोद में उठाया | डॉक्टर कुछ बोलना चाहता था | पर वीर ने डॉक्टर को बहार भेज दिया | अबीर के गले लग ... कायरा जोर जोर से रोने लगी | अबीर की आँखें भी नम हो गईं थी | उसने कायरा को कस कर गले लगाया हो | अपनी आँखें बंद की | ओर जब अबीर ने आँखें खोलीं ... तो उसकी आँखों से लाल रौशनी निकली | ओर कुछ ही देर में ... कायरा की पैन ... चला गया | जब अबीर ने कायरा की तरफ देखा ... तो कायरा सो चुकी थी | कुछ देर बाद वीर ओर अबीर दोनों कायरा के वार्ड से बहार निकल गया | वीर कनिका से बोला |
वीर : मिस कनिका .... कायरा अब ठीक है |
कनिका :पर ये कैसे ....
रिया : अभी तो कायरा को बहुत पैन हो रहा था | ओर डॉक्टर्स ने तो ...
वीर : रिया जी .... आप जाकर खुद देख सकती है |
रिया ने जाकर कायरा को देखा ... तो कायरा बहुत आराम से सो रही थी | रिया जल्दी से बाहर आई | ओर कनिका से बोली |
रिया : कनु ... कायरा अब ठीक है |
कनिका बहुत हैरान थी | की ऐसा कैसा हो सकता है | अभी तो कायरा बहुत पैन में थी | ओर अब ... कनिका ने अबीर की तरफ देखा ... ओर मन ही मन खुद से बोली |
कनिका : ( मन ही मना ) आखिर है कौन ये इंसान ? इसकी आँखें इतनी जानी पहचानी क्यूँ है |
अबीर : तो मिस कनिका .... अब तो आप मुझसे शादी करोगी न |
कनिका : ( गुस्से में अबीर से ) देखिये .. आप जो कोई भी है | शादी कोई बचों का खेल नहीं है | ओर आप ...
कनिका आगे कुछ बोला पाती ... उसका फ़ोन बज पड़ा | रिया ने देखा ... की कनिका को पलक फ़ोन कर रही थी | तो रिया गुस्से में कनिका से बोली |
रिया : ये लो ... इस लड़की को चैन नहीं मिलता ... तुम्हारी ज़िन्दगी बर्बाद करने से | 2 साल पहले तुम्हारे साथ इतना कुछ करके ... अब फिर फ़ोन कर रही है |
कनिका ने गुस्से में रिया की तरफ देखा | मनो रिया ने कुछ ऐसा बोल दिया हो .. जो उसे नै बोलना चाहिए था | रिया को जैसे ही उसकी गलती का पता चला ... वो इशारों में कनिका से माफ़ी मांगने लगी | फिर कनिका वहां से पलक का फ़ोन उठाने चली गई | कनिका के वहां से जाने के बाद ... वीर रिया की तरफ देख रहा था | वीर को खुद को यूँ देखते ... रिया ने जब देखा ... तो वो थोडा परेशान होते हुए वीर से बोली |
वीर : सर .. क्या हुआ ? आप मुझे ऐसे क्यूँ देख रहे हो ? मैंने कुछ किया है क्या |
वीर : नहीं ... आपको ऑफिस नहीं जाना ?
रिया : हाँ हाँ सर ... जाना है न | बस निकल ही रही हूँ |
तभी वहां कनिका आ गई | तो अबीर कनिका से बोला |
अबीर : मेरे ऑफर के बारे में सोचना मिस कनिका | आपकी बेटी अभी पूरी तरह ठीक नहीं हुई है | उसको आगे भी ... मेरी जरूरत पड़ेगी |
ओर ये बोल अबीर ओर वीर वहां से चले गये | कनिका को अभी तक समझ नहीं आ रहा था .. की अबीर क्यूँ उससे शादी करना चाहता है | तो फिर कनिका ने रिया की तरफ देखा |
कनिका : तुम इन्हें कैसे जानती हो | कनु .. वो मेरे बॉस थे | वीर सर | ओर बिग बॉस | जिनका नाम अबीर है | पर मुझे ये समझ नहीं आया की अबीर बॉस तुमसे शादी क्यूँ करना चाहते है |
कनिका ; उस इंसान का दिमाग कहाराब है |
रिया : वैसे कनु ... तुम्झे पता है | सबको ये लगता है की ...
कनिका : क्या ....
रिया : की ... बिग बॉस गे है |
कनिका : क्या ... तो फिर ये आदमी मुझसे शादी क्यूँ करना चाहता है ?
रिया : मुझे क्या पता | ( फिर कनिका को छेड़ते हुए ) कहीं ऐसा तो नहीं न कनु | की सर को तुमसे ... प्यार हो गया हो ?
कनिका : ( रिया के सर पर चपत लगते हुए ) तेरे दिमाग में ये सब आता कहाँ से है | तभी कायरा कभी कभी तेरे जैसे बातें करती है |
रिया : ऐ .... मेरी भांजी को क्यूँ बीच में ला रही हो ?
फिर कनिका ने एक गहरी सांस ली ... ओर कायरा के वार्ड में चली गई | कनिका ने देखा ... की कायरा आराम से सो रही है | कायरा को यूँ देख ... कनिका की आँखें नम हो गईं | वो कायरा के पास गई ... ओर उसके सर पर हाथ फेरते हुए बोली |
कनिका : मेरी बच्ची | ( रोते हुए ) क्या करूँ मैं ... कुछ समझ नहीं आ रहा | न जाने क्यूँ .. ऐसा लग रहा है की ... मैं अब कुछ नहीं कर सकती |
तभी कनिका ने फील किया की उसके कन्धों पर किसी ने हाथ रखा है | कनिका ने अपना सर उठाया ... ओर देखा ... तो वहां रिया थी | रिया कनिका से बोली |
रिया : टू परेशान न हो कउ | सब ठीक हो जायेगा |
कनिका : ( रिया को गले लगेते हुए , ओर रोते हुए ) पर कैसे रिया ? मैं अब थक चुकी हूँ | मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा | की मैं अब क्या करूँ | न मैं उस इंसान का पता लगा पा रही हूँ | न मैं कायरा का ख्याल रख पा रही हूँ | ( ओर रोते हुए ) मैं एक अच्छी माँ नहीं हूँ रिया ... नहीं हूँ |
रिया : नहीं कनु | ( खुद को रोने से रोकते हुए ... सुबकते हुए ) तू एक बहुत अच्छी माँ ही |
कनिका ओर रिया को नहीं पता था .. की कोई उनकी बातें सुन रहा है | अबीर अब कनिका को ओर परेशान नहीं देख सकता था | उसने गाड़ी में वीर की तरफ देखा ... अबीर कुछ बोलता .. उससे पहले ही वीर बोला |
वीर : यार तू चिंता न कर | मैं सब देख लूँगा | तू बस बाकि कामों पर ध्यान दे |