उजाले की ओर--संस्मरण Pranava Bharti द्वारा प्रेरक कथा में हिंदी पीडीएफ

उजाले की ओर--संस्मरण

उजाले की ओर ---संस्मरण 

-------------------------

नमस्कार स्नेही मित्रो

कुछ बातें अचानक ऐसे याद आ जाती हैं कि हँसी रोकनी मुश्किल हो जाती है |

वैसे कहा तो यह जाता है कि बेबात हँसने वाले मूर्ख होते हैं | 

यदि ऐसा है तो रोते हुए ,गमगीन चेहरों के लिए 'लाफ़िंग-क्लब'क्यों बनाए जाते हैं ? 

इसीलिए तो कि भई हँस लें और अपने चेहरों को लटकाकर बिना बात ही खुद को और अपने से जुड़े हुओं की  नाक में दम न करते रहें |  

मित्रों ! क्या कभी महसूस किया है कि हमारा गुस्सा इतनी जल्दी सिर पर चढ़कर बोलने लगता है जितनी जल्दी शायद पलक भी नहीं झपकती होगी| 

हम गुस्से के वश  में आ जाते हैं और मिनट भर में सब कुछ स्वाहा !हमारा क्रोध जीवन की पटरी से ऐसे उखाड़कर हमें फेंक देता है कि रास्ते ही बंद हो जाते हैं | 

रिश्ते ऐसे भुरभुराकर गिर पड़ते हैं जैसे अचानक बिजली टूट पड़ती है | 

फिर वे जुड़ ही नहीं पाते ,जितना मर्ज़ी तुरपाई कर लो,पैच लगा लो लेकिन वो उनका फटा हुआ हिस्सा कमज़ोर ही रह जाता है | 

अच्छा ,एक बात बताएँ ,जैसे हम स्मोकिंग ज़ोन बनाते हैं ऐसे ही यदि क्रोध-ज़ोन बना लें तो कितना अच्छा हो जाए |

हम 'नो स्मोकिंग ज़ोन' में धूम्रपान से दूर रहते हैं ऐसे ही 'नो एंगर ज़ोन' में हम अपने गुस्से से दूर रह सकेंगे | 

या फिर हम सोचें कि हमें तीन दिनों तक गुस्सा नहीं करना है ,बस मुस्कुराना  है तो हम कई बार प्रेक्टिस करने पर  एक दिन शायद गुस्सा करना भूल सकें | 

मुश्किल तो यही है मित्रों ,हम मुसकुराना तो भूल सकते हैं लेकिन गुस्सा करना नहीं | 

हम अपने आपको सताना नहीं भूल पाते ,दूसरों को तो बाद में सताएंगे न ! पहले तो अपना कलेजा जलाएंगे | 

गुस्सा तो जैसे छोटी-छोटी बातों पर हमारी नाक पर आ बिराजता है | 

अब इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि नाक पतली हो या मोटी ,छोटी हो या बड़ी !!

बस ,गुस्से महाराज को आना चाहिए --बस जी ,कारण ? कुछ भी हो सकता है ।कोई भी मक्खी छींक सकती है |

फिर वो उड़ती  भी तो नहीं ,बस --भुनभुनाती रह जाती है | 

     मित्र सोचते होंगे कि मैं किताबी बातें कर रही हूँ लेकिन किताबों में बातें कहाँ से आती हैं ? समाज से ही न ! और समाज कौन है ? 

हम और आप ही तो समाज हैं ,फिर ---इतनी मुश्किल भी नहीं है हँसी !

मुस्कुराएँ और अपने मन को हल्का रखें | क्रोध करेंगे तो सोचकर पहले अपना खून जलाएंगे तब कहीं जाकर दो शब्द उसे बोलेंगे जिसपर गुस्सा होगा | 

उसने तो सुना है या नहीं ,यह तो पता नहीं लगेगा | हाँ ,हमारा बी.पी ज़रूर बढ़ जाएगा |

    सो ,बेहतर यही है कि मुस्कुराएँ ।अगर कोई कारण न भी मिल रहा हो तो अपनी ही कोई बात याद करके  खुद पर हँसें और क्रोध को पछाड़  फेंकें |

मुझे अक्सर अपनी पुरानी बातें याद आ जाती हैं और मैं दिल खोलकर हँस पड़ती हूँ | 

कई बार मित्रों ने पूछा भी कि खुद की ही मूर्खता पर हँसते हुए खराब नहीं लगता ? 

नहीं ,क्यों लगेगा खराब ? भई ,जब हम दूसरे पर हँस सकते हैं और उसको क्रोध दिला सकते हैं तो खुद पर हँसकर खुद को क्रोध दिलाकर तो देखें | 

यकीन मानिए ,नहीं दिला पाएँगे खुद को क्रोध | गलती से आ भी गया तो क्या कर लेंगे भला ? अपना ही नुकसान न ! 

तो बेहतरी इसी में है कि खुद भी हँसें और दूसरों को भी हँसने के कारण दें | 

तो चलिए ,मिलते हैं फिर हँसते-मुस्कुराते हुए अगली बार | 

सस्नेह 

आप सबकी मित्र 

डॉ . प्रणव भर्ती  

रेट व् टिपण्णी करें

Pranava Bharti

Pranava Bharti मातृभारती सत्यापित 2 महीना पहले