हिंदी प्रेरक कथा कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

उजाले की ओर ---संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर ---संस्मरण ----------------------- नमस्कार मित्रो ज़िंदगी के सफ़र में गुज़र जाते हैं जो मकाम ,वे फिर कभी वापिस लौटकर नहीं आते | बात तो यह सभी जानते ...

समय दान
द्वारा r k lal

समय दानआर 0 के0 लाल कितना खुश रहा करते थे शिवानंद। पचपन साल की उम्र होने तक उनके पास सभी तरह की सुख सुविधाये थी। धन दौलत, सुयोग्य संतान, ...

कलियुग का लक्ष्मण
द्वारा vivekanand rai

कलियुग का लक्ष्मण-------------------" भैया, परसों नये मकान पे हवन है। छुट्टी (इतवार) का दिन है। आप सभी को आना है, मैं गाड़ी भेज दूँगा।" छोटे भाई लक्ष्मण ने बड़े ...

उजाले की ओर --संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

स्नेही मित्रो नमस्कार आशा है सब प्रसन्न ,मंगलमय हैं | कभी-कभी हम जैसे नौसीखियों से बड़ी गड़बड़ी हो जाती है | एक तो टाइप करना तक नहीं आता था ...

साक्षरता 
द्वारा Ratna Pandey

गुस्से में तिलमिलाती रुहानी ने घर में आते ही अपना स्कूल बैग फेंकते हुए कहा, "पापा मैं अब कल से स्कूल नहीं जाऊँगी।" उसके पिता रमेश ने पूछा, "अरे ...

हमेशा सीखते रहिए
द्वारा Jatin Tyagi

एक बार की बात है गाँव के दो व्यक्तियों ने एक साथ शहर जाकर पैसे कमाने का निर्णय लिया | शहर जाकर कुछ महीने इधर-उधर छोटा-मोटा काम कर दोनों ...

एहसास 
द्वारा Ratna Pandey

तीसरी कक्षा में पढ़ रही रूहानी बहुत ही सरल स्वभाव की लड़की थी। उसकी टीचर सभी बच्चों को हमेशा एक दूसरे की मदद करने के लिए कहती थीं । ...

उजाले की ओर ---संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर --संस्मरण ------------------------ नमस्कार मेरे स्नेही मित्रो एक पल हवा के झौंके सी ज़िंदगी ,हर पल अहं का बोध करती ज़िंदगी | कभी हरे-भरे पत्तों से कुनमुनी ...

कुछ अनकही बातें।
द्वारा Aishvarya

कुछ अनकही बातें।नमस्कार दोस्तों, आपने एक गेम का नाम तो सुना होगा.. क्या, सबवे सफ़र या टेंपल रन? नहीं, "जिंदगी"। यह जिंदगी ना मिलेगी दोबारा - सुना सुना है ...

उजाले की ओर --संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

स्नेही मित्रों नमस्कार 'मैं ज़िंदगी का साथ निभाता चला गया ' बड़ा खूबसूरत गीत है , साथ निभाना तो पड़ेगा ही | जाएँगे कहाँ ? सुबह की निकलती लालिमा ...

सोना
द्वारा Pushp Saini

सोना *******************'बीच में बड़ा बंगला बनेगा और चारों तक ख़ूबसूरत लाॅन होगा' ।'हाँ गगन, लेकिन लाॅन में बच्चों के लिए झूलों की भी व्यवस्था होनी चाहिए' ।'आरती ! यह ...

हाथ ज़रूर थामा था
द्वारा Neelima Kumar

{ एक माँ ने क्यों और किस संकल्प के साथ उसका हाथ थामा ? दिशा देती एक कहानी .....सोचने को मजबूर करती एक कहानी .... } ...

उजाले की ओर--संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर ---संस्मरण ------------------------- नमस्कार स्नेही मित्रो कुछ बातें अचानक ऐसे याद आ जाती हैं कि हँसी रोकनी मुश्किल हो जाती है | वैसे कहा तो यह जाता ...

उजाले की ओर ---संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर ---संस्मरण ----------------------- नमस्कार मित्रों जीवन के सफर मे राही मिलते हैं बिछुड़ जाने को ---लेकिन ज़रूरी नहीं कि वे आहें और आँसू ही लेकर बिदा हों ...

नशे की बीमारी ज़िंदगी पे भारी - 3
द्वारा shama parveen

घर जा कर रोहित बहुत परेशान हो जाता है उसे कुछ भी समझ में नही आता है कि वो क्या करे। उसे बहुत ही ज्यादा डर भी लगता है ...

उजाले की ओर --संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर --संस्मरण ------------------------- नमस्कार स्नेही मित्रो बहुत जूझना पड़ता है अक्सर जीवन से लेकिन उसके लिए कोई शॉर्ट कट नहीं है | जो करना होता है ,उसके ...

मैं भी फौजी (देश प्रेम की अनोखी दास्तां) - आखिरी भाग
द्वारा PS Kathariya

मैं उस कारखाने में पहुंचा जहां में काम किया करता था...अपना भेष बदलकर उसी रात मैं उस सुरंग के रास्ते दुश्मन देश में दाखिल हुआ .....दिल में आग और ...

जहा चाह, वहा राह
द्वारा Jatin Tyagi

जब मेहनत रंग लाती है तो किस्मत का लिखा भी पलट जाता है। दिल्ली के मुहम्मद वसीम के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ। वसीम दिल्ली की सड़कों पर ...

उजाले की ओर --संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर ---संस्मरण ----------------------- नमस्कार स्नेही मित्रो बहुत सी चीज़ें होती हैं रसभरी यानि रस से भरी और बहुत सी बातें भी तो होती हैं ऐसी रस से ...

मैं भी फौजी (देश प्रेम की अनोखी दास्तां) - 6
द्वारा PS Kathariya

मैं हैरान था क्योंकि वो मेजर अंकल नहीं थे..... मैंने उनसे पूछा मेजर अंकल कहां है तब उन्होंने दिवार पर टंगी तस्वीर को दिखाया और कहा " अब ये ...

जिंदगी एक लतीफा है
द्वारा Shamad Ansari

जीवन में कभी ख़ुशी है तो कभी ग़म परन्तु फिर भी उत्साह और लगन से हर मुसीबतों को पार करने को ही जिंदगी कहते है। हालंकि कुछ लोग जिंदगी ...

उजाले की ओर---संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर --संस्मरण ------------------------ नमस्कार स्नेही मित्रों ! बहुत ज़रूरी लगता है इस जीवन में प्रेम बाँटकर जाना | प्रेम ,स्नेह वह संवेदना ...

मैं भी फौजी (देश प्रेम की अनोखी दास्तां) - 5
द्वारा PS Kathariya

तब मेजर अंकल ने एक स्टूडेंट को बुलाकर कर पूछा...तुम कैसे बच गए..?....वो स्टूडेंट उन्हें बताता है..." सर हम तो उसको थैंक्स कहना चाहते हैं जिसने पूरे नोटिस बोर्ड ...

उजाले की ओर ---संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर --संस्मरण ---------------------- नमस्कार स्नेही मित्रो ! धूप-छांह सी खिलती मुस्कुराती ज़िंदगी में बहुत से क्षण प्यार ...

अफसर बेटा....।
द्वारा Kumar Kishan Kirti

"बेटा कुलदीप, कहाँ हो तुम?अरे,कोचिंग नहीं जाना है क्या!कुुुलदीप के पिता उसेे बुलाते हुुुए बरामदे में प्रवेश कर गए।मगर, कुुुलदिप वहाँ नहीं था।यह देखकर उसके पिता वही खड़े होकर ...

होलिका दहन के पीछे छुपा है विज्ञान
द्वारा कैप्टन धरणीधर

होलिका दहन वर्षो से हम होलिका दहन करते आये है । देखते आये है । और आगे देखते भी रहेंगे । इस उत्सव को समझना होगा । इसके पीछे ...

रहनुमा
द्वारा kirti chaturvedi

रहनुमा आज ईद का दिन था। साहिल नमाज़ पढ़ने गए हुए थे। अंबर घर को सजाने में लगी थी। अंबर कॉलेज में पढ़ रही है। बेहद प्यारी और खूबसूरत ...

मैं भी फौजी (देश प्रेम की अनोखी दास्तां) - 4
द्वारा PS Kathariya

उनकी ये योजना मुझे दिन रात बैचेन कर रही थी , आखिर मुझे भागने का मौका मिल ही गया ..उस दिन मैं यहां से भागने में कामयाब हो गया ...

उजाले की ओर --संस्मरण
द्वारा Pranava Bharti

उजाले की ओर --संस्मरण --------------------------- मित्रों को बसंत की स्नेहिल शुभकामनाएँ ------------------------------------ बसंत ऋतु आई ,मन भाई फूल रहीं फुलवारियाँ टेसू फूले ,अंबुआ मौले ,चंपा,चमेली सरसों ...

अप्सरा
द्वारा कैप्टन धरणीधर

तिलोत्तमा कश्यप और अरिष्टा की कन्या थी जो पूर्वजन्म में ब्राह्मणी थी और जिसे असमय स्नान करने के अपराध में अप्सरा होने का शाप मिला था। एक दूसरी कथा ...

राष्ट्र पुत्र
द्वारा Anand Tripathi

इस कहानी का शीर्षक भी बिल्कुल इस टाइटल की तरह मजबूत है। यह कहानी कुछ चुनिंदा लोगों को प्रदर्शित करती है। जिसमे साहस वीरता और धैर्य और सबसे बड़ी ...

मार्टिन पर्वतारोही: ।
द्वारा Akshika Aggarwal

यह कहानी एक युवक कीहै जिसका नाम मार्टिन अक्षइरे था युवक बहोत साहसिक आदमी था जो पर्वतारोहण रिवर राफ्टिंग और सभी खतरनाक और रोमांचकारी साहसिक खेलों को ...