उजाले की ओर ---संस्मरण Pranava Bharti द्वारा प्रेरक कथा में हिंदी पीडीएफ

उजाले की ओर ---संस्मरण

उजाले की ओर --संस्मरण

------------------------

स्नेही साथियों

सस्नेह नमस्कार

मैंने आपसे चर्चा की थी कि अपनी युवावस्था में मैं एक बार अपने ममेरे मामा जी के यहाँ अलीगढ़ गई थी | जहाँ बच्चे हर रोज़ गाँव में जाकर प्रकृति के सानिध्य में खेलते-कूदते |

वे पेड़ों पर चढ़कर खूब मस्ती करते और पूरा आनंद लेते | मैं घर पर ही रहती लेकिन एक दिन ऐसा आया जिसको मैं आजीवन नहीं भुला सकूँगी |

अलीगढ़ के पास ही कोई स्थान है 'किन्नौर' जहाँ पर गंगा बहती हैं |

एक दिन सिंचाई-विभाग में एक्ज़ीक्यूटिव इंजीनियर के पद पर कार्यरत मामा जी ने अपनी जीप भेज दी |

उन्होंने ड्राइवर से कहा कि वह हम सबको लेकर आए | मामा जी को किन्नौर के ऑफिस में 'फ्लाइंग विज़िट 'के लिए जाना था |

ये वो दिन थे जब सरकारी अफ़सर का बड़ा रौब हुआ करता था |

उनके पास सरकारी गाड़ी,ड्राइवर व घर के काम के लिए सहयोग करने वाले भी उपलब्ध होते थे |

यदि अफ़सर का बैकग्राउंड शानदार हो ,तब तो और भी बल्ले-बल्ले !

जैसे मामा जी के काफ़ी बाग-बगीचे थे तो उनके पास काम करने वालों को खाने-पीने की मुफ़्त सुविधा रहतीं |

मामी जी भी काम करवाने के एवज में उन्हें खूब खुश रखतीं |

मामा जी के आदेशानुसार गाड़ी हम सबको ले जाने आ गई | यह भी तय हो गया कि वहाँ के एक जूनियर इंजीनियर के घर पर हम सबका लंच रहेगा|

हम सब जैसे बैठे थे ,वैसे ही उठकर एक टोकरी में सबके कपड़े भरकर गाड़ी में ठुँसकर बैठ गए |

मैं,माँ,मामी जी और चार बच्चे व ड्राइवर महोदय ! अपनी गंगा-स्नान की यात्रा के लिए चले |

कोई एक/डेढ़ घंटे का रास्ता रहा होगा | बहुत वर्ष बीत जाने पर ठीक से याद नहीं है |

पता चला ,मामा जी अपने ऑफिस पहुँच चुके थे | ड्राइवर भाई हम सबको लेकर गंगा जी के तट पर आ गए थे |

जहाँ बच्चों ने अपनी शैतानी शुरू कर दी थी |

उस गंगा तट पर स्नान के लिए कई घाट बने हुए हैं जिनमें एक आम घाट है ,एक केवल स्त्रियों का और एक केवल पुरुषों का !

बच्चों ने कहा कि वे आम घाट पर नहाएंगे ,अम्मा और मामी जी स्त्रियों के घाट पर चले गए |

मेरे बच्चों ने कभी इस प्रकार गंगा जी में स्नान नहीं किया था | मुझे भी कुछ अधिक याद नहीं ,शायद बचपन में कभी हरिद्वार में एकाध बार ही जाना हुआ था |

मित्रों ! आप जानते हैं कि उत्तर-प्रदेश में कम से कम उन दिनों जबकि बात मैं कर रही हूँ ,लड़कियों,स्त्रियों का बाहर जाने का अधिक प्रचलन नहीं था |

वे तो बस ,घरों ताक ही सीमित रहतीं | आज तो बहुत बदलाव आ चुके हैं लेकिन उन दिनों गंगा-स्नान अथवा किसी धार्मिक स्थलों के अतिरिक्त स्त्रियाँ

अधिक बाहर नहीं निकलती थीं |

ख़ैर,यहाँ खुला वातावरण ,गंगा का यहाँ से वहाँ फैला विशाल तट देखकर 'नमामि गंगे' स्वयं ही मुख से झरने लगा |

बच्चों की अपनी दुनिया होती है ,वे हर जगह खुलकर साँस लेने की कोशिश करते हैं जिसमें कभी गड़बड़ी भी हो जाती है |

मुझे बच्चों के साथ छोड़ा गया कि वे अधिक शरारत न करें |

बच्चों को लगा कि उन्हें आगे नहीं जाने दिया जाएगा ,उन्होंने एक शैतानी सोची और मेरे कंधे पकड़कर एक रेलगाड़ी तैयार कर ली |

मामी जी व ड्राइवर हमें बहुत समझाकर गए थे लेकिन मुझे लगा कि मैं आगे हूँ तो बच्चे मेरे आगे कैसे जाएँगे ?

मुझे ख़्याल भी नहीं था कि पानी में उतरकर नीचे जाने के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई हैं |

बच्चों ने मुझे इंजन बनाया और पीछे डिब्बे बनकर मेरे पीछे-पीछे चल दिए |

मुझे कोई अनुभव ही नहीं था ,पता चला कि अचानक सीढ़ियाँ समाप्त हो गई हैं और मेरा पैर पानी के बहाव में फिसल गया है |

कुछ समझ में आए इससे पहले तो मैं गुड़प-गुड़प करके न जाने कितना पानी मुँह में भर चुकी थी |

मैं चिल्लाना चाहती थी लेकिन मेरे मुँह से आवाज़ ही नहीं निकल रही थी |बोलने की कोशिश करती कि पानी मुँह में भर जाता |

मन में आया 'भगवान ! पहली बार शादी के बाद मामा जी के घर आई हूँ ,मामा जी का मुँह क्यों काला कर रहे हो ?"

न जाने ये बात कैसे मेरे मन में आई कि अचानक एक लहर ज़ोर से किनारे की ओर आई और सीढ़ियों पर खड़े बच्चों ने मेरे बाल पकड़कर मुझे खींच लिया |

आज तक मुझे वो शोर याद है जो दूसरे घाटों से उभरकर वातावरण में तैर गया था |

"भागो,बचाओ --कोई डूब गया --" मैं सुन रही थी लेकिन अर्धमूर्छित सी थी |

पता नहीं ,कौन-कौन मुझे खींचकर पक्के फ़र्श पर लेकर आया ? मुझे कुछ ख़्याल नहीं था लेकिन सबकी मिली-जुली आवाज़ें सुन पा रही थी |

फिर न जाने क्या हुआ ? कुछ याद नहीं |हम अलीगढ़ कब आए ,यह भी ध्यान नहीं है | मैं अपने रोज़ाना के कर्म यूँ ही करती रही |

एक दिन मामा जी ने सुबह नाश्ता करते समय टेबल पर मुझे कहा ---

"गंगा देवी कहाँ हो ?"उन्होंने मेरा नाम गंगा रख दिया था |

मुझे लगा कि मैं तो दूसरे लोक में आ चुकी हूँ --मामा जी यहाँ क्या कर रहे हैं ?

मामा जी ने मुझे ज़ोर से झिंझोड़ा -- मैं जैसे कई दिनों बाद एक गहरी नींद से जागी और मुझे पता चला कि मैं बिल्कुल ठीक-ठाक थी |

हम सब मामा जी के घर पर अलीगढ़ में थे |

मामा जी ने बताया था कि यदि मैं पानी में चली जाती तो मेरे साथ ये चारों बच्चे भी बह जाते |

तब मुझे अपनी स्थिति का भान हुआ |

यह एक विचित्र अनुभव था ! इसके बाद पानी के किसी ज़ोरदार बहाव के बारे में पढ़कर या उसको देखकर मैं बहुत दिनों तक असहज हो जाती थी |

बहते पानी के साथ खेलना कभी अत्यंत दुष्कर बन जाता है ,इस बात का ध्यान रखना ज़रूरी है |

सस्नेह

आपकी मित्र

डॉ. प्रणव भारती

रेट व् टिपण्णी करें

Manju Mahima

Manju Mahima मातृभारती सत्यापित 7 महीना पहले

Hemal nisar

Hemal nisar 7 महीना पहले

Amritlal Patel

Amritlal Patel 7 महीना पहले

Ratna Pandey

Ratna Pandey मातृभारती सत्यापित 7 महीना पहले

Pranava Bharti

Pranava Bharti मातृभारती सत्यापित 7 महीना पहले