नौकरानी की बेटी - भाग 6 RACHNA ROY द्वारा मानवीय विज्ञान में हिंदी पीडीएफ

नौकरानी की बेटी - भाग 6

नौकरानी की बेटी भाग पांच में यहां तक पढा था कि रीतू बोली आनंदी चल फैश हो जाते हैं । और अब आगे.....



दोनो एक दम गहरी नींद सो गए। जब आंख खुली तो देखा कि सुबह हो चुकी थी।

रीतू ने जल्दी से फोन पर नाश्ता मंगवाया ।

आनंदी उठ गई और बोली दीदी गुड मॉर्निंग।

रीतू हंस कर बोली लंदन में पहली सुबह तुझे मुबारक हो।
आनंदी हंस कर बोली हां दीदी।
फिर आनंदी ने घड़ी देखा तो ७बज रहे थे। आनंदी ने पूछा दीदी क्या दिल्ली में अभी सुबह हो गई?
रीतू बोली अरे आनंदी वहां अभी १२.३०बजे है।

आनंदी बोली ओह अच्छा, मैं मां को कोल करूं।

रीतू बोली हां,कर लें पहले आई एस डी कोड २० फोन नंबर से पहले लगाना होगा।
आनंदी बोली हां दीदी।

फिर आनंदी ने कोल किया, और कृष्णा ने झट से फोन उठाया और बोली हेलो आनंदी। आनंदी बोली हां मां आप कैसी हो? कृष्णा बोली हां बेटा मैं अच्छी हुं तू कैसी है? आनंदी ने कहा हां मां ठीक हुं आप की याद आ रही है। कृष्णा बोली अरे आनंदी रोना नहीं मेरी लाडो। आनंदी बोली अच्छा ठीक है मां बाद में बात करती हूं। फिर फोन रख दिया।

रीतू बोली अरे आनंदी देख रो मत चल पहले चाय, नाश्ता करते हैं।

फिर रीतू ने डाइनिंग टेबल पर चाय और ग्रिल सन्डबीज और पकौड़े प्लेट में परोस दिया और फिर दोनों खाने लगे।
आनंदी बोली दीदी आप ने ये मंगवाया? रीतू ने कहा हां ये आनलाइन आडर किया था और कल हमलोग तेरे स्कूल जाएंगे।

आनंदी ने कहा हां दीदी,कल जाएंगे।

रीतू बोली हां आज तो थकी हुई हूं परसों से आफिस भी जाना होगा। छुट्टी खत्म हो गई अब।

आनंदी ने कहा अच्छा ठीक है दीदी।
रीतू बोली पहले घर फोन करती हूं और फिर हम शापिंग मॉल जाएंगे ग्रौशरिश लेने।
आनंदी बोली अच्छा ठीक है। फिर रीतू ने घर में फोन किया। और सबसे बात किया और फिर दोनों तैयार हो कर नीचे पहुंच गए।

नीचे आनंदी ने देखा बहुत से लोग मिलकर बात कर रहे थे कुछ भारतीय और कुछ विदेशी थे।

रीतू ने सबसे पहले हाई फाई किया और फर्राटेदार अंग्रेजी में बात करने लगी ये देख आनंदी दंग रह गई और सोचने लगी कि मैं भी कभी ऐसी अंग्रेजी बोलुंगी।

तभी रीतू ने सबसे आनंदी का इन्टर डीयूज कराया और कहा सी इज आनंदी।कम फ्राम इंडिया फार हायर सेकंडरी स्टडीज ।सी इज वैरी ब्रिलीऐन्ट स्टूडेंट्।
फिर सबने मिलकर कहा वैलकम डियर आनंदी। आनंदी ने मुस्कुराते हुए अभिनंदन किया।

फिर रीतू गराज से अपना कार निकाला और आनंदी को लेकर निकल गई।
आनंदी ये देख खुश हो गई और बोली अरे वाह दीदी आपके पास कार भी है।
रीतू बोली हां आनंदी लंदन में सबके पास अपनी कार है। क्योंकि बहुत जरूरी चीज है।

आनंदी ने पूछा दीदी हम कहां जा रहे हैं?

विक्टोरिया प्लेस शापिंग सेंटर जा रहे हैं। गाड़ी चलाते हुए रीतू ने कहा।

आनंदी बोली अरे वाह दीदी। फिर कुछ देर बाद ही दोनों विक्टोरिया प्लेस शापिंग सेंटर पहुंच गए

पहले रीतू ने अपनी कार पार्किंग में खड़ी की और फिर दोनों बड़े शापिंग मॉल में पहुंच गए। आनंदी वहां पहुंच कर पुरा घुम कर देखने लगी और रीतू ने एक ट्राली लिया और सामान देख कर रखने लगी।

आनंदी को भी बहुत मज़ा आ रहा था। एक घंटे तक सारा शापिंग करने के बाद सामान लेकर कार में सवार होकर दोनों घर वापस लौट आए।

रीतू बोली आनंदी कैसा लगा? आनंदी बोली दीदी बहुत ही अच्छा लगा।

रीतू बोली अब चल हम दोनों मिलकर सारा सामान किचन में लगा दे और फिर कुछ लंच करते हैं। और हां कल हमें जाना होगा याद है ना।

फिर दोनों मिलकर किचन में सब सामान लगा कर। रीतू ने माइक्रोवेव में वेज राइज बनाने रख दिया।
आनंदी ने देखा और फिर कहा दीदी इसमें जल्दी बनेगा खाना।
रीतू बोली हां,१०मिनट में।
फिर दोनों ने जल्दी से गरम गरम वेज राइज खाया और फिर दोनों आराम करने लगे।

दिल्ली में कृष्णा को आनंदी के बिना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था वो राजू के घर पर अब ज्यादा देर तक काम करने लगी। बाहर से सामान लाने का काम भी करने लगी।

अनु बोली कृष्णा जल्दी जल्दी बर्तन कर दे फिर नाश्ता बना दे। कृष्णा बोली हां अब जल्दी से करती हुं।

उधर आनंदी और रीतू उठकर तैयार हो गए।

क्रमशः

रेट व् टिपण्णी करें

sonal

sonal 4 महीना पहले

कैप्टन धरणीधर

कैप्टन धरणीधर मातृभारती सत्यापित 4 महीना पहले

Indu Talati

Indu Talati 6 महीना पहले

Suresh

Suresh 10 महीना पहले

Mahendra R. Amin

Mahendra R. Amin मातृभारती सत्यापित 10 महीना पहले